तालिबान की तिजोरी खाली, अमेरिका सख़्त; पाकिस्तान, तुर्की, यूरोप तक आँच, चीन-रूस से बनेगी बात - BBC News हिंदी

तालिबान की तिजोरी खाली, अमेरिका सख़्त; पाकिस्तान, तुर्की, यूरोप तक आँच, चीन-रूस से बनेगी बात

20-10-2021 18:12:00

तालिबान की तिजोरी खाली, अमेरिका सख़्त; पाकिस्तान, तुर्की, यूरोप तक आँच, चीन-रूस से बनेगी बात

अमेरिका ने तालिबान को ज़ब्त रकम देने से इनकार कर दिया है. इस बीच आईएमएफ़ ने आगाह किया कि अगर आर्थिक स्थिति नहीं सुधरी तो अफ़ग़ानिस्तान के पड़ोसियों के साथ तुर्की और यूरोप को भी झटका लगेगा.

अमेरिका ने क्या कहा?उधर, बीबीसी की पश्तो सेवा के मुताबिक अमेरिका ने अफ़ग़ानिस्तान की ज़ब्त की गई रकम तालिबान को लौटाने से एक बार फिर मना कर दिया है. ये रकम अफ़गानिस्तान की करेंसी में है.इसकी कीमत अरबों डॉलर है और इसका बड़ा हिस्सा अमेरिका में है. तालिबान की ओर से इस रकम को दिए जाने की माँग लगातार की जाती रही है.

नरेंद्र मोदी ने अखिलेश यादव की 'लाल टोपी' को क्यों बताया रेड अलर्ट - BBC News हिंदी यूपीए के अस्तित्व के सवाल के बीच: राहुल गांधी से मिलने के बाद संजय राउत ने कहा- विपक्ष का केवल एक मोर्चा होना चाहिए एक जनवरी से यूएई में ढाई दिनों का होगा सप्ताहंत - BBC Hindi

अमेरिका के उप वित्त मंत्री के हवाले से बताया गया है कि उनके देश की राय है कि तालिबान पर पाबंदियाँ जारी रखना ज़रूरी है. हालांकि, अमेरिका मानवीय सहायता पहुंचाने के हक़ में है.अमेरिका के वित्त मंत्रालय ने कहा, " हमारा लक्ष्य तालिबान शासन और हक़्कानी नेटवर्क पर पाबंदी बनाए रखने का है लेकिन हम चाहते हैं कि मानवीय सहायता मिलती रहे. "

वीडियो कैप्शन,अफ़ग़ानिस्तान-पाकिस्तान में बिकता अमेरिकी सामानयही मंत्रालय अमेरिका की ओर से दूसरे देशों और लोगों पर लगाए जाने वाले प्रतिबंधों में प्रमुख भूमिका निभाता है.इस बीच ये आशंका भी जाहिर की जा रही है कि अमेरिका की ओर से लगाई गई पाबंदियाँ अफ़ग़ानिस्तान की दिक्कतें बढ़ा सकती हैं और वहां बड़ा मानवीय संकट खड़ा हो सकता है. headtopics.com

अमेरिका और उसके सहयोगी देशों का कहना है कि वो तालिबान शासन को मान्यता नहीं देना चाहते लेकिन दिक्कतों से जूझ रहे अफ़ग़ानिस्तान के लोगों की मदद करना चाहते हैं.करीब एक महीने पहले अमेरिका ने मानवीय मदद मुहैया कराने वाली संस्थाओं और गैर सरकारी संगठनों को अफ़ग़ानिस्तान में मानवीय मदद का सामान पहुँचाने की इजाज़त दी थी. इसका तालिबान ने स्वागत किया था.

आईएमएफ़ की चेतावनीउधर, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान की आर्थिक दिक्कतें प्रवासी संकट को बढ़ा सकती है. अफ़ग़ानिस्तान के पड़ोसी देशों से लेकर तुर्की और यूरोप तक इसका असर देखने में आ सकता है.आईएमएफ़ ने आगाह किया है कि इस साल अर्थव्यवस्था का आकार 30 फ़ीसदी तक सिकुड़ सकता है. इसकी वजह से लाखों लोग ग़रीबी रेखा के नीचे जा सकते हैं और मानवीय संकट और भी गंभीर हो सकता है.

आईएमएफ़ ने आगाह किया है कि इस स्थिति का असर अफ़ग़ानिस्तान के पड़ोसियों पर भी होगा. क्योंकि उन्हें अफ़ग़ानिस्तान के साथ कारोबारी रिश्तों की वजह से बड़ी रकम हासिल होती रही है.अपने अनुमान को जाहिर करते हुए आईएमएफ़ ने कहा है,"जो देश अफ़ग़ानिस्तान के शरणार्थियों को आने दे रहे हैं, वहां नागरिकों के संसाधनों पर बोझ बढ़ सकता है. मजदूरों के सामने काम का संकट हो सकता है और सामाजिक तनाव की स्थिति बन सकती है."

