Dunia Mere Aage, Sahitya, Dilapidated, Road, Rock, Book

Dunia Mere Aage, Sahitya

सरोकार के रास्ते

सरोकार के रास्ते in a new tab)

16-09-2021 00:54:00

सरोकार के रास्ते in a new tab)

पहाड़ की टूटी-फूटी सड़कों पर बरसात के दौरान आम लोग भी सड़क पर चलने से परहेज करते हैं।

दरअसल, सामाजिक सरोकार की वजह से निजी स्तर पर किए गए कुछ प्रयास समूची व्युवस्था के लिए प्रेरक और उत्साह बढ़ाने वाले उदाहरण बन जाते हैं। यों यह उन महिलाओं की स्कूल खुलने से पहले हर सप्ताह कम से कम तीन दिन की कहानी होती थी, लेकिन जब से स्कूल नियमित खुलने के आदेश जारी हुए हैं, तब से यह उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है।

100 करोड़ वैक्सीनेशन पर भारत के मुरीद हुए बिल गेट्स, पीएम मोदी को दी बधाई NCB की पूछताछ से पहले पापा से लिपटकर रोई थीं Ananya Panday , ड्रग्स लेने पर दिया ये जवाब चैट से खुलासा: आर्यन ने अनन्या से पूछा- कुछ जुगाड़ हो सकता है? एक्ट्रेस ने कहा- मैं अरेंज कर दूंगी

चार-पांच बच्चों को एक साथ इकट्ठा करना और इन्हीं में से किसी एक घर के आंगन में ऐसी जगह तलाशना, जहां कम से कम घंटा भर सुकून से बैठ कर बच्चों के साथ कक्षा एक से पांच तक की हिंदी, अंग्रेजी और गणित विषय के लिए तैयार की गई मूलभूत दक्षताओं पर आधारित अभ्यास पुस्तिकाओं पर पठन-पाठन का वे काम कर सकें। इसके लिए उन्होंने बहुत-सी गतिविधियां भी तैयार की हैं। कुछ गीतों के माध्यम से, कुछ खेल-खेल के माध्यम से और कुछ खुद सीखने-सिखाने की सामग्रियों का निर्माण करके। यह दिनचर्या पौड़ी जनपद में उन तमाम शिक्षिकाओं और शिक्षकों की है, जो पूरे महामारी के दौर में शुरुआत से लेकर अब तक इस काम को अंजाम दे रहे हैं। वजह यह कि ऐसा करके वे जल्द से जल्द अपने अपने विद्यालयों के बच्चों में मूलभूत दक्षताओं में हुई कमी की अधिक से अधिक भरपाई कर सकें।

कक्षा एक और दो के बच्चों के बीच कुछ बिल्कुल नए बच्चों ने स्कूल में कदम भी नहीं रखा होता है। उन बच्चों को स्कूल में लाए बगैर स्कूली प्रक्रियाओं में शामिल करने के लिए तैयार करना उनके लिए एक ऐसी चुनौती है, जिसके लिए हमें उनके संघर्ष को उनके अनुभवों के साथ समझने की कोशिश करनी होगी। प्राथमिक विद्यालय के एक शिक्षक ने तो अपना किराए का आवास भी स्कूल की चारदिवारी के करीब लिया है, ताकि बच्चों को अधिक से अधिक समय मुहैया कराया जा सके। उनके प्रयास से महामारी के बावजूद स्कूल और आसपास के लगभग दस गांव के बच्चे जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए तैयारी कर सके हैं। headtopics.com

सरोकार व्यक्ति को निजी दायरे से ऊपर उठा देता है। ऐसे विद्यालयों में बच्चों की संख्या अधिक होती है। ऐसे में शिक्षकों के लिए काम बहुत चुनौतीपूर्ण हो जाता है। स्कूल बंद होने के बावजूद स्कूलों पर सूचनाओं का बोझ यथावत जारी है। चूंकि अधिकतर स्कूलों में आमतौर पर दो ही शिक्षक होते हैं, तो ऐसे में उन्हें गांवों में जाने के दौरान बच्चों को पर्याप्त समय देने में व्यवधान उत्पन्न होता है। एक महत्त्वपूर्ण बात यह है कि जो शिक्षक स्वेच्छा से बच्चों को गांव-गांव घूम कर इस तरीके से पढ़ाई कराने का प्रयास करते आ रहे हैं, उन्हें सहयोग करने की जरूरत लगती है, ताकि वे बच्चों को स्कूल में आमंत्रित कर सकें और उनकी पढ़ाई-लिखाई को नियमित और व्यवस्थित तरीके से करा सकें। इससे न केवल शिक्षक बच्चों के साथ सुगमता से और प्रभावी शिक्षण कर सकेंगे, बल्कि बच्चों के अभिभावकों पर मोबाइल और इंटरनेट पर होने वाले अतिरिक्त खर्च से भी निजात मिलेगी।

मौजूदा समय में में शिक्षकों की समस्याओं पर अलग से सोचने की जरूरत है कि कैसे शिक्षकों की अकादमिक जरूरतों को सभी प्रयासों के केंद्र में लाया जाए। इसके साथ-साथ शिक्षक जो भी प्रयास कर रहे हैं, उन्हें पर्याप्त सहयोग किया जा सके। बहुत सारे शिक्षकों ने पुस्तकालय के माध्यम से बच्चों तक अपनी पहुंच को संवर्धित किया है, ताकि बच्चे लगातार कुछ पढ़ने की प्रक्रियाओं में शामिल रह सकें। इसके लिए स्थानीय स्तर पर युवाओं की सेवाओं को भी लिया गया है।

