Upscresults, Jagritiawasthi, Upsctopper, पहलेअटैम्प में 'प्री' भी नहीं निकाल पाई, लेकिन दिखाया हौंसला और दूसरी बार में ही Upsc टॉपर बन गई

Upscresults, Jagritiawasthi

UPSC-2020 की सेकेंड टॉपर जागृति से जानें कामयाबी के सूत्र: मोबाइल, टीवी से दूरी बना कर रखी; एग्जाम की डिमांड के हिसाब से खुद को तैयार किया, पढ़ाई में गैप नहीं किया

UPSC-2020 सेकेंड टॉपर, जागृति अवस्थी EXCLUSIVE: पहली कोशिश में 'प्री' में ही अटक गई... हार नहीं मानी, तब समझ आया कि मेहनत तो खूब लगेगी; फिर ऐसे जुटीं कि टॉपर ही बन गईं #UPSCResults #jagritiawasthi #UPSCTopper

25-09-2021 16:31:00

UPSC-2020 सेकेंड टॉपर, जागृति अवस्थी EXCLUSIVE: पहली कोशिश में 'प्री' में ही अटक गई... हार नहीं मानी, तब समझ आया कि मेहनत तो खूब लगेगी; फिर ऐसे जुटीं कि टॉपर ही बन गईं UPSCResults jagritiawasthi UPSCTopper

भोपाल के गवर्नमेंट होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर डॉ. एससी अवस्थी की बेटी जागृति ने उनसे कहा कि 'पापा मुझे UPSC क्लियर करना है'। यह सुन पिता डॉ. अवस्थी एक पल के लिए गहरी सोच में पड़ गए, क्योंकि तब बेटी BHEL (भेल) में इंजीनियर थी। सैलरी भी अच्छी थी। ओहदा भी बड़ा था। डॉ. अवस्थी ने सैलरी और ओहदे की बात कहते हुए सहमति दे दी। बेटी ने भी सुबह होते ही नौकरी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद UPSC में बैठक... | पहले अटैम्प में 'प्री' भी नहीं निकाल पाई, लेकिन दिखाया हौंसला और दूसरी बार में ही UPSC टॉपर बन गई

UPSC-2020 की सेकेंड टॉपर जागृति से जानें कामयाबी के सूत्र:मोबाइल, टीवी से दूरी बना कर रखी; एग्जाम की डिमांड के हिसाब से खुद को तैयार किया, पढ़ाई में गैप नहीं कियाभोपाललेखक: ईश्वर सिंह परमारकॉपी लिंकवीडियोभोपाल के गवर्नमेंट होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर डॉ. एससी अवस्थी की बेटी जागृति ने उनसे कहा कि 'पापा मुझे UPSC क्लियर करना है'। यह सुन पिता डॉ. अवस्थी एक पल के लिए गहरी सोच में पड़ गए, क्योंकि तब बेटी BHEL (भेल) में इंजीनियर थी। सैलरी भी अच्छी थी। ओहदा भी बड़ा था। डॉ. अवस्थी ने सैलरी और ओहदे की बात कहते हुए सहमति दे दी। बेटी ने भी सुबह होते ही नौकरी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद UPSC में बैठकर IAS बनने की तैयारी शुरू कर दी। पहले प्रयास में सफलता नहीं मिल सकी। इसके बावजूद हार नहीं मानी। जागृति ने इससे सीख ली कि इसमें कहीं ज्यादा मेहनत लगेगी। हौसले के साथ फिर से जुट गई।

Jaipur में महिला के पैर काटकर पायल की लूट, मामले पर क्यों घिर गई गहलोत सरकार? गुड़गाँव में नमाज़ को लेकर अब दूसरी जगह पर हंगामा, पुलिस को मिली चिट्ठी - BBC News हिंदी 'हिन्दू होने पर हम शर्मिंदा हैं', नमाज पढ़ रहे लोगों के सामने 'जयश्री राम' के नारे पर भड़कीं स्वरा भास्कर

