Coronapandemic, Schoolreopening, फिर से खुले स्कूल, कोरोना की दूसरी लहर, कोरोना की तीसरी लहर, कब खुलेंगे स्कूल, School Reopening, School After Corona, Delhi School Reopening News, Delhi School Reopening, Coronavirus Updates, Metro News, Metro News İn Hindi, Latest Metro News, Metro Headlines, मेट्रो Samachar

Coronapandemic, Schoolreopening

School Reopening: 'कोरोना की दूसरी लहर देखी है, तीसरी लहर सामने है, कैसे भेजेंगे बच्चों को स्कूल?'

'कोरोना की दूसरी लहर देखी है, तीसरी लहर सामने है, कैसे भेजेंगे बच्चों को स्कूल?' #CoronaPandemic #schoolreopening

01-08-2021 04:43:00

' कोरोना की दूसरी लहर देखी है, तीसरी लहर सामने है, कैसे भेजेंगे बच्चों को स्कूल?' CoronaPandemic schoolreopening

Delhi School Reopening : स्कूल खोलें या नहीं, इस सवाल को लेकर दिल्ली पैरंट्स असोसिएशन ने एक ऑनलाइन पोल भी कराया था। इसमें अब तक का रिजल्ट कहता है कि 85% से ऊपर पैरंट्स नहीं चाहते कि अभी स्कूल खुलें।

Subscribeहाइलाइट्सदिल्ली में ज्यादातर पैरंट्स का मानना है कि अभी स्कूल नहीं खुलने चाहिएकोरोना की दूसरी लहर में बिगड़े हालात देखने के बाद पैरंट्स डरे हुए हैं'जिसने अपनों को खोया है, वो तो अब फूंक फूंक के कदम रखेगा'नई दिल्लीदिल्ली के स्कूल खुलें या अभी नहीं, यह सवाल स्टूडेंट्स और पैरंट्स के दिमाग में घूम रहा है। ज्यादातर पैरंट्स का मानना है कि अभी स्कूल नहीं खुलने चाहिए क्योंकि कोविड के केस अभी भी बने हैं और बच्चों भी संक्रमित हो रहे हैं। कई पैरंट्स का मानना है कि स्कूल क्लास 12 या सीनियर क्लासेज के लिए खोले जाएं मगर छोटे बच्चों के लिए स्कूल अभी बंद रखना जरूरी है। कई पैरंट्स चाहते हैं कि बच्चों को वैक्सीन लगाने के बाद स्कूल खोले जाएं, तो कई का कहना है कि अभी चल रहा वैक्सीनेशन ही कम से कम 80% तो हो। वहीं, दिल्ली सरकार भी स्कूल खोलने के बारे में विचार कर रही है और उसने दिल्ली के पैरंट्स, टीचर्स से सलाह भी मांगी है। मगर कोविड की दूसरी लहर में बिगड़े हालात देखने के बाद पैरंट्स डरे हुए हैं।

आनंद गिरि कौन हैं और महंत नरेंद्र गिरि के साथ उनके कैसे रिश्ते थे? - BBC News हिंदी फ़्रांस और चीन जिस ऑकस समझौते से चिढ़े हैं, उस पर बोला भारत - BBC News हिंदी तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन इस बार यूएन महासभा में कश्मीर पर पड़े नरम - BBC News हिंदी

'85% से ऊपर पैरंट्स नहीं हैं तैयार'स्कूल खोलें या नहीं, इस सवाल को लेकर दिल्ली पैरंट्स असोसिएशन ने एक ऑनलाइन पोल भी कराया था। इसमें अब तक का रिजल्ट कहता है कि 85% से ऊपर पैरंट्स नहीं चाहते कि अभी स्कूल खुलें। असोसिएशन की प्रेजिडेंट अपराजिता गौतम कहती हैं,

कोरोना की तीसरी लहरको देखते हुए अभी स्कूलों को खोलना बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं क्योंकि दूसरी लहर में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव को सभी ने देखा। ऊपर से अभी बच्चों की वैक्सीन भी नहीं आई है। अगर फिर भी सरकार स्कूल खोलना चाहती है तो पहले कोर्ट में बच्चों के स्वास्थ्य की सारी जिम्मेदारी उठाने को लेकर शपथपत्र दे। इसे सार्वजनिक करे और अभिभावकों की राय वोट के ज़रिए मांगे। headtopics.com

