Coronavaccine, Coronavirus, Vaccination, Coronavirus Cases, Covid News, Covid 19, Covid Vaccine, Covid 19 Vaccine, Covid Vaccines, Coronavirus Death Today, Covid 19 Death Today, Corona Cases Today, Corona Vaccine, कोविड, World News İn Hindi, World News İn Hindi, World Hindi News

Coronavaccine, Coronavirus

अलर्ट : टीका लगवा चुके लोगों में हल्के लक्षण या कोई भी लक्षण संभव नहीं

कोरोना से बचाव के लिए टीका सुरक्षा कवच है। हालांकि दुनियाभर में टीका लगवा चुके लोगों में भी संक्रमण (ब्रेकथ्रू) के मामले

24-07-2021 03:10:00

अलर्ट : टीका लगवा चुके लोगों में हल्के लक्षण या कोई भी लक्षण संभव नहीं Coronavaccine Coronavirus Vaccination ICMRDELHI MoHFW_INDIA

कोरोना से बचाव के लिए टीका सुरक्षा कवच है। हालांकि दुनियाभर में टीका लगवा चुके लोगों में भी संक्रमण (ब्रेकथ्रू) के मामले

न्यूयॉर्क के बेल्यूव हॉस्पिटल सेंटर के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. सेलिन गाउंडर स्पष्ट कहते हैं कि अगर आपको टीका लगा है तो आप सुरक्षित हैं। आप पर वायरस अधिक प्रभाव नहीं दिखा पाएगा लेकिन आप उन लोगों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं जिन्होंने अब तक टीका नहीं लगवाया है। टीका लगवा चुके लोग वायरस के कैरियर बन सकते हैं। ऐसे लोग दूसरों को संक्रमित करने का प्रमुख कारण हो सकते हैं।

नाकाबिल नवजोत सिंह सिद्धू को बतौर CM नहीं करूंगा कबूल : अमरिंदर सिंह सोनू सूद ने 20 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की: आयकर विभाग - BBC News हिंदी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने NDTV से कहा- सिद्धू पाकिस्तान समर्थक, उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता

वायरस की कम डोज से असर नहींबॉस्टन के बृघम एंड वीमन हॉस्पिटल के महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. स्कॉट ड्राइडेन पीटर्सन बताते हैं कि टीका लगवा चुके अगर कोई व्यक्ति वायरस के कम डोज की चपेट में आता है तो संभव है कि उसे संक्रमण हो ही नहीं या उसे इसका आभास ही न हो।

डेल्टा वैरिएंट के हाई डोज की चपेट में आने पर हो सकता है कि इम्युनिटी भी जवाब दे जाए। स्थिति तब और गंभीर होगी जब वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन की दर बढ़ेगी जिस कारण अधिक से अधिक लोग वायरस की चपेट में आएंगे।सभी को बरतनी होगी सावधानीन्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के प्रमुख डॉ. एरिक जे. रूबिन का कहना है कि अब सिर्फ जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है उन्हें अकेले सावधानी नहीं बरतनी है। हर किसी को अपने स्तर पर सावधानी बरतनी होगी जिससे वायरस को अपनी संख्या बढ़ाने का मौका न मिले। अगर हम ऐसा नहीं कर पाते हैं तो सबकुछ पहले की तरह होगा जो हमने देखा और सुना है। बचाव की कोशिश से ही जान बच सकती है। headtopics.com

बूस्टर डोज पर विचार का वक्तन्यूयॉर्क स्थित रॉकफेलर यूनिवर्सिटी के इम्युनोलॉजिस्ट प्रो. माइकल सी नुसेन्जविग का कहना है कि टीका लगवाने के बाद कितनी एंटीबॉडीज बनी हैं इस आधार पर वायरस के किसी वैरिएंट से बचाव का सुरक्षा कवच तैयार होता है। टीका लगवा चुके लोगों में संक्रमण तो हो रहा है लेकिन उनमें गंभीर तकलीफ नहीं दिख रही है। इससे ये तो साबित है कि मौजूदा टीके बचाव में सक्षम हैं और बूस्टर डोज पर विचार का वक्त है।

विस्तार सामने आ रहे हैं। अमेरिका में टीका लगवा चुके लोगों में वायरस का डेल्टा वैरिएंट अधिक मिल रहा है।विज्ञापनन्यूयॉर्क के बेल्यूव हॉस्पिटल सेंटर के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. सेलिन गाउंडर स्पष्ट कहते हैं कि अगर आपको टीका लगा है तो आप सुरक्षित हैं। आप पर वायरस अधिक प्रभाव नहीं दिखा पाएगा लेकिन आप उन लोगों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं जिन्होंने अब तक टीका नहीं लगवाया है। टीका लगवा चुके लोग वायरस के कैरियर बन सकते हैं। ऐसे लोग दूसरों को संक्रमित करने का प्रमुख कारण हो सकते हैं।

वायरस की कम डोज से असर नहींबॉस्टन के बृघम एंड वीमन हॉस्पिटल के महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. स्कॉट ड्राइडेन पीटर्सन बताते हैं कि टीका लगवा चुके अगर कोई व्यक्ति वायरस के कम डोज की चपेट में आता है तो संभव है कि उसे संक्रमण हो ही नहीं या उसे इसका आभास ही न हो।

