पराग अग्रवाल: भारत में जन्मे सीईओ का सिलिकन वैली में इतना दबदबा क्यों है? - BBC News हिंदी

पराग अग्रवाल: भारत में जन्मे सीईओ का सिलिकन वैली में इतना दबदबा क्यों है?

04-12-2021 10:47:00

पराग अग्रवाल: भारत में जन्मे सीईओ का सिलिकन वैली में इतना दबदबा क्यों है?

अमेरिका की कुल आबादी में 1% लोग भारतीय मूल के हैं और सिलिकॉन वैली में भारतीय मूल के लोगों की संख्या 6% है लेकिन फिर भी बड़ी कंपनियों के शीर्ष पद पर भारतीयों की भागीदारी बेहद ज़बरदस्त है- आख़िर क्यों?

क्यों खास है भारतीयों का नेतृत्व?वाधवा कहते हैं कि भारत में पैदा हुए इनमें से कई सीईओ ने कंपनी के शीर्ष तक पहुंचने के लिए काफ़ी मेहनत की है, ऐसा करते हुए उन्होंने कई संस्थापक-सीईओ के भेद-भाव पूर्ण, अहंकारी रवैया भी देखा है, और इस रवैये ने उन्हें विनम्र बनाया है.

नडेला और पिचाई जैसे लीडर अपने साथ एक सावधान और "सभ्य" संस्कृति भी संस्था में लाते हैं जो उन्हें उन्हें शीर्ष भूमिका के लिए बेहतरीन उम्मीदवार बनाती है- खासकर ऐसे समय में जब कांग्रेस की सुनवाई के दौरान बड़ी टेक कंपनियों की साख पूरी तरह गिर चुकी है.

ब्लूमबर्ग के लिए भारत को कवर करने वाली पत्रकार सरिता राय कहती हैं कि भारतीय मूल के लोगों का 'ज़मीन से जुड़ा हुआ और कोमल रवैया' उनके लिए सकारात्मक भूमिका अदा करता है.भारतीय-अमेरिकी अरबपति व्यवसायी और पूंजीपति विनोद खोसला मानते हैं कि भारत का विविध समाज, इतने सारे रीति-रिवाज और भाषाओं का अनुभव, "उन्हें (भारतीय मूल के सीईओ) जटिल परिस्थितियों को भी हल करने की क्षमता देता है. इसके साथ ही उनका मेहनती रवैया और काम को लेकर ईमानदारी उन्हें आगे ले जाती है." headtopics.com

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के बीटिंग रिट्रीट समारोह में बजेगा कुमाऊं का लोकगीत

इसके अलावा एक महत्वपूर्ण बात ये भी है कि भारतीय, अंग्रेज़ी आसानी से बोल लेते हैं और ये उनके लिए अमेरिकी टेक इंडस्ट्री में आगे बढ़ना आसान बना देता है. साथ ही भारतीय शिक्षा प्रणाली विज्ञान और गणित पर काफ़ी ज़ोर देती है जिससे भारत में बेहतर सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री है. ग्रेजुएट छात्रों को मैनेजमेंट और इंजीनियरिंग कॉलेग में ज़रूरी स्किल सिखाई जाती है, जिसे वे अमेरिकी शिक्षण संस्थानों में जाकर और बेहतर बना लेते हैं.

क्या ये विविधता के लिए काफ़ी हैहालांकि अमेरिका में ग्रीन कार्ड मिलने में होने वाली कठिनाई और भारतीय बाज़ार में पैदा होते अवसरों ने ज़ाहिर तौर पर लोगों के बीच विदेश जाकर करियर बनाने की ललक को कम किया है.सरिता राय कहती हैं, ''अमेरिका ड्रीम की जगह भारतीय स्टार्टअप ड्रीम ने ले ली है.''

एलन मस्क: कहानी दुनिया का सबसे अमीर शख़्स बनने कीभारत में बढ़ती यूनिकॉर्न कंपनियों (कंपनी जिसकी कीमत 1 बिलियन डॉलर हो) को देखते हुए जानकार मानते हैं कि भारत में महत्वपूर्ण टेक कंपनियां बन रही है. लेकिन अभी उनके वैश्विक प्रभाव पर बात करना थोड़ी जल्दबाज़ी होगी.

