Dunia Mere Aage, Sahitya, Society, Tradition

Dunia Mere Aage, Sahitya

बदलाव के बावजूद

बदलाव के बावजूद in a new tab)

27-10-2021 01:22:00

बदलाव के बावजूद in a new tab)

समाज का ढांचा बहुत संगठित होता है। इसमें छोटे बच्चों से लेकर बड़े बुजुर्ग तक विभिन्न आयु वर्ग के सदस्य होते हैं।

पहले के समय में जिस हिसाब से खपरैल के मकान हुआ करते थे, वह भवन निर्माण की परिपाटी अब धीरे-धीरे लगभग समाप्त हो गई है। गिट््टी, बालू मोरंग का चलन जब नहीं था, तब मिट््टी और कच्चे गारे से घर बनता था। बड़े-बड़े पत्थर लगते थे। पर अब तो बहुमंजिला इमारत बनाने का पहले से ही ठेका हो जाता है। बड़े-बड़े भवन निर्माता एक निश्चित समय के अंदर घर बनाने में जुट जाते थे। निश्चित रूप से आज के जमाने में भवनों की मजबूती वैसी नहीं होती, जैसी मजबूती पहले के मकानों में हुआ करती थी। पूरे इलाके में एक ही मिस्त्री हुआ करता था, जो घर भी बनाता था, लकड़ी के दरवाजे और खिड़कियों की नक्काशी भी करता था और बैठने के लिए लकड़ी के अलग-अलग पीढ़े भी बना दिया करता था। हमारे पैतृक आवास पर अब भी ढेका और चक्की रखी हुई है, जिस पर हमने हाथों को गोल घुमा कर कर चने की दाल पीसी है। कोदो चावल और भुजिया चावल खूब हमने ढेंके की सहायता से कूटा है।

एजाज पटेल का टेस्ट क्रिकेट में ऐतिहासिक कारनामा, चकमा खाए सभी 10 भारतीय बल्लेबाज़ - BBC News हिंदी गुड़गांव में जुमे की नमाज़ में फ़िर ख़लल डालने की कोशिश, स्थल पर प्रदर्शनकारियों ने खड़े किए ट्रक भारत में 'Omicron'का एक और केस आया, जिम्बाब्वे से लौटा था शख्स, कुल संख्या हुई तीन

आज जिसे शहरी लोग ब्राउन राइस कहते हैं, उसे देहात के लोग अपने घर के बाहर अदहन जला कर तैयार करते थे और उसी पर बगल में भोजन भी पका लेते थे। ठंडी के दिनों में तेज आंच से बड़ी राहत मिलती थी। अब उस तरह खाने-पीने की चीजें तैयार नहीं की जातीं। यही वजह है कि उचित पोषक तत्त्व हमारे शरीर में उतनी मात्रा में नहीं जा पा रहे हैं, जितनी उस देहाती भोजन से जाया करते थे। हर मौसम में पालिश किए हुए खाद्य पदार्थों और हाइब्रिड बीजों का चलन बढ़ गया है। सब्जियां, फल, मिष्ठान्न में सबसे ज्यादा मिलावट है। ये सभी हमारे यकृत, हृदय और किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं। हमारी जिंदगी बाजार के चारों तरफ विक्रेताओं से घिर गई है। अब तो बैलगाड़ी देखे भी काफी दिन हो गए।

जब खेत की जुताई हो जाती थी, तो अनाज बोने के बाद उसमें पाटा फिराया जाता था। पाटा फिराते समय हम उसके ऊपर एक रस्सी पकड़ कर लटकते थे और पूरे खेत पर सुबह से शाम तक घूमते थे। मिट््टी और कीचड़ की महक बहुत आनंदित करती थी। मगर शहरी जीवन, बहुराष्ट्रीय कंपनियों की संस्कृति में जो मंहगे इत्र का चलन व्यापक है, वह वहां गौण हो जाता है। महानगरों में तो मिट््टी की महक पाने के लिए अब संपन्न लोगों के बीच फार्महाउस संस्कृति विकसित हो रही है। गांवों में बिना जूते-चप्पल के खेत-खलिहान, जुताई आदि के सारे काम कर लिए जाते थे। आज ट्राली-ट्रैक्टर, जेसीबी, बड़ी-बड़ी मशीनों ने आदमियों के हिस्से के काम को खत्म कर दिया और उनकी रोजी-रोटी छीन ली। इससे समय की बचत जरूर हुई है, पर आदमियों के हिस्से में कुछ नहीं लगा। headtopics.com

समाज में अनेक जातियों के लोग रहते हैं, उनकी विचारधारा अलग होती है। फिर भी वहां शहरों जैसा वैचारिक प्रदूषण और सन्नाटा नहीं रहता। गांवों में चौपाल अब भी लगती है, दो-चार लड़के क्रिकेट खेलते हुए, दो-चार बुजुर्ग गमछा बांधे अक्सर मिल ही जाते हैं। गांवों में अब भी पुरोहितों का सम्मान है। उनके झोले और साइकिल की घंटी लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है। शहरों में कामकाजी वर्ग के पास इतनी फुरसत नहीं है कि वह बड़े, बूढ़े, बुजुर्गों के पास बैठने का समय दे पाए। शहरों में कभी न खत्म होने वाली रफ्तार है, दिखावटीपन ज्यादा है। कभी-कभी ‘चीफ की दावत’ भी लगती है। पांच सितारा होटलों में मद्यपान के इर्द-गिर्द देर रात तक मौज-मस्ती की जाती है। गांवों की तरफ खेत-खलिहान के अलावा चौपाल और पीपल-बरगद, अमलतास अधिक दिखते हैं। कौवे की कांव-कांव और कोयल की कूक अब भी आगंतुक के आने की शुभ सूचना दे जाते हैं। शहरों में पक्षियों की घटती संख्या पर्यावरण के बढ़ते प्रदूषण की ओर इशारा करती है। गांव और शहर की जीवन-शैली में अंतर है, पर रोजमर्रा की जिंदगी समान रूप से जीने वाले लोग दोनों जगहों पर हैं और आगे भी रहेंगे।

