Jaylalitah, Amma, Tamilnadu, Dmk, Aidmk, Tamilnadu Assembly

Jaylalitah, Amma

तमिलनाडु विधानसभा के भीतर घटी चीरहरण की वो घटना, जिसने जयललिता को बना दिया था पूरी राज्य की अम्मा

तमिलनाडु विधानसभा के भीतर घटी चीरहरण की वो घटना, जिसने जयललिता को बना दिया था पूरी राज्य की अम्मा

17-09-2021 11:21:00

तमिलनाडु विधानसभा के भीतर घटी चीरहरण की वो घटना, जिसने जयललिता को बना दिया था पूरी राज्य की अम्मा

इस घटना के दो साल बाद हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में जयललिता की पार्टी एआईडीएमके और कांग्रेस गठबंधन को राज्य की 234 में से 225 सीट पर जीत मिली थी और डीएमके का पत्ता साफ़ हो गया था।

साड़ी खींचने की घटना से गुस्साई जयललिता ने प्रतिज्ञा लेते हुए कहा था कि वे मुख्यमंत्री बनकर ही दोबारा से सदन में लौटेंगी। (एक्सप्रेस फोटो)बीते दिनों कंगना रनौत की फिल्म थलाइवी बड़े पर्दे पर रिलीज हुई। यह फिल्म तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री व अन्नाद्रमुक की नेता जयललिता की बायोपिक थी। फिल्म आने के बाद से ही दिवंगत महिला नेता जयललिता की चर्चा खूब हो रही है। जयललिता को तमिल लोग अम्मा के नाम से पुकारते थे। उनके अम्मा बनने की कहानी तमिलनाडु विधानसभा के अंदर हुई चीरहरण की एक घटना से शुरू हुई थी। तो आइये जानते हैं वो पूरी कहानी जिसने जयललिता को पूरे राज्य की अम्मा बना दिया।

अनीता आनंदः जिन्हें कनाडा के पीएम ने मुश्किल दौर में बनाया रक्षा मंत्री - BBC News हिंदी नवाब मलिक का नया आरोप: क्रूज ड्रग्स पार्टी में मौजूद इंटरनेशनल ड्रग माफिया और उसकी माशूका को वानखेड़े ने नहीं पकड़ा 'NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ' : आर्यन खान ड्रग्‍स मामले में SC में याचिका दाखिल

दरअसल साल 1989 के मार्च महीने में 25 तारीख को तत्कालीन मुख्यमंत्री करुणानिधि के नेतृत्व वाली सरकार विधानसभा में बजट पेश कर रही थी। चूंकि वित्त विभाग का जिम्मा करुणानिधि के पास ही था तो इसलिए वे ही सदन के सामने अपना बजट भाषण पढ़ने की तैयारी कर रहे थे। करुणानिधि ने जैसे ही बजट भाषण पढ़ना शुरू किया तो कांग्रेस विधायकों ने कुछ दिन पहले विपक्ष की नेता जयललिता के खिलाफ हुई एक पुलिसिया कार्रवाई का मुद्दा उठाते हुए सरकार से इस संबंध में अपना पक्ष रखने के लिए कहा।

चूंकि गृह मंत्रालय का कार्यभार भी मुख्यमंत्री करुणानिधि के पास ही था तो उन्होंने सदन से इसपर चर्चा की अनुमति मांगी। विधानसभा अध्यक्ष द्वारा चर्चा की अनुमति दिए जाने से पहले ही सदन के अंदर मौजूद रहीं जयललिता ने मुख्यमंत्री पर सत्ता का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पर चर्चा कराने का अनुरोध किया। लेकिन स्पीकर ने इससे मना कर दिया। headtopics.com

इसके बाद एआईएडीएमके के सदस्य चिल्लाते हुए वेल में चले गए। इसी बीच एक विपक्षी विधायक ने मुख्यमंत्री करुणानिधि पर हमला कर दिया जिससे उनका चश्मा टूट कर गिर गया। इसके बाद दोनों तरफ से एक दूसरे के ऊपर चीजों को फेंका जाने लगा। जिसके बाद कार्यवाही स्थगित कर दी गई। कहा जाता है कि इस घटना के दौरान जब जयललिता सदन से बाहर निकलने की कोशिश कर रही थीं तो तभी एक डीएमके विधायक ने उन्हें बाहर निकलने से रोका और जयललिता की साड़ी खींचने की कोशिश की। जिसे जयललिता जमीन पर नीचे गिर गई। हालांकि बाद में जैसे तैसे एआईएडीएमके विधायकों ने जयललिता को सदन के बाहर निकाला।

25 मार्च 1989 को हुई इस घटना से गुस्साई जयललिता ने प्रतिज्ञा लेते हुए कहा कि जबतक एक महिला के लिए सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने लायक माहौल नहीं बन जाता है तबतक वे विधानसभा में कदम नहीं रखेंगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे मुख्यमंत्री बनकर ही दोबारा से सदन में लौटेंगी। इस घटना के बाद करुणानिधि की पार्टी डीएमके का ग्राफ लगातार नीचे गिरता गया और जयललिता तमिलनाडु के लोगों के बीच मशहूर होने लगीं. जयललिता को अम्मा नाम से जाना जाने लगा। 

