Westbengalviolence, Bengalviolence, Tmc2, Mamatabanerjee, Silent Acceptance Of Violence, Political Violence İn Bengal, Indecent Face Of Bhadralok

Westbengalviolence, Bengalviolence

भद्रलोक का अभद्र चेहरा: भद्रलोक की नैतिकता में दल प्रतिबद्धता इतनी कठोर है कि उसकी अंतरात्मा दूसरे दल के लोगों की हत्याओं पर भी नहीं पिघलती

वैचारिक कुचेष्टाओं से समृद्ध बंगाल को बर्बाद करने के बाद हिंसा को लगातार मौन स्वीकृति देकर भद्रलोक ने अपनी संवेदनहीनता और नैतिक खोखलेपन को भी उजागर कर दिया है। राज्य में हुई हिंसा से ज्यादातर गरीब और पिछड़ा बंगाली प्रभावित हुआ है।

11-05-2021 04:49:00

भद्रलोक का अभद्र चेहरा: भद्रलोक की नैतिकता में दल प्रतिबद्धता इतनी कठोर है कि उसकी अंतरात्मा दूसरे दल के लोगों की हत्याओं पर भी नहीं पिघलती WestBengalViolence BengalViolence TMC2 MamataBanerjee VikasSaraswat BJP4India MamataOfficial

वैचारिक कुचेष्टाओं से समृद्ध बंगाल को बर्बाद करने के बाद हिंसा को लगातार मौन स्वीकृति देकर भद्रलोक ने अपनी संवेदनहीनता और नैतिक खोखलेपन को भी उजागर कर दिया है। राज्य में हुई हिंसा से ज्यादातर गरीब और पिछड़ा बंगाली प्रभावित हुआ है।

 बंगाल का सकल घरेलू उत्पाद देश में शीर्ष पर था, आज छठे स्थान परस्वतंत्रता के समय जिस बंगाल का सकल घरेलू उत्पाद देश में शीर्ष पर था, वह आज छठे स्थान पर है। मानव विकास सूचकांक में राज्य 28 वें नंबर पर है। राज्य में शहरीकरण की दर बहुत सुस्त है और लगभग 75 प्रतिशत आबादी आज भी गांवों में रहती है। कभी राष्ट्रीय उद्योगों में 24 प्रतिशत योगदान देने वाले बंगाल में यह आंकड़ा आज 4.5 प्रतिशत पर आ गिरा है। जाहिर है राज्य में नौकरियां नहीं हैं। प्रतिवर्ष एक बहुत बड़ा शिक्षित युवा वर्ग राज्य से पलायन करता है। जहां देश के अन्य राज्यों में स्वरोजगार के प्रति रुझान बढ़ा है, वहीं रोजगार-बेरोजगारी सर्वे, 2015 के अनुसार बंगाल में ऐसी कोई रुचि देखने को नहीं मिली। प्राथमिक स्तर पर स्कूल छोड़ने वालों में बंगाल की गणना सिर्फ बिहार से ऊपर है। राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध की दर बहुत ऊंची है। बाल तस्करी और महिलाओं की तस्करी में बंगाल आज शीर्ष पर है। राजनीतिक हिंसा तो मानों बंगाल का पर्याय ही बन गई है।

रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट महंगा, नई दिल्ली रेलवे स्टेशन समेत इन जगहों पर चुकाने होंगे ज्यादा दाम लक्षद्वीप विवाद: फ़िल्मकार आयशा सुल्तान पर राजद्रोह का केस क्यों? - BBC News हिंदी भारतीय मछुआरों की हत्या करने वाले इटली के मरीन्स को मुआवज़े पर छोड़ने के लिए कैसे राज़ी हो गई सरकार? - BBC News हिंदी

