कोरोना संक्रमण के दौर में तर्क पर भारी पड़ती धार्मिक आस्था

कोरोना संक्रमण के दौर में तर्क पर कितनी भारी पड़ रही है धार्मिक आस्था?

09-04-2020 11:01:00

कोरोना संक्रमण के दौर में तर्क पर कितनी भारी पड़ रही है धार्मिक आस्था?

तबलीग़ी जमात को कोरोना संक्रमण के लिए काफ़ी हद तक ज़िम्मेदार ठहराया जा रहा है लेकिन वे अकेले नहीं हैं.

धार्मिक समूहों पर सवालभारतीय संविधान के जानकार फ़ैज़ान मुस्तफ़ा मानते हैं कि मज़हब और 'ब्लाइंड बिलिफ़्स' यानी अंधे यक़ीन के बीच बहुत बारीक अंतर है. वे कहते हैं कि 'मज़हब और विज्ञान, धर्म और तार्किकता में हमेशा एक तरह का झगड़ा रहा है.'अजीब इत्तेफ़ाक़ है कि जिस वायरस की मानव में शुरुआत को कम्यूनिस्ट चीन में चिन्हित किया गया है, अब धार्मिक समूह उस घातक कोरोना वायरस के 'सबसे बड़े कुरियर' के तौर पर देखे जा रहे हैं.

बीजेपी नेता सोनाली फोगाट ने मंडी अधिकारी की चप्पलों से की पिटाई अफसर पर चप्पल बरसाती रहीं BJP नेता, मूक दर्शक बनी रही पुलिस चार देशों का उदाहरण देकर राहुल गांधी बोले- भारत में ऐसे फेल हुआ लॉकडाउन

दक्षिण कोरिया में बीमारी के फैलाव के लिए ईसाई संप्रदाय शियोजी चर्च की तरफ़ उंगली उठी, अब उन्होंने इसके लिए माफ़ी भी माँगी है. तो मलेशिया में कोरोना के मामलों में आई तेज़ी को फ़रवरी के अंत में राजधानी कुआलालुंपुर के पास हुई मुस्लिम समूह के आयोजन से जोड़कर देखा जा रहा है. इधर हिंदू धार्मिक संगठन इस्कॉन (ब्रिटेन) ने माना है कि कम-से-कम 21 श्रद्धालु धार्मिक समारोहों में शामिल होने के बाद संक्रमित पाए गए हैं.

ईसाई संगठन अखिल भारतीय कैथोलिक यूनियन के पूर्व अध्यक्ष जॉन दयाल कहते हैं, 'हर मज़हब में हर तरह के लोग होते हैं, तार्किक सोच वालों से लेकर दक़ियानूसी ख़्याल वालों तक. आपका अपने धर्म के मूल में यक़ीन रखना तब तक दुरुस्त है जब तक वो रूढ़िवादिता तक न जा पहुंचे.'

देश के सबसे अधिक कोरोना प्रभावित सूबे केरल के चालाकुडी चर्च में 22 मार्च को हुए सामूहिक धार्मिक कार्यक्रम के लिए पादरी को गिरफ्तार किया गया. साथ ही 50 श्रद्धालुओं के ख़िलाफ़ पुलिस केस दर्ज किया गया है.इमेज कॉपीरइटGetty Imagesसोशल मीडिया पर अफवाहों का दौर

केरल में तब तक कोरोना संक्रमित मामलों की तादाद 55 पहुंच चुकी थी, जबकि 50,000 पर निगरानी रखी जा रही थी. धार्मिक आयोजनों, स्पोर्ट्स टूर्नामेंट और दूसरे तरह के सामूहिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई थी.जॉन दयाल कहते हैं, चाहे ये केरल में हो, या ओडिशा या फिर कर्नाटक में, जो ईसाई ये सोचते हैं कि एक इमारत में जमा होने से वो ख़ुदा का सम्मान कर रहे हैं तो ईसाई धार्मिक ग्रंथों को लेकर उनकी समझ बहुत सीमित है.

