Himachal Pradesh, Groupism, Central Leadership, Cm Jayram Thakur

Himachal Pradesh, Groupism

पंजाब जैसी उथल-पुथल से बचना होगा कांग्रेस को

पंजाब जैसी उथल-पुथल से बचना होगा कांग्रेस को

21-09-2021 23:05:00

पंजाब जैसी उथल-पुथल से बचना होगा कांग्रेस को

हिमाचल कांग्रेस में भी पंजाब कांग्रेस की तरह उथल-पुथल मचे, इससे पहले ही कांग्रेस आलाकमान को प्रदेश में पार्टी के मसले सुलझा लेने चाहिए।

पार्टी के भीतर से ही अंदरखाने आए दिन हल्ला मचा दिया जाता है कि मुख्यमंत्री को बदला जा रहा है। मुख्यमंत्री बदले या न बदले लेकिन इस तरह की अटकलें भाजपा के लिए खतरनाक तो हंै ही। ऐसे में कांग्रेस के लिए सत्ता का रास्ता साफ दिखाई दे रहा है लेकिन यह तभी है कि अभी से नेतृत्व को लेकर तस्वीर साफ कर दी जाए। पंजाब की तरह चुनावों से ऐन पहले अगर घमासान मचा तो स्थिति बिगड़ जाएगाी।

पाकिस्तान को भारत पर जीत दिला सकते हैं ये पाँच कारण - BBC News हिंदी आर्यन खान ड्रग केस: गवाह ने एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े पर लगाए संगीन आरोप - BBC Hindi IND vs PAK T20 : मैच से पहले भारत की जीत के लिए क्रिकेटर शमी के घर मांगी गई दुआ

वर्ष 2022 के आम चुनाव को लेकर अभी काफी समय बचा हुआ है और कांगेस में आधा दर्जन से ज्यादा नेता मुख्यमंत्री पद के दावेदार माने जा रहे हैं। इनमें नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, महिला कांग्रेस विधायक आशा कुमारी, कांगड़ा से पूर्व मंत्री गुरमुख सिंह बाली और सुधीर शर्मा, मंडी से कौल सिंह ठाकुर और हमीरपुर से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू के नाम प्रमुख है।

हालांकि प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर भी दौड़ में हो सकते हैं लेकिन वे अब तक चुनावी राजनीति में सक्रिय नहीं रहे हंै। नाम तो इनके अलावा भी हंै। लेकिन गांधी परिवार ने जिस तरह पंजाब में कप्तान अमरिंदर सिंह को चलता किया है उससे एक संदेश तो तमाम कांग्रेसियों में चला ही गया है कि जो ज्यादा दबाव की राजनीति करेगा, उसे चलता किया जा सकता है। प्रदेश कांग्रेस में ऐसा न हो, इसलिए बेहतर तो यही रहेगा कि पार्टी के अंदरूनी मामलों को पहले ही सुलझा लिया जाए। ऐसे में अगर किसी को पार्टी से निकलना भी हो तो उसे समय पर ही बाहर चलता किया जाए ताकि पार्टी को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए समय मिल सके। headtopics.com

कुलदीप राठौर को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाने के लिए नेता प्रतिपक्ष, सुधीर शर्मा और आशा कुमारी ने मुहिम जरूर छेड़ी थी लेकिन वह अब खत्म होती नजर आ रही है। हॉलीलाज कांग्रेस को लेकर भाजपा की ओर से लगातार अटकलें लगवा दी जाती हैं कि यह परिवार भाजपा के साथ लगातर संपर्क में है। मुख्यमंत्री जयराम तो पहले से ही हॉलीलाज परिवार से नजदीकियां सार्वजनिक करते रहे हैं ताकि जनता में संदेश जाता रहे।

यह कांग्रेस के कार्यकर्ता व दूसरे छोटे नेता भी मानते हैं कि नेतृत्व को लेकर तस्वीर साफ होनी चाहिए ताकि वह खुलकर जमीन पर काम कर सकें। अगर ऐसा नहीं होता तो यह साफ होना चाहिए कि जीत के लिए पर्याप्त सीटें हासिल करने के बाद कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री कौन होगा इस बाबत आलाकमान खुद फैसला करेगा और वह फैसला सभी को मान्य होगा। बहरहाल, पंजाब कांग्रेस में जिस तरह से आलाकमान ने फैसला किया है उससे प्रदेश के बड़े कांग्रेस नेताओं में संदेश तो चला गया है कि पत्ता तो किसी का भी कट सकता है। जब कैप्टन अमरिंदर सिंह को जमीन पर लाया जा सकता है तो नकेल किसी पर भी कसी जा सकती है।

