SKM की आज अहम बैठक, तय होगी आगे की रणनीति, जानें कहां अटकी है बात

सरकार की तरफ से किसानों को बातचीत का नहीं मिला न्यौता, SKM की आज अहम बैठक

Kisan Andolan, Farmers Protest

07-12-2021 06:28:00

सरकार की तरफ से किसानों को बातचीत का नहीं मिला न्यौता, SKM की आज अहम बैठक

बता दें कि किसान आंदोलन को करीब एक साल पूरे हो चुके हैं। कृषि कानून वापसी की मांग को लेकर किसान बॉर्डर पर जमा हुए थे। पिछले महीने केंद्र सरकार ने तीनों कृषि कानूनों को वापस ले लिया है।

वहीं मंगलवार को संयुक्त किसान मोर्चा की अहम बैठक होगी। जिसमें किसान संगठन सरकार पर अपना दबाव बनाने की कोशिश करेंगे। बता दें कि इस बैठक में आंदोलन की आगे की रणनीति भी तैयार की जायेगी।सरकार और किसान संगठनों में कहां अटकी है बात:गौरतलब है कि किसानों की मांग है कि किसानों के लिए MSP गारंटी क़ानून बनाया जाये, आंदोलन के दौरान किसानों पर जो मुक़दमे दर्ज किये गए हैं, उन्हें वापस लिया जाये। इसके अलावा आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को मुआवजा दिया जाए।

Also Readममता के गर्म तेवरों के बीच यूपीए में आएगी शिवसेना! आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मिल रहे संजय राउतहालांकि सरकार की तरफ से संसद में कहा गया है कि किसान की मौत से जुड़े आंकड़े उसके पास नहीं है। ऐसे में मुआवजा देने का सवाल नहीं है। वहीं सरकार के इस जवाब पर

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैतने कहा कि सरकार झूठ बोलना बंद करे। हम मृतक किसानों की लिस्ट देंगे।टिकैत ने कहा है कि आंदोलन के दौरान मरने वाले किसानों के नाम हम दे देते हैं, आगे की जानकारी वो सरकार खुद निकाल ले। उन्होंने कहा कि हम जो बता रहे हैं उससे संतुष्ट हो जाओ क्योंकि देश का किसान झूठ नहीं बोलेगा। राकेश टिकैत ने कहा कि जो रिपोर्ट सामने आई है, उसकी जांच कर लें, करीब 600 से ज्यादा किसान आंदोलन के दौरान या फिर आंदोलन से संबंधित कार्यक्रमों में मौत का शिकार हुए हैं। headtopics.com

Bal Thackrey Birth Anniversary: सीएम उद्धव ठकरे ने कहा- शिवसेना ने भाजपा के साथ रहकर 25 साल बर्बाद कर दिये

और पढो: Jansatta »

सरकार: 2017 में BJP के भारी बहुमत से जीत के बाद Yogi Adityanath कैसे चुने गए CM?

मार्च 2017 की बात है. फागुन की पूरनमासी से पहले ही यूपी में बीजेपी की पूरनमासी हो गई. यूपी के बड़े बड़े लड़ैया मोदी के आगे ढेर हो गए. प्रचंड बहुमत से बीजेपी को जीत मिली थी, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी. लेकिन इसके बाद चुनना था एक ऐसा चेहरा जो इस भारी भरकम जनादेश के साथ न्याय कर सकता था, उत्तर प्रदेश का नया मुख्यमंत्री. चर्चा थी तीन नामों की - यूपी के सीएम रह चुके राजनाथ सिंह, गाज़ीपुर से तत्कालीन सांसद मनोज सिंहा और तब के यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य. लेकिन जो फैसला लिया गया वो कयासों से बिलकुल उलट था. घोषणा हो गई एक ऐसे नाम की जिनकी किसी ने चर्चा ही नहीं की थी. बाकि तो छोड़िए, खुद योगी आदित्यनाथ को नहीं मालूम था कि उनकी बारी ऐसे आ जाएगी. देखें सरकार. और पढो >>

Zydus की कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी, सिर्फ वयस्कों को लगेगा टीकावैक्सीन सिर्फ वयस्कों को लगाई जाएगी. इसके साथ ही यह भी देखा जाएगा कि जिन राज्यों में कोरोना की पहली खुराक का आंकड़ा कम होगा, उन्हें प्राथमिकता पर रखा जाएगा. इसके लिए भारत सरकार की ओर से जाइडस वैक्सीन की 1 करोड़ खुराक वितरिक की जाएगी.