Delhi Vaccination News: दिल्ली में एक करोड़ से ज्यादा टीके लगे, केजरीवाल बोले- पात्र आधी आबादी को एक खुराक लगी'बच्चों की जरूरत हैं स्कूल'हालांकि, स्कूलों का कहना है कि अब धीरे-धीरे करके स्कूल खुलने चाहिए। रोहिणी के माउंट आबू स्कूल की प्रिंसिपल ज्योति अरोड़ा कहती हैं, स्कूल खुलने तो चाहिए मगर छोटे छोटे ग्रुप में स्टूडेंट्स को बुलाकर और सख्ती से कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए। दरअसल, बच्चों की लर्निंग पर नेगेटिव असर पड़ रहा है, उनका समाजीकरण भी अब नहीं रहा। इस वजह से वे जिद्दी, चिड़चिड़े हो गए हैं। दो दिन के लिए स्कूल आए पैरंट्स मगर आएं जरूर। हालांकि, कौन सी एज के लिए स्कूल खुलना चाहिए, इस पर एक्सपर्ट्स की राय लेनी चाहिए।

Hair loss after Covid: कोरोना से नई टेंशन, तेजी से झड़ रहे बाल, दिल्ली के अस्पताल में इससे जुड़ी शिकायतों में 100 फीसदी इजाफा'जहां खुले स्कूल, वहां दिखा खतरा'मगर पैरंट्स डर और उलझन में हैं। मयूर विहार 1 में रहने वाली नेहा जैन का कहना है कि मेरा बेटा क्लास 10 में है। ऑनलाइन में अच्छी तरह नहीं पढ़ रहा है मगर मैं फिर भी उसे स्कूल भेजने से डरूंगी क्योंकि उनके लिए वैक्सीन नहीं आई है। यो तो फिर स्कूल शिफ्ट में बच्चों को बुलाएं। पिछले बार भी जब स्कूल खुले थे तो कई स्कूल तो कल्चरल फंक्शन के लिए बच्चों को बुलाने लगे थे। अगर सरकार स्कूलों की निगरानी कर सकती है, तभी स्कूल खोलें।

Delhi School News : दिल्ली में स्कूल-कॉलेज खुलें कि नहीं, शिक्षा मंत्री ने मांगी छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों की रायसाकेत में रहने वाले सौरभ दीक्षित कहते हैं, मई में मेरे घर में दो लोगों को कोविड हुआ था और वो मुश्किल वक्त, सरकार का हेल्थ सिस्टम हमने देखा है। तो पहले ज्यादा से ज्यादा आबादी का वैक्सीनेशन तो हो। इंडोनेशिया में बच्चे कोविड से मर रहे हैं। यूएस में तो डेल्टा वैरिएंट बच्चों को संक्रमित कर रहा है। ऐसे में हम रिस्क कैसे ले सकते हैं। वहीं, तिलक नगर में रहने वाले दीपेश रावत कहते हैं, मेरी बच्ची 7 साल की है और अगर स्कूल खुलते भी हैं तो मैं अभी तो उसे स्कूल बिल्कुल नहीं भेजूंगा। एक्सपर्ट्स का भी कहना है कि अगस्त-सितंबर में तीसरी लहर आएगी। सरकार को पैरंट्स के पोल के हिसाब से नहीं, बल्कि साइंटिफिक तरीके से फैसला लेना चाहिए। बच्चों से परेशान कई पैरंट्स और जिन्हें कोविड की परवाह नहीं, वो तो स्कूल भेजने को तैयार होंगे ही। कोविड की खतरनाक लहर जो देख चुका है, जिसने अपनों को खोया है, वो तो अब फूंक फूंक के कदम रखेगा।

Navbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

अमेठी में स्मृति ने पकौड़ी संग चाय पर की चर्चा: दुकानदार से पूछा- क्या हाल है, बोला- बेटे के दिल में छेद है, बोलीं- दिल्ली लेकर आइए, इलाज की चिंता मत करिए

