सैमसंग, रेडमी नोट 7 प्रो

Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M30 में कौन-सा फोन है आपके लिए?

Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M30 में कौन-सा फोन है आपके लिए?

29-03-2019 16:09:00

Redmi Note 7 Pro और Samsung Galaxy M30 में कौन-सा फोन है आपके लिए?

रेडमी नोट 7 प्रो की शुरुआती कीमत 13,999 रुपये है। यह दमदार परफॉर्मेंस के कारण सुर्खियों में रहा है। वहीं, सैमसंग गैलेक्सी एम30 इस कीमत में सुपर एमोलेड पैनल के साथ आने वाले चुनिंदा फोन में है। हमने आपकी सुविधा के लिए इन दोनों फोन की तुलना की है।

 Redmi Note 7 Pro vs Samsung M30 डिज़ाइनदोनों ही फोन एक ही प्राइस सेगमेंट के हैं और इनकी नज़र भी एक ही किस्म के ग्राहकों पर है। लेकिन ये डिज़ाइन के मामले में एक-दूसरे से जुदा हैं। Galaxy M30 (रिव्यू) में Samsung ने ग्रेडिएंट फिनिश देने का फैसला किया है जो दिखने में मॉडर्न लगता है। लेकिन बॉडी प्लास्टिक की है जो Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) की बॉडी जितनी प्रीमियम नहीं लगती। Xiaomi ने भी अपने फोन में ग्रेडिएंट फिनिश का इस्तेमाल किया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने अफ़ग़ानिस्तान को दिलाया भरोसा - BBC Hindi ओलिंपिक सिल्वर गर्ल की मां का इंटरव्यू: रियो में नाकामी के बाद हम शादी के लिए दबाव डालने लगे थे, लेकिन मीरा कहती थी- पहले मेडल फिर शादी ब्राह्मण सम्मेलन कराते ही ट्रोल होने लगीं मायावती: यूजर्स बोले- बसपा सुप्रीमो अपना मिशन भूल गईं हैं, अब BSP का मतलब बहुजन नहीं ब्राह्मण समाज पार्टी हो गया; पढ़ें टॉप-5 कमेंट्स

Redmi Note 7 Pro की बिल्ड क्वालिटी काफी बेहतर है, क्योंकि शाओमी ने फ्रंट और बैक पैनल पर कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल किया है। यह भले ही दिखने में शानदार हो, लेकिन इस पर उंगलियों के निशान आसानी से पड़ जाते हैं। इस वजह से आपको फोन को बार-बार साफ करना पड़ेगा। रेडमी नोट 7 प्रो की तुलना में Samsung Galaxy M30 पर फिंगरप्रिंट को बेहतर मैनेज करता है।

दोनों ही स्मार्टफोन वाटरड्रॉप नॉच से लैस हैं। दोनों का डिस्प्ले 6 इंच से बड़ा है। इनके पैनल पर बेज़ल बेहद ही पतले हैं। लेकिन निचले हिस्से पर बॉर्डर बेहद ही चौड़ा है। इनमें से कोई भी फोन वाटरप्रूफ नहीं है। लेकिन Redmi Note 7 Pro हैंडसेट P2i हाइड्रोफोबिक कोटिंग के साथ आता है। कंपनी का कहना है कि इससे फोन को पानी के छींटों से प्रोटेक्शन मिलेगी। headtopics.com

 दोनों ही स्मार्टफोन में वॉल्यूम और पावर बटन दायीं तरफ हैं। लेकिन इन तक पहुंचना आसान नहीं है। फिंगरप्रिंट सेंसर पिछले हिस्से पर है। लेकिन हमारे हिसाब से Redmi Note 7 Pro में बटन की पोज़ीशन ज़्यादा बेहतर है।दोनों ही फोन में बायीं तरफ सिम ट्रे है। दोनों ही फोन डुअल सिम स्लॉट के साथ आते हैं। गैलेक्सी एम30 में माइक्रोएसडी कार्ड के लिए अलग स्लॉट है, जबकि Redmi Note 7 Pro हाइब्रिड डुअल सिम स्लॉट के साथ आता है। दोनों ही फोन में निचले हिस्से पर यूएसबी टाइप-सी पोर्ट और लाउडस्पीकर्स हैं।