बंगाल में मुस्लिम तुष्टीकरण और बदलता जनसांख्यिकीय अनुपात है हिंसा की वजहसाफ है जिस बंगाल के बारे में दावा किया जाता था कि जो वह आज सोचता है, भारत कल सोचने पर विवश होता है, वह बंगाल दशकों पहले भारी दिशाभूल कर चुका है। राज्य की राजनीति के हिंसक, विषैले स्वरूप के कई कारण हैं। मुस्लिम तुष्टीकरण और बदलता जनसांख्यिकीय अनुपात यदि इसकी एक वजह है तो बुद्धिजीवी दंभ दूसरा महत्वपूर्ण कारण। पुनर्जागरण की आध्यात्मिकता से पूर्ण विच्छेद, आयातित विचारधाराओं के प्रति समर्पण और छद्म श्रेष्ठता के भाव ने बंगाल में एक ऐसे वर्ग का निर्माण किया है, जो विचारवान, कला प्रेमी, विश्व साहित्य से परिचित, उदार और प्रगतिवादी होने का अभिमान तो भरता है, परंतु उसमें वास्तविक समस्याओं के प्रति पलायन का भाव है। बढ़ती गरीबी और सड़ते शहर उसके आवेश का कारण नहीं हैं, क्योंकि उनमें से उत्कृष्ट कला की उत्पत्ति हो रही है। अभिजात्यता का अहंकार लिए यह वर्ग अपनी पहचान भद्रलोक के रूप में ऐसे करता है, जैसे इस समूह के बाहर बहुत बड़ा अभद्रलोक है। बंगाल को रचनात्मक और विकासोन्मुख दिशा देने में विफल इस आत्ममुग्ध वर्ग ने बंगाल ही नहीं, पूरे भारत की नैतिकता का ठेका ले रखा है। कोई अचरज नहीं कि आम बंगाली इन विशिष्ट जनों को आंतेल यानी छद्म बुद्धिजीवी कहते हैं।

भद्रलोक का समर्थन उसी राजनीतिक दल को मिला जिसकी ज्यादा हिंसक क्षमता उद्यमशीलता और आर्थिक समृद्धि को किनारे रख भद्रलोक के बौद्धिक अड्डों में उन काल्पनिक धारणाओं से लडा़ई जारी है, जो मार्क्स, माओ और चोम्सकी के लेखन में वर्ग शत्रु का बोध कराती हैं। इन महानुभवों की प्रासंगिकता इनके अपने समाजों में ही खत्म हो गई हो, पर भद्रलोक आज भी इनकी प्रेरणा से क्रांति की मुद्रा में डटा हुआ है। राज्य की दुर्दशा पर आत्ममंथन जैसे कठिन विकल्प को त्यागकर बाहरी कारण ढूंढने की प्रवृत्ति ने बोहिरोगतो यानी गैर बंगाली लोगों में दुश्मन ढूंढ लिया है। भद्रलोक का समर्थन उसी राजनीतिक दल को मिला, जिसकी हिंसक क्षमता ज्यादा रही चाहे वाम दल हों या ममता। भद्रलोक की नैतिकता में दल प्रतिबद्धता इतनी कठोर और निष्ठुर है कि उसकी अंतरात्मा दूसरे दल के लोगों की हत्याओं पर भी नहीं पिघलती, फिर चाहे मरने वाला गरीब बंगाली ही क्यों न हो? headtopics.com

बंगाल में हुई हिंसा से ज्यादातर गरीब और पिछड़ा बंगाली प्रभावित हुआइसका शर्मनाक उदाहरण कोलकाता का एक अंग्रेजी दैनिक भी है। यही कारण है कि चुनाव बाद हुई हिंसा का बचाव हर चुनाव के बाद होने वाली सामान्य बंगाली प्रतिक्रिया बताकर बेशर्मी से किया गया। कुछ बंगाली बुद्धिजीवियों ने चुनाव पूर्व एक गाने के माध्यम से भाजपा का विरोध यह कहकर किया था कि वह राज्य में वैमनस्य और दुर्भाव नहीं चाहते। राज्य में हुई हिंसा से ज्यादातर गरीब और पिछड़ा बंगाली प्रभावित हुआ है, परंतु उन कलाकारों में से किसी ने भी हिंसा का विरोध नहीं किया। वैचारिक कुचेष्टाओं से समृद्ध बंगाल को बर्बाद करने के बाद हिंसा को लगातार मौन स्वीकृति देकर भद्रलोक ने अपनी संवेदनहीनता और नैतिक खोखलेपन को भी उजागर कर दिया है।

और पढो: Dainik jagran »

MP के मंत्री जी का देखें ये VIDEO: इंदौर में सिलावट ने टीका लगवाने आई महिला से पूछा- पहचानती हो? महिला बोली- कमलनाथ!, मंत्री बोले- अरे! शिवराज या सिंधिया कह देतीं..

