New Year, New Age, English Calendar, Angreji Calendar, İndian Samvat, Vikram Samvat, Chandramah, Solar Year, Hindu Calendar, नववर्ष, नव संवत्सर, अंग्रेजी कैलेंडर, भारतीय संवत, विक्रम संवत, चंद्रमाह, सौरवर्ष, हिन्दू कैलेंडर

New Year, New Age

नववर्ष कौन-सा सही- अंग्रेजी या भारतीय? | hindu new year

नववर्ष कौन सा सही- अंग्रेजी या भारतीय?

05-04-2019 08:49:00

नववर्ष कौन सा सही- अंग्रेजी या भारतीय?

दुनियाभर के हजारों तरह के कैलेंडर प्रचलित है। संभवत: हर माह एक नया वर्ष प्रारंभ होता होगा। कोई चंद्र पर आधारित है, कोई सूर्य पर तो कोई कैलेंडर दिन-रात पर आधारित है। अब सवाल यह उठता है कि ऐसा कौन सा कैलेंडर है जो कि विज्ञान सम्मत है। यदि विज्ञान सम्मत है तो कैसे?

में हजारों तरह के कैलेंडर प्रचलित हैं। संभवत: हर माह एक नया वर्ष प्रारंभ होता होगा। कोई चंद्र पर आधारित है, कोई सूर्य पर, तो कोई कैलेंडर दिन-रात पर आधारित है। अब सवाल यह उठता है कि ऐसा कौन सा कैलेंडर है, जो कि विज्ञानसम्मत है। यदि विज्ञानसम्मत है तो कैसे? अंग्रेजी कैलेंडर- अंग्रेजी कैलेंडर की शुरुआत रोम के प्राचीन कैलेंडर से हुई। प्राचीन रोमन कैलेंडर में प्रारंभ में 10 माह ही होते थे और वर्ष का शुभारंभ 1 मार्च से होता था। बहुत समय बाद 713 ईस्वी पूर्व के करीब इसमें जनवरी तथा फरवरी माह जोड़े गए। सर्वप्रथम 153 ईस्वी पूर्व में 1 जनवरी को वर्ष का शुभारंभ माना गया एवं 45 ईस्वी पूर्व में जब रोम के तानाशाह जूलियस सीजर द्वारा जूलियन कैलेंडर का शुभारंभ हुआ, तो यह सिलसिला बरकरार रखा गया। ऐसा करने के लिए जूलियस सीजर को पिछला साल यानी ईसा पूर्व 46 ई. को 445 दिनों का करना पड़ा था। 1 जनवरी को नववर्ष मनाने का चलन 1582 ईस्वी के ग्रेगोरियन कैलेंडर के आरंभ के बाद हुआ। दुनियाभर में प्रचलित ग्रेगोरियन कैलेंडर को पोप ग्रेगरी अष्टम ने 1582 में तैयार किया था। ग्रेगरी ने इसमें लीप ईयर का प्रावधान भी किया था। आज विश्वभर में जो अंग्रेजी कैलेंडर प्रयोग में लाया जाता है, उसका आधार रोमन सम्राट जूलियस सीजर का ईसा पूर्व पहली शताब्दी में बनाया कैलेंडर ही है। इस नए कैलेंडर की शुरुआत जनवरी से मानी गई है। इसे ईसा के जन्म से 46 वर्ष पूर्व लागू किया गया था। चूंकि उस वक्त ईसाइयों के पास अपना कोई कैलेंडर नहीं था तो उन्होंने जूलियस सीजर के कैलेंडर को अपना लिया था।

भारत में 14 छात्रों ने पॉकेट मनी खर्च कर बनाई इलेक्ट्रिक साइकिल, 20 पैसे में चलेगी 1 किलोमीटर! किसान एक बार फिर से दिल्ली की सड़कों पर आ गए हैं LAC पर भारत ने फिर सैनिक बढ़ाए: लद्दाख में चीन से निपटने के लिए सेना ने आतंकियों से लड़ने वाली यूनिट तैनात की, कश्मीर से 15 हजार सैनिक भेजे