आपको रेडमी नोट 7 प्रो में 10 वॉट का चार्जर और गैलेक्सी एम30 15 वॉट के चार्जर के साथ आता है। Note 7 Pro में क्वालकॉम के क्विक चार्ज 4.0 स्टेंडर्ड के लिए सपोर्ट है, लेकिन आपको अलग से फास्ट चार्जर खरीदना पड़ेगा। दोनों ही फोन में 3.5 एमएम हेडफोन जैक भी है। लेकिन आपको रेडमी नोट 7 प्रो में आईआर एमिटर मिलेगा।

Redmi Note 7 Pro में पिछले हिस्से पर डुअल कैमरा सेटअप है। इसके साथ डुअल एलईडी फ्लैश मौज़ूद है। वहीं, Galaxy M30 ट्रिपल कैमरा सेटअप वाला फोन है। हमने पाया कि रेडमी नोट 7 प्रो कैमरा मॉड्यूल उभार वाला है। वही, Galaxy M30 का कैमरा मॉड्यूल पूरी तरह से सतह में मिला हुआ है।

 कुल मिलाकर डिज़ाइन की बात करें तो Xiaomi Redmi Note 7 Pro ज़्यादा बेहतर बिल्ड का एहसास देता है। इसमें ज़्यादा प्रीमियम मेटेरियल का इस्तेमाल हुआ है। इस वजह से यह फोन आगे निकल जाता है। रेडमी नोट 7 प्रो बनाम सैमसंग गैलेक्सी एम20 स्पेसिफिकेशन और सॉफ्टवेयरभले ही ये स्मार्टफोन एक ही प्राइस सेगमेंट के हैं, लेकिन हार्डवेयर के मामले में एक-दूसरे से बेहद अलग हैं। Galaxy M30 में 6.4 इंच की फुल-एचडी+ सुपर एमोलेड स्क्रीन है जो क्रिस्प है और व्यूइंग एंगल भी अच्छे हैं। दूसरी तरफ, Xiaomi में अपने फोन में 6.3 इंच का फुल-एचडी+ एलटीपीएस डिस्प्ले दिया है। दोनों ही पैनल अच्छे हैं। लेकिन सैमसंग का फोन ब्राइटनेस और क्रिस्पनेस के मामले में आगे निकल जाता है। headtopics.com

दानिश सिद्दीक़ी की मौत के बाद अफ़ग़ानिस्तान में भारतीयों के लिए सरकार की चेतावनी - BBC News हिंदी अफ़ग़ानिस्तान के लिए राष्ट्रपति बाइडन ने की अहम घोषणा - BBC Hindi PHOTOS में मीराबाई चानू की जीत: गुडलक के लिए ओलिंपिक लोगो वाली खास बालियां पहनकर रिंग में उतरीं मीरा, मां ने अपने जेवर बेचकर इन्हें बनवाया था

Samsung के फोन में एक्सीनॉस 7904 प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है। फोन के 4 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 14,990 रुपये है। गैलेक्सी एम30 के 6 जीबी रैम और 128 जीबी इनबिल्ट स्टोरेज मॉडल को 17,990 रुपये में बेचा जाता है। माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट में आप 512 जीबी तक का कार्ड इस्तेमाल कर पाएंगे।

Xiaomi ने 11एनएम प्रोसेस से बने क्वालकॉम ऑक्टा-कोर स्नैपड्रैगन 675 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया है। रैम और स्टोरेज पर आधारित फोन के दो विकल्प हैं- 4 जीबी रैम के साथ 64 जीबी स्टोरेज और 6 जीबी रैम के साथ 128 जीबी स्टोरेज। शुरुआती वेरिएंट 13,999 रुपये का है और महंगा वेरिएंट 16,999 रुपये का। दोनों ही वेरिएंट 256 जीबी तक के माइक्रोएसडी कार्ड को सपोर्ट करते हैं।