और पढो: Jansatta »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

शाहीन शाह अफ़रीदी ऐसे बने भारत के ख़िलाफ़ मैच में पाकिस्तान के 'शहंशाह' - BBC News हिंदीभारत के ख़िलाफ़ मैच में पाकिस्तान के शाहीन अफ़रीदी ने टॉप ऑर्डर को काफ़ी परेशान किया और पाकिस्तान की जीत की आधारशिला रखी. 2014 के बाद सचमुच का विकास हुआ है पहले भारत के हारने पर टीवी टूटते थे और अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचता था अब शमी को गाली दो और विकास चालू सब चंगा सी Ab Bas Bhi Kar Dijiye Itna To Pak media bhi nahi dikha raha honga Jitna aap Dikhaye Jaa Rahe Hai. IndvsPak ghamand ki haar howee hai

ममता का आरोप: आम लोगों को प्रताड़ित करने के लिए केंद्र ने बढ़ाए बीएसएफ के अधिकारममता का आरोप: आम लोगों को प्रताड़ित करने के लिए केंद्र ने बढ़ाए बीएसएफ के अधिकार Westbengal BSF MamataBanerjee MamataOfficial BJP4India MamataOfficial BJP4India BSF se aam log Kyun pratarit hone lage ...? Police ki chowki to hmsa ghr k as ps hi hoti tab bhi aam log pratarit nahi hote sirf chor logon ko hi pratarna mehsus hoti hai ... MamataOfficial BJP4India डरे हुए आम आदमी = घुसपैठिए !

सुप्रीम कोर्ट ने हत्या के एक मामले में 'गैरजरूरी' अपील के लिए उत्तराखंड सरकार को फटकाराशीर्ष अदालत ने उत्तराखंड सरकार द्वारा दाखिल याचिका को खारिज करते हुए चेतावनी दी कि गैरजरूरी याचिका दायर करने की कोशिश पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई। सर्वोच्च न्यायालय उत्तराखंड द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

क्रिकेटर शमी के खिलाफ अपशब्दों को हटाने के लिए कदम उठाए गए हैं: फेसबुकभारत को टी20 विश्व कप के पहले मुकाबले में पाकिस्तान के हाथों 10 विकेट से शिकस्त झेलनी पड़ी. शमी भारत के सबसे महंगे गेंदबाज साबित हुए और उन्होंने 3.5 ओवर में 43 रन दिए. ये सब कांग्रेसियों का काम है बीजेपी को बदनाम करने के लिए । TMaryada नाली से गैस बनाने से लेकर रडार तक पर अथाह ज्ञान बाटने वाले साहब ने कोहली को अब तक क्रिकेट पर ज्ञान नही दिया IPLNewTeam Kohli Shami ICCT20WorldCup2021 Cricket INDvPAK BabarAzam ShoaibAkhtar Dhoni Trending Shame TeamIndia india मोहम्मद शमी के अलावा क्या बाकी खिलाड़ी मुजरा करने उतरे थे मैदान में जो भारत हार गया? खेल को भी धर्म से जोड़कर देख रहें हैं दोगले लोग 🙄

यूपी में आज भी बारिश के संकेत, दिल्ली में पारा गिरने से ठंड बढ़ने के आसारDelhi Cold Weather : यूपी के पहासू, डिबाई, नरौरा, गभाना, अतरौली, अलीगढ़ में भी अगले कुछ घंटों में बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने जताया था.  वहीं दिल्ली में बरसात के कारण सर्दी ने दस्तक दे दी है. अभी तो यूपी में मौसम बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है बारीस का कोई आसार नहीं दिख रहा है कड़वा चौथ वाले दिन ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है हर दुकानदार छोटे मोटे व्यापारी का नुकसान Acha humko toh pata he nahi tha

गुरु पुष्य नक्षत्र के दिन के शुभ योग, शुभ मुहूर्त, क्या खरीदें और क्या करें, जानिएGuru Pushya Nakshatra 2021 : चंद्रमा का राशि के चौथे, आठवें एवं बारहवें भाव में उपस्थित होना अशुभ माना जाता है। परंतु इस पुष्य नक्षत्र के कारण अशुभ घड़ी भी शुभ घड़ी में परिवर्तित हो जाती है। ग्रहों की विपरीत दशा से बावजूद भी यह योग बेहद शक्तिशाली है, परंतु एक श्राप के चलते इस योग में विवाह नहीं करना चाहिए। इसके प्रभाव में आकर सभी बुरे प्रभाव दूर हो जाते हैं। मान्यता अनुसार इस दौरान की गई खरीदारी अक्षय रहेगी। अक्षय अर्थात जिसका कभी क्षय नहीं होता है। इस शुभदायी दिन पर महालक्ष्मी की साधना करने, पीपल या शमी के पेड़ की पूजा करने से उसका विशेष व मनोवांछित फल प्राप्त होता है।