Biharelections 2020, East Champaran District, Gandhi, Bihar Election, Bihar Election 2020, Bihar Election Date, Election Commission Of İndia, Eci, Election Commission Of Bihar, Bihar Vidhan Sabha Election 2020, Bihar Election 2020 News, Bihar Election Date 2020, Bihar Election News, Bihar News, Bihar Assembly Election 2020

Biharelections 2020, East Champaran District

पूर्वी चंपारण: जहां महात्मा गांधी ने पैना किया था अपना सबसे बड़ा हथियार- सत्याग्रह

चंपारण का नाम चंपा और अरण्य से मिलकर बना है जिसका अर्थ होता है- चम्‍पा के पेड़ों से भरा हुआ जंगल #BiharElections2020

25-09-2020 15:52:00

चंपारण का नाम चंपा और अरण्य से मिलकर बना है जिसका अर्थ होता है- चम्‍पा के पेड़ों से भरा हुआ जंगल BiharElections2020

चंपारण शब्द चंपा और अरण्य से मिलकर बना है जिसका अर्थ होता है- चम्‍पा के पेड़ों से भरा हुआ जंगल. खेती के लिए उपजाऊ जमीन वाला पूर्वी चंपारण बिहार का दूसरा सबसे ज्यादा आबादी वाला जिला भी है.

स्टोरी हाइलाइट्सगांधी ने सबसे पहले चंपारण में किया था सत्याग्रहपूर्वी चंपारण जिले में अब भाजपा का परचमतीन चरणों में होने हैं बिहार विधानसभा चुनावबिहार के उत्तर-पश्चिम के जिले पूर्वी चंपारण की सीमा नेपाल से मिलती है. खेती के लिए उपजाऊ जमीन वाला पूर्वी चंपारण बिहार का दूसरा सबसे ज्यादा आबादी वाला जिला भी है. यह बिहार के तिरहुत प्रमंडल में आता है. यह जिला 1971 में अस्तित्व में आया था जब यह चंपारण से अलग होकर पूर्वी चंपारण बना था. इसका मुख्यालय मोतिहारी है. चंपारण का नाम चंपा और अरण्य से मिलकर बना है जिसका अर्थ होता है- चम्‍पा के पेड़ों से भरा हुआ जंगल. पूर्वी चम्‍पारण की उत्तर दिशा में नेपाल है तो दक्षिण में मुजफ्फरपुर है. दूसरी ओर इसके पूर्व में शिवहर और सीतामढ़ी हैं तो पश्चिम में पश्चिमी चम्‍पारण जिला है. फिलहाल यह देश के रेड कॉरिडोर का एक हिस्सा है. रेड कॉरिडोर सरकारी शब्दावली में उस इलाके को कहा जाता है जो नक्सल प्रभावित होता है.

भोपाल में फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में क्या क्या हुआ - BBC News हिंदी चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छीना, अब प्रचार किया तो पूरा खर्च कैंडिडेट उठाएगा अमेठी में दलित प्रधान के पति को जिंदा जलाया, सांसद स्मृति के दखल के बाद एक गिरफ्तार

मिथक और इतिहास में दर्ज है चंपारणचंपारण का जिक्र पौराणिक कथाओं में भी मिलता है. कहा जाता है कि यहां के राजा उत्तानपाद के पुत्र भक्त ध्रुव ने यहां के तपोवन नामक स्थान पर ज्ञान प्राप्ति के लिए कठिन तपस्या की थी. चंपारण को रामायण में सीता की शरणस्थली बताया गया है तो हिंदू धर्मावलंबियों में इसे पवित्र स्थान माना जाता रहा है. दूसरी ओर आधुनिक भारत में गांधी का 'चंपारण सत्याग्रह' भारतीय स्वतंत्रता के इतिहास का अमूल्य पन्ना है. यही नहीं, गौतम बुद्ध ने यहां अपना उपदेश दिया था जिसकी याद में ईसा पूर्व तीसरी सदी में प्रियदर्शी अशोक ने कई स्तंभ लगाए और स्तूप बनवाए.