5000 एमएएच की बैटरी देने के बावजूद Samsung ने अपने फोन का वज़न 172 ग्राम रखने में सफल रही है। वहीं, 4000 एमएएच बैटरी वाले Redmi Note 7 Pro का वज़न 186 ग्राम है।Galaxy M30 के कनेक्टिविटी फीचर में ब्लूटूथ, वाई-फाई, जीपीएस, डुअल 4जी और डुअल वीओएलटीई शामिल हैं। रेडमी नोट 7 प्रो में ब्लूटूथ 5, डुअल-बैंड वाई-फाई, डुअल 4जी वीओएलटीई और आईआर है।

सॉफ्टवेयर के मामले में दोनों फोन में बड़ा अंतर है। गैलेक्सी एम30 एंड्रॉयड 8.1 ओरियो पर आधारित सैमसंग एक्सपीरियंस 9.5 यूआई पर चलता है। लेकिन एंड्रॉयड का यह वर्ज़न पुराना हो चला है। हमारा रिव्यू यूनिट फरवरी के सिक्योरिटी पैच के साथ आता है। Xiaomi का Redmi Note 7 Pro एंड्रॉयड 9 पाई पर आधारित मीयूआई 10 से लैस है। यह भी फरवरी के एंड्रॉयड के सिक्योरिटी पैच से लैस था। headtopics.com

दोनों ही फोन के यूज़र इंटरफेस कस्टमाइज़ेशन से लैस हैं। एंड्रॉयड के लेटेस्ट वर्ज़न होने के कारण Redmi Note 7 Pro इस डिपार्टमेंट में आगे निकल जाता है। Redmi Note 7 Pro vs Samsung M30 परफॉर्मेंस और बैटरी लाइफआम इस्तेमाल में हमें दोनों ही फोन में कभी भी लैग या स्टटर की शिकायत नहीं मिली। बैंकग्राउंड में कई ऐप्स खुले होने पर मल्टीटास्किंग के मामले में Samsung का यह फोन थोड़ा धीमा है। रेडमी नोट 7 प्रो ज़्यादा तेज़ है और गैलेक्सी एम30 की तुलना में ज्यादा आसानी से कई टास्क को हैंडल कर सकता है।

हमने यह भी पाया कि Xiaomi Redmi Note 7 Pro का फिंगरप्रिंट सेंसर ज़्यादा तेज़ी से फोन को अनलॉक करता है। दोनों ही फोन में फेस रिकग्निशन भी है। सेटअप भी आसान है। लेकिन फोन अनलॉक करने के मामले में रेडमी नोट 7 प्रो हैंडसेट Galaxy M30 की तुलना में ज़्यादा तेज़ है। हमारे बेंचमार्क टेस्ट में भी शाओमी का यह फोन तेज़ काम किया। साफ है कि Xiaomi Redmi Note 7 Pro हैंडसेट Samsung Galaxy M30 की तुलना में ज़्यादा पावरफुल है।

मीराबाई ने मां को किया याद: सिल्वर मेडल जीतने के बाद मीरा बोलीं- मां के त्याग से सफल हुई, यह मेडल मेरे देश और वहां के लोगों के नाम पाकिस्तानी एजेंसियों के दामन पर अफ़ग़ानों के ख़ून के धब्बे- अफ़ग़ान उपराष्ट्रपति - BBC Hindi दिल्ली में अनलॉक-8: 26 जुलाई से मेट्रो और बसें फुल कैपेसिटी के साथ चलेंगी, 50% क्षमता के साथ खुलेंगे थिएटर और मल्टीप्लेक्स

हमने दोनों ही फोन पर PUBG Mobile खेला। रेडमी नोट 7 प्रो पर यह गेम डिफॉल्ट में हाइ सेटिंग्स पर चला। लेकिन गैलेक्सी एम30 पर मीडियम सेटिंग्स में। दोनों ही फोन में कभी-कभार लैग की शिकायत मिली। इस वजह से स्मूथ गेमप्ले के लिए हमें ग्राफिक्स सेटिंग्स में बदलाव करना पड़ा।