फ़ैज़ान मुस्तफ़ा के मुताबिक़ भी निज़ामुद्दीन के तबलीग़ी मरकज़ (मुख्यालय) में जो हुआ 'वो एक दक़ियानूसी सोच का नतीजा थी, न कि किसी साज़िश का हिस्सा,' हालांकि वो कहते हैं कि जमात प्रमुख मौलाना साद कंधालवी को संक्रमण के ख़तरे के दौरान सामूहिक धार्मिक आयोजन करवाने की ज़िम्मेदारी से बरी नहीं किया जा सकता.

दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद कंधालवी और छह अन्य लोगों के ख़िलाफ़ संक्रमण क़ानून और भारतीय दंड संहिता की कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया है.आईआईटी मुंबई के पूर्व प्रोफेसर राम पुनयानी मानते हैं कि महामारी के बीच धार्मिक मान्याताओं को बढ़ावा देने की कोशिश, ख़ास तौर पर अगर वो सत्ता पक्ष या उससे जुड़े लोगों के ज़रिए की जाती है; तो यह कोरोना के ख़िलाफ़ भारत और दुनियां की जंग में मुश्किलों को बढ़ाएगी.

कोरोना अपडेट: लॉकडाउन के बावजूद अमरीका में बेरोज़गारी में कमी - BBC Hindi आतंक पर मौत बनकर बरस रहे सुरक्षाबल, 4 दिन में 6 आतंकी ढेर क्या दिल्ली में कम कर दी गई है कोरोना की टेस्टिंग, देखें स्पेशल रिपोर्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू के दौरान जब स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस और महामारी के दौरान काम कर रहे दूसरे लोगों के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए लोगों से ताली, थाली, बर्तन बजाने की अपील की तो बीजेपी नेता शाइना एनसी ने ट्वीट कर कहा कि पुराणों के हिसाब से घंटी और शंख की आवाज़ से बैक्टेरिया, वायरस वगैरह मर जाते हैं.

बाद में हुई आलोचना के बाद शाइना एनसी ने ट्वीट डिलीट कर दिया लेकिन फिर इस तरह की बातें सोशल मीडिया और व्हाट्सएप पर घूमती रहीं.इमेज कॉपीरइटGetty Imagesवायरस का हमला टलने का दावा भीपुनयानी के लेख 'कोरोना से जंग: अंधविश्वास के लिए कोई जगह नहीं' में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज की कोरोना से लड़ने के लिए दी गई गोमूत्र पार्टी और असम के बीजेपी विधायक सुमन हरिप्रिया का भी ज़िक्र है जिन्होंने गाय के गोबर से वायरस के इलाज की बात कही थी.

कोलकाता में गोमूत्र पीकर एक व्यक्ति के बीमार हो जाने के बाद पुलिस ने नारायण चटर्जी नाम के बीजेपी कार्यकर्ता को गिरफ़्तार किया, पर पार्टी नेता और हिंदू धार्मिक गुरु राम विलास वेदांती कहते हैं कि लोग इसलिए बीमार पड़ रहे हैं क्योंकि जिस गोमूत्र और गोबर का सेवन उन्होंने किया वो शुद्ध भारतीय नस्ल की नहीं थीं.

इस बीच मुस्लिम समूहों के पर्सनल व्हाट्सएप ग्रुप पर ऐसी कथित आयतों के ऑडियोज़ सर्कुलेट होते रहे जिनको सुनने से वायरस का हमला टलने का दावा किया जा रहा था.अमरीका के राईस यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र के प्रोफेसर क्रेग कौनसिडिन ने अंग्रेज़ी पत्रिका न्यूज़वीक में लिखा भी कि क्या सिर्फ़ प्रार्थना से कोरोना जैसी महमारी को रोका जा सकता है?