रोमन सम्राट पोम्पीलस ने 10 माह के कैलेंडर को 12 माह में बदल दिया था। पूर्व में इस कैलेंडर में 12वां महीना फरवरी था। मतलब यह कि मार्च को पहला महीना माना जाता था। प्राचीनकाल में दुनियाभर में उस दौर में मार्च को ही वर्ष का पहला महीना माना जाता था। आज भी बही-खाते का नवीनीकरण और मंगल कार्य की शुरुआत मार्च में ही होती है। हालांकि रोमनों का यह कैलेंडर विज्ञानसम्मत न होकर सम्राटों द्वारा गढ़ा गया कैलेंडर था जिसमें सुधार होते रहे। यूनानी ज्योतिषी सोसिजिनीस ने जूलियस को सलाह दी थी। जुलियस का जन्म जिस माह में हुआ उसका नाम जुलाई हो गया। आक्टेबियन जब रोम का सम्राट बना तो उसने उसके जन्म के माह का नाम बदलकर ऑगस्टस रख दिया। यही ऑगस्टस बाद में बिगड़कर अगस्त हो गया। उस काल में 7वें माह में 31 और 8वें माह में 30 दिन होते हैं। चूंकि 7वां माह जुलियस सीजर के नाम पर जुलाई था और उसके माह के दिन ऑगस्टस माह के दिन से ज्यादा थे तो यह बात ऑगस्टस राजा को पसंद नहीं आई। अत: उस समय के फरवरी के 29 दिनों में से 1 दिन काटकर अगस्त में जोड़ दिया गया। इससे स्पष्ट है कि अंग्रेजी कैलेंडर का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। इस कैलेंडर में कई बार सुधार किए गए। पहली बार इसमें सुधार पोप ग्रेगरी 13वें के काल में 2 मार्च 1582 में उनके आदेश पर हुआ। चूंकि यह पोप ग्रेगरी ने सुधार कराया था इसलिए इसका नाम ग्रेगोरियन कैलेंडर रखा गया। फिर सन् 1752 में इसे पुन: संशोधित किया गया तब सितंबर 1752 में 2 तारीख के बाद सीधे 14 तारीख का प्रावधान कर संतुलित किया गया अर्थात सितंबर 1752 में मात्र 19 दिन ही थे। तब से ही इसके सुधरे रूप को अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिली। इस कैलेंडर को शुरुआत में पुर्तगाल, जर्मनी, स्पेन तथा इटली में अपनाया गया। सन् 1700 में स्वीडन और डेनमार्क में लागू किया गया। 1752 में इंग्लैंड और संयुक्त राज्य अमेरिका, 1873 में जापान और 1911 में इसे चीन ने अपनाया। इसी बीच इंग्लैंड के सभी उपनिवेशों (गुलाम देशों) और अमेरिकी देशों में यही कैलेंडर अपनाया गया। भारत में इसका प्रचलन अंग्रेजी शासन के दौरान हुआ।

भारतीय कैलेंडर- आज जिसे हम हिन्दू या भारतीय कैलेंडर कहते हैं, उसका प्रारंभ 57-58 ईसा पूर्व सम्राट विक्रमादित्य ने किया था। विक्रमादित्य से पहले भी चैत्र मास की प्रतिपदा को नववर्ष मनाया जाता रहा है, लेकिन तब संपूर्ण भारत में कोई एक मान्य कैलेंडर नहीं था। कैलेंडर के नाम पर पंचांग प्रचलन में था। संपूर्ण भारत में ज्योतिषीय गणना और पंचांग पर आधारित मंगल कार्य आदि संपन्न किए जाते थे। हालांकि इससे पूर्व भारत में कलियुग संवत् प्रचलन में था जिसकी शुरुआत 3102 ईसवी पूर्व में हुई थी। इस बीच कृष्ण और युधिष्‍ठिर के भी संवत् प्रचलन में थे। इससे भी पूर्व 6676 ईस्वी पूर्व से सप्तर्षि संवत् प्रचलन में था। सभी का आधार पंचांग और ज्योतिष की गणनाएं ही थीं। हिन्दू पंचांग और ज्योतिष के ग्रंथों पर आधारित सम्राट विक्रमादित्य ने एक सर्वमान्य कैलेंडर को ज्योतिषियों और खगोलविदों की सलाह से प्रचलन में लाया। इस कैलेंडर को सभी ग्रह-नक्षत्रों के गति और भ्रमण को ध्यान में रखकर बनाया गया। जैसे चंद्र, नक्षत्र, सूर्य, शुक्र और बृहस्पति की गति के आधार पर ही नवसंवत्सर का निर्माण किया गया है। जिस तरह सूर्य उदय और अस्त होता है, उसी तरह सभी ग्रह और नक्षत्र भी उदय और अस्त होते हैं। इसमें बृहस्पति और शुक्र के उदय और अस्त का महत्व ज्यादा है। इसी के आधार पर मंगल कार्य नियुक्त होते हैं। जब ऊपर यह लिखा गया कि सभी ग्रह और नक्षत्रों के आधार पर तो उसे अच्छे से जानना जरूरी है। सूर्य के आधार पर नववर्ष का प्रारंभ मकर संक्रांति के दिन से होता है। सूर्य एक राशि से जब दूसरी राशि में पहुंच जाता है तब 1 माह पूर्ण होता है। मेष से मीन तक की 12 राशियों में सूर्य भ्रमण करता है। यही 12 राशियां सौर वर्ष के 12 माह कहे गए हैं। headtopics.com