आईएमएफ़ ने कहा है कि स्थिति संभालनी है तो अंतरराष्ट्रीय समुदाय को अफ़ग़ानिस्तान तक तुरंत मदद पहुँचानी चाहिए.पाकिस्तान के लिए गले की फाँस क्यों बन गई है तालिबान सरकार को मान्यतापाकिस्तान-ईरान के खजाने पर कितना बोझअभी ये साफ़ नहीं है कि अफ़ग़ानिस्तान के कितने शरणार्थी दूसरे देशों में जाएंगे. headtopics.com

Anil Menon बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, हो सकते हैं चांद पर जाने वाले पहले भारतवंशी! केंद्र के प्रस्ताव पर किसानों की और स्पष्टीकरण की मांग, आंदोलन के भविष्य पर बैठक जारी - BBC News हिंदी बाजार में 2000 के नोट की संख्या एक तिहाई घटी, सरकार ने बताया बाजार में कितने नोट बचे

आईएमएफ़ का कहना है कि अगर दस लाख और शरणार्थी हुए तो ताजिकिस्तान के लिए उन्हें अपने यहां रखने के लिए 1000 लाख डॉलर (करीब साढ़े सात अरब रुपये) की ज़रूरत होगी. ईरान को 3000 लाख डॉलर (साढ़े 22 अरब रुपये) और पाकिस्तान को 5000 लाख डॉलर (करीब 37 अरब रुपये) चाहिए होंगे.

बीते महीने ताजिकिस्तान ने कहा था कि वो अफ़ग़ानिस्तान के और अधिक शरणार्थियों को अपने यहां जगह नहीं दे सकता है. ख़ासकर तब तक जब तक कि उसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आर्थिक मदद नहीं मिलती है. मध्य एशिया के दूसरे देशों ने भी साफ़ कर दिया है कि अफ़ग़ानिस्तान के शरणार्थियों को अपने यहां जगह देने का उनका कोई इरादा नहीं है.

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने जी-20 के सम्मेलन में कहा था कि वो अफ़ग़ानिस्तान के शरणार्थियों को अपने यहां आने देने के लिए तैयार नहीं हैं.उन्होंने कहा कि उनके देश में पहले से 36 लाख सीरियाई शरणार्थी हैं और तुर्की एक बार फिर शरणार्थियों की एक नई बाढ़ को झेल नहीं पाएगा. तुर्की में इस समय दुनिया की सबसे बड़ी शरणार्थी आबादी रहती है.

आर्थिक दुष्परिणाम रोकने के लिए बीते हफ़्ते जी-20 ने अफ़ग़ानिस्तान की अर्थव्यवस्था में अरबों डॉलर के निवेश की बात की थी.आईएमएफ़ ने ये भी आगाह किया है कि इस बात की भी चिंता जाहिर की जा रही है कि अफ़ग़ानिस्तान तक जो रकम पहुंचेगी, उसका इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों के लिए वित्त मुहैया कराने में हो सकता है. headtopics.com

और पढो: BBC News Hindi »

आखिर उसने क्यों दी दुल्हन को 'खूनी विदाई'? देखें वारदात

रोहतक, हरियाणा के ओमप्रकाश के परिवार के लिए 1 दिसंबर एक बड़ी खुशी का दिन था. जिस बेटी को उन्होंने अब तक बेहद नाज़ों से पाला था, आज उसी की डोली उठ रही थी. ओमप्रकाश की बेटी तनिष्का की शादी आनंदपुर के रहनेवाले जगदीश के बेटे मोहन के साथ हो रही थी. सारा दिन शादी की गहमागहमी में गुज़र गया और फिर रात के साढ़े दस बजते-बजते विदाई की घड़ी आ गई. तनिष्का अपने दूल्हे मोहन के साथ एक कार में बैठ कर अपने गांव सांपला से ससुराल आनंदपुर के लिए रवाना हो गई. कार में दूल्हा-दुल्हन के अलावा दोनों के भाई और ड्राइवर समेत कुल पांच लोग बैठे हुए थे. लेकिन अभी करीब चालीस किलोमीटर का फ़ासला तय कर कार आनंदपुर की दहलीज़ पर पहुंची ही थी कि एक तेज़ रफ्तार इनोवा ने दूल्हा-दुल्हन की गाड़ी को ओवरटेक कर रुकवा लिया और फिर जो कुछ हुआ, वो बेहद डरानेवाला था. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

Watching amazing BBCsarika!!!! Islam is becoming infamous day by day due to the radical attitude of organizations like Taliban. People form their opinion about religion only after seeing the religious people. We should abstain from every act which brings disrepute to religion. narendramodi CHARANJITCHANNI PMOIndia nitin_gadkari PLEASE THINK OF MIDDLE AND POOR CLASS PEOPLE. U YOU ARE INCREASING PRICES DAY BY DAY BUT SALARIES ARE NOT BEEN INCREASED WE HAVE TO DO ALL THE THINGS IN JUST 15000rs. boycotmodigovt

narendramodi CHARANJITCHANNI PMOIndia nitin_gadkari PLEASE THINK OF MIDDLE AND POOR CLASS PEOPLE. U YOU ARE INCREASING PRICES DAY BY DAY BUT SALARIES ARE NOT BEEN INCREASED WE HAVE TO DO ALL THE THINGS IN JUST 15000rs. boycotmodigovt If few countries help warrant, then please be sure it would be a death warrant for many across the world. May be , some day this help might go against them in some way or the other. Beware please.

