तालिबान का हनीमून समाप्त, हक़्क़ानी नेटवर्क के अलावा अब सामने हैं ये बड़ी चुनौतियाँ - BBC News हिंदी

तालिबान का हनीमून समाप्त, हक़्क़ानी नेटवर्क के अलावा अब सामने हैं ये बड़ी चुनौतियाँ

20-09-2021 04:35:00

तालिबान का हनीमून समाप्त, हक़्क़ानी नेटवर्क के अलावा अब सामने हैं ये बड़ी चुनौतियाँ

आशंका जताई जा रही है कि तालिबान के कंधार स्थित दक्षिणी धड़े और हक़्क़ानी नेटवर्क के बीच सब ठीक नहीं है. वहीं तालिबान के कुछ बड़े नेताओं की ग़ैर मौजूदगी पर भी संशय जताए जाने लगे हैं.

इमेज स्रोत,Talibanइमेज कैप्शन,मुल्ला मोहम्मद हसन अख़ुंद को तालिबान ने अंतरिम प्रधानमंत्री बनाया हैतालिबान नेतृत्व के अधिकतर वरिष्ठ पद दक्षिण में कंधार (और आसपास के इलाक़ों) से आने वाले पश्तूनों के पास हैं. जबकि सिराजुद्दीन हक़्क़ानी तालिबान के अमीर के तीन डिप्टियों में से एक हैं. साल 2015 में मुल्ला उमर की मौत की घोषणा के बाद दक्षिणी तालिबानी नेताओं में उत्तराधिकारी को लेकर खींचतान हुईं थीं. लेकिन उमर के बाद नेता बने मुल्ला अख़्तर मंसूर ने अपने तीन डिप्टियों में सिराजुद्दीन हक़्क़ानी को भी रखा था. हक़्क़ानी पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान के ग्रेटर पक्तिया इलाक़े से आते हैं.

महिलाओं के अधिकार के लिए आज भी डटे हैं : UP में 40% टिकट महिलाओं को देने पर राहुल गांधी भारत, इसराइल, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका का नया गठजोड़ - BBC News हिंदी अमरिंदर स‍िंह बनाएंगे नई पार्टी, कहा - पंजाब चुनाव में बीजेपी से सीटों के समझौते को तैयार

वहीं तालिबान के सुप्रीम लीडर मुल्ला हिब्तुल्लाह अख़ुंदज़ादा, प्रधानमंत्री मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद और डिप्टी प्रधानमंत्री मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर एवं पूर्व राष्ट्रपति हामिद क़रज़ई दुर्रानी पश्तून हैं. हिबतुल्लाह से पहले तालिबान के नेता रहे मुल्ला मंसूर अख़त्र भी दुर्रानी ही थे.

हालांकि तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर ग़िलज़ई पश्तून मूल के थे लेकिन उन्हें दक्षिणी पश्तूनों से जोड़कर ही देखा जाता रहा था. मुल्ला उमर कंधार में पैदा हुए और यहीं के पश्तूनों में घुलमिल गए. उनके बेटे मुल्ला याक़ूब तालिबान की सरकार में रक्षामंत्री हैं और माना जाता है कि वो तालिबान के दक्षिणी गुट के नेताओं के क़रीब हैं. headtopics.com

तालिबान की नई सरकार में भले ही बड़े तालिबानी नेताओं को जगह दी गई है लेकिन दक्षिण के दो बड़े तालिबानी कमांडरों को सरकार से बाहर रखा गया है. ये हैं मुल्ला क़य्यूम ज़ाकिर और मुल्ला इब्राहिम सद्र. अभी ये स्पष्ट नहीं है कि इन नेताओं का अगला क़दम क्या होगा.

ताक़त दिखा रहे हैं हक़्क़ानीइमेज स्रोत,इमेज कैप्शन,मुल्ला ग़नी बरादर इन दिनों काबुल में नहीं हैंअफ़ग़ानिस्तान के सोशल मीडिया में काबुल पर नियंत्रण के कुछ दिन बाद ही मुल्ला बरादर और हक़्क़ानी गुट के बीच सरकार के गठन को लेकर राष्ट्रपति भवन में हिंसक झड़प होने को लेकर क़यास लगाए जाते रहे.

रिपोर्टों के मुताबिक मुल्ला बरादर एक समावेशी सरकार चाहते थे और उन्होंने तालिबान के पंजशीर पर हमले का भी विरोध किया था. पंजशीर घाटी दशकों से शांत रही थी लेकिन अफ़ग़ानिस्तान पर क़ब्ज़े के बाद तालिबान ने यहां बड़ा हमला किया है.माना जा रहा था कि अमेरिका और अफ़ग़ानिस्तानी पक्ष के साथ क़तर के दोहा में तालिबान की तरफ़ से वार्ता का नेतृत्व कर रहे बरादर ही तालिबान सरकार के प्रमुख होंगे. लेकिन अब जो सरकार बनी है उसमें ऐसा लगता है कि उनका क़द कम कर दिया गया है.