और पढो: BBC News Hindi »

Saudi Arabia se jyada pakke musalman hain Hindustan mein Mecca is No mans' land while Mosques in India is trap land मुसलमानों को तुम मारवा के छोड़ेगी!!! संसार के सभी धर्म पागलों ने बनाए हैं यदि आप इनका पालन और अनुसरण करोगे तो शीघ्र ही कोरोना पुनर्जन्म कर देगा। आपने बातें सारे धर्मों की आस्था वालों द्वारा किए गए उल्लंघन के बारे में कही परंतु फ़ोटो समुदाय विशिष्ट की लगा दी। ऐसा नहीं होना चाहिए, लोग बिना पढ़े उस समुदाय के बारे में धारणा बनाएँगे।

आस्था का सच भी देख लो Yah waqt Kumawat ka nahin hai apne desh ko bachana hai gobar wali soch band karo बहुत कम लोग जानते है कि मौलाना मोहम्मद साद को केजरीवाल प्रतिमाह ₹44000/- देता है। जमात के छुपे मिल रहे है और जॊ छुपा रहा उनमे से बहुतो को अनेक राज्य सरकार प्रतिमाह हजारे दे रहे है क्यों रहस्य है जाहीलीयत ये करे और बढ़ी हुई लाकडाऊन कि सजा पूरा देश भोगे

धार्मिक आस्था 🤔 रबीस मियां से ट्यूशन लिए हो का 😎 अबे धार्मिक कट्टरता कहो ये आस्था नहीं, कट्टरता है जनाब। लेख पढकर बस यही लगा कि एक मुस्लिम अपनी कौम को बदनामी से बचाने की भरपूर कोशिश कर रहा है। तुमसे यह उम्मीद नहीं थी बीबीसी। ChineseCoronaVirus हग दिया । BBC हिन्दू विरोधी के साथ साथ, देश विरोधी विचारधारा की खबरों को ज्यादा महत्व देता है। BycotBBC

आतंकी जमात Right देश की गंभीर स्थिति के जिम्मेदार हैं ये मरकज़ और जमात के ज़िंदा वायरस !! Jahil jamaat कोरोना_जिहाद साले सुअर सुधरेंगे नही धार्मिक आस्था नही अन्धविश्वासी आस्था भरी पड़ी है BBC ko astha kabse samajh me aane lagi, tableegi jamat walon ne sikhaya kya? धार्मिक आस्था की आड़ मे इन विधर्मियों का मकसद ही है भारत को अस्थिर करना।प्रत्येक भारत विरोधी कार्य ही इनका धर्म है

enki dharmik astha h baki to sb janwar h jaise en jahilo ki vjh se desh bhugat rha h enko mar do siddha koi hq ni h enko jine ka ek to enko bchane m lge h sb upr se ye apni aukaat dikha rhe h PMOIndia sja do enhe बुरे समय में बुरी बाते ताक़तवर होती है। यकीनन धार्मिक आस्था काफी भारी है। ये वही लोग हैं ना जिनका बेटा सोशल मीडिया पर तो मोदी जी को गाली देता फिर रहा है..... और मां बैंक में जाकर पूछती फिर रही हैं 500₹ आया है क्या ❓ तबलीगी_जमाती

धर्म को मानने और धर्म को समझने में अंतर होता है..एक अंधानुकरण है तथा दूसरा सत्य पथ है. यदि धार्मिक आस्था तार्किक कसौटियों पर खरी साबित नहीं हो सकें तो फिर उसका अनुसरण बेमानी और बेमतलब है। Kush vishesh logo kee hee dharmik aastha corona se jaada important lag rahi hi. Jo nafrat se bhari dikh rahi hi देश हित में कोई बात अगर लिखनी नहीं आती है तो मीडिया वाला काम हिंदुस्तान में बंद कर दो बीबीसी

jb poora desh lockdown tha to jmati ek sath kaise ho gye jb bheed lgane ko mna tha to etne jmati ek jgh se dusri jgh kaise phunch gye PMOIndia en jmatiyo ko sja do jo doctor nd staff ke sath bdsaluki kr rhe h खलिफा सम्राज्य, दारुल इस्लाम, धार्मिक आस्था है? Shoot at Sight order is the only solution to such idiots. Laat ke bhoot bat se Nahi manta.