कई बार ऐसा वाकया हो जाता है, जिसे हम सोच भी नहीं सकते। हालांकि इनसे लोगों को हंसने का अच्छा मौका मिलता है। ऐसा ही कुछ मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट के साथ शुक्रवार को घटा। वे इंदौर में चल रहे ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर पर दौरा करने पहुंचे थे। | Madhya Pradesh Minister Tulsi Silawat, Tulsi Silawat

DivyaSoti VikasSaraswat BJP4India MamataOfficial दैनिक जागरण एकमात्र समाचार पत्र है जो ये सच्चाई लोगों के सामने रख रहा है VikasSaraswat BJP4India MamataOfficial भद्र लोग बंगाल छोड़ कर मुम्बई दिल्ली बंगलुरु चले गये हैं,ज़्यादा तर अभद्र लोग ही बंगाल मे बचे हैं VikasSaraswat BJP4India MamataOfficial करोनो का लिए भी मुँह फोड़ कर कुछ बोल लिया करो दल्लो कुछ लोग बंगाल के दिख रहे है यहां इतने लोग मर रहे उनका दर्द नहीं हो रहा... मुस्लिमो के नाम से ही तुम लोगो की रोज़ी रोटी चलती है बस ज़ब देखो मुस्लिमो के पीछे पड़े रहते हो

फ़्रांस में 'कट्टरपंथी मुसलमानों को रियायत' को लेकर गृह युद्ध की चेतावनी - BBC News हिंदीफ़्रांस में एक बार फिर अनाम सैनिकों ने पत्र लिखकर सरकार पर कट्टरपंथी मुसलमानों को ‘रियायत’ देने का आरोप लगाया है. Abe pagal kattar panti kiya hoata hai Muslims are synonyms of civil war, it appears from on going Muslim wars from all over the world. Bigotry Muslim ko control krna jaruri hai

'आलोचना दबाने की मोदी की गलतियां अक्षम्य, सरकार को मानना होगा कोरोना रोकने में हुई गलतियां'Coronavirus Lockdown in India LIVE Updates: DRDO द्वारा विकसित कोरोना रोधी दवा को मरीजों के लिए आपात इस्तेमाल को मंजूरी मिल गई है। इस दावा को पानी में घोलकर पिया जा सकता है। महोदय ऐ यूपी है यहां पर बिना जांच किए भष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर आवाज को दबाने के लिए फर्जी केस लिख दिया जाता है।🙏🇮🇳🙏 SaharanpurDm साहब न्याय नहीं दिला सकते तो मुझे इच्छा मृत्यु देने की कृपा करें

दिल्ली की सीमा से प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई याचिकासुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल हुई है जिसमें कोरोना महामारी को देखते हुए दिल्ली और दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन और धरना दे रहे लोगों को हटाए जाने की मांग की गई है। इस याचिका पर सोमवार को सुनवाई होनी थी जो अब गुरुवार तक टल गई है। अभी हटे नही क्या योगेन्द्र और टिकैत तो वेक्सीन लगाकर भग लिये होंगे।। किसानो को इन दोनो से ठग लिया।। जय जवान जय किसान

तल्खी : डब्ल्यूएचओ बैठक में ताइवान को बुलाने की अपील पर चीन भड़काचीन की सरकार ने सोमवार को अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन की इस बात पर भड़क गया कि उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन CKMKB 😡

कोरोनाः भारतीय स्ट्रेन को WHO ने रखा 'चिंताजनक स्वरूप' की श्रेणी मेंमार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव येचुरी ने दावा किया केंद्र सरकार ने आडंबर वाली चीजों पर पैसा खर्च किया और वैज्ञानिक परामर्शों को खारिज दिया। उन्होंने केंद्र पर कटाक्ष करते हुए कहा, ‘‘जब आपको अस्पताल बनवाने चाहिए तो आप महल बनवा रहे हैं।’’

'युद्ध स्तर पर वैक्सीन उत्पादन करने की जरूरत, कई कंपनियों को काम में लगाएं' : अरविंद केजरीवालदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को एक डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि देश में युद्ध स्तर पर वैक्सीन उत्पादन करने की जरूरत है और इसके लिए वैक्सीन निर्माण का काम बस दो कंपनियों के पास नहीं रहना चाहिए. ताकि AAP PARTY Oxygen के साथ साथ Vaccine की कालाबाजारी भी कर सके। इसको तो बस अपना थोबड़ा टीवी पर दिखाना है या अपने लोगों के लिए अवसर तलाशना है! बस। अरविंद केजरीवाल को भी प्रयास करना चाहिए कि मोहल्ला क्लीनिक से कुछ आगे सोचे क्योंकि मोहल्ला क्लीनिक में एक भी कोरोनावायरस का मरीज भर्ती नहीं है कुछ आगे सोचिए पानी और बिजली के आगे भी है कुछ