लंबे समय तक गेम खेलने के बाद Xiaomi Redmi Note 7 Pro गर्म जरूर हुआ। लेकिन गैलेक्सी एम30 में ऐसी शिकायत नहीं मिली। दोनों ही फोन पर हमने करीब 15 मिनट तक गेम खेलने के बाद पाया कि बैटरी में गिरावट 2 प्रतिशत दर्ज की गई।दोनों ही फोन की बैटरी क्षमता अलग-अलग है। Galaxy M30 हैंडसेट 5000 एमएएच की बड़ी बैटरी के साथ आता है। जबकि रेडमी नोट 7 प्रो में 4000 एमएएच की बैटरी है। लेकिन हमारे वीडियो लूप टेस्ट में बड़ी बैटरी और सुपर एमोलेड डिस्प्ले होने के बावजूद Galaxy M30 ने 17 घंटे 4 मिनट में दम तोड़ा। इसी टेस्ट में Redmi Note 7 Pro की बैटरी 19 घंटे 23 मिनट तक चली। आम इस्तेमाल में दोनों ही फोन आसानी से पूरे दिन तक चले।

 Redmi Note 7 Pro vs Samsung M30 कैमरेRedmi Note 7 Pro के लॉन्च के वक्त Xiaomi ने इसके कैमरे की क्षमता के बारे में बहुत कुछ कहा था। कंपनी ने तो इसकी तुलना iPhone XS Max से कर दी थी। हार्डवेयर की बात करें Redmi Note 7 Pro में एफ/ 1.79 अपर्चर वाला 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा है, Sony IMX586 सेंसर के साथ।

इसके साथ 5 मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर दिया गया है। कैमरा एआई पोर्ट्रेट मोड, एआई स्टूडियो लाइटनिंग, एआई डायनमिक, स्लो-मो वीडियो रिकॉर्डिंग और 4k वीडियो कैपचर से लैस है। फ्रंट पैनल पर सेल्फी के लिए 13 मेगापिक्सल का सेंसर है। यह एआई पोर्ट्रेट मोड, एआई स्टूडियो लाइटनिंग और एआई ब्यूटीफिकेशन से लैस है।

Redmi Note 7 Pro अपने प्राइस रेंज में स्मार्टफोन फोटोग्राफी को दूसरे स्तर पर ले जाने का काम करता है। यह ढेर सारे डिटेल, हाइ डायनमिक रेंज और बेहतरीन वाइब्रेंसी के साथ तस्वीरें कैपचर करता है। क्लोज़ अप शॉट में डिवाइस चैंपियन बनकर निकलता है। कलर्स पंची रहते हैं। हमारे सैंपल शॉट में ग्रेडिएंट्स अच्छा रीप्रोड्यूस हुए।

कई बार कॉन्ट्रास्ट इनहांस करने के चक्कर में कलर्स ज़रूरत से ज़्यादा सेचुरेटेड आए और कई बार बैकग्राउंड अंडरएक्सपोज़्ड थे। कुछ कमियां है। लेकिन इस प्राइस रेंज के अन्य स्मार्टफोन की तुलना में Redmi Note 7 Pro ज़्यादा बेहतर क्वालिटी की तस्वीरें कैपचर करता है।

डिफॉल्ट में तस्वीरें 12 मेगापिक्सल रिजॉल्यूशन पर कैपचर होती हैं। Redmi Note 7 Pro में पिक्सल बाइनिंग नाम की तकनीक का इस्तेमाल हुआ है जो चार एडजेसेंट पिक्सल्स से डेटा कलेक्ट करके एक लार्ज पिक्सल बनाता है। आप चाहें तो मैनुअली 48 मेगापिक्सल मोड चुनकर 48 मेगापिक्सल शॉट कैपचर कर सकते हैं।

48 मेगापिक्सल के शॉट डिफॉल्ट 12 मेगापिक्सल रिजॉल्यूशन वाले शॉट की तुलना में ज़्यादा डिटेल कैपचर करते हैं। लेकिन ये थोड़ा डिम और सॉफ्टनिंग का एहसास देते हैं। दूसरी तरफ, 12 मेगापिक्सल वाले शॉट शार्प, ज़्यादा वाइब्रेंट और ज़्यादा डेप्थ के साथ आते हैं। इसके अलावा कम रोशनी में 48 मेगापिक्सल कैमरे द्वारा लिए गए शॉट में नॉयज़ ज्यादा रहती है।