जागृति पढ़ाई में ऐसे जुटीं कि UPSC के अलावा उन्हें कुछ नहीं दिखाई दिया। पहले यूपीएससी की स्टैंडर्ड बुक्स तलाशी और फिर पढ़ाई शुरू की। रोज 8 से 9 घंटे पढ़ाई की। जब एग्जाम करीब आए तो 12 से 14 तक पढ़ाई करने लगीं। आखिरकार आसमां छू लिया।सफलता की कहानी जागृति की जुबानी

'UPSC में ओवरऑल सेकंड रैंक... अनएक्स्पेक्टेड है। हार्ड वर्क और पेरेंट्स की बदौलत ये संभव हो पाया है। मैंने 2017 से 2019 तक भेल में जॉब की। एग्जाम क्लियर करने की शुरुआत वहीं से कर दी थी। साल 2019 में पहला अटैम्प किया, लेकिन प्रीलिम्स भी नहीं निकाल पाई। इसके बाद जुलाई 2019 से फिर पढ़ाई शुरू की। कोरोना ने कई चुनौतियां थीं, लेकिन पढ़ाई जारी रखी। शुरुआती कोचिंग की मदद ली, लेकिन कोरोना की वजह से घर ही पढ़ी'। headtopics.com

गांव के विकास और बच्चों की शिक्षा में काम करना चाहती हैंजागृति ने कहा कि रूरल डेवलपमेंट, चिल्ड्रेन एजुकेशन और वूमेन राइट्स में काम करना चाहती हूं। वह देहाती जीवन को बेहतर बनाने के साथ बच्चों की शिक्षा और महिलाओं के अधिकार पर ज्यादा फोकस करेंगी।मोबाइल से दूर रहीं, घर के बरामदे में घूमती थी तो हाथ में किताब होती थी

UPSC पर फोकस कर रही जागृति ने मोबाइल से दूरी बना ली थी। यहां तक कि टीवी भी नहीं देखती। घर के बरामदे में भी घूमती थी तो हाथ में किताब ही होती थी। टॉपर बनने का कभी नहीं सोचा था, लेकिन हर हाल में UPSC एग्जाम क्लियर करना थी, ताकि IAS बनकर सेवा कर सकें।भाई ने दिया हौसला

प्रोफेसर डॉ. अवस्थी भोपाल के 5 नंबर मार्केट इलाके में पत्नी मधुलता, बेटी जागृति व बेटे श्रेयस के साथ रहते हैं। श्रेयस MBBS की पढ़ाई कर रहा है। जागृति बताती हैं कि भाई श्रेयस ने UPSC की एग्जाम देने के लिए हौसला दिया।टॉपर बनने के 5 टिप्स1. क्लियरिटी ऑफ गोल

- आप क्या कर रहे हो। एग्जाम की डिमांड क्या है। क्या सिलेबस होना चाहिए। यह आपको क्लियर होना चाहिए।2. कंसिस्टेंसी- डेली पढ़िए। जरूरी नहीं कि एक दिन में 16-16 घंटे पढ़े। जरूरत है रोजाना पढ़ने की। बस पढ़ते रहें। इससे एग्जाम में सफलता जरूर मिलेगी।3. प्रैक्टिस- खूब प्रैक्टिस करें। टेस्ट सीरिज लगाएं। सिलेबस के मुताबिक पढ़ें। headtopics.com

समीर वानखेड़े को मिला बीएल संतोष का साथ, कहा- बहुत कुछ दांव पर लगा है भारत-पाकिस्तान में क्रिकेट मैच के रोमांच की कहानी - BBC News हिंदी बीच सड़क घुटने पर बैठे SP, दर्द से कराहते इंस्पेक्टर की यूं की मदद, VIDEO VIRAL