स्मृति ईरानी अमेठी में हैं। केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। वहां उन्होंने पकौड़ी खाई और चाय पी। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान हैं। उनके बच्चे के दिल में छेद है, जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है। | Discussion on Smriti Irani's tea in Amethi, After drinking tea at the shop, ate dumplings, asked - how are you; After hearing the problem of Ram Naresh called to Delhi, amethi news, political news, यूपी चुनाव से पहले गांधी परिवार अमेठी से दूर है, इसका फायदा स्मृति ईरानी बखूबी उठा रही हैं। बुधवार की रात अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। यहां उन्होंने चाय पीकर और पकौड़ी खाकर चर्चा की। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान है। उसने बताया कि उसके बच्चे के दिल में छेद है। जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है।

जब तक बच्चो को वैक्सीन नही लग जाती उनको स्कूल भेजना रिक्स हो सकता है

दुनिया में कोरोना: कनाडा में चौथी लहर का खतरा, डेल्टा वैरिएंट है बड़ी वजहकनाडा में कोरोना की चौथी लहर का खतरा मंडरा रहा है। देश की मुख्य सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. थेरेसा टैम ने कहा कि

श्वेतपत्र: देशभर में बाढ़ और भूस्खलन से क्यों मची है तबाही, जाने कौन है इसका दोषीइस समय हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड से लेकर, झारखंड, ओडिशा और बंगाल तक बारिश, बाढ़ और भूस्खलन ने कहर मचाया हुआ है. ज़बरदस्त आर्थिक नुकसान के अलावा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ रही है. हिमाचल के पहाड़ों में विध्वंस मचा रही है तो मैदानों में मानसून की दूसरी पारी कहर बनकर बरसी है. उत्तर भारत और पूर्व के कई राज्यों में सड़कों पर भरे पानी में खिलौनों की तरह डूबी कारें बता रही हैं कि बाढ़ ने शहरों की पूरी व्यवस्था को डुबो दिया है. वहीं देश की राजधानी दिल्ली में भी बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. देखें वीडियो. SwetaSinghAT gurugram के बारे में मै बता सकता हूँ, पर‌ कोई पूछे तो। यहाँ तो दो कौडी के लोग expert बने बईठे है। जानकारी गुगल भरोसे है। SwetaSinghAT CBSE pa be news kar bo vo bus class 10 ka private student ka exam la rahai hai delhi kis ka exam nahi hu na 7.8.9.10 .11.na12 tho hamar qu exam sir help kar do Bus ap log he help kar sak tha ho plz help kar do student ke

WhatsApp से ज्यादा फीचर्स के साथ आने वाले GB WhatsApp को यूज करना कितना खतरनाक है?WhatsApp के मॉडेड वर्जन GB WhatsApp के बारे में आपने भी जरूर सुना होगा. इसे लोग काफी सर्च कर रहे थे. GB WhasApp में कई ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जो आपको WhatsApp में भी देखने को नहीं मिलेंगे. ऐसे में सवाल उठता है क्या आपको WhatsApp का मॉडेड वर्जन यूज करना चाहिए या नहीं. इसी को लेकर हम आज बात करने वाले हैं.

जाडयस कैडिला को मिला फुलवेस्ट्रेंट इंजेक्शन का फाइनल अप्रूवल, जानिए किस बीमारी में आता है कामदवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadila) ने शुक्रवार को बताया कि यूएस हेल्थ रेग्युलेटर से उसके फुलवेस्ट्रेंट इंजेक्शन (Fulvestrant Injection) को फाइनल अप्रूवल मिल गया है. यह इंजेक्शन ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में काम आता है.

मोदी सरकार पेगासस जासूसी के दुष्प्रभावों को कब तक नज़रअंदाज़ कर सकती है?पत्रकारिता संस्थान अपने संसाधनों के चलते सीमित होते है, इसलिए राष्ट्रीय और वैश्विक दोनों स्तरों पर केवल वास्तविक जांच से ही पेगासस के उपयोग की सही स्तर का पता चलेगा.

कोरोना वायरस: केरल में तीसरी लहर की आशंका, केंद्र ने भेजी उच्च स्तरीय टीमकोरोना वायरस: केरल में तीसरी लहर की आशंका, केंद्र ने भेजी उच्च स्तरीय टीम Kerala Coronavirus CoronaThirdWave ICMRDELHI MoHFW_INDIA