Bihar, Gaya, Bihar News, Local News, Pind Daan, Pretshila Parvat, Local News, Local News

Bihar, Gaya

लॉकडाउन के कारण नहीं होगा पिंडदान: गया में इस साल भी हिंदुओं का महत्वपूर्ण कर्मकांड टला; नहीं लगेगा पितृपक्ष मेला, अकाल मृत्यु की शिकार आत्माओं के लिए भी प्रेतशिला पर्वत पर नहीं उड़ेगा सत्तू

लॉकडाउन के कारण नहीं होगा पिंडदान: गया में इस साल भी हिंदुओं का महत्वपूर्ण कर्मकांड टला; नहीं लगेगा पितृपक्ष मेला #Bihar #Gaya

24-07-2021 18:13:00

लॉकडाउन के कारण नहीं होगा पिंडदान: गया में इस साल भी हिंदुओं का महत्वपूर्ण कर्मकांड टला; नहीं लगेगा पितृपक्ष मेला Bihar Gaya

लॉकडाउन की वजह से लगातार दूसरी बार पितृ पक्ष का मेला नहीं लगेगा। नतीजतन पिंडदान भी नहीं होगा। गया शहर से महज 15 किलोमीटर दूर प्रेतशिला पर्वत पर इस बार भी आत्माएं भूखी रहेंगी। हिंदू धर्म में पुनर्जन्म की मान्यता है और जब तक पुनर्जन्म या मोक्ष नहीं होता, आत्माएं भटकती हैं। इनकी शांति और शुद्धि के लिए गया में पिंडदान किया जाता है, ताकि वे जन्म-मरण के फंदे से छूट जाएं। यहां हर वर्ष अगस्त व सितंबर में ... | Bihar News; Pind Daan will not happen on Pretshila mountain due to Corona

इस पर्वत की ऊंचाई करीब 1000 फीट है।लॉकडाउन की वजह से लगातार दूसरी बार पितृ पक्ष का मेला नहीं लगेगा। नतीजतन पिंडदान भी नहीं होगा। गया शहर से महज 15 किलोमीटर दूर प्रेतशिला पर्वत पर इस बार भी आत्माएं भूखी रहेंगी। हिंदू धर्म में पुनर्जन्म की मान्यता है और जब तक पुनर्जन्म या मोक्ष नहीं होता, आत्माएं भटकती हैं। इनकी शांति और शुद्धि के लिए गया में पिंडदान किया जाता है, ताकि वे जन्म-मरण के फंदे से छूट जाएं। यहां हर वर्ष अगस्त व सितंबर में लाखों लोग देश-विदेश के विभिन्न कोने से आते हैं और अपने घर के सदस्य की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान करते हैं। उनकी फोटो इस पर्वत पर छोड़कर जाते हैं और सत्तू भी उड़ाते हैं।

आनंद गिरि कौन हैं और महंत नरेंद्र गिरि के साथ उनके कैसे रिश्ते थे? - BBC News हिंदी पीएम मोदी और बाइडेन की मुलाकात पर टिकी निगाहें, तालिबान-चीन पर बनेगी रणनीति : विशेषज्ञ भास्कर LIVE अपडेट्स: PM मोदी आज सुबह 11 बजे अमेरिका रवाना होंगे, 24 सितंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात होगी

पितृपक्ष मेले के दौरान पिंडदान करने वालों द्वारा उड़ाए गए सत्तू से पूरा प्रेतशिला सफेद हो जाता है। मेले के समय यहां खासी चहल-पहल होती है। पंडा का कहना है कि ऐसा करने से अकाल मृत्यु की शिकार हुई प्रेत आत्माओं को प्रेत योनि से मुक्ति मिलती है।प्रेतशिला पर्वत के ऊपर भगवान ब्रह्मा का मंदिर है। उस मंदिर में ब्रह्मा के बाएं पैर का चरण चिह्न है। वहीं सिर के बाल के समान तीन लकीरें हैं। यहां के ब्राह्मणों का कहना है कि यह पर्वत सोने का था, लेकिन शाप की वजह से सब नष्ट हो गया। अब तीन लकीरें ही बची है। पर्वत पर बनी उन्हीं तीनों लकीरों को सत्व, रज और तम के तीन गुणों का प्रतीक मान कर पिंडदान किया जाता है और सत्तू भेंट किया जाता है। फिर उसे पर्वत पर उड़ाया जाता है।

