Zero Budget Farming, Zbnf, Modi Government, Naas, Farmers, Farmers Loan, Wwhat İs Zbnf, Budget, Nirmala Sitharaman, Pm Modi

Zero Budget Farming, Zbnf

Zero Budget Farming: मोदी सरकार के फैसले पर कृषि वैज्ञानिकों ने उठाए सवाल

Zero Budget Farming: मोदी सरकार के फैसले पर कृषि वैज्ञानिकों ने उठाए सवाल, पीएम को लिखी चिट्ठी

10.9.2019

Zero Budget Farming : मोदी सरकार के फैसले पर कृषि वैज्ञानिकों ने उठाए सवाल, पीएम को लिखी चिट्ठी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में जीरो बजट खेती पर जोर दिया था। उन्होंने इसे किसानों की आय दोगुना करने की दिशा मे एक अहम कदम बताया था।

, पीएम को लिखी चिट्ठी Harish Damodaran नई दिल्ली | Published on: September 10, 2019 8:26 AM जीरो बजट खेती से किसानों की आय बढ़ाना चाहती है सरकार। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस एक तरफ मोदी सरकार ‘जीरो बजट खेती’ को बढ़ावा दे रही है तो दूसरी तरफ कृषि वैज्ञानिकों ने इस पहल पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं। कृषि वैज्ञानिकों ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी भी लिखी है। इस चिट्ठी में कहा गया है कि ‘अप्रमाणित’ तकनीक के जरिए ‘जीरो बजट खेती’ से न तो किसानों को फायदा होगा और नहीं ही उपभोक्ताओं को। राष्ट्रीय कृषि विज्ञान अकादमी (एनएएसएस) के अध्यक्ष पंजाब सिंह ने कहा है कि ‘केंद्र को जीरो बजट खेती को बढ़ावा देने के लिए पूंजी और मानव संसाधनों का अनावश्यक निवेश नहीं करना चाहिए। हमने इस संबंध में पीएम मोदी को लिखित में अपने सुझाव दे दिए हैं जिसमें कृषि वैज्ञानिकों के विचारों को साझा किया गया है।’ मालूम हो कि नई दिल्ली स्थित एनएएसएस कृषि वैज्ञानिकों का सगंठन है। इस संगठन ने पिछले महीने ही जीरो बजट खेती पर मंथन के लिए बैठक बुलाई थी। इसमें कई अन्य संगठनों के भी डायरेक्टर शामिल हुए थे। जिनमें इंडियन काउंसिल एग्रीकल्चर रिसर्च (आईसीएआर) त्रिलोचन मोहपात्रा और नीति आयोग के सदस्य रमे चंद भी शामिल हुए थे। एनएएसएस के अध्यक्ष के मुताबित पीएम तक अपनी बात पहुंचाने में लगभग 75 विशेषज्ञ शामिल हैं। जिनमें वैज्ञानिक, नीति निर्माता, प्रगतिशील किसान, गैर सरकारी संगठन और उर्वरक, बीज और फसल सुरक्षा रसायन उद्योग के प्रतिनिधि शामिल हैं। हमने जोरी बजट खेती पर गहन अध्धयन किया जिसमें हमें पता चला कि इससे किसानों को ज्यादा फायदा नहीं होगा और साथ ही यह कृषि को बढ़ावा देने के लिए कोई अच्छा विकल्प नहीं है। Also Read क्या है जीरो बजट खेती: खेती पूरी तरह से प्राकृतिक तरीके पर निर्भर करती है। खेती के लिए जरूरी खाद-पानी और बीज आदि का इंतजाम प्राकृतिक रूप से ही किया जाता है। इसमें केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता। हालांकि इसमें ज्यादा मेहनत के साथ कम लागत लगती है और बिना किसी केमिकल के इस्तेमाल के जो फसल प्राप्त होती है उसके मार्केट में काफी अच्छे दाम मिलते हैं। इसलिए इसे ‘जीरो बजट’ कहा गया है। कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और अन्य दक्षिण भारत राज्य में यह पहले से ही काफी प्रसिद्ध है। Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App ये खबरें पढ़ीं क्‍या? और पढो: Jansatta