सत्याग्रह की पहली प्रयोगशाला बना चंपारणआजादी के आंदोलन के समय चंपारण के ही एक रैयत और स्वतंत्रता सेनानी राजकुमार शुक्ल के बुलावे पर महात्मा गांधी अप्रैल 1917 में मोतिहारी आए. तब नील की फसल पर तीनकठिया खेती लागू थी. इसके विरोध में गांधी ने चंपारण में ही सत्याग्रह का पहला सफल प्रयोग किया था. आजादी की लड़ाई में यह नए चरण की शुरुआत थी. अंग्रेजों ने चंपारण को सन 1866 में ही स्वतंत्र इकाई बनाया था. 1971 में इसके विभाजन से पूर्वी और पश्चिमी चंपारण दो जिले बन गए.

नील से लेकर गन्ने और चावल का क्षेत्र है चंपारणयहां गंडक, बागमती, सिकरहना, ललबकिया, तिलावे, कचना, मोतिया, तिऊर और धनौति जैसी नदियां हैं. कभी नील की खेती के लिए प्रसिद्ध चंपारण अब अच्छी किस्म के चावल और गुड़ के लिए प्रसिद्ध है. कहा जाता है कि यहां पर अगर कोई अपिरिचित रास्ता पूछते हुए आपके दरवाजे पर आए तो उसका स्वागत भी गुड़ और पानी से किया जाता है. गंडक, बागमती तथा इसकी अन्य सहायक नदियों के मैदान में होने से पूर्वी चंपारण की उपजाऊ मिट्टी खेती के लिए काफी अच्छी है. तराई का इलाका होने के कारण यहां दलदली मिट्टी (चौर) का भी विस्तार है. यहां आजीविका का बड़ा साधन खेती और छोटे-मोटे उद्योग हैं. यहां साल में औसतन 1242 मिलीमीटर बारिश होती है जो पश्चिम की ओर बढ़ती जाती है. सिंचाई के लिए गंडक नदी से निकाली गई त्रिवेणी, ढाका तथा सकरी नहरें बनी हैं. प्रचुर मात्रा में पानी होने की वजह से धान की काफी खेती होती है. यहां का बासमती चावल काफी प्रसिद्ध है और गन्ने की भी अच्छी मात्रा में खेती होती है. इसके अलावा जूट, मसूर और गेहूं भी जिले की प्रमुख फसलें हैं.

पशुपालन और मेहसी बटन उद्योगबिहार आर्थिक सर्वेक्षण 2014-15 में कहा गया है कि कृषि के अलावा पशुपालन भी आजीविका का प्रमुख क्षेत्रों साधन है. पशुपालन कुल ग्रामीण आय का लगभग पांचवां हिस्सा है. पशुपालन में गाय-भैंस के अलावा बकरियां और मछलियां भी बड़ी तादाद में पाली जाती हैं. इस जिले का मेहसी बटन उद्योग दुनिया भर में प्रसिद्ध है. इसकी शुरुआत करने का श्रेय स्‍थानीय निवासी भुवन लाल को जाता है. समय के साथ बटन निर्माण की प्रक्रिया ने एक उद्योग का रूप अपना लिया. एक समय में लगभग 160 बटन फैक्‍ट्री मेहसी प्रखंड के 13 पंचायतों में चल रही थीं. हालांकि, सरकार की ओर से सहयोग न मिलने के कारण बदतर स्थिति में पहुंच गया है.

पूर्वी चंपारण का सामाजिक तानाबाना2011 की जनगणना के अनुसार पूर्वी चंपारण जिले की आबादी करीब 50 लाख है. आबादी में यहां महिलाओं की संख्या पुरुषों के मुकाबले काफी कम है. यहां पर स्त्री-पुरुष अनुपात 901:1000 है. जिले में साक्षरता की दर 55.79% है. जिले के सभी हिस्सों में भोजपुरी ही बोली जाती है लेकिन शिक्षा का माध्यम हिंदी और उर्दू है. शहरी इलाकों में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाने वाले स्कूल भी हैं. 2011 की जनगणना के अनुसार 92.33% आबादी ने अपनी बोलचाल की भाषा भोजपुरी या हिंदी को बताया और करीब 7.33% लोगों ने अपनी बोलचाल की भाषा उर्दू बताई. जिले में हिंदू धर्म को मानने वालों की आबादी 80.14% है तो इस्लाम के मानने वालों की आबादी 19.42% है.