डेल्टा वैरिएंट के हाई डोज की चपेट में आने पर हो सकता है कि इम्युनिटी भी जवाब दे जाए। स्थिति तब और गंभीर होगी जब वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन की दर बढ़ेगी जिस कारण अधिक से अधिक लोग वायरस की चपेट में आएंगे।सभी को बरतनी होगी सावधानीन्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के प्रमुख डॉ. एरिक जे. रूबिन का कहना है कि अब सिर्फ जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है उन्हें अकेले सावधानी नहीं बरतनी है। हर किसी को अपने स्तर पर सावधानी बरतनी होगी जिससे वायरस को अपनी संख्या बढ़ाने का मौका न मिले। अगर हम ऐसा नहीं कर पाते हैं तो सबकुछ पहले की तरह होगा जो हमने देखा और सुना है। बचाव की कोशिश से ही जान बच सकती है। headtopics.com

कैप्टन अमरिंदर सिंह क्या पंजाब कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन सकते हैं - BBC News हिंदी कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं कैप्टन के इस्तीफे के बाद Punjab में कितनी बढ़ गईं Congress की मुश्किलें, समझिए

बूस्टर डोज पर विचार का वक्तन्यूयॉर्क स्थित रॉकफेलर यूनिवर्सिटी के इम्युनोलॉजिस्ट प्रो. माइकल सी नुसेन्जविग का कहना है कि टीका लगवाने के बाद कितनी एंटीबॉडीज बनी हैं इस आधार पर वायरस के किसी वैरिएंट से बचाव का सुरक्षा कवच तैयार होता है। टीका लगवा चुके लोगों में संक्रमण तो हो रहा है लेकिन उनमें गंभीर तकलीफ नहीं दिख रही है। इससे ये तो साबित है कि मौजूदा टीके बचाव में सक्षम हैं और बूस्टर डोज पर विचार का वक्त है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

भास्कर एक्सप्लेनर: जानिए उन चेहरों के बारे में जो बने जेट 2.0 के पंख; पर पिक्चर अभी बाकी है क्योंकि न तो स्लॉट्स हैं और न ही प्लेन, पार्किंग स्पेस भी बड़ी समस्या

अप्रैल 2019 से बंद पड़ी जेट एयरवेज फिर से उड़ने की तैयारी कर रही है। एयरलाइन के नए मैनेजमेंट ने दावा किया है कि 2022 की पहली तिमाही में इसकी घरेलू उड़ान शुरू हो जाएगी। वहीं, 2022 की तीसरी या चौथी तिमाही में इंटरनेशनल ऑपरेशन्स भी शुरू हो जाएंगे। | Jet Airways To Resume Domestic operations, starting with service In first quarter of 2022 2019 and How Many Employees Are There In Jet Airways Now? में नरेश गोयल की जेट एयरवेज का ऑपरेशन बंद कर दिया गया था। कंपनी दिवालिया होने के कगार पर थी। लेकिन, अब इसे दोबारा शुरू करने की बात कही जा रही है। दरअसल, इसी साल जून में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT)

Weather Report: पश्चिम और मध्य भारत में हो सकती है भारी बारिश, मुंबई में ‘रेड’ अलर्टमौसम विभाग ने मुंबई में तेज बारिश का अनुमान जताया है. मुंबई में बारिश के चलते मौसम विभाग ने रेड अलर्ट भी जारी किया है. वहीं, उत्तराखंड में लगातार बारिश के चलते कई जगह भूस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं.

चीन में 1000 सालों में हुई ऐसी भयानक बारिश, वायरल वीडियोज में गाड़ियां बहीं, सड़कों पर बने गड्ढों में डूबते दिखे लोगचीन के मध्य हेनान प्रांत में 1,000 वर्षों में सबसे भारी बारिश के मद्देनजर राष्ट्रपति शी चिनफिंग को बुधवार को ‘सबवे’, होटलों तथा सार्वजनिक स्थानों पर फंसे लोगों को निकालने के लिए सेना को तैनात करना पड़ा. इस देश की बर्बादी कुदरत करेगी । इंसानियत तो इनमें है नहीं ।।। Interference in the affairs of nature with impunity is responsible for all this. जो करोना चीन ने तैयार किया दुनिया को खतम करने के लिये ऊसके लिये कुदरत ने चीन को ही ऐसे खतम कर देगी

विश्वविद्यालय समाचार : डीयू में स्नातकोत्तर में प्रवेश के लिए नहीं होंगे साक्षात्कारविश्वविद्यालय समाचार : डीयू में स्नातकोत्तर में प्रवेश के लिए नहीं होंगे साक्षात्कार DelhiUniversity Admission

केंद्र ने लोकसभा में बताया: कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान में अब तक खर्च हुए 9725 करोड़केंद्र ने लोकसभा में बताया: कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान में अब तक खर्च हुए 9725 करोड़ LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

भारत में पिछले 24 घंटे में 41,383 नए COVID-19 केस, 507 की मौतपिछले 24 घंटे में 41,383 नए कोरोना केस सामने आए और 507 लोगों की मौत हुई है. भारत में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 4,09,394 है.  वहीं टोटल रिकवरी की बात करें तो संख्या 3,04,29,339 हो गई है. Laparwah ho Gaye

Weather Alert: दिल्ली व पंजाब में हुई हल्की वर्षा, कई राज्यों में भारी बारिश की संभावनानई दिल्ली। समुद्र तल पर मानसून की ट्रफ फिरोजपुर, दिल्ली, लखनऊ, पटना, जमशेदपुर, बालासोर और फिर दक्षिण-पूर्व की ओर बंगाल की उत्तरी खाड़ी की ओर जा रही है। उत्तरी बंगाल की खाड़ी और उत्तरी तटीय ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल के आसपास के हिस्सों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र है। उत्तरप्रदेश के मध्य भागों में एक और चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। दक्षिण-पश्चिम राजस्थान और इससे सटे पाकिस्तान के हिस्सों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र देखा जा सकता है। एक अपतटीय ट्रफ रेखा महाराष्ट्र टट से कर्नाटक के तट तक फैली हुई है।