आस्था और कट्टरता को जबरदस्ती ना पहचानने वालो को बीबीसी कहते हैं। Islamophobic bbc jb hindu mandir nahi ja rha to kya muslim ki alg hi astha h ky aaj saare muslim vrg chupp q h jb hindu wrg m ye hi hota to saare bolne aa lgte aaj lkahan chupp gye PMOIndia jo jmati bttamizi kar rhe h unko sja do doctor nd staff pe thukna ye kahan ki manvta h

But shit put them in jail without treatment बी बी सी का काम ही है भारत में अराजकता फेलाने वाली खबरों को प्लांट करना। Is tweet ke paise kat jayenge. Dharmik? Worst news channel. दीपकचौरसिया -अमिष देवगन-सुधीर चौधरी -अर्नव गोस्वामी- रूबीका -रोहितसरदाना -रजत इनको तो कुछ खास लोग ने मुस्लिम विरोधी बना रखा है पर रामरहिम - आसाराम -चिन्मयान्द -राधे मांजैसे हिन्दूओ पर इनके खरी रिपोर्टिंग को उनके चेलों को छोड़ किसी हिन्दु ने इन्हें द्रोही नही कहातो अब क्यो बदनाम?

निजामुदीन और वैष्णवदेबी में उलझा कर छुपना चाहती हैं इन भूक से मरने वाले मजदूर के अकड़ा गोदी मीडिया डॉक्टरों के पत्थर फेंकना, डॉक्टर और जवानों पर थूकना, डॉक्टर और नर्स को गंदे इशारा करना, हॉस्पिटल में बिरयानी मंगवाना, क्वॉरेंटाइन रूम के बाहर शौच करना और क्वॉरेंटाइन से खिड़की से कूदकर भाग जाना, यह सारे काम इसी कौम के लोग कर रहे हैं। तबलीगी_जमात_को_बैन_करो

धार्मिक आस्था या मजहबी कट्टरपन? दवाई किधर है बे 😂 जानवर को कभी इंसान बनते देखा है..!! Account hacked தயவு செய்து குறிப்பிட்ட கூட்டம் போட்ட குறிப்பிட்ட கூட்டத்தினரை குறிப்பிட்ட கூட்டம் போட்ட குறிப்பிட்ட இடத்திலேயே குறிப்பிட்ட நாட்கள் வைத்திடுங்க

कोरोना वायरस के संक्रमण में मलेरिया की दवाई की इतनी मांग क्यों है?मलेरिया की दवा की मांग पूरे विश्व में बढ़ गई है लेकिन यह किस हद तक प्रभावी है इसे लेकर कोई ठोस प्रमाण मौजूद नहीं हैं. Only two can tell this. One is India’s famous and another developed country’s famous person. आखिर DelhiPolice की ऐसी क्या माबूरी है जो उसके नाम से बेहद ख़तरनाक अफ़वाह फैलाने वालों (AMISHDEVGAN आदि) पर कोई कार्यवाई नहीं कर रही? Cc: CPDelhi, PIBHomeAffairs, LtGovDelhi, ArvindKejriwal अमेरिका जाये भाड़ में प्रधानमंत्री को अपना देशहित पहले देखना चाहिये औऱ अमेरिका तो बैसे भी चालक लोमड़ी है वोह खाता हमारी है लेक़िन ग़ुलामी चीन औऱ पाकिस्तान की करेगा नीचे नीचे😢

Corona virus | कोरोना वायरस के संक्रमण में मलेरिया की दवाई की इतनी मांग क्यों है?पूरी दुनिया में मलेरिया की दवा की मांग कोरोना वायरस से निपटने के काम में आने की वजह से बढ़ गई है जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन का यह कहना है कि यह कोरोना वायरस के इलाज में कितनी प्रभावी है, इसे लेकर कोई ठोस प्रमाण मौजूद नहीं है।

कोरोना के दौर में अमरीका में बंदूक़ों की रिकॉर्ड बिक्री क्योंकोरोना के कारण अमरीका में कई जगह पाबंदियाँ चल रही हैं. लेकिन इस दौर में भी लोग हथियार क्यों ख़रीद रहे हैं. इसका मतलब अमरीका बालो को हालात और बिगड़ने का अंदेशा है अपनी तथा अपने संसाधनों की सुरक्षा के लिए खरीद रहे है America's Guns is killing only Chinese Corona at present!