कई रिपोर्टों में ये दावा किया गया है कि बरादर ने काबुल छोड़ दिया है और अभी वो कहां है इसका पता नहीं है. 15 सितंबर को जारी किए गए एक संक्षिप्त वीडियो में बरादर दिखाई दिए थे. बरादर एक काग़ज़ से बयान पढ़ रहे थे. उन्होंने किसी मतभेद से इनकार किया था लेकिन ये भी नहीं बताया था कि वो अभी कहां हैं. headtopics.com

Petrol, Diesel Price Today : आज फिर तेल में 35-35 पैसों की बढ़ोतरी, दिल्ली में 106 के पार हुआ पेट्रोल बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तर प्रियंका लड़की हैं, लड़ सकती हैं और पढो: BBC News Hindi »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

👍 अश्लीलता फैला रहीं हैं फिल्में,,,Sant Rampalji Maharaj ji GodMorningMonday AHindinews NavikaBanerjee meenara40756612 MsKajalAggarwal RaniahYousief soniandtv SunnyLeone Taliban is never in honeymoon.

तालिबान ने दुनिया से फिर की वादाखिलाफी, स्कूलों में लड़कियों के लिए नो एंट्रीतालिबान ने दुनिया से किए कई वादों के साथ पिछले हफ्ते अफगानिस्तान में अंतरिम सरकार की घोषणा की थी जिसमें पिछले तालिबान शासन की नीतियों को नहीं दोहराने का आश्वासन दिया गया था। हालांकि जमीन से आ रही खबरें कुछ और ही कह रही हैं। टुकड़े गैंग के शेरनियों को अफगानिस्तान भेजा जाए।

इमरान ख़ान ने तालिबान से समावेशी सरकार के लिए बातचीत शुरू की - BBC Hindiइमरान ख़ान ने कहा कि 40 वर्षों के संघर्ष के बाद, इस कदम से अफ़ग़ानिस्तान में शांति और स्थिरता आएगी. अपना TRP बड़ा लिया 😀 बरसाती मेढ़क साबित हुए अब तो 'बाबुल'SuPriyoBabul की दुआ भी दीदी से साथ है!

मुंबई मेट्रो: उद्धव ठाकरे के बयान से भाजपा-शिवसेना के साथ आने के कयास तेजमहाविकास आघाड़ी सरकार को बने दो साल होने को आ रहे हैं. पर शायद ही कोई महीना ऐसा बीतता हो जब शिवसेना और बीजेपी के साथ आने की अटकलें ना लगी हों. आज तो खुद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बयान ने फिर से इन अटकलों को जिंदा कर दिया. ठाकरे ने कहा- मेरे पूर्व मित्र और यदि हम फिर से एक साथ आते हैं, तो भविष्य के मित्र हो सकते हैं. ठाकरे ने यह बात औरंगाबाद में आयोजित एक सार्वजनिक समारोह में कहा है. देखें वीडियो. BJP should never join hands with S. S.

कैप्टन के इस्तीफे के बाद खट्टर के मंत्री का सिद्धू पर तंजइस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मेरा फैसला आज सुबह हो गया था, मैं बातचीत के लहजे से अपमानित महसूस करता था। बार बार विधायकों की बैठक होती थी। ऐसा माना गया कि मैं सरकार नहीं चला पा रहा हूं।

2021 में तालिबान का 90 के दशक का आदेश, काबुल के मेयर बोले- घर पर ही रहें महिला कर्मचारीकाबुल के मेयर ने रविवार को बताया कि उन्होंने म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन में काम करने वालीं महिला कर्मचारियों को घर पर ही रहने का आदेश जारी किया है. मेयर ने बताया कि 3000 कर्मचारियों में से एक तिहाई ही महिलाएं हैं. No country can progress with putting restrictions on women. This behaviour of taliban shows men can’t be strong character so put all sort of restrictions on women. Can taliban give guarantee that their women citizens are safe within four walls? RipusudanSing19 'Their nation their rule' jab india me hindu nation hone ke liye cow beef pe ban lag sakta he to wo bhi muslim nation hone ke naate sahi kar raha he Aaj tak jabse sushanth ke mamle mein galat afwah pahlaya Uske bad TRP aaj tak (-)me hai🥺🙄

LIVE: चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, चुने गए विधायक दल के नेतापंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच कई महीनों से चला आ रहा सत्ता का संघर्ष आखिर अंजाम तक पहुंच ही गया. कैप्टन अमरिंदर सिंह को चुनाव से ऐन पहले इस्तीफा देना पड़ा है. अब देखना होगा कि कांग्रेस राज्य में चुनाव से पहले नया सीएम किसे बनाती है?