उसी तरह चंद्र के आधार पर नववर्ष का प्रारंभ चैत्र माह की प्रतिप‍दा से प्रारंभ होता है। ये चैत्र आदि माहों के नाम नक्षत्र के नामों पर रखे गए हैं। यह माह चंद्र का 1 माह उसकी कलाओं के घटने और बढ़ने से पूर्ण होता है। अर्थात अमावस्या से पूर्णिमा तक के उसके चक्र का 1 माह पूर्ण होता है। चंद्रमास या माह 30 तिथियों का होता है। तिथियां चंद्र के भ्रमण और गति के अनुसार तय होती हैं। इसे क्षय और वृद्धि कहते हैं। 1 तिथि का भोगकाल सामान्यत: 60 घटी का होता है। किसी तिथि का क्षय या वृद्धि होना सूर्योदय पर निर्भर करता है। कोई तिथि सूर्योदय से पूर्व आरंभ हो जाती है और अगले सूर्योदय के बाद तक रहती है तो उस तिथि की वृद्धि हो जाती है अर्थात वह वृद्धि तिथि कहलाती है। लेकिन यदि कोई तिथि सूर्योदय के बाद आरंभ हो और अगले सूर्योदय से पूर्व ही समाप्त हो जाती है तो उस तिथि का क्षय हो जाता है अर्थात वह क्षय तिथि कहलाती है इसीलिए कभी-कभी आपने देखा होगा कि एक ही दिन में अष्टमी और नवमी दोनों ही मनाई जाती है। हालांकि अष्टमी तो अष्टमी तिथि और नवमी तो नवमी तिथि को ही मनाई जाती है, तो तिथि और दिन के फर्क को समझना जरूरी है। दिन तो सूर्य की गति और भ्रमण पर आधारित है। जैसे सूर्य के उदय से अगले दिन सूर्य के उदय तक का 1 पूर्ण दिन होता है। इसी में 1 रात्रि भी शामिल है इसीलिए सूर्य और चंद्रमास के बीच लगभग 10 दिनों का अंतर जब आ जाता है तब इस अंतर को ही अधिकमास या मलमास कहते हैं। यह समझना थोड़ा कठिन जरूर है लेकिन यह पूर्णत: वैज्ञानिक है। चंद्र के अनुसार तिथि और सूर्य के अनुसार दिन निर्धारित होता है।