पूर्वी चंपारण के दर्शनीय स्थलकेसरिया बौद्ध स्तूपमोतिहारी से 35 किमी दूर प्राचीन ऐतिहासिक स्थल केसरिया का बौद्ध स्‍तूप है. 1998 में भारतीय पुरातत्‍व विभाग की खुदाई के बाद इस जगह का महत्‍व बढ़ गया है. पुरातत्ववेत्‍ताओं के अनुसार यह दुनिया का सबसे ऊंचा बौद्ध स्‍तूप है. मूल रूप में 150 फीट ऊंचे इस स्‍तूप की ऊंचाई सन 1934 में आए भीषण भूकंप से पहले 123 फीट थी.

नियम तोड़ने वालों से सड़कों पर लगवाई झाड़ू, 200 रु. जुर्माना भी वसूला जा सकता है तुर्की और अमरीका के बीच क्यों बढ़ रहा है तनाव - BBC News हिंदी 'साथ निभाना साथिया 2' शो छोड़ रही हैं कोकिलाबेन उर्फ रूपल पटेल, मेकर्स कर रहे हैं मनाने की कोशिश

अशोक स्तंभअरेराज अनुमंडल के लौरिया गांव में स्थित अशोक स्‍तंभ की ऊंचाई 36.5 फीट है. बलुआ पत्‍थर से निर्मित इस स्‍तंभ का निर्माण 249 ईसा पूर्व सम्राट अशोक के कराया था. इस स्‍तंभ को 'स्‍तंभ धर्मलेख' के नाम से भी जाना जाता है. स्‍तंभ का कुल वजन 40 टन (जमीन से ऊपर के हिस्‍से का 34 टन) के आसपास है.

गांधी स्मारक (मोतिहारी)चम्‍पारण में गांधी मेमोरियल स्‍तंभ का शिलान्‍यास 10 जून 1972 हुआ था. 18 अप्रैल 1978 को वरिष्‍ठ गांधीवादी विद्याकर कवि ने इसे राष्‍ट्र को समर्पित किया. इस स्‍तंभ का निर्माण महात्‍मा गांधी के चंपारण सत्‍याग्रह की याद में शांति निकेतन के मशहूर कलाकार नन्‍द लाल बोस ने किया था. चुनार पत्‍थर से बने इस स्‍तंभ की लंबाई 48 फीट है. स्मारक ठीक उसी जगह बना है जहां गांधी को 18 अप्रैल 1917 में धारा 144 का उल्‍लंघन करने के जुर्म में अनुमंडलाधिकारी की अदालत में पेश किया गया था.

जॉर्ज ऑरवेल स्मारकमोतिहारी इलाके में पड़ने वाले जॉर्ज ऑरवेल के घर को स्मारक के रूप में विकसित किया जाना है. इसके पास में ही चंपारण मिलेनियम पार्क भी बनाया गया है.पर्वी चंपारण में भाजपा का परचमपूर्वी चंपारण जिले में पूर्वी चंपारण लोकसभा सीट आती है. यह 2008 में परिसीमन के बाद बनी सीट है. 2009 के बाद यहां पर हुए तीन लोकसभा चुनावों में भाजपा को ही जीत मिली है. तीनों बार पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ही यहां से जीते हैं. इसके अलावा पश्चिमी चंपारण और शिवहर लोकसभा सीट का भी कुछ हिस्सा इस जिले में आता है. शिवहर लोकसभा सीट की बात करें तो यहां पर 1977 से लेकर 2019 तक हुए चुनावों लोकसभा में दो बार कांग्रेस, दो बार जनता दल, दो बार आरजेडी और तीन बार भाजपा को जीत मिली है. पिछली तीन बार से यहां की सांसद भाजपा की रमा देवी हैं.