Redmi Note 7 Pro बेहतरीन पोर्ट्रेट शॉट कैपचर करता है। एज डिटेक्शन बिल्कुल सही है। खासकर दिन की रोशनी में लिए गए बोकेह शॉट में। रात में फोटोग्राफी के मामले में भी Redmi Note 7 Pro अपने प्रतिद्वंद्वियो से आगे निकल जाता है। नाइट मोड रात में ली गई तस्वीरों को थोड़ा ब्राइट करने का काम करता है। इस दौरान ठीक-ठाक डिटेल भी कैपचर होता है। हालांकि, हमने पाया कि एक्सपोज़र बढ़ाने के चक्कर में नाइट मोड में कलर्स सटीक नहीं रहते और ग्रेनी टेक्सचर्स फोटो का हिस्सा बन जाते हैं। गौर करने वाली बात है कि आप नाइट मोड में 48 मेगापिक्सल रिजॉल्यूशन में तस्वीरें नहीं कैपचर कर पाएंगे।

13 मेगापिक्सल के फ्रंट कैमरे से ली गई सेल्फी शार्प होने के साथ अच्छे कलर रिप्रोडक्शन से लैस होती है। आपके पास कई ब्यूटिफिकेशन फीचर भी हैं।Redmi Note 7 Pro से आप फुल-एचडी और एचडी वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे। इलेक्ट्रॉनिक इमेज स्टेबलाइज़ेशन कारगर साबित होता है। हालांकि, 4K रिकॉर्डिंग में ईआईएस नहीं है।  फ्रंट कैमरे से आप फुल-एचडी वीडियो रिकॉर्डिंग कर पाएंगे। लेकिन स्टेबलाइज़ेशन की कमी के कारण वीडियो शेकी रिकॉर्ड होते हैं।

 गैलेक्सी एम30 में पिछले हिस्से पर ट्रिपल कैमरा सेटअप है। यह एफ/1.9 अपर्चर वाला 13 मेगापिक्सल के प्राइमरी कैमरे, एफ/2.2 अपर्चर वाले 5 मेगापिक्सल के डेप्थ सेंसर और 123 डिग्री फिल्ड ऑफ व्यू वाले 5 मेगापिक्सल अल्ट्रा वाइड एंगल लेंस से लैस है। सेल्फी के लिए एफ/ 2.0 अपर्चर वाला 16 मेगापिक्सल का सेंसर दिया गया है।

Samsung का कैमरा ऐप इस्तेमाल करने में बेहद ही आसान है। टॉगल्स निचले हिस्से पर हैं और अलग-अलग मोड टॉप पर। कैमरा पनोरमा, प्रो, ब्यूटी, लाइव फोकस, स्टीकर्स और कंट्यूनस शॉट से लैस है।ब्यूटी मोड की मदद से आप शॉट लेने से पहले ब्यूटीफिकेशन फिल्टर्स जोड़ पाएंगे। आपके पास खुद कई सेटिंग्स में से एक को चुनने का विकल्प है, या फिर स्मार्ट ब्यूटी चुनकर यह जिम्मेदारी फोन पर छोड़ी जा सकती है।

 Galaxy M30 के कैमरे से ली गईं तस्वीरों की क्वालिटी इस प्राइस रेंज के अन्य हैंडसेट के स्तर की थीं। दिन में ली गई तस्वीरें शार्प आईं और इनमें काफी डिटेल थी। फोन फोकस करने में सफल रहा है और तस्वीर लेने से पहले सटीक एक्सपोज़र हासिल करने में सफल रहता है। दूर के ऑब्जेक्ट विज़िबल रहते हैं। रात में फोटो खींचते वक्त हमें chromatic aberration का एहसास हुआ। मैक्रोज़ शॉट में हमने पाया कि फोन सब्जेक्ट और बैकग्राउंड में सेपरेशन हासिल करने में सफल रहता है। हालांकि, इस फोन को रेड शूट करने में दिक्कत हो रही था। क्योंकि यह रेड्स को एग्रेसिवली बूस्ट कर दे रहा था। जिससे यह आर्टिफिशियल लग रहा था।

अल्ट्रा वाइड एंगल सेंसर वाइडर फ्रेम कैपचर करने के काम आता है। इसमें ऑटोफोकस नहीं होने के कारण यह लैंडस्केप शॉट के लिए बेस्ट है। हमारे द्वारा ली गईं कुछ तस्वीरों में बैरल डिस्टॉर्शन थी। लेकिन इस कमी को दूर करने के लिए सैमसंग ने गैलरी में शेप करेक्शन का ऑप्शन दिया है। लेकिन यह सेंसर प्राइमरी सेंसर जितना डिटेल कैपचर नहीं करता है।