पिंडदान कराने वाले रवि पांडे का कहना है कि प्रेतशिला की खूबियों का बखान वायु पुराण में है। इसके अलावा गरुड़ पुराण, गया पुराण में भी इसका विस्तार से उल्लेख है। यहां क्यों पिंडदान किया जाता है, यहीं क्यों और इससे क्या होता है? इस बाबत पूरा उल्लेख उपरोक्त सभी पुराणों में है। इन्होंने बताया कि यहां शोकाकुल परिवार अपने पूर्वजों की प्रिय चीजें या फिर उनकी फोटो छोड़ जाते हैं। वह पर्वत पर कहीं न कहीं महीनों या फिर वर्षों पड़ी रहती हैं। बाद में वह नष्ट हो जाती हैं। headtopics.com

पर्वत की ऊंचाई करीब 1000 फीट हैइस पर्वत की ऊंचाई करीब 1000 फीट है। इस पर्वत पर पिंडदान करने से पहले परिसर में नीचे बने ब्रह्म तालाब में बैठक कर पिंडदान की पूरी क्रिया से गुजरना पड़ता है। इसके बाद यहां से पिंड लेकर पर्वत पर बने मंदिर परिसर के पिंड स्थल पर भेंट करना होता है।

सत्तू ही क्योंरवि पांडे का कहना है कि जिनकी अकाल मृत्यु होती है उनके यहां सूतक लगा रहता है। सूतक काल में सत्तू का सेवन वर्जित माना गया है। उसका सेवन पिंडदान करने के बाद ही किया जाता है। इसीलिए यहां लोग सत्तू उड़ाते हैं और फिर प्रेत आत्माओं से आशीर्वाद व मंगलकामनाएं मांगते हैं।

नक्सली घटना से भी जुड़ा रहा है यह इलाकायह वही प्रेतशिला है जहां 1990 के दशक में ठंड के दिनों में शाम ढलने से पहले ही पुलिस के 12 जवानों को नक्सलियों ने तेज धारदार हथियार से काटकर मौत के घाट उतार दिया था। सभी जवानों के मरने के बाद जमकर नक्सलियों ने गोलियां भी चलाई थीं। पुलिस कर्मियों के सारे हथियार नक्सलियों ने लूट लिए थे।

और पढो: Dainik Bhaskar »

कौन है Anand Giri, जो कर रहा था Narendra Giri को ब्लैकमेल!

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत मामला लगातार उलझता ही जा रहा है. महंत नरेंद्र गिरि के अंतिम संस्कार की तैयारियां की जा रही हैं, उधर महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट से हड़कंप मच गया है. 23 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ में ही भू समाधि दी जाएगी. लेकिन नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट में जो सच बाहर आया है, वो बेहद ही चौंकाने वाला है. सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी का तीन बार जिक्र किया और पूरे होश में उन्हें अपनी आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया है. सुसाइड नोट में ये भी लिखा है कि एक महिला से जोड़कर उनका वीडियो वायरल करने की धमकी दी जा रही थी. अब सवाल ये भी खड़ा हो गया है कि आखिर वो महिला कौन है? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

700 crore ki tax chori...chor group ये भास्कर ही है या कोई और ? REET2018_JOINING_DO REET2018 kab hoga nyaay? Ab padhai karne ka koi matlab nhi h in sarkaro k chakkar m !sab bekar h number ane k baad ,school milne k bad bhi ghar baithe h GovindDotasra ashokgehlot51 rpbreakingnews 1stIndiaNews News18Rajasthan

Is par kuch prakash maha gyani ji.. Eid wale din aap ki manavta kaha chali jati hai