दिल्ली में BJP की करारी हार की RSS ने बताई वजह- 'हर बार मदद नहीं कर सकते मोदी-शाह'



डोनल्ड ट्रंप के सलाहकार रोजर स्टेन को 40 महीने की जेल

देशभर में महाशिवरात्रि की धूम, मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाब



'पूर्वोत्तर को 2024 तक उग्रवाद से आज़ादी दिला देंगे'

गीतकार जावेद अख्तर ने वारिस पठान को लगाई लताड़, मुस्लिम लीग के बारे में दिया यह बयान!



क्या दुनिया फिर एक नए युद्ध की तरफ़ बढ़ रही है?

लखनऊ में दिनदहाड़े इंजीनियरिंग के छात्र की चाकू मारकर हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात



बीसीसीआई ने नियम तोड़ने के कारण थमाया था नोटिस, कार्तिक ने बिना शर्त माफी मांगीबीसीसीआई ने नियम तोड़ने के कारण थमाया था नोटिस, कार्तिक ने बिना शर्त माफी मांगी DineshKarthik BCCI indiancricketteam DineshKarthik Cricket

पत्नी का वजन बढ़ने पर मोटी कह कर बुलाता था पति, कोर्ट के आदेश पर FIRदिल्ली. पत्नी को मोटा कहने के मामले में पति के खिलाफ एसीजेएम कोर्ट (CJM Court) में शिकायत दर्ज हो गई है. पत्नी का आरोप कि पति उसे मोटी कहता था और उसके वजन के चलते उसे घर से भी निकाल दिया. | delhi News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी Being_Humor To kya bolta 😁😁 Being_Humor Bahar se Tweet me hi ye bhi likh dete ki moti bolne ke vjh se nhi hui thi FIR, lekin nhi apni ghatiya news tk kse pahuchaoge logo tk😒 Wa re nari Shakti .

ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर फेस्टिवल सेल पर कैट ने जताया एतराज, वित्त मंत्री को लिखा पत्रकैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने ई-कॉमर्स पोर्टल की बिक्री की वैधता पर सवाल उठाए. चन्द्रयान पर जहर उगलने वाली ममता का अगले चुनाव में संपर्क टूट जाना चाहिए CM की कुर्सी से. i m. Right.. Kiski tarz par... 👂 🤣 Why? Are customers not allowed to be benefitted? No one speaks about Monopoly in Telecom sector in recent times.

एसबीआई ने कर्ज पर ब्याज दरें 0.10% घटाईं, जमा पर 0.10% से 0.25% तक कटौती30 लाख रु तक के होम लोन (प्रॉपर्टी की वैल्यू का 80% तक कर्ज) पर ब्याज दर 8.40% से घटकर 8.30% रह जाएगी एक से दो साल की एफडी पर 6.70% की बजाय 6.50% ब्याज मिलेगा, कर्ज-जमा की नई दरें 10 सितंबर से लागू होंगी | SBI Bank MCLR, Base Rate Update: State Bank of India reduced its MCLR by 10 basis points

बिहार: बिना हेलमेट घूम रहा था पुलिसवाला, युवक ने पूछा तो हो गई झड़पनए मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर बिहार के बक्सर में एक युवक ने हंगामा खड़ा कर दिया. बता दें कि चालान कटने से गुस्साए युवक ने बिना हेलमेट बाइक चला रहे पुलिसवाले से भी सवाल पूछ लिया. sujjha Turant karwai honi chiye police wale pe sujjha सही है बिहारी पुलिस दुनिया के सबसे घटिया पुलिस होते हैं सछि किया गया सजे साथ sujjha Modi he to mumkeen he 😀