कोरोना संकट के बीच उद्धव की अपील- मदद के लिए आगे आएं सेना के रिटायर्ड अफसरमहाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपील की है कि जिन रिटायर्ड सेना के अधिकारियों को मेडिकल फील्ड में अनुभव है, वो मदद के लिए आगे आएं. बता दें कि देश में इस वक्त महाराष्ट्र में ही सबसे अधिक कोरोना वायरस के मामले आए हैं. kamleshsutar kamleshsutar Hi. I am ayurvedic lover. Iam very much keen to help my own people. andheriwest kamleshsutar ये पागलपन है रिटायर्ड लोग को किसी भी सामाजिक कार्य से दूर रखें। भारत जवानों का देश है। जवानों को समाजिक कार्यों के बुलायें और लाइसेंस दे की कौन, कौन सा कार्य करे।

कोरोना वायरस: इस गेट से गुज़रिए, संक्रमण से बचिएकेरल के एक अस्पताल ने ऐसा गेट बनाया है जिससे गुज़रने पर लोग संक्रमण से मुक्त हो जाते हैं. एक तरफ करोना के डर मारे हालत खराब 😔 दूसरी तरफ TV में बार-बार LIC का विज्ञापन आ रहा पूंछ रहे आपने बीमा कराया नहीं तो जल्दी कराओ 🤔🤔 😜😜😀🤣🤣 lockdownextension COVID लोगों को लगता है मंजिल थम सा गया है । जिस रास्ता से गुजरते थे वो रुक सा गया है । अजनबियों की तरह सड़क पे करते सब ।। Corona ko हराना है तो यूहीं इस फासले को निभाना है।।

कोरोना: अपने आशियाने को 'संक्रमण' से रखें दूर, यह है तरीकाअपने आशियाने को 'संक्रमण' से रखें दूर, यह है तरीका... CoronaUpdates WHO ICMRDELHI COVID19Pandemic CoronaUpdate Lockdown21 COVID2019 lockdownindia CoronaLockdown StayHomeIndia

राहुल ने फिर लॉकडाउन को बताया फेल, कहा- राज्यों को उनके हाल पर छोड़ रहा केंद्र मोदी सरकार पर सिब्बल का वार, कहा- आत्मनिर्भर भारत अभियान एक और जुमला कोरोना वायरस: दुनिया भर में 65.6 लाख से ज़्यादा संक्रमित, 3.87 लाख लोगों की मौत - BBC Hindi जब सब कुछ रामभरोसे ही छोड़ना था, तो तालाबंदी कर अर्थव्यवस्था की रीढ़ क्यों तोड़ी...? BJP नेता सोनाली फोगाट ने अफसर को जड़ा थप्पड़, बरसाई चप्पल, वीडियो वायरल कोरोना अपडेटः जॉर्ज फ़्लॉयड को कोरोना संक्रमण भी हुआ था - BBC Hindi पुरी के जगन्नाथ मंदिर में देवस्नान के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, पुजारियों ने मास्क भी नहीं पहना - देखें VIDEO NDTV से बोले नितिन गडकरी- देश संकट में है, अभी राजनीति करने का समय नहीं 'सच बोलने से डरते हैं लोग', उद्योगपति राजीव बजाज ने लॉकडाउन पर कही ये 5 बातें हथिनी की मौत: गिरफ़्तार अभियुक्त ने कहा- विस्फोटक नारियल में था ट्रंप ने विभाजन की आग भड़काई, अमरीका के पूर्व रक्षा मंत्री का आरोप