Upelections 2022, Barabanki, Barabanki, Politics, New Successor, Aviral Singh, Sreya Verma, Tanuj Punia, Rashmi Singh, Samina, Rinku Singh, Up Family Politics, Family Politics İn İndia, Young Leaders İn Up

Upelections 2022, Barabanki

अविरल, श्रेया, तनुज, रश्मि, समीना, रिंकू... ये हैं बाराबंकी की सियासत के नए 'उत्तराधिकारी'

बेटों-बेटियों ने संभाली राजनीतिक जिम्मेदारी, बाराबंकी की अलग-अलग सीटों पर दावेदारी #UPElections2022 #Barabanki

26-10-2021 08:01:00

बेटों-बेटियों ने संभाली राजनीतिक जिम्मेदारी, बाराबंकी की अलग-अलग सीटों पर दावेदारी UPElections2022 Barabanki

बाराबंकी की सियासत में नई पीढ़ी कदम रखने को बेताब है. जिले की सियासत में एक या दो नेता नहीं कई नेता हैं, जिन्होंने अपने उत्तराधिकारी के रूप में अपने बच्चों को उतारा है.

स्टोरी हाइलाइट्सबेटों-बेटियों ने संभाली राजनीतिक जिम्मेदारीबाराबंकी की अलग-अलग सीटों पर दावेदारीउत्तर प्रदेश के बाराबंकी की सियासत में नई पीढ़ी कदम रखने को बेताब है. पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. बेनी प्रसाद वर्मा की पोती श्रेया वर्मा समाजवादी पार्टी महिला सभा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनीं तो वहीं यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री अरविंद सिंह गोप के बेटे अविरल भी सियासत के मैदान में अपनी ताल ठोक रहे हैं.

उत्तर प्रदेश की 'ग़रीबी' की चर्चा चुनाव में क्यों नहीं हो रही? - BBC News हिंदी 'अयोध्या-काशी जारी है, मथुरा की तैयारी है', UP चुनाव से पहले हिन्दुत्व एजेंडे पर लौटी BJP हरियाणा: विदाई के बाद ससुराल जा रही थी दुल्हन, पूर्व प्रेमी ने रास्ते में मारी गोली

इसके अलावा कांग्रेस के दिग्गज नेता पीएल पुनिया के बेटे तनुज पुनिया भी चुनावी मैदान में हैं. यही नहीं, पूर्व मंत्री रहे बीजेपी नेता संग्राम सिंह वर्मा की इकलौती बेटी रश्मि सिंह पिंकी भी अपने पिता की इच्छा पर चुनावी मैदान में कूदने की तैयारी में हैं. जिले की सियासत में एक या दो नेता नहीं कई नेता हैं, जिन्होंने अपने उत्तराधिकारी के रूप में अपने बच्चों को उतारा है.

बेनी बाबू की पोती बनीं राष्ट्रीय उपाध्यक्षबाराबंकी में स्व. बेनी प्रसाद वर्मा को सियासत का पितामह कहा जाता था. कईयों को बेनी वर्मा ने फर्श से अर्श पर पहुंचा दिया, लेकिन जब अपने बेटे राकेश वर्मा को मैदान मे उतारा तो काफी मशक्कतों का सामना करना पड़ा था. फिर भी राकेश को जिताकर कैबिनेट मंत्री बनवा दिया. अब बेनी बाबू की पोती श्रेया वर्मा सियासत के मैदान में कूद पड़ी हैं. headtopics.com

सपा की महिला सभा ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देते हुए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है. श्रेया ने 'हर इंडिया' एनजीओ बनाकर महिलाओं के विकास, उत्थान, उनकी शिक्षा-दीक्षा समेत कई कार्यों में काम करना शुरू कर दिया है. श्रेया ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है. दिल्ली में रह कर कई एनजीओ में महिलाओं की शिक्षा के लिए काम किया है.

दिल्ली से लौटकर अब श्रेया वर्मा बाराबंकी में सपा के परचम को बुलंद करने में जुट गई हैं. इस बाबत श्रेया वर्मा का कहना है कि समाजवादी पार्टी से महिलाएं काफी संख्या में जुड़ रही हैं, हमारी टीम मेहनत कर रही है और इसका फायदा आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी को होगा और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनेंगे.