4. एक्शन लें- कोई भी एक्शन लेने में कतई पीछे नहीं हटे। यदि आपमें निर्णय लेने की क्षमता है, तो आगे बढ़ेंगे। मैंने भेल में फर्स्ट क्लास नौकरी छोड़ी और UPSC की तैयारी की।5. नेवर गिवअप- कभी पीछे नहीं हटें। यदि किसी एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं, तो उसमें पूरी तरह से जुट जाएं।

बेसिक ऐसे बनाएं मजबूतअच्छी किताबें पढ़ें। स्टैंडर्ड बुक्स को पढ़ने में थोड़ा वक्त लगता है, लेकिन रिजल्ट अच्छा आता है।ऐसे की पढ़ाईजुलाई-2019 में UPSC की पढ़ाई शुरू की। शुरुआती 8-9 महीने तक रोज 8 से 10 घंटे पढ़ाई की। इसके बाद पढ़ाई तेज कर दी। रोज 12 से 14 घंटे तक पढ़ाई करती रही। बीच में कोरोना आया तो स्ट्रेटजी चेंज की। करंट अफेयर्स की ओर ज्यादा फोकस किया।

और पढो: Dainik Bhaskar »

दंगल: क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान के बाद अनन्या पांडे?

मुंबई क्रूज ड्रग्स केस में क्या आर्यन खान के बाद अभिनेत्री अनन्या पांडे का नंबर है? ऐसा सवाल इस वजह से उठ रहे है क्योंकि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने आर्यन के साथ ड्रग्स चैट को लेकर पूछताछ के लिए समन भेजा है. एनसीबी के जांच से बॉलीवुड पर आंच बढ़ती जा रही है. गुरुवार को शाहरुख खान बेटे आर्यन से मिलने ऑर्थर जेल पहुंचे. शाहरुख-आर्यन के बीच 15 मिनट तक मुलाकात हुई है. तो अब आर्यन के जमानत याचिक पर 26 अक्टूबर को हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. आर्यन की न्यायिक हिरासत 30 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है. तो अनन्या पांडे से समीर वानखेड़े पूछताछ कर रहे हैं. देखें वीडियो.

Congratulations Congratulations 🎊

UPSC-2020 में भोपाल की जागृति सेकेंड टॉपर: पिता बोले- बेटी ने UPSC के लिए भेल में क्लास-1 पोस्ट की नौकरी छोड़ने की बात रात में कही, हां कहते ही सुबह इस्तीफा दे दियाUPSC ने सिविल सर्विसेज 2020 का फाइनल रिजल्ट शुक्रवार को जारी कर दिया है। इसमें भोपाल की जागृति अवस्थी ने दूसरा स्थान हासिल किया है। जागृति ने MANIT (मौलाना आजाद नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी) से 2017 में बीटेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) किया है। वह भेल में नौकरी करती थीं, लेकिन नौकरी छोड़कर UPSC की तैयारी में जुट गईं। महिला वर्ग में उनकी पहली रैंक आई है। | भोपाल की जागृति दूसरे स्थान पर, मेनिट से 2017 में बीटेक ग्रेजुएट किया; भेल से नौकरी छोड़ की एग्जॉम की तैयारी क्यों 1st लड़का आ गया तो तुम्हारा धंधा बंद हो गया क्या mc 😡 😡😡 जो सेकेंड वाली को दिखाने लगे अभी कोई लड़की 1st आ जाती तो कूदने लगते लड़की ने बाजी मारी और ये और वो 😡😡😡😡 Great 👍 believe. Congratulations di ❤️✨

इंदौर: कपड़े की दुकानों में भीषण आग, शॉर्ट सर्किट की आशंका, काबू पाने की कोशिश जारीसेंट्रल कोतवाली थाना क्षेत्र रिव्हर साइड रोड पर भीषण आग लग गई है। घटना के बाद फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर मौजूद है।

मॉर्निंग न्यूज पॉडकास्ट: मोदी-बाइडेन की मुलाकात में US प्रेसिडेंट को याद आई मुंबई, UPSC की टॉप-10 लिस्ट में 5 महिलाएं, दिल्ली कोर्ट में जज के सामने फायरिंगनमस्कार,\nआज शनिवार है, तारीख 25 सितंबर 2021; आश्विन मास, कृष्ण पक्ष और चतुर्थी तिथि। | Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर) Morning Headlines; Here are today's top stories for you Modi Biden Meeting At White House, Civil Services Exam 2020 Result, Gangster Shot Dead At Rohini Court Delhi and More On Bhaskar.com.

