Maharastra, Mumbai, Drug Case, Aryan, İnvestigation, Crime

Maharastra, Mumbai

जांच का रुख

जांच का रुख in a new tab)

27-10-2021 01:47:00

जांच का रुख in a new tab)

मुंबई में क्रूज जहाज पर स्वापक नियंत्रण ब्यूरो यानी एनसीबी छापे में मादक पदार्थ रखने के आरोप में गिरफ्तार लोगों के खिलाफ चल रही जांच का रुख अब उल्टी दिशा में मुड़ गया लगता है।

इस मामले में अभिनेता शाहरुख खान का बेटा आर्यन खान भी गिरफ्तार है और उसे लेकर लगातार खबरें आती रही हैं। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि आर्यन के पास से कोई मादक पदार्थ बरामद नहीं हुआ। कुछ पुराने संदेशों की वजह से उसे शक के दायरे में लिया गया और पूछताछ चल रही है। उस पर ऐसा कोई गंभीर आरोप नहीं है कि जमानत न दी जाए, मगर एनसीबी किसी न किसी तरह उस पर अपना शिकंजा कसे हुए है। इसलिए भी एनसीबी की कार्यशैली को लेकर सवाल उठते रहे हैं। एनसीबी निदेशक पर जो आरोप लगे हैं, उनमें कितना दम है, यह तो सतर्कता विभाग की जांच के बाद ही सही-सही पता चल सकेगा, मगर इस प्रकरण से एक बार फिर साबित हो गया है कि इस तरह की निष्पक्ष काम करने वाली एजेंसियां भी बेदाग नहीं हैं। क्रूज मादक पदार्थ मामला अब राजनीतिक रंग ले चुका है। महाराष्ट्र सरकार और दूसरे कई दल भी इसमें कूद पड़े हैं और वे साफ कह रहे हैं कि एनसीबी ने यह छापा केंद्र के इशारे पर मारा और जानबूझ कर शाहरुख खान के बेटे सहित तेरह लोगों को गिरफ्तार किया। उस गिरफ्तारी में जिन लोगों को गवाह बनाया गया उनमें से कुछ भाजपा के कार्यकर्ता बताए जाते हैं।

मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi Delimitation : परिसीमन का प्रारूप तैयार, जम्मू संभाग की सात और सीटें बढ़ेंगी

अपने ऊपर लगे आरोपों की सफाई में वानखेड़े का कहना है कि वे निर्दोष हैं और उन्होंने वही किया, जो उन्हें ऊपर से आदेश मिला था। यह ऊपर से आदेश वाली बात एनसीबी की निष्पक्षता पर स्वत: सवाल खड़े कर देती है। हालांकि यह छिपी बात नहीं है कि जांच एजेंसियों को बिना किसी दबाव में आए और निष्पक्ष तरीके से काम करने की आजादी की बात सभी सरकारें करती हैं, मगर ये संस्थाएं वास्तव में स्वतंत्र कभी नहीं रह पार्इं। सत्ता पक्ष अपने स्वार्थ के लिए उनका इस्तेमाल सदा से करता रहा है। अपने विरोधियों पर शिकंजा कसने के लिए इन एजेंसियों का खुलेआम उपयोग होता रहा है। चाहे वह केंद्रीय जांच ब्यूरो हो, प्रवर्तन निदेशालय या आयकर विभाग, सत्ता पक्ष इन्हें हथियार की तरह उपयोग करता रहा है। मगर इससे इन संस्थाओं की जो साख लगातार गिरती गई है और इनके शिकंजे में फंस कर जो कई लोग बेवजह शरीरिक-मानसिक प्रताड़ना झेलते हैं, उसकी भरपाई कैसे होगी।

और पढो: Jansatta »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

लखनऊ में फाइलों में हो गया पशुओं का 100 फीसद टीकाकरण, हकीकत में नहीं हुआ पूरालखनऊ के असोहड़ी खुर्दहरी व बिसईपुर समेत बख्शी का तालाब क्षेत्र के कई इलाकों में खुरपका व मुंहपका से बचाव का टीका नहीं लगा है। पशुपालन विभाग की फाइलों में 15 मई को राजधानी में 100 फीसद टीकाकरण का कार्य पूरा हो गया है।

दिल्ली: पुराने सीमापुरी इलाके में आग लगने से चार लोगों की मौत, जांच में जुटी पुलिसदिल्ली के पुराने सीमापुरी इलाके में आगजनी में चार लोगों की मौत की खबर है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आग एक तीन मंजिला

चीन में लौटा कोरोना का कहर, 4 लाख की आबादी वाले Lanzhou में लॉकडाउनलांझू। चीन में कोरोनावायरस का कहर एक बार फिर तेजी से बढ़ता दिखाई दे रहा है। 4 लाख की आबादी वाले लांझू (Lanzhou) संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पूरी तरह लॉकडाउन लगा दिया गया है।

सूडान में तख़्तापलट: प्रधानमंत्री हिरासत में, टीवी चैनल पर सेना का क़ब्ज़ा - BBC News हिंदीसूडान में सेना ने देश के प्रधानमंत्री और अंतरिम सरकार के कई मंत्रियों समेत कई सदस्यों को सोमवार तड़के गिरफ़्तार कर लिया है. India me bhi yahi hona chahiye 😂शांति प्रिय लोग (अहिंसा के मार्ग पर) Jb kisi desh ki Political Galat kre to hr desh ki sena ko esa hi krna chahiye..

बंगाल में चुनाव-बाद हिंसा, बांग्लादेश में हुई सांप्रदायिक हिंसा का कारण: आरएसएसबांग्लादेश में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुछ अज्ञात कट्टरपंथियों द्वारा पूजा पंडालों और एक दर्जन से ज्यादा हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की गई थी और मूर्तियों को भी तोड़ा गया था। कुछ लोगों की हत्या भी कर दी गई थी। और मुखपत्र को ये बात सही लगी ?

दो दिन के अंदर इन दो IPO में निवेश का मौका, जानें- कंपनियों के बारे मेंइस महीने के आखिरी हफ्ते में दो आईपीओ ओपन होने जा रहे हैं. पहला आईपीओ FSN ई-कॉमर्स वेंचर्स लिमिटेड के मालिकाना हक वाली कंपनी Nykaa का 28 अक्टूबर को खुलेगा, जबकि 29 अक्टूबर फिनो पेमेंट बैंक (Fino Payment Bank) का IPO ओपन होगा.