 हमने लाइव फोकस मोड में पोर्ट्रेट कैपचर किया। हम आउपुट से संतुष्ट हुए। आप ब्लर का स्तर तय कर सकते हैं। फोन सब्जेक्ट को बैकग्राउंड से अलग रखने में सफल होता है। इसका एज डिटेक्शन अच्छा है।कम रोशनी में गैलेक्सी एम30 की परफॉर्मेंस औसत थी। फोटो में नॉयज कम थी लेकिन इसमें ग्रेन्स थे। संभव है कि यह एग्रेसिव नॉयज़ रिडक्शन अल्गोरिदम के कारण हुआ है। दूर के ऑब्जेक्ट पहचान में नहीं आ रहे थे। इस कीमत में यह आम बात है।

16 मेगापिक्सल के कैमरे से ली गई सेल्फी में डिटेल की कोई कमी नहीं थी। हमने बोकेह इफेक्ट के लिए लाइव फोकस मोड को भी इस्तेमाल किया। एक मात्र सेल्फी सेंसर होने के बावजूद गैलेक्सी एम30 ने अच्छा एज डिटेक्शन हासिल किया। आप प्राइमरी कैमरे से 1080 पिक्सल रिजॉल्यूशन वाले वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे। लेकिन स्टेबलाइज़ेशन नहीं होने कारण आउटपुट शेकी रहता है।

हमारा फैसलादेखा जाए तो 15,000 रुपये से कम के प्राइस सेगमेंट में दोनों ही स्मार्टफोन Samsung और Xiaomi के बेस्ट प्रोडक्ट हैं। लेकिन एक-दूसरे की तुलना में दोनों ही प्रोडक्ट अलग-अलग फीचर के साथ आते हैं। Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) ज़्यादा पावरफुल है। यह बेहतर कैमरे और लेटेस्ट एंड्रॉयड सॉफ्टवेयर के साथ आता है। और कीमत भी कम है। लेकिन यह स्मार्टफोन थोड़ा गर्म ज़रूर होता है।

और पढो: NDTVIndia »

10तक: केंद्र नहीं करती दो बच्चों की नीति का समर्थन, BJP शाषित राज्यों में क्यों आया कानून?

यूपी सरकार जनसंख्या नियंत्रण नीति लेकर आ चुकी है. असम के मुख्यमंत्री भी आबादी कंट्रोल करने वाले कानून के लिए प्रबल समर्थक हैं. एमपी के कई मंत्री, विधायक मांग कर रहे हैं कि आबादी नियंत्रण कानून लाया जाए. लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने संसद में लिखित जवाब दिया कि टू चाइल्ड पॉलिसी यानी दो बच्चों की नीति लाने का कोई इरादा केंद्र सरकार का नहीं है. तो जब केंद्र की सरकार ही नीति का समर्थन नहीं करती तो फिर राज्यों में बीजेपी की सरकार क्या सिर्फ धर्म के आधार पर वोटों के ध्रुवीकरण वाली राजनीति के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून का इस्तेमाल करना चाहते हैं? देखें 10तक.

वारदात: पाकिस्तानी सेना में मेजर बना भारत का असली 'जासूस' Vardaat: Story of RAW agent Ravinder Kaushik 'Black Tiger' - Vardaat AajTakवो हिंदू से मुसलमान बनता है और उर्दू लिखना-पढ़ना सीखता है. कुरआन पढ़ता है, नमाज़ पढ़ना सीखता है, यहां तक कि खतना कराता है. इसके बाद एक नए नाम और नई पहचान के साथ पाकिस्तान पहुंचता है. पाकिस्तान में बाकायदा कॉलेज में दाखिला लेता है. फिर अखबार में इश्तेहार देखता है और नौकरी के लिए आवेदन देता है. नौकरी के इम्तेहान में भी पास हो जाता है. अब वो पाकिस्तान की सेना में भर्ती हो चुका था, फिर देखते ही देखते तरक्की पाते हुए वो पाकिस्तानी सेना में अफसर बन जाता है. पाकिस्तान में ही शादी भी करता है और फिर उसी की वजह से करीब 20 हज़ार भारतीय सैनिकों की जान बच जाती है. ये कहानी है पाकिस्तान में भारत के एक जासूस की. पाकिस्तान के उड़े होश इमरान खान भी भारत का जासूस निकाला जय हिंद.. भारत माता की जय