Y-Axis yaxis a fraud company looting money form overseas carrier aspirants by fake profile evaluations, Cheating and manipulating. Y-Axis operations is a big scam yaxis xavieraugustin खाली कुएं को भरने के लिए चीन रूस की दौलत भी कम पड़ जायेगी,दूसरे चीन कभी खैरात नही देता नहीं दिये हुए धन की पूरी कीमत वसूलता है।

हम तो डूबेंगे सनम़ , तुमको भी संग ले जायेंगे ..... तालिबान की भी. Hakikat yahi hai. पाकिस्तान तो है ही भिखारी.. पर पाकिस्तान ने अफगानिस्तान पर अपनी काली नजर डाली और अफगानिस्तान को भी कटोरा थमा दिया

मास्को-फार्मेट: अफगानिस्तान के हालात और तालिबान को लेकर आज होगी अहम बैठक, भारत भी होगा शामिलमास्को-फार्मेट: अफगानिस्तान के हालात और तालिबान को लेकर आज होगी अहम बैठक, भारत भी होगा शामिल Afghanistan Taliban Kabul Raussia America Meeting MoscowFormat India PMOIndia PMOIndia मोदी ने देश को बर्बाद कर दिया, भारत में भुखमरी बढ़ा👇

मोदी सरकार अपना खजाना भरने के लिए हर दिन आम आदमी पर महंगाई का बोझ बढ़ाती जा रही है.

अफ़ग़ानिस्तान पर फिर से सक्रिय हुआ रूस, क्या तालिबान के लिए खुशखबरी है ? - BBC News हिंदी20 अक्टूबर को अफ़ग़ानिस्तान पर चर्चा के लिए मॉस्को वार्ता हो रही है, जिसमें अमेरिका, चीन, भारत, ईरान और पाकिस्तान समेत 10 देशों को न्योता भेजा गया है. हालांकि अमेरिका इसमें शामिल नहीं होगा. असम्भव Kuchh kaha nhin ja sakta आधी रोटी अमेरिका और आधी रोटी रूस !

कश्मीर में प्रवासी मज़दूरों की हत्या, सदमे से उबर नहीं पा रहे परिजन - BBC News हिंदीकश्मीर में चरमपंथियों का निशाना बने प्रवासी मज़दूरों में कोई गोलगप्पे बेचता था तो कोई कारपेंटर का काम करता था. परिजनों को समझ में नहीं आ रही हत्या की वजह. पैठ में किस के किससे बने.. सोच में किस से कौन जुड़े.. स्वभाव से खुद में स्वयं मिले .. ख्याल से खुद भी विशेष से मिले🧬 Modi h to mumkin hai दुखःद है

तनाव: ताइवान के रास्ते जंगी जहाज भेजने से अमेरिका-कनाडा पर बौखलाया चीन, हाई अलर्ट पर सेनातनाव: ताइवान के रास्ते जंगी जहाज भेजने से अमेरिका-कनाडा पर बौखलाया चीन, हाई अलर्ट पर सेना China Ameica Taiwan Canada Warship Army PLA HighAlert

भारत, इसराइल, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका का नया गठजोड़ - BBC News हिंदीभारत, इसराइल, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका के विदेश मंत्रियों की बैठक को काफ़ी अहम माना जा रहा है. अब भारत मध्य-पूर्व में इसराइल वाले गुट में खुलकर आता दिख रहा है. संज्ञान में आए बात सब समाएं.. प्रयास हैं किस के कौन गति लाए ... स्वभाव स्तुति से प्रस्तुत हो आए .. विचार में भेद फिर व्यक्तित्व को सुझाए🧬 Why These Big and Powerful Countries Appeased and Bow Before A Country Jewish Apartheid Israel with 7 millions Of Population ? most Worst Violator of Human Rights Occupying Force of Palestine Land Grabber in West Bank Killer Of People Of Gaza with Expanse Designs In Particular विचार से साथ विकार के खिलाफ होड़ में संवाद किन के भाव संयुक्त हो जो कड़े शब्दों में करे किनके प्रतिकार🧬

Aryan Khan Drug Case: आर्यन की जमानत तक 'मन्नत' में नहीं बनेगी मिठाई, गौरी खान ने स्टाफ को दी सख्त हिदायतAryan Khan Drug Case: आर्यन की जमानत तक 'मन्नत' में नहीं बनेगी मिठाई, गौरी खान ने स्टाफ को दी सख्त हिदायत iamsrk gaurikhan AryanKhanDrugCase AryanKhan iamsrk gaurikhan ये खबर बताने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद..... iamsrk gaurikhan जब बेटा आवारा हो, गोबर का चौत हो तो आराम से रहना चाहिए क्योंकि आपने शिक्षा तो उसी तरह का दिया है। iamsrk gaurikhan Big breaking , thank you so much for this news😄