और पढो: Jansatta »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

पंजाब में कांग्रेस में उथल-पुथल का अन्य जगहों पर असर होने की आशंका, मुखर हो रहे हैं असंतोष के सुरपंजाब में तेजी से बदलते घटनाक्रम का कांग्रेस पर व्यापक असर होने की आशंका है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री के रूप में जिस तरीके से बाहर किया गया वह अन्य राज्यों में असंतोष का आधार बन जाएगा। Congress ki pratham parivar hi Congress ko mitane par tool gai si lagti hai. Iska asr puree Desh m dikhe ga, om ji

पंजाब कांग्रेस में बवाल जारी, रावत के बयान नाराज हुए सुनील जाखड़ | Sunil Jakharचंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कांग्रेस के पंजाब मामलों के प्रभारी और पार्टी महासचिव हरीश रावत के उस बयान पर आपत्ति दर्ज कराई, जिसमें उन्होंने कथित तौर पर कहा कि चुनाव सिद्धू (प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू) की अगुवाई में लड़े जाएंगे।

पंजाब में दलित समुदाय के व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया जाना कांग्रेस का चुनावी हथकंडा: मायावतीबसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि मीडिया के ज़रिये पता चला है कि पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव चरणजीत सिंह चन्नी के नेतृत्व में नहीं, बल्कि ग़ैर-दलित के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा, जिससे यह साफ़ ज़ाहिर है कि कांग्रेस को अब भी दलितों पर पूरा भरोसा नहीं है. ‘जातिवादी दल’ दलितों को जो भी दे रहे हैं, वह उनके वोट पाने के लिए और स्वार्थ सिद्धि के लिए है, न कि उनके उत्थान के लिए. दलितों को इससे सावधान रहना चाहिए. दलितों का वोट लेकर बुआ जी के द्वारा भतीजे को बनाना पार्टी का उपाध्यक्ष बनाना यह बसपा का हथकंडा है। चुनाव जीतने के लिए कौनसी पार्टी हथकंडे नही अपनाती,,सब कुछ न कुछ ऐसा करने की कोशिश करते हैं जिससे उनको वोट ज्यादा मिल जाएं

पंजाब में दलित सीएम: बहन जी तिलमिलाईं, बोलीं- ये कांग्रेस का चुनावी हथकंडाबसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस द्वारा पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनाए जाने पर इसे कांग्रेस का चुनावी हथकंडा करार Mayawati INCIndia Ye to hona hi tha😂😂😂😅😅😅 Mayawati INCIndia बहिन जी के गठबंधन के धागे खोल दिए काँग्रेस ने 😂 Mayawati INCIndia तिलमिलाई क्या है? मायावती ने पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनने और आगामी चुनाव में दूसरा चेहरा होने पर प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। इसमें तिलमिलाना क्या? अमर उजाला कभी मोदी शाह,योगी,राहुल,अखिलेश को तिलमिलाते हुए नहीं देखा। थू ऐसी पत्रकारिता पर।

पंजाब कांग्रेस में नहीं थमी 'रार'! कांग्रेस MLA की सोनिया गांधी से मांग- 75+ को न मिले कैबिनेट में जगहफिरोजपुर से कांग्रेस विधायक परमिंदर सिंह पिंकी ने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर मांग की है कि कैबिनेट में 75 साल से ऊपर के नेताओं को जगह न दी जाए. 75 पार में कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके खास ब्रह्म महिंद्रा आते हैं. satenderchauhan RahulGandhi INCIndia why 75 yrs make it 65 yrs should not get the minister post satenderchauhan जब सरकारी कर्मियों को 60 वर्ष में सेवानिवृत्त कर दिया जाता है तो इन नेताओं को भी 60 साल से अधिक रहने का कोई अधिकार नहीं है।इनका पेंशन एवं भत्ता बिल्कुल ही बंद कर दिया जाना चाहिए।जैसे आज कर्मचारियों के पेंशन वर्ष2004 से बंद है।सभी नेताओं के आय से अधिक संपत्ति का जांच कराना चाहिए। satenderchauhan सही बात है

कुरुक्षेत्र: पहले दलित मुख्यमंत्री का दांव अगर चला तो बदल सकता है पंजाब का चुनावकुरुक्षेत्र: पहले दलित मुख्यमंत्री का दांव अगर चला तो बदल सकता है पंजाब का चुनाव PunjabCM PunjabCongress assemblyelections2022 CharanjitSinghChanni INCIndia INCIndia VinodAgnihotri7 INCIndia VinodAgnihotri7 पंजाब में महिलाओं की सुरक्षा की खातिर ऐसे आदमी की गिरफ्तारी जरूरी है , अगर ये CM बना तो हालात कैसे होंगे ❓ ArrestCharanjitChanni INCIndia VinodAgnihotri7 एक दलित राष्ट्रपति भी हैं!!