दिल्ली में प्लास्टिक प्रदूषण का खतरा बढ़ा, तीनों निगमों में एक भी प्लास्टिक ट्रीटमेंट प्लांट नहींनॉर्थ एमसीडी के मेयर रहे जय प्रकाश ने बताया कि नॉर्थ एमसीडी से निकलने वाले प्लास्टिक वेस्ट को भलस्वा लैंडफिल साइट पर ट्रामलिन मशीनो के जरिए आम कूड़े से अलग करके एनर्जी प्लांट में भेजा जाता है. वक्त के साथ प्लास्टिक वेस्ट में बढ़ोतरी हुई है. इसलिए एनर्जी प्लांट भी बढ़ना चाहिए. Ramkinkarsingh Chhattisgarh शासन कोरोना वॉरियर के परिवार पर नही दे रही है ध्यान, आकस्मिक निधन नियम के तहत दे रही है अनुकंपा, पुलिसकर्मी स्व. श्री_गोरेलाल_देवदास अपनी ड्यूटी करते हुए कोरोना_संक्रमित हुए, उनके निधन के 11महीने बाद भी उसका 27 साल का विकलांग_बेटे को अब तक नही_मिली_अनुकंपा Ramkinkarsingh नालायक सरकार Ramkinkarsingh दिल्ली सरकार को ध्यान देनी चाहिए.पैसे नहीं है ? मदरसे,मौलवियों-इमामों को वेतन देने के लिए पैसे कहां से आते हैं? फ्री सफर कराने का पैसा कहां से आता है? फ्री बिजली ,पानी देने का पैसा कहां से आता है?

विश्वविद्यालय समाचार : डीयू में स्नातकोत्तर में प्रवेश के लिए नहीं होंगे साक्षात्कारविश्वविद्यालय समाचार : डीयू में स्नातकोत्तर में प्रवेश के लिए नहीं होंगे साक्षात्कार DelhiUniversity Admission

देश के कई हिस्सों में बाढ़ से तबाही: महाराष्ट्र में बाढ़ से जुड़े हादसों में 136 मौतें, कर्नाटक के 7 जिलों में रेड अलर्ट; गोवा के कई शहर पानी में डूबेमहाराष्ट्र में शनिवार को भी बारिश का कहर जारी है। गुरुवार शाम से लेकर अब तक बारिश से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में 136 लोगों की मौत हो चुकी है। बुरी तरह प्रभावित ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, सतारा, सांगली और कोल्हापुर जिलों से 8 हजार से ज्यादा लोगों को NDRF, नेवी और आर्मी ने रेस्क्यू किया है। 200 से ज्यादा गांवों का प्रमुख इलाकों से संपर्क टूट गया है। | heavy rain in maharashtra: NDRF, Army and Navy have rescued more than 8 thousand people so far, 129 people died in the state; Red alert of rain for the next two days in many districts नर्सेज भर्ती 2018 को अस्थायी पदस्थान को 1 साल से ऊपर हो गया फ़ाइल मंत्री RaghusharmaINC के पास पड़ी है वो ध्यान नही दे रहे है मंत्री जी आम नर्सेज को कार्य बहिष्कार के लिए मजबूर नही करें 12000 नर्सेज में बहुत आक्रोश है ajaymaken RahulGandhi SachinPilot ashokgehlot51

पंजाब के नेताओं को पीछे छोड़ किसान संसद में भी चमकने में कामयाब रहे राकेश टिकैतटिकैत को पंजाब के नेताओं से दिक्कत नहीं उनसे तो वह आंदोलन का नेतृत्व लगभग छीन ही चुके है उनकी समस्या आंदोलन से हुड्डा समर्थकों के मुंह मोड़ लेने से है। लेकिन टिकैत की मजबूरी है कि उन्हें हुड्डा या चौटाला में से एक को चुनना था।

Sawan 2021: सावन के महीने में इन कामों की मनाही, खान-पान में भी बरतें सावधानीसावन का महीना 25 जुलाई से शुरू होने वाला है. सावन का पहला सोमवार 26 जुलाई को है. सावन के महीने में भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है. भोले भक्त इस पूरे महीने शिव को प्रसन्न करने के प्रयत्न करते हैं. इस महीने में कुछ खास कार्य शुभ माने जाते हैं वहीं कुछ कार्य करने की मनाही है. पंडित प्रवीन मिश्रा बता रहे हैं कि सावन के महीने में कौन से काम करने चाहिए और किन कामों को करने से बचना चाहिए.

अलर्ट : टीका लगवा चुके लोगों में हल्के लक्षण या कोई भी लक्षण संभव नहींअलर्ट : टीका लगवा चुके लोगों में हल्के लक्षण या कोई भी लक्षण संभव नहीं Coronavaccine Coronavirus Vaccination ICMRDELHI MoHFW_INDIA