आखिरकार अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता के लिए तैयार हो ही गया ईरान, दुनिया के सभी बड़े देशों की रहेगी निगाह

खोसला कहते हैं, ''भारत का स्टार्ट-अप इकोसिस्टम अपेक्षाकृत नया है. आंन्त्रोप्रेन्योरशिप और कार्यकारी रैंक में सफल भारतीयों ने एक रोल मॉडल का काम किया है लेकिन इसे आगे बढ़ने में थोड़ा वक़्त लगेगा.''हालांकि ज़्यादातर रोल मॉडल मर्द हैं- सभी सिलिकॉन वैली के भारतीय मूल के सीईओ मर्द हैं, और उनकी बढ़ती संख्या विविधता के लिहाज़ से नाकाफ़ी है. headtopics.com

राय कहती हैं, ''टेक की दुनिया में महिलाओं का प्रतिनिधित्व ना के बराबर है.''

और पढो: BBC News Hindi »
J&K पुलिस के जवान का रैप देख हैरान हुए मिथुन चक्रवर्ती-परिणीति चोपड़ा, इंटरनेट पर वायरल हुआ VIDEO भास्कर LIVE अपडेट्स: गोल्डन बॉय नीरज चोपड़ा परम विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित होंगे, 384 लोगों को मिलेगा वीरता पुरस्कार अमेजन पर MP के गृहमंत्री का एक्शन: तिरंगा छपा जूता बेचा जा रहा था, नरोत्तम मिश्रा बोले- बर्दाश्त नहीं; कंपनी मालिक बेजोस पर FIR के आदेश एलान: इस साल 384 लोगों को वीरता पुरस्कार, ओलंपिक गोल्ड जीतने वाले नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा मेडल सियासत: आरपीएन सिंह के भाजपा में जाने से बिफरी कांग्रेस, कहा- हम जो युद्ध लड़ रहे हैं वो कायरों के लिए नहीं है Congress नेता RPN Singh का इस्तीफा, BJP में होंगे शामिल, स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव?

Aaj ka Agenda|AajTak LIVE| ओमिक्रॉन से कोरोना खत्म समझना एक बड़ी भूल है ? #CORONA| #OMICRON|

Aaj ka Agenda|AajTak LIVE| ओमिक्रॉन से कोरोना खत्म समझना एक बड़ी भूल है ? #CORONA| #OMICRON| और पढो >>

अमेरिका मे योग्यता के आधार पर दबदबा कायम होता है।भारत मे दबदबा ब्यक्ति जाति के संख्या बल के आधार पर होता है। Ceo ban kar hi thodi janm hua tha be uskaa

स्मार्टफोन में क्या है DRE टेक्नोलॉजी और कैसे करता है यह कामयह एक ऐसी तकनीक है जो फोन के इंटरनल स्टोरेज को वर्चुअल रैम में बदल देती है। वर्चुअल रैम वास्तव में फोन के इंटरनल स्टोरेज को अस्थायी रैम के रूप में उपयोग करती है। इसका मुख्य काम मेमोरी मैनेजमेंट को बेहतर बनाना है।

स्टडी में खुलासा, डेल्टा की तुलना में ओमीक्रोन में दोबारा इंफेक्शन की संभावना तीन गुना ज़्यादा!आंकड़ों के आधार पर पता चला कि ओमिक्रोन पहले हुए संक्रमण से मिली प्रतिरक्षा से बचने की क्षमता रखता है। 27 नवंबर तक कोविड पॉज़ीटिव पाए गए 2.8 मिलियन रोगियों में से 35670 को दोबारा संक्रमण हुआ था क्योंकि वे 90 दिनों में ही दोबारा कोविड पॉज़ीटिव हो गए थे।