पिता-पति के साथ समीना भी सियासी मैदान मेंयहीं नही श्रेया वर्मा के साथ बाराबंकी सियासत में एक नया नाम और जुड़ गया समीना खालिद का. समीना पोस्ट ग्रेजुएट होने के साथ सियासत में अपने पति और पिता के साथ बहुत एक्टिव हैं. सपा महिला सभा ने इन्हें राष्ट्रीय महासचिव बनाया है. समीना के पिता शहाब खालिद ज़िले के पुराने नेता हैं. कभी बेनी तो कभी गोप के खास रहे हैं. समीना के पति अमीर समाजवादी पार्टी से जुड़े हैं.

'महिलाओं के हक की लड़ाई के लिए हमेशा आगे रहूंगी, हमारा मकसद सपा की नीतियां बताकर उन्हें जोड़ना है.'समीना खालिद, राष्ट्रीय महासचिव, सपा महिला सभागोप के बेटे अविरल ने भी सियासत में ठोकी तालछात्र राजनीति से मशहूर हुए अरविंद सिंह गोप प्रदेश की सियासत में बड़ा नाम हैं. पहला चुनाव प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे राजनाथ सिंह के खिलाफ लड़ा. समाजवादी सरकार में कई बार मंत्री रहे. संघर्ष का जीवन रहा, लेकिन अपनी अलग पहचान बनाते हुए सियासत में आगे बढ़ते रहे. अब इसी सियासती सफर को उनके बेटे अविरल आगे बढ़ाने में लगे है. headtopics.com

BSNL की 4G लॉन्चिंग का हुआ एलान, क्या प्राइवेट कंपनियों का साथ छोड़ेंगे ग्राहक काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे PM मोदी, जानें कैसा होगा इसका ब्लूप्रिंट Parag Agrawal Twitter CEO बने तो अग्रवाल स्वीट्स की क्यों हो रही चर्चा?

अविरल अभी 21 साल के हैं. हरियाणा से ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी से BA. (फिलॉसफी) के अंतिम वर्ष के छात्र हैं. सामाजिक कार्यो में बहुत आगे रहते हैं. रामनगर के बाढ़ प्रभावित इलाकों में अकेले जाकर राहत सामग्री बांटना भी चर्चा में रहा. अविरल कहते हैं कि मुझे पिताजी को देख कर राजनीति में बचपन से आने का बड़ा शौक था, अभी जनता के बीच जाकर उनकी सेवा करना है. वहीं गोप के भतीजे हर्षित भी सियासत में कदम बढ़ा रहे हैं.

पीएल पुनिया के बेटे तनुज भी चुनावी मैदान मेंतनुज पुनिया कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पीएल पुनिया के इकलौते बेटे हैं. पिता के सियासती सफर से प्रेरित होकर केमिकल इंजीनियर (B-Tech) करने के बाद राजनीति में आ गए. तनुज यंग हैं, इसलिए जनता को इनसे ज़्यादा उम्मीदें है. इस बार तनुज ज़ैदपुर विधानसभा से फिर टिकट की दावेदारी कर सीट कांग्रेस की झोली में डालने की तैयारी में हैं.

बता दें कि पूर्व आईएएस अधिकारी रहे पीएल पुनिया ने रिटायरमेंट के बाद बाराबंकी से सियासत में कदम रखा. सांसद बने, केंद्र में मंत्री रहे, कम वक्त में देश के बड़े राजनेता बन गए. कांग्रेस ने इनको राष्ट्रीय प्रवक्ता के साथ छत्तीसगढ़ का प्रभारी बनाया है.भाजपा के संग्राम की बेटी रश्मि सिंह पिंकी मैदान में

भाजपा के कद्दावर नेता और कई बार प्रदेश सरकार में मंत्री रहे संग्राम सिंह वर्मा की बेटी रश्मि सिंह पिंकी भी सियासत के मैदान में हैं. पिंकी ने पत्रकारिता के क्षेत्र में पोस्ट ग्रेजुएट किया है. बाराबंकी सदर सीट से भाजपा के टिकट की दावेदारी कर रही हैं. रश्मि सिंह कहती हैं कि पिता और चाचा की इच्छा है कि मैं सदर सीट से चुनाव लडूं. headtopics.com

पूर्व मंत्री राजा राजीव कुमार के बेटे रिंकू सिंह भी मैदान मेंबाराबंकी की दरियाबाद विधानसभा के पूर्व मंत्री राजा राजीव कुमार सिंह 26 साल तक विधायक रहे हैं. अब उनके बेटे रितेश कुमार सिंह उर्फ रिंकू पहली बार सपा से चुनाव मैदान में उतरने की दावेदारी कर रहे हैं. रिंकू एमए की पढ़ाई करने के बाद लगातार क्षेत्र की जनता के साथ हर वक़्त खड़े रहते हैं.