इसी तरह नक्षत्र माह होता है। जिस तरह सूर्य मेष से लेकर मीन तक भ्रमण करता है, उसी तरह चन्द्रमा अश्‍विनी से लेकर रेवती तक के नक्षत्र में विचरण करता है। यह काल नक्षत्र मास कहलाता है। यह लगभग 27 दिनों का होता है इसीलिए 27 दिनों का 1 नक्षत्र मास कहलाता है। उक्त तीनों को मिलाकर ही कैलेंडर का निर्माण किया गया जिससे यह जाना जाता है कि कब किस तिथि में कौन-सी राशि में कौन-सा नक्षत्र या ग्रह भ्रमण कर रहा है? इसी आधार पर मौसम और मंगल कार्य निर्धारित होते हैं। यह बिलकुल ही सटीक पद्धति है। हजारों वर्ष पहले और आज भी यह बताया जा सकता है कि सन् 2040 में कब सूर्यग्रहण या चंद्रग्रहण होगा और कब कौन-सा नक्षत्र किस राशि में भ्रमण कर रहा होगा। यह गणना अंग्रेजी कैलेंडर सहित दुनिया का कोई सा भी संवत् या कैलेंडर नहीं कर सकता, लेकिन यह गणना नासा की एफेमेरिज या हिन्दू ज्योतिष एवं पंचांग जरूर कर सकता है। इस कैलेंडर का नववर्ष चैत्र माह की प्रथम तिथि से प्रारंभ होता है। इस प्रथम तिथि को प्रतिपदा कहते हैं। यह चैत्र माह अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से मार्च और अप्रैल के बीच प्रारंभ होता है। चैत्र माह भारतीय कैलेंडर का प्रथम माह है जबकि अंतिम है फाल्गुन। अमावस्या के पश्चात चंद्रमा जब मेष राशि और अश्विनी नक्षत्र में प्रकट होकर प्रतिदिन 1-1 कला बढ़ता हुआ 15वें दिन चित्रा नक्षत्र में पूर्णता को प्राप्त करता है, तब वह मास 'चित्रा' नक्षत्र के कारण 'चैत्र' कहलाता है। भारतीय कैलेंडर के वार, तिथि, माह या वर्ष आदि किसी सम्राट, महान व्यक्ति आदि के नामों पर नहीं रखे गए हैं। यह ग्रह-नक्षत्रों के भ्रमण और भगण?????? के नाम पर ही रखे गए हैं। मार्च माह से ही दुनियाभर में पुराने कामकाज को समेटकर नए कामकाज की रूपरेखा तय की जाती है। इस धारणा का प्रचलन विश्व के प्रत्येक देश में आज भी जारी है। 21 मार्च को पृथ्वी सूर्य का 1 चक्कर पूरा कर लेती है, उस वक्त दिन और रात बराबर होते हैं। 12 माह का 1 वर्ष और 7 दिन का 1 सप्ताह रखने का प्रचलन विक्रम संवत् से ही शुरू हुआ। महीने का हिसाब सूर्य व चंद्रमा की गति पर रखा जाता है। विक्रम कैलेंडर की इस धारणा को यूनानियों के माध्यम से अरब और अंग्रेजों ने अपनाया। भारत में प्राचीनकाल से ही चैत्र माह में सब कुछ नया करने का प्रचलन रहा है। चैत्र माह से नवरात्रि का प्रारंभ होता है। इस नवरात्रि में घर का रंग-रोगन करके व्यापारी लोग अपने बही-खाते बदलते हैं। मार्च और अप्रैल के बीच का कालखंड ऐसा है जबकि सूर्य राशि परिवर्तन करके मेष अर्थात फिर से प्रथम राशि में जाता है और दूसरी ओर चंद्र भी सभी नक्षत्रों में भ्रमण करके पुन: चित्रा नक्षत्र में पूर्णता को प्राप्त करता है। इसीलिए यह चैत्रमास ही सर्वमान्य रूप से प्रथम माह होता है, जबकि पुन: सूर्य मेष राशि में भ्रमण करने लगता है। इस दौरान मेष राशि में पहला नक्षत्र भरणी भ्रमण कर रहा होता है। हालांकि सौर मास का प्रारंभ सूर्य के उत्तरायन होने से होता है जबकि सूर्य मकर राशि में आता है। इसीलिए चंद्रमास से नवरात्रि और सौर्य मास से मकर संक्राति का महत्व है। विक्रम संवत् के आधार पर भारत के हर राज्य में थोड़े-बहुत फेरबदल के बाद यह कैलेंडर प्रचलन में आया लेकिन यह कैलेंडर संपूर्ण भारत सहित ईरान और इंडोनेशिया तक प्रचलित था। कहते हैं कि रोम ने भी इसी कैलेंडर को देखकर ही अपने यहां का कैलेंडर ईजाद दिया था। इसे ही देखकर प्राचीन अरब जगत के लोगों ने अपना संवत् चलाया था जिसे बाद में हजरत मोहम्मद के काल में बदला गया।