गृहमंत्री का दावा- UP में अपराध कम है: सहारनपुर में अमित शाह बोले- अखिलेश आंकड़े देख लें, राज्य में क्राइम कम हुआ हैकेंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पिछली सरकारों से तुलना करते हुए उत्तर प्रदेश में क्राइम कंट्रोल की बात कही है। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव आंकड़े देख लें, प्रदेश भर में आपराधिक घटनाओं में 70% प्रतिशत की गिरावट आई है। दावा किया कि योगी राज के दौरान प्रदेश में लूट की घटनाओं में 69%, हत्या में 30%, बलवा में 33% तथा दहेज हत्या में 22.5% की कमी दर्ज की गई। दंगों को प्रदेश से खत्म करने का काम यूपी की यो... | BJP is preparing the ground for the upcoming 2022 elections, Shah will stay in the district for one and a half hours and Yogi for 03 hours, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पिछली सरकारों से तुलना करते हुए उत्तर प्रदेश में क्राइम कंट्रोल की बात कही है। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव आंकड़े देख लें, प्रदेश भर में अपराधिक घटनाओं में 70 प्रतिशत की गिरावट आई है। दावा किया कि योगी राज के दौरान प्रदेश में लूट की घटनाओं में 69, हत्या में 30, बलवा में 33 तथा दहेज हत्या में 22.5 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई। दंगो को प्रदेश से बाहर निकालने का काम यूपी की योगी सरकार ने ही किया। AmitShah yadavakhilesh myogiadityanath अयोध्या तो।झाँकी है मथुरा काशी बाकी है रामलला आ गए कृष्ण। लला को लाना है। फिर हम सब चलेंगे काशी AmitShah yadavakhilesh myogiadityanath जब उच्च पदों पर अपराधी बैठे हों तो छुटभैयों की मजाल क्या. वैसे सुना है कि उप्र में लड़कियाँ रात को 12 बजे गहने पहन कर निकलने लगी हैं 👍 AmitShah yadavakhilesh myogiadityanath ये होती है मर्द वाली बात एक बार कह दिया कि उत्तरप्रदेश में कानून व्यवस्था अच्छी है तो है, हर बार यही कहा जायेगा, सब नहीँ तो कुछ लोग तो विश्वास करेंगें ही। बात बदली नहीँ जाती है।

Covid Variant Omicron: साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन, भारत में भी बढ़ी सख्ती... 10 पॉइंट्स में जानिए ओमिक्रॉन से क्यों खौफ में दुनियाकोरोना के इस वैरिएंट से कई देशों में बेचैनी है. इन देशों ने कोविड को लेकर नियम सख्त कर दिए हैं. भारत सरकार ने भी गाइडलाइंस जारी की है. आइए ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर अब तक के 10 बड़े अपडेट जानते हैं.

आज विश्व दिव्यांग दिवस 2021 : जानिए क्यों मनाया जाता है, जानें जरूरी बातेंहर साल 3 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकलांग दिवस मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दिव्यांगों के प्रति व्यवहार में बदलाव लाना। विकृति लोगों के साथ ही अन्य परिजनों को उनके अधिकार के लिए जागरूकता फैलाना। 1992 के बाद से दुनियाभर में विश्व दिव्यांग दिवस मनाया जा रहा है। इस दिवस को मनाने का एक और उद्देश्य है उनके प्रति करूणा, आत्‍म - सम्‍मान, और जीवन को बेहतर बनाने का समर्थन और सहयोग दोनों करें। इस खास दिवस पर जानते हैं दिव्यांग दिवस के बारे में 10 जरूरी बातें -

बिहार: 16 लोगों की आंखें क्यों निकाली गईं, अब क्या है उनका हाल - BBC News हिंदीबिहार के मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले के 'मुज़फ़्फ़रपुर आई हॉस्पिटल' में 22 नवंबर को 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ जिसके बाद 16 लोगों की आंख निकालनी पड़ी. Ye to pata lagane ka kaam media ka hai par sachhai samne aani chahiye There is a mysterious disease spreading in cows in Bihar's Samastipur district. My family also lost one cow and a calf in last two days. Please help get the attention of Govt's please help DM_Samastipur nityanandraibjp officecmbihar Are bihar goverment sleeping are public it should be happened to any minsiter wife