ओडिशा में बोले पीएम मोदी- भारत अब अंतरिक्ष में भी चौकीदारी करने में सक्षम हैओडिशा के कोरापूत में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आप सभी जनता जर्नादन का आशीर्वाद लेने के लिए आपका ये चौकीदार आपके बीच आया है. देश पर संकट गहरा है लश्कर है जयचंदो का हमें चाहिए सिर्फ सहारा राष्ट्रवाद के कंधों का। Namo again आशीर्वाद मिलेगा वापस गुजरात जाने के लिए नशा मुक्त भारत बनाना है। न= फेकू एवं शा= तड़ीपार = नशा

Redmi Go की सेल, 219 रुपए महीने की किस्त पर खरीदने का ऑफरRedmi Go Sale: इस फोन में 3000mAh की बैटरी दी गई है। फोन में ड्यूल नैनो सिम कार्ड स्लॉट और माइक्रोएसडी कॉर्ड लगाने के लिए स्लॉट दिया गया है।

भारत का 'मिशन शक्ति', 3 मिनट में मार गिराया सैटेलाइट: PM Modi India shot down satellite, now a space superpower: PM - India AajTakप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि देश ने आज कुछ ही समय पहले बड़ी उपलब्धि हासिल की है. भारत ने आज अंतरिक्ष में बड़ी उपलब्धि हासिल की है, चीन और रूस के बाद ऐसा करने वाला भारत तीसरा बड़ा देश बना है. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने अंतरिक्ष में एक सैटेलाइट को मार गिराया है. पीएम बोले कि भारत ने इस मिशन को 'मिशन शक्ति' का नाम दिया है. आज भारत अंतरिक्ष में महाशक्ति बन गया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने अंतरिक्ष में एक सैटेलाइट को मार गिराया है. पीएम बोले कि भारत ने इस मिशन को 'मिशन शक्ति' का नाम दिया है. आज भारत अंतरिक्ष में महाशक्ति बन गया है. पीएम ने बताया कि LEO सैटेलाइट को मार गिराना एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था, इस मिशन को सिर्फ 3 मिनट में पूरा किया गया है. narendramodi सैटेलाइट दूर अंतरिक्ष में मार गिराया लेकिन पिछवाड़ा भारत में बैठे RahulGandhi जैसे गद्दारों और पाकिस्तान का फट गया narendramodi राहुल ने बड़ी मुश्किल से तो राफेल राफेल रटा था. अब ये सैटेलाइट, ASAT, LEO तो एकदम ही आउट ऑफ सिलेबस आ गया भई 😂😂😂😂😂 narendramodi जब नहाने का साबुन बिल्कुल छोटा हो जाता है, तो हम उसे साबुन दानी में छोडकर नया साबुन निकाल लेते हैं।3-4 बार हुआ तो छोटे छोटे साबुन के टुकडे इकट्ठे हो जाते हैं। हम इसका 'गठबंधन' बना देते हैं फ़िर भी वो गठबंधन वाला साबुन नहाने के काम नही आता सिर्फ़ शौच के हाथ धोने के काम ही आता है।

मेनका, वरुण की सीट बदली, देखें- BJP की नई लिस्ट का विश्लेषण Khabardar:Joshi dropped, Maneka and Varun in BJP list for UP - khabardar AajTakउत्तर प्रदेश की चुनावी राजनीति में मोदी पॉलिटिक्स का सबसे मुश्किल चुनावी मैदान है. सामने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन है, जो वोटों के गणित में मजबूत दिखता है. इसलिए मोदी पॉलिटिक्स के लिए चुनौती ये है कि वो यूपी में अपनी कौन सी टीम कॉम्बिनेशन के साथ चुनाव लड़ें जो गठबंधन के वोट गणित की काट बन सके. उत्तर प्रदेश के लिए बीजेपी ने नई लिस्ट जारी की है. जानिए इस नई लिस्ट में नया क्या है.