भारत में जब विक्रम संवत् के आधार पर नववर्ष प्रारंभ होता है, तो उसे हर राज्य में एक अलग नाम से जाना जाता है, जैसे महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा, आंध्र में उगादिनाम, जम्मू-कश्मीर में नवरेह, पंजाब में वैशाखी, सिन्ध में चैटीचंड, केरल में विशु, असम में रोंगली बिहू आदि, जबकि ईरान में नौरोज के समय नववर्ष इसी दिन प्रारंभ होता है। हर राज्य में इसका नाम भले ही अलग हो लेकिन सभी यह जानते हैं कि इसका नाम नवसंवत्सर ही है। इसे संवत्सर क्यों कहते हैं? शनिवार, 6 अप्रैल 2019 से चैत्र माह की प्रतिपदा से भारत का नववर्ष प्रारंभ हो रहा है। इस दिन से विक्रम संवत् 2075 की समाप्ति और 2076 का प्रारंभ होगा। इसी दिन से नवरात्रि पर्व भी प्रारंभ होगा। अब सवाल यह उठता है कि नववर्ष को क्यों संवत्सर कहा जाता है?

और पढो: Webdunia Hindi »

ऑपरेशन Al Qaeda में UP ATS किए कौन से नए खुलासे? देखें खबरदार

लखनऊ में अलकायदा का टेरर मॉड्यूल ध्वस्त हुआ है. ये टेरर मॉड्यूल धीरे धीरे डिकोड हो रहा है. पिछले 24 घंटे में जांच काफी आगे बढ़ चुकी है. यूपी एटीएस और यूपी पुलिस की टीमें लगी हैं. जगह जगह संदिग्धों की तलाश हो रही है.एजेंसियां एक एक जानकारी निकालने में जुटी हैं. अलकायदा से जुड़े जिन दो संदिग्ध आतंकियों को कल पकड़ा गया था। उनसे अब तक की पूछताछ में कई बड़े खुलासे हुए हैं। ये संदिग्ध आतंकी कैसे आतंक के DIY मॉड्यूल पर काम कर रहे थे. इस एपिसोड में जानिए यूपी एटीएस के ऑपरेशन अलकायदा में नए खुलासे क्या हुए हैं. देखें वीडियो.

Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M30 में कौन-सा फोन है आपके लिए?रेडमी नोट 7 प्रो की शुरुआती कीमत 13,999 रुपये है। यह दमदार परफॉर्मेंस के कारण सुर्खियों में रहा है। वहीं, सैमसंग गैलेक्सी एम30 इस कीमत में सुपर एमोलेड पैनल के साथ आने वाले चुनिंदा फोन में है। हमने आपकी सुविधा के लिए इन दोनों फोन की तुलना की है।

मथुरा लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्करaap mat sudharo bas itana bata do kab -kab bjp ka prachar aayega ...tab -tab ham aajtak (rsstak ) se door rahe ... हेमामालिनी गेँहू कटाई का नाटक करते हुए.......... यूकि वोट वाली फसल भी काट ले लगे हाथो😂😂🙏🙏

अलीगढ़ लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्करपिछले साल एएमयू में पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर पर काफी बवाल हुआ था. स्थानीय सांसद सतीश गौतम ने जिन्ना की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी, जिसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तस्वीर हटाने का आदेश दिया था. तब कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले इस मुद्दे पर राजनीतिक तौर पर काफी शोर हुआ था. चुनोतियों से ही तो भाजपा उभर के आय है । देश हित में हर चुनोतियों का डट कर सामना करेगी भाजपा और बाजपा के हरेक प्रत्याशी ।। अलीगढ़ सीट बी जे पी मजबूत सीट है जनता काम देखती है Only Modi

