Madhyapradesh, Mpnews, Pmcropınsurancescheme, Madhya Pradesh, Mp News, Mp News In Hindi, Farmers İn Madhya Pradesh, Pm Crop Insurance Claim, Prime Minister Crop Insurance Scheme, फसल बीमा क्लेम, Mp Cm Helpline

Madhyapradesh, Mpnews

डेढ़ लाख किसानों ने एक जमीन पर मांगा दो बार फसल बीमा क्लेम, जांच में हुआ खुलासा

डेढ़ लाख किसानों ने एक जमीन पर मांगा दो बार फसल बीमा क्लेम, जांच में हुआ खुलासा #MadhyaPradesh #MPNews #PMCropInsuranceScheme

27-01-2021 16:59:00

डेढ़ लाख किसानों ने एक जमीन पर मांगा दो बार फसल बीमा क्लेम , जांच में हुआ खुलासा MadhyaPradesh MPNews PMCropInsuranceScheme

मध्य प्रदेश में फसल बीमा का लाभ दो बार लेने की कोशिश का मामला सामने आया है। मामला प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित है। इसमें करीब डेढ़ लाख किसानों ने एक जमीन पर दो बैंकों से फसल बीमा करवा लिया।

मध्यप्रदेश में फसल बीमा का दो बार लाभ लेने की कोशिश का मामला सामने आया है। यह प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जुड़ा है। इसमें डेढ़ लाख किसानों ने एक जमीन पर दो बैंकों से ऋण लिया और फसल बीमा भी करवा लिया। इतना ही नहीं जब फसल को नुकसान हुआ तो क्लेम (दावा) भी दोनों जगह कर दिया। एक बैंक से दावा राशि भी मिल गई पर दूसरे बैंक से क्लेम नहीं मिला तो कई किसानों ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत कर दी। मामला किसानों से जुड़ा होने की वजह से कृषि विभाग ने विस्तृत पड़ताल की तो इस गड़बड़ी का राजफाश हुआ और फिर एक दावे को निरस्त करने की कार्रवाई की गई।

नेपाल: एसिड अटैक पीड़िता मुस्कान ख़ातून को मिला इंटरनेशनल वुमन ऑफ़ करेज अवॉर्ड - BBC News हिंदी किसान आंदोलन: गर्मियों की तैयारी में जुटे किसान, कहा नहीं रुकेगा आंदोलन - BBC News हिंदी आंध्र प्रदेश में गधे के मांस की माँग इतनी ज़्यादा क्यों है? - BBC News हिंदी

सीएम हेल्पलाइन में हुई शिकायतयोजना में फसल नुकसान होने पर भी दावा राशि नहीं मिलने की शिकायत सीएम हेल्पलाइन में शाजापुर के राम सिंह ने दर्ज कराई थी। सीएम हेल्पलाइन से मामला वस्तुस्थिति की जानकारी के लिए कृषि विभाग पहुंचा और जब पड़ताल हुई तो राजफाश हुआ कि संबंधित किसान को 36810 रुपये का बीमा यूनियन बैंक से मिल चुका है और वह जिला सहकारी केंद्रीय बैंक से बीमा क्लेम मांग रहा है। जबकि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में प्रविधान है कि एक भूमि पर एक ही बैंक से बीमा कराया जा सकता है। इसी तरह का मामला राजगढ़ के बाबूलाल चौरिसया का सामने आया। उन्होंने भी बैंक ऑफ इंडिया से 45,000 रुपये का क्लेम मिला पर उन्होंने जिला सहकारी बैंक से दावा राशि नहीं मिलने की शिकायत कर दी। कृषि विभाग ने जब बीमा कंपनी से ऐसे किसानों की जानकारी मांगी तो पता लगा कि प्रदेशभर में करीब डेढ़ लाख किसान हैं, जिन्होंने एक ही जमीन पर दो जगह से बीमा कराया है।

पड़ताल में हुआ राजफाश और फिर एक दावे को किया गया निरस्तकृषि विभाग के अपर संचालक बीएम सहारे ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के दिशानिर्देशों में स्पष्ट प्रावधान है कि एक जमीन पर दो बार बीमा नहीं हो सकता है। किसानों ने बैंकों को पहले से बीमा करवाने की जानकारी नहीं दी, जो गलत था। पड़ताल में स्थिति स्पष्ट होने के बाद नियमानुसार एक दावा निरस्त करने की कार्रवाई की गई है। गौरतलब है कि इस योजना के तहत मध्यप्रदेश में वर्ष 2019 और वर्ष 2020 के लिए लगभग आठ हजार करोड़ रुपये का बीमा क्लेम दिया जा चुका है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंसहकारी बैंक से कर्ज लेने पर अनिवार्य होता है बीमा कराना और पढो: Dainik jagran »

Anurag Kashyap-Taapsee Pannu पर शिकंजा, भारी पड़ गया पंगा? देखें हल्ला बोल

तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप समेत दो और फिल्मी हस्तियों पर इनकम टैक्स ने शिकंजा कस लिया है. सवाल है कि क्या तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप को सरकार के खिलाफ लगातार बोलने की सजा मिली है? क्या इनकम टैक्स के एक्शन के पीछे भी कोई सियासी साजिश है या फिर इनकम टैक्स अपने कर्म का पालन कर रही है? तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप दोनों से इनकम टैक्स के अफसर पूछताछ कर रहे हैं. वहीं मुंबई में तापसी पन्नू की टैलेंट मैनेजमेंट कंपनी KRI में भी इनकम टैक्स की छानबीन इस वक्त जारी है. मुंबई और पुणे में करीब 30 जगहों पर इनकम टैक्स ने छापा मारा है. देखें हल्ला बोल, अंजना ओम कश्यप के साथ.