विधानसभा सीटों पर BJP सबसे आगे, दूसरे नंबर पर RJDपूर्वी चंपारण में विधानसभा सीटों की बात करें तो इस लोकसभा सीट में छह विधानसभा सीटें आती हैं और शिवहर और पश्चिमी चंपारण वाले इलाके में तीन-तीन विधानसभा सीटें हैं, जो इसी जिले में पड़ती हैं. पूर्वी चंपारण में हरसिद्धि (अनुसूचित जाति), गोविंदगंज, केसरिया, कल्याणपुर, पिपरा और मोतिहारी सीटें हैं. शिवहर लोकसभा क्षेत्र में मधुबन, चिरैया, ढाका सीटें हैं और पश्चिमी चंपारण वाले लोकसभा क्षेत्र में रक्सौल, सुगौली और नरकटिया सीटें आती हैं. पूर्वी चंपारण की विधानसभा सीटों में से 3 भाजपा के पास हैं तो 2 आरजेडी और एक सीट एलजेपी के पास है. शिवहर इलाके की दो सीटें भाजपा और एक सीट आरजेडी के पास है. पश्चिमी चंपारण वाली तीन सीटों में से दो भाजपा और एक सीट आरजेडी के पास है.

इलाके के प्रसद्ध व्यक्तिजॉर्ज ऑरवेलदुनिया भर में प्रसिद्ध अंग्रेजी साहित्यकार जॉर्ज ऑरवेल भी पूर्वी चंपारण इलाके में ही पैदा हुए थे. ऑरवेल का जन्म 25 जून 1903 को मोतिहारी में हुआ था. उस समय उनके पिता रिचर्ड वेल्मेज्ली ब्लेयर अधिकारी थे. इंग्लैंड में पढ़ते समय ही ऑरवेल ने लेखन शुरू कर दिया था. उनकी लिखी Animal Farm, Burmese Days, A Hanging जैसी महान कृतियां हैं.

राजकुमार शुक्लपूर्वी चंपारण जिले में स्वतंत्रता सेनानी राजकुमार शुक्ल पैदा हुआ थे. उनके कहने पर ही गांधी ने चंपारण में सत्याग्रह किया था. बाद में राजकुमार शुक्ल को डाक विभाग ने टिकट पर भी जगह दी.रमेश चन्द्र झाइसी इलाके में फुलवारिया में पैदा हुए रमेश चन्द्र झा भारतीय स्वाधीनता संग्राम में सक्रिय क्रांतिकारी थे. बाद में उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय भूमिका निभाई. वह स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ हिन्दी के कवि, उपन्यासकार और पत्रकार भी थे.

वेंटिलेटर पर भर्ती युवती से रेप, पीड़ित ने बताया- आरोपी जान से मारने की बात कर रहे थे क्रिकेटर युवराज सिंह ने न्यूट्रीशन​​​​​​​ स्टार्टअप कंपनी में खरीदी बड़ी हिस्सेदारी; बने सबसे बड़े निवेशक होंगे ब्रैंड एंबेसडर कंगना रनोट ने मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री को बताया खून का प्यासा, लेकिन अपने ट्वीट में दो भूल कर गई एक्ट्रेस

चर्चा में चंपारणपूर्वी चंपारण में आने वाले इलाके मोतिहारी में हाल ही में यहां से सांसद राधामोहन सिंह ने रेलवे की 3 योजनाओं का लोकार्पण और 6 योजनाओं का शिलान्यास वर्चुअल माध्यम से किया. इन योजनाओं पर 23.5 करोड़ खर्च होंगे.जिले के प्रमुख पदाधिकारीश्रीसत कपिल अशोक कलेक्टर और जिले के DM हैं. उनकी ई-मेल आईडी dm-motihari.bih@nic.in है. उनका मोबाइल फोन नंबर +919473191301 है और फैक्स नंबर 06252-242900 है. नवीन चंद्र झा यहां के एसपी हैं. उनसे motihari-bih@nic.in पर ई-मेल के जरिए संपर्क किया जा सकता है. उनका मोबाइल फोन नंबर +919431822988 है. इस लोकसभा सीट के सांसद राधा मोहन सिंह का टेलीफोन नंबर 06252-241210 और मोबाइल फोन नंबर 9431815551 और 09431233001 है.