हैदराबाद के खिलाफ IPL अभियान शुरू करेगी केकेआर, कप्तान कार्तिक लगाना चाहते हैं 'एक तीर से दो निशाने'– News18 हिंदीकोलकाता नाइट राइडर्स आईपीएल 2019 में अपने अभियान का आगाज सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ करेगी. ये टूर्नामेंट कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक के लिए बेहद अहम है क्योंकि उनके निशाने पर आईपीएल ट्रॉफी के साथ-साथ वर्ल्ड कप स्क्वॉड में जगह बनाना भी होगा. शनिवार को कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक ने कहा कि वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम में चयन को लेकर जितना कम सोचेंगे, उनके लिए उतना ही अच्छा है. कार्तिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'विश्व कप के बारे में जितना कम सोचूं, मेरे लिए उतना ही अच्छा है. मेरे लिए सबसे अहम कोलकाता के लिए अच्छा खेलना और टीम का अच्छा प्रदर्शन है. मुझे उम्मीद है कि विश्व कप का रास्ता अपने आप खुलेगा.'-not thinking about world cup selection, says kkr dinesh karthik onm

मेघालय में 9 उम्मीदवार, मिजोरम में 6 और नगालैंड में चार उम्मीदवार मैदान में उतरेLok Sabha General Election 2019 India LIVE News Updates: मेघालय की दो लोकसभा सीटों के लिए नौ उम्मीदवार, मिजोरम की एकमात्र लोकसभा सीट पर छह, नगालैंड की एक सीट के लिए चार उम्मीदवार और सिक्किम की एक लोकसभा सीट पर 11 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

छूते भी नहीं पर यूं 'बर्बाद' कर रहे हम अरबों लीटर पानी-Navbharat Timesपानी का इस्तेमाल सिर्फ खाने-पकाने और नहाने-धोने में ही नहीं होता है। इसका इस्तेमाल गेहूं, चावल, दाल यानी फसलों के उत्पादन और कपड़ा तैयार करने की प्रक्रिया में भी होता है। इसका मतलब है कि भले ही हम सीधे तौर पर पानी का इस्तेमाल करें या नहीं लेकिन रोजाना पानी की एक बड़ी मात्रा खर्च होती है। जिस पानी का हम सीधे तौर पर इस्तेमाल नहीं करते हैं अंग्रेजी में उसके लिए 'वर्चुअल वॉटर' टर्म का इस्तेमाल होता है। हिंदी में हम इसके लिए 'आभासी जल' का इस्तेमाल कर सकते हैं। वॉटरऐड नाम की एक गैरलाभकारी संस्था के सर्वे में पानी को लेकर एक सर्वे किया गया है। इस सर्वे में सबसे बड़ी बात यह सामने आई कि भले ही हम सीधे तौर पर बहुत कम पानी का इस्तेमाल करते हों लेकिन उसका कई गुना ज्यादा आभासी जल का इस्तेमाल होता है। आइए क्या कहता है यह सर्वे जानते हैं...

'देशहित में रिकॉर्ड करते हैं फोन', मोदी सरकार ने दिल्‍ली हाई कोर्ट में कहादिल्ली हाई कोर्ट में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, तत्कालीन विधि सचिव सुरेश चंद्रा और कुछ वरिष्ठ सीबीआई अधिकारियों पर अवैध फोन टैपिंग का आरोप लगाते हुए एक याचिका की पृष्ठभूमि में प्रस्तुत की गईं थी। देशहित में घोटाला भी करते हैं? ये तो पुरानी आदत है लड़कियों के पीछे भी करते है। इसमें नया क्या है🤔🤔🤔 कमाल की कुतयो की देशभक्ति

Moto G7 भारत में हुआ लॉन्च, 15 मिनट की चार्जिंग में 9 घंटे चलेगा फोन- AmarujalaMoto G7 पिछले साल लॉन्च हुए Moto G6 का अपग्रेडेड वर्जन है। वहीं जी7 सीरीज के तहत कंपनी जल्द ही मोटो जी7 प्लस, जी7 पावर और मोटो जी7