वाजपेयी ने क्यों मांगा था जेठमलानी से इस्तीफ़ाभारत के पूर्व कानून मंत्री और जानेमाने अधिवक्ता राम जेठमलानी का आज दिल्ली में 95 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। अपने 78 साल लंबे वकालत के पेशे में उन्होंने इंदिरा गांधी की हत्या, जेसिका लाल हत्याकांड, राजीव गांधी हत्याकांड, चारा घोटाला और टूजी मामले में अभियुक्तों के वकील की भूमिका निभाई। उन्होंने लगभग हर उस मुकद्दमे को लड़ा जिसने भारत की राजनीति और समाज को एक नई दिशा दी।



नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन

हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान

Gold in Sonbhadra: सोनभद्र की पहाड़ियों में दबा हो सकता है 3 हजार टन सोना, एक्‍सपर्ट टीम कर रही है सर्वे - three thousand gold estimated in sonbhadra mountains | Navbharat Times

भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप

ओवैसी की सभा में एक लड़की ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, AIMIM चीफ ने दी सफाई

नागरिकता संशोधन कानून चिंताजनक: अमरीकी आयोग

राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

10 सितम्बर 2019, मंगलवार समाचार

पिछली खबर

जब इंटरव्यू के दौरान शिखर धवन ने बिगाड़ दिया शो का नाम, कहा- घर में बनाओगे रोटी

अगली खबर

LIVE: मध्य प्रदेश ही नहीं गुजरात में भी होगी भारी बारिश, राजस्थान-महाराष्ट्र में बरसेंगे बादल
दिल्ली में BJP की करारी हार की RSS ने बताई वजह- 'हर बार मदद नहीं कर सकते मोदी-शाह' डोनल्ड ट्रंप के सलाहकार रोजर स्टेन को 40 महीने की जेल देशभर में महाशिवरात्रि की धूम, मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाब 'पूर्वोत्तर को 2024 तक उग्रवाद से आज़ादी दिला देंगे' गीतकार जावेद अख्तर ने वारिस पठान को लगाई लताड़, मुस्लिम लीग के बारे में दिया यह बयान! क्या दुनिया फिर एक नए युद्ध की तरफ़ बढ़ रही है? लखनऊ में दिनदहाड़े इंजीनियरिंग के छात्र की चाकू मारकर हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात DNA ANALYSIS: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पहली भारत यात्रा का संपूर्ण विश्लेषण कीवी क्रिकेटर का कमाल, तीनों फॉर्मेट में 100 मैच खेलने वाला दुनिया का पहला खिलाड़ी बना Arth: A Culture Fest : आज से दिल्‍ली में दिखेगी भारत की संस्‍कृति की झलक राशिफल 21 फरवरी: महाशिवरात्रि पर आज इन राशिवालों पर बरसेगी कृपा, जानें किसे होगा बड़ा लाभ अखिलेश का योगी पर हमला, बोले- प्रदेश की बड़ी आबादी दहशत में, क्या यही रामराज्य है?
नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान Gold in Sonbhadra: सोनभद्र की पहाड़ियों में दबा हो सकता है 3 हजार टन सोना, एक्‍सपर्ट टीम कर रही है सर्वे - three thousand gold estimated in sonbhadra mountains | Navbharat Times भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप ओवैसी की सभा में एक लड़की ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, AIMIM चीफ ने दी सफाई नागरिकता संशोधन कानून चिंताजनक: अमरीकी आयोग राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं कोई मरने आ रहा है तो ज़िंदा कैसे हो जाएगा: योगी आदित्यनाथ कार्टून: अबकी बार... दीवार के पार जब राजीव गांधी ने सोनिया के क़रीब आने के लिए दी थी रिश्वत चेन्नई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस की मंजूरी के बिना हजारों की संख्या में मुस्लिम सड़क पर उतरे UP पहुंचे शरद पवार ने पूछा- मंदिर के लिए ट्रस्ट तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?