Live TV और पढो: आज तक »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

ये लोकतंत्र है कि राजतंत्र किसी भी बड़े नेता के बच्चे ही उत्तराधिकारी क्यों।

क्या किसान आंदोलन को ‘आहत भावनाओं’ की सियासत कर कमज़ोर करने की कोशिश चल रही हैक्या सिंघू बॉर्डर पर हुई हत्या का समूचा प्रसंग निहित स्वार्थी तबकों की बड़ी साज़िश का हिस्सा था ताकि काले कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ खड़े हुए ऐतिहासिक किसान आंदोलन को बदनाम किया जा सके या तोड़ा जा सके? क्या निहंग नेता का केंद्रीय मंत्री से पूर्व पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में मिलना इस उद्देश्य के लिए चल रही क़वायद का इशारा तो नहीं है?

क्रूज़ ड्रग्स मामला: रिश्वत मामले में एनसीबी ने अपने अधिकारी समीर वानखेड़े की जांच शुरू कीमुंबई क्रूज़ ड्रग्स मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल ने दावा किया हैं कि अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन ख़ान को छोड़ने के लिए एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े और कुछ अधिकारियों द्वारा 25 करोड़ रुपये की मांग की गई थी. एनसीबी और समीर वानखेड़े ने इन आरोपों के ख़िलाफ़ अदालत का रुख़ किया है. शिकारी खुद यहाँ शिकार हो गया Bollywood valo ko bachane ki kosis..... bina post se hataye kun si janch hogi?

मझधार में फंसी पीएम मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी के नाविकों की ज़िंदगीवीडियो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के मल्लाह रोज़गार को लेकर बेहद परेशान हैं. कोरोना वायरस महामारी ने उनकी ज़िंदगी को तबाह कर दिया है. घर चलाना मुश्किल होता जा रहा है और किसी प्रकार की कोई सरकारी सहायता न मिलने से वे बेहद हताश और निराश हैं. Desh bachane ke leye jaan jati h to jane do modi h to desh h 🤣🤣🤣🤣 vote for nota

उत्तर प्रदेश में खतरनाक जीका वायरस की दस्तक, कानपुर में पहला मामला आया सामनेजानकारी मिली है कि कानपुर के पोखरपुर इलाके में जीका का पहला मामला सामने आया है. दरअसल एयरफोर्स कर्मी एमएस अली को कुछ दिनों से बुखार आ रहा था. जब उन्होंने अस्पताल जा अपनी जांच करवाई, तो वे जीका से संक्रमित निकले. Aakhir panoti panoti hota he..kitna bhi tum dhuttam dhuttam karlo baba logo k saath..🤪🤪🤪🤣🤣🤣 यह कौन सी मुसीबत है तुम मीडिया वाले ind vs pak दिखाओ महंगाई बढ़ती जा रही है,वो दिखाना जरूरी नही है। मोदी के कुत्ते, मीडिया ।

सोनभद्र में सोना और एंडालुसाइट खदान की शुरू हुई जीओ मैपिंग, खदानों के नीलामी की तैयारीसर्वे की रिपोर्ट लगभग स्‍पष्‍ट होने के बाद अब उन खदानों को बेचने की तैयारी की जा रही है। इसे निकालने के लिए खदानों को सरकार बेचने की तैयारी भी कर रही है। इस बाबत जिला प्रशासन रिपोर्ट तैयार कर सरकार को भेजने जा रही है।

दिल्ली: पुराने सीमापुरी इलाके में आग लगने से चार लोगों की मौत, जांच में जुटी पुलिसदिल्ली के पुराने सीमापुरी इलाके में आगजनी में चार लोगों की मौत की खबर है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आग एक तीन मंजिला