UPSC में बिहार के शुभम बने टॉपर: 7वें स्थान पर भी जमुई के प्रवीण कुमार, भास्कर से बोले टॉपर- पेरेंट्स का शुक्रगुजार हूंUPSC 2020 का फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया है। इसमें बिहार के कटिहार के रहने वाले शुभम कुमार ने टॉप किया है। वहीं 7वां रैंक जमुई के प्रवीण कुमार को मिला है। शुभम ने वैकल्पिक विषय के रूप में एंथ्रोपोलॉजी के साथ परीक्षा पास की है। वह IIT बॉम्बे से बी.टेक (सिविल इंजीनियरिंग) हैं। | Union Public Service Commission 2020 result released, Katihar's Shubham Kumar ranked first; Studied from IIT Bombay जय हो आरक्षण👍 Congratulations to both of them जिय हो बिहार के लाला , जिय तू हजार साल

UPSC टॉपर का मंत्र: 8 घंटे मन लगाकर पढ़ो झक मारकर आएगी सफलता, जानें शुभम की लाइफ की 5 सीक्रेट बातेंकटिहार के शुभम कुमार ने यूपीएससी 2020 की फाइनल परीक्षा (Civil Services Result 2020) में टॉप करके बिहार ही नहीं देशभर के युवाओं के लिए नजीर बन गए हैं। अपनी इस कामयाबी से शुभम बेहद खुश हैं, यही नहीं उनके परिवार के सभी सदस्य बेहद गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। आम तौर कहा जाता है कि सिविल सर्विसेज की तैयारी के लिए करीब 18 से 20 घंटे की पढ़ाई करनी होती है, लेकिन शुभम ने इस बार महज 7 से 8 घंटे ही पढ़ाई करके ये मुकाम हासिल किया। आखिर शुभम को आईएएस अफसर बनने की प्रेरणा कहां से मिली और इस कामयाबी में उन्हें किससे सबसे ज्यादा सहयोगा मिला, बताते हैं आगे... Ha

ममता यादव से जानिए, कैसे क्रैक करें UPSC: पहले प्रयास में क्लियर किया था एग्जाम, लेकिन रैंक सुधारने के लिए दिन में 12-12 घंटे पढ़ाई की, पाया देशभर में 5वां स्थानमुसीबतों से ही निखरी है इंसान की शख्सियत, जो चट्‌टानों से न टकराए वो झरना किस काम का। कुछ ऐसा ही है हरियाणा के महेन्द्रगढ़ जिले के छोटे से गांव बसई की बेटी ममता यादव का जुनून, जिन्होंने देश की सबसे कठिन UPSC की परीक्षा को क्रैक कर दिखाया है। | मुसीबतों से ही निखरी है इंसान की शख्सियत, जो चट्‌टानों से न टकराए वो झरना किस काम का। कुछ ऐसा ही है हरियाणा के महेन्द्रगढ़ जिले के छोटे से गांव बसई की बेटी ममता यादव का जुनून, जिन्होंने देश की सबसे कठिन UPSC की परीक्षा को क्रैक कर दिखाया है। लाचार व्यवस्था उo प्रo में एक बुजुर्ग का घर अतिक्रमण होने की बाहर सोने से मृत्यु हो गई स्थानीय प्रशासन restmode है काफी दिनों से twitter और प्रतिवेदन दे रहा था लकिन कोई सरकारी बाबु ने संज्ञान नहीं लिया dmazamgarh Uppolice digazamgarh adgzonevaranasi 112UttarPradesh