वर्तमान संदर्भों को ध्यान में रखते हुए सभी प्रयासों का केंद्र सिर्फ बच्चों में मूल दक्षताओं के विकास पर रखने की जरूरत है। इसके लिए जरूरी शिक्षण सामग्री, मसलन बच्चों के लिए पुस्तकें और अन्य सहायक सामग्री को स्कूलों में उपलब्ध कराया जा सकता है। सीखने की काबिलियत को बेहतर बनाने के लिए शिक्षकों के साथ निरंतर संवाद करने की जरूरत है, ताकि जो शिक्षक बहुत ईमानदारी और सरोकार के साथ अपना वक्त देकर इस तरह से प्रयास कर रहे हैं, वे अपने इन प्रयासों को और अधिक प्रभावी बना सकें। अच्छा हो कि कुछ ‘ब्रिज कोर्स’ जैसे विशिष्ट पाठ्यक्रम तैयार किए जाएं, ताकि शिक्षक इनका उपयोग आवश्यकतानुसार कर सकें। आखिर शिक्षा व्यवस्था में बेहतरी हर समाज और सरकार का सरोकार होना चाहिए, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा संवेदनशील और जागरूक हों।

और पढो: Jansatta »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

रॉकेट हमला : इस्राइल ने हमास के ठिकानों पर गाजा पट्टी में कई लक्ष्यों पर किए हमलेरॉकेट हमला : इस्राइल ने हमास के ठिकानों पर गाजा पट्टी में कई लक्ष्यों पर किए हमले Israel Rock etAttack Target GazaStrip Hamas

स्टरलाइट के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोली चलाना लोकतंत्र पर धब्बा है: मद्रास हाईकोर्ट22 मई 2018 को तमिलनाडु के तूतीकोरिन स्थित वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट के ख़िलाफ़ जारी प्रदर्शन हिंसक हो गया था. इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोली चला दी थी, जिसमें लगभग 13 लोगों की मौत हो गई थी. प्रदर्शनकारी प्लांट पर प्रदूषण फैलाने का आरोप लगाकर इसे बंद करने की मांग कर रहे थे. मद्रास हाईकोर्ट ने सभी प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ दर्ज केस वापस लेने का आदेश भी दिया है. NcAsthana LambaAlka DaminiY26747626 khanumarfa ppbajpai suryapsingh_IAS pathakalok68 ravishndtv RahulGandhi rohini_sgh कहां गई गुजरात की पहचान? गुजरात के मुख्यमंत्री पद माननीय हैं; लेकिन हकीकत क्या है?

बैन: जर्मनी के इस फुटबॉलर पर लगा प्रतिबंध, मैच के दौरान की थी नस्लीय टिप्पणीजर्मनी के फुटबॉल खिलाड़ी डेनिस एर्डमैन पर बैन लगा दिया गया है। उन्होंने एक क्लब मैच को दौरान विपक्षी टीम के खिलाड़ियों

जर्मनी के चुनावों में भारत के लिए क्या है दांव पर | DW | 14.09.2021अंगेला मैर्केल के बाद जर्मनी की विदेश नीति का एक बड़ा सवाल भारत-प्रशांत क्षेत्र के देशों से जर्मनी के रिश्तों को लेकर खड़ा हो सकता है. इसमें भारत की महत्वपूर्ण भूमिका होगी. germanelection2021 BTWahl2021 btw21

किसानों के प्रदर्शन के ‘प्रतिकूल प्रभाव’ पर मानवाधिकार आयोग ने चार राज्यों को नोटिस भेजाराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान की सरकारों और पुलिस प्रमुखों को इस आरोप पर नोटिस भेजे हैं कि किसानों के जारी विरोध प्रदर्शनों से औद्योगिक इकाइयों और परिवहन पर ‘प्रतिकूल प्रभाव’ पड़ा है और आंदोलन स्थलों पर कोविड-19 सुरक्षा मानदंडों का उल्लंघन किया गया है.

सोनू सूद के दफ्तर पर IT का छापा: अकाउंट बुक में गड़बड़ी के आरोपों के बाद इनकम टैक्स की टीम एक्टर के मुंबई दफ्तर पहुंची, 5 अन्य लोकेशन पर भी सर्वे कियाबॉलीवुड एक्टर सोनू सूद के दफ्तर पर इनकम टैक्स विभाग का छापा पड़ा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, IT टीम अभी सोनू के मुंबई स्थित दफ्तर पर मौजूद है। उनकी एक प्रॉपर्टी की अकाउंट बुक में गड़बड़ी के आरोपों के बाद टीम प्रॉपर्टी का सर्वे कर रही है। IT की टीमों ने सोनू सूद और उनकी कंपनियों से जुड़ी 6 जगहों पर सर्वे किया है। | Sonu Sood Mumbai Update | Sonu Sood Mumbai House Raided By Income Tax Department SonuSood इससे शर्मनाक कुछ हो नहीं सकता ,जिस बंदे ने दिन-रात निस्वार्थ भाव से गरीब, मजदूर ,बेसहारा लोगों की उस भयंकर कोरोना काल में मदद की उसके यहां रेड 😠😠 SonuSood SonuSood Expected. How could anyone steal so much limelight from govt during covid crisis ? Kisi ek ko bhi achha kaam mat karne dena. How Adani could multiply his wealth would never come under IT scanner. SonuSood Good