इस घटना के दो साल बाद हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में जयललिता की पार्टी एआईडीएमके और कांग्रेस गठबंधन को राज्य की 234 में से 225 सीट पर जीत मिली और डीएमके का पत्ता साफ़ हो गया। एआईएडीएमके को मिली शानदार जीत के बाद जयललिता पहली बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनीं।

और पढो: Jansatta »

झूठ के सहारे सावरकर का महिमामंडन क्यों? | Arfa Khanum SHerwani | Savarakar | The Wire Video LIVE

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि विनयाक दामोदर सावरकर के 'दया याचिका' दायर करने को एक ख़ास वर्ग ने ग़लत तरीक़े से फैलाया. उन्होंने दावा किया कि सावरकर न...

तमिलनाडु: एआईएडीएमके के पूर्व मंत्री के घर पहुंची विजिलेंस की टीम, समर्थकों ने जमकर किया बवालसतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक विभाग ने गुरुवार को आय से अधिक संपत्ति के मामले में गुरुवार को एआईएडीएमके के पूर्व मंत्री

सौरव गांगुली ने दी विराट कोहली के टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने की घोषणा पर प्रतिक्रियासौरव गांगुली ने कहा विराट कोहली भारतीय क्रिकेट की असली धरोहर हैं और वह टीम के काफी अच्छे से आगे लेकर आए हैं। वह क्रिकेट का तीनों ही फार्मेट में सबसे सफल कप्तान हैं। उन्होंने यह फैसला भविष्य की योजना ध्यान में रखते हुए लिया है। India captan Rohit sharma is best captan

IPL 2021: फैंस के लिए खुशखबरी, आईपीएल मैच के दौरान स्टेडियम में होगी दर्शकों की एंट्रीIPL 2021 का दूसरा दौर 19 सितंबर से यूएई (IPL 2021 in UAE) में शुरू होगा. आईपीएल के दूसरे फेज से पहले क्रिकेट फैन्स के लिए ब़ड़ी खुशखबरी है. अब क्रिकेट फैन्स (Cricket Fans) स्टेडियम में जाकर मैच का लुत्फ उठा सकते हैं.

Sonu Sood के घर पहुंची IT डिपार्टमेंट की टीम, एक्टर के घर हो रहा सर्वेबॉलीवुड एक्टर सोनू सूद के घर आईटी डिपार्टमेंट पहुंचा है. कहा जा रहा है कि एक्टर के घर जो आईटी ऑफिशियल्स पहुंचे हैं, वे पांच जगहों पर सर्वे ऑप्रेशन कर रहे हैं. हालांकि, अभी तक वजह सामने नहीं आ पाई है. मालूम हो कि सोनू सूद लगातार कोविड-19 के चलते लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. कल ही एक्टर ने गणपति विसर्जन किया है, जिसमें उनका पूरा परिवार शामिल रहा. survey ya Raid.. हाल ही में सोनू सूद ने अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की थी।अरविंद केजरीवाल ने सोनू सूद को 'देश के मेंटॉर' कार्यक्रम का ब्रांड एम्बेसडर बनाया है इसीलिए सोनू सूद के घर सर्वे तो होना ही था....🤔 Shame on IT department Shame on central government

UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तकआज हमें जनता की जान की चिंता छोड़कर अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की होती राजनीति पर दस्तक देनी है. इसीलिए हमने आज की पहली दस्तक का नाम दिया है- जब तक है जान. यहां तीन तरह की जान है. पहली आम आदमी की जान यानी जिंदगी, जो उत्तर प्रदेश में डेंगू समेत दूसरे संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रही है. लेकिन उसकी जान बचाने की जगह यूपी में अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की चर्चा हो रही है. अब सवाल है कि क्या पेड़ के नीचे इलाज कराती जनता की पीड़ा भी क्या अब्बाजान-चाचाजान की राजनीति में दब जा रही है? देखिए 10 तक का ये एपिसोड. Vaccination के बाद ये आजतक वालों की इतनी फटने क्यों लगी है.. 😆🤣 देखिए 10Tak, Sayeed Ansari के साथ.. अफ़गान स्टेट टीवी के इंटरव्यू में देखा गया मुल्ला बरादर! 😆

मानसून की बारिश से बाढ़ की आफत, ओडिशा और गुजरात समेत कई राज्यों की हालत खराबइस बार मानसून जाने का नाम नहीं ले रहा और तो और अंतिम समय में भी देश के कई इलाकों में भारी बारिश करवा रहा है। इससे देश के कई राज्यों में बाढ़ आ गई है। वहीं हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भूस्खलन हुआ है।