और पढो: आज तक »

Bihar Election 2020: पहले चरण की वोटिंग से पहले क्या सोचती है बिहार की जनता? देखें श्वेतपत्र

बिहार में चुनाव है, इसलिए हर तरफ वादों की बौछार है. चुनावों की दो तस्वीरें होती हैं. एक वो तस्वीर होती है, जिसे सत्ता पक्ष दिखाना चाहता है, दूसरी तस्वीर वो होती है, जो हकीकत में जमीन पर नजर आती है. गांव से शहर तक लोगों के लिए वे मुद्दे कौन से हैं, जो निर्णाय होगें? कोरोना की जिम्मेदारियों ने रूप रंग बदल लिया लेकिन चुनावी मैदान के तेवर नहीं बदले. नवरात्रि के कठिन उपवास के दौरान भी पीएम मोदी चुनावी मैदान में एनडीए का रथ हांकते रहे. देखिए चुनाव में क्या है बिहार की जनता का मूड, श्वेतपत्र में, श्वेता के साथ.

he is the man who made the hindu reejraa बैरिस्टर मोहनदास करमचंद गांधी अगर बिहार की धरती पर नही आते तो शायद विश्व को 'गांधी जी' नही मिलते............

Redmi 9i को खरीदने का आज है मौका, 8,299 रुपये है कीमतRedmi 9i की बिक्री आज दोपहर 12 बजे फ्लिपकार्ट और Mi.com से होगी। Redmi 9i को 15 सितंबर को भारत में लॉन्च किया गया है। आपको बता दें कि रेडमी

बेकार हुई पुरानी गाड़ियों का कैसे होता है निपटारा, जानें- किस देश में है क्या नियमसरकार का कहना है कि नई नीति बनने के बाद सभी तरह के वाहन इसके दायरे में आएंगे। बीते साल केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस नीति के लागू होने के बाद भारत ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरिंग हब बन सकेगा।

SBI में कैश डिपॉजिट पर लगता है चार्ज, जानें विड्राल पर क्या है बैंक का नियमअगर कोई ग्राहक तय सीमा से ज्यादा बार अकाउंट से पैसे की निकासी करता है तो उससे 50 रुपये का चार्ज लिया जाता है। यही नहीं इसके साथ ही जीएसटी भी देना होता है।

ट्रंप और शी जिनपिंग का वो भाषण, जिस पर हो रहा है हंगामा - BBC News हिंदीअमरीका के राष्ट्रपति ने एक बार फिर चायना वायरस कह कर चीन की कड़ी आलोचना की, तो शी जिनपिंग ने कहा कि किसी पर दोष मढ़ने से बचना चाहिए. ट्रंप अपने देश की जनता को बेवकूफ बना रहा है जैसे हमारा वाला हमेशा जनता से झूठ बोलता रहता है Only one man in the world can teach a lesson to ShiJinping n that is realDonaldTrump no one else! Similarly crook Chinese president only scares PresisentTrump !! China have no regrets on COVID, while world is sue ring from COVID but China blaming, in future the issue willcomein big way

हार्वर्ड रिपोर्ट का दावा, भारत साइबर स्पेस में नहीं है सुपरपॉवरभारत को रक्षा श्रेणी में 24वां स्थान, कंट्रोल में 29वां, इंटेलीजेंस में 15वां, नॉर्म्स में 12वां, सर्विलांस में 26वां और कॉमर्शियल मापदंडों में 19वां स्थान मिला. भारत सहित 13 ऐसे देश रहे जिन्होंने ‘आक्रमण’ के या विनाश वाली गतिविधियों के लिए न तो इरादे दिखाए और न ही क्षमताएं विकसित कीं. अमेरिका को छोड़ो आपको क्या लगता है भारत आगे है की पीछे है कोई बेवकूफ अंधभक्त इसपर रिप्लाई नहीं करेगा क्युकी ये उनकी समझ के परे है, ज्यादातर को गाय भैंस चीन बॉलीवुड पप्पू के आगे कोई जानकारी नहीं Kaha se hoga jo log yaha padhte hai wo to Bahar nikal jaate hai.Aap raho Reservation ke pachde me.

ग्लोबल विलन चीन का भारत के खिलाफ चालबाजी का रहा है पुराना इतिहासभारत और चीन के बीच तनाव इस समय पूरे चरम पर है। सीमा (LAC) पर युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं। चीन में शासक कोई भी रहा हो, लेकिन उसकी विस्तारवादी नीति हमेशा एक जैसी रही है। पंचशील के सिद्धांतों और हिन्दी-चीनी भाई-भाई के नारे की आड़ में लाल चीन ने हमेशा अपनी काली करतूतों को ही अंजाम दिया है।