बुलंदशहर लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्करबुलंदशहर संसदीय सीट से फिलहाल बीजेपी के भोला सिंह ही सांसद हैं. पिछले चुनाव में उन्होंने यहां से प्रचंड जीत हासिल की थी. बुलंदशहर का संसदीय इतिहास 1952 से ही कायम है और 1952 से लेकर 1971 तक यहां हुए पांच चुनाव में कांग्रेस ने लगातार जीत दर्ज की. जरुरी नही की आप जमीन पर ही थुके ! हर बात पे हिन्दु - मुस्लिम करने वालो के मुँह पर भी थुक सकते हैं !! 🤷 🌷🌷🌷 *'कौन पूरी तरह काबिल है...* *कौन पूरी तरह पूरा है..* *हर एक शख्स कहीं न कहीं...* *किसी जगह थोड़ा सा अधूरा है.......* Gud morning

नगीना लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्कर2009 लोकसभा चुनाव में नगीना संसदीय सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई तो 2014 में इस सीट पर भी मोदी लहर का असर दिखा और जीत भारतीय जनता पार्टी के खाते में गई. मुस्लिम बहुल होने के बावजूद भी ये सीट बीजेपी के पास गई, बीजेपी की नजर फिर से इस सीट पर जीत हासिल करने की है.

हाथरस लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्कर

अमरोहा लोकसभा सीट: कौन-कौन है उम्मीदवार, किसके बीच होगी कड़ी टक्करअमरोहा लोकसभा सीट के संसदीय इतिहास की बात करें तो 1952 से लेकर 1971 तक इस सीट पर शुरुआती तीन बार कांग्रेस ने और इसके बाद दो बार सीपीआई ने जीत दर्ज की थी. 1977 और 1980 में जनता पार्टी, 1984 में कांग्रेस और 1989 में एक बार फिर जनता दल को जीत मिली. 1991 के बाद 1998 में इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी की तरफ से पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान सांसद चुने गए. चेतन चौहान के कारण भी यह सीट चर्चा में रही थी. उजल बूंद आकाश की,परी गई भूमि बिकार। माटी मिली भई कीच सो बिनसंगति भौछार। अर्थात:-आदमी भी अच्छी संगति के अभाव से बुरा हो जाता है। उसी प्रकार शत्रुघ्न सिन्हा से भाजपा ने किनारा किया तो उनकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई। चारा घोटाला का सजाफ्ता'कैदी लालू यादव'उनके मार्गदर्शक हो गये। ये चैनल मोदी की दलाली करता है हमलोग इसका बहिष्कार करते हैं। ये निष्पक्ष नहीं है।

सर्वे: प्रधानमंत्री पद के लिए इतने प्रतिशत लोगों की पहली पसंद हैं नरेंद्र मोदी– News18 हिंदीलोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में छह दिन का समय बाकी रह गया है. इससे ठीक पहले सीएसडीएस-लोकनीति ने सर्वे किया है. इस सर्वे में मतदाताओं से चुनाव में उनके लिए प्रमुख मुद्दे क्या हैं से लेकर प्रधानमंत्री पद के लिए उनकी पसंद तक केबारे में सवाल किए गए हैं. मैं के माध्यम से बताना चाहता हूँ कि देश और पूरी दुनिया की पहली पसंद है मोदी सरकार। पूरा देश मोदी जी के साथ है। narendra modi

RRS के संस्थापक से रैंडी ऑर्टन तक, आज ही के दिन हुआ था इन लोगों का जन्म1 अप्रैल को कई देशों में मूर्ख दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोगो एक दूसरे को प्रैंक आदि से मूर्ख बनाते हैं। हालांकि इस तारीख को कुछ ऐसे लोगों का भी जन्म हुआ जो मेहनत से आम से खास बन गए। ye diggaj k beech me TUCHIYE ko kyun daala 🤣🤣🤣

जानिए- अप्रैल महीने में किस दिन मनाया जाएगा कौन सा त्योहारList of Vrat and Festival in April 2019: अप्रैल महीने में कई महत्वपूर्ण व्रत-त्योहार पड़ने वाले हैं. जानिए- इस महीने में किस दिन कौन सा त्योहार मनाया जाएगा. navratri Haa chal apne baap ko mat sikha : IT Office HR