मन की गांठ व्यक्तित्व की सरलता को नष्ट कर देती हैमन की ये गांठें हमारे व्यक्तित्व की सरलता और सहजता को नष्ट कर देती हैं। तभी तो कहते हैं कि मधुर रस से संपूर्ण भरे गन्ने में जहां-जहां गांठ होती है वहां-वहां रस नहीं होता। यह रसविहीनता या कुटिलता परस्पर संबंधों के लिए हानिप्रद है। मन की गांठें हमारे व्यक्तित्व की सरलता और सहजता को नष्ट कर देती हैं। मधुर रस से संपूर्ण भरे गन्ने में जहां-जहां गांठ होती है वहां-वहां रस नहीं होता। यह रसविहीनता या कुटिलता परस्पर संबंधों के लिए हानिप्रद है।

कार में रखी पानी की बोतल बनी मौत की वजह, इंजीनियर की हादसे में गई जानदरअसल दिल्ली के रहने वाले इंजीनियर अभिषेक झा दोस्त के साथ कार से ग्रेटर नोएडा की तरफ जा रहे थे. इसी दौरान अभिषेक की गाड़ी सड़क किनारे खड़ी ट्रक से जा टकरायी जिस वजह से उनकी जान चली गई जबकि उनका दोस्त बुरी तरह घायल है. पुलिस ने हादसे का कारण कार में मौजूद पानी की एक बोतल को बताया है. TanseemHaider Ye kaise hua pani ki botal se jaan kaise chali gai koi mujhe bhi samjhayega TanseemHaider Lekin jo bhi hua bahut bura huaa kash Asia nhi hota to uski jaan nhi jati सात्विक सत्य शिखर पार्टी के सक्षम श्री शिव मिश्र ही इस बार उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री

आज की पॉजिटिव खबर: लॉकडाउन में अनीश ने महिलाओं को गोबर से दीये और गमले बनाने की ट्रेनिंग दी, अब देशभर में इनके प्रोडक्ट की डिमांडगांव की महिलाओं को आर्थिक रूप से पुरुषों की कमाई पर निर्भर रहना पड़ता है। क्योंकि ज्यादातर गांवों में खेती ही आमदनी का जरिया होता है और बहुत कम महिलाएं ही मजदूरी के लिए घर से निकल पाती हैं। शहर जाकर काम करना उनके लिए मुश्किल टास्क है। ऐसे में अगर उनके गांव में ही कमाई का अवसर मिल जाए तो इससे बेहतर क्या होगा। दिल्ली के रहने वाले अनीश शर्मा और उनकी पत्नी अल्का शर्मा ने ऐसी ही एक पहल की है। उन्होंने ... | Delhi's Anish, along with his wife, connected the poor women of the village with employment

भास्कर LIVE अपडेट्स: म्यांमार में लोकतंत्र समर्थक नोबेल विजेता सू की को 4 साल की जेल, लोगों को सेना के खिलाफ भड़काने की दोषीम्यांमार की नोबेल पुरस्कार विजेता और लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू की को 4 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। कोर्ट ने उन्हें सेना के खिलाफ असंतोष भड़काने और कोरोना नियम तोड़ने का दोषी माना गया है। म्यांमार में 1 फरवरी 2021 की रात सेना ने तख्तापलट करते हुए सू की हाउस अरेस्ट कर लिया था। मिलिट्री लीडर जनरल मिन आंग हलिंग तब से देश के प्रधानमंत्री हैं। | Breaking News Headlines Today, Pictures, Videos and More From Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर), Coronavirus Vaccine and Omicron Coronavirus Variant मगर कोर्ट ने ऐसा फैसला दिया कैसे ? म्यांमार में राज्यसभा सीट नहीं होती है क्या 🤔 हमारी निक्कमी सरकार आंग सान सूची को बचाने के लिए कोई कदम नही उठाई

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने लिया बड़ा फैसला, आज को होने वाली यूजीसी नेट परीक्षा टालीयूजीसी नेट परीक्षा ही नहीं बल्कि आईआईएफटी 2022-24 परीक्षा को भी आगे बढ़ा दिया गया है। यह एग्जाम विजयवाड़ा और विशाखापत्तनम (आंध्र) भुवनेश्वर संबलपुर कटक (ओडिशा) और कोलकाता दुर्गापुर में आयोजित होने वाली थी। UGC NET 2021 को राज्य के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर ऑफलाइन आयोजित किया जाना था।