जनरल भगत जिन्हें बनना चाहिए था भारत का सेनाध्यक्ष

जनरल भगत ने चीन के साथ युद्ध में भारत की हार पर एक रिपोर्ट दी थी जिसे सार्वजनिक करने की हिम्मत आज तक भारत सरकार नहीं जुटा पाई.

23-05-2020 07:56:00

रीपोस्ट: जनरल भगत ने चीन के साथ युद्ध में भारत की हार पर एक रिपोर्ट दी थी जिसे सार्वजनिक करने की हिम्मत आज तक भारत सरकार नहीं जुटा पाई. आज उनकी 45वीं बरसी है. पूरी कहानी: (तस्वीर: अशाली वर्मा)

जनरल भगत ने चीन के साथ युद्ध में भारत की हार पर एक रिपोर्ट दी थी जिसे सार्वजनिक करने की हिम्मत आज तक भारत सरकार नहीं जुटा पाई.

बीबीसी संवाददाता, दिल्ली13 अक्टूबर 2017इस पोस्ट को शेयर करें Emailइस पोस्ट को शेयर करें Facebookइस पोस्ट को शेयर करें Twitterइस पोस्ट को शेयर करें WhatsappImage copyrightImage captionजनरल प्रेम भगतयूं तो भारतीय सेना ने कई साहसी जनरल पैदा किए हैं, लेकिन शारीरिक और नैतिक साहस का सम्मिश्रण बहुत कम सेनानायकों में रहा है. जनरल प्रेम भगत उनमें एक थे.

केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने क्वारंटाइन से किया किनारा, सफाई में बोले- छूट वाली कैटेगरी में आता हूं राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं राहुल गांधी बोले- कोरोना जब तेजी से फैल रहा, तब हम लॉकडाउन हटा रहे; अब तक के बंद का मकसद नाकाम रहा, देश नतीजे भुगत रहा

वे भारतीय सेना का सर्वोच्च पद कभी नहीं पा सके, लेकिन अगर कोई एक शख़्स भारतीय सेनाध्यक्ष बनने का हक़दार था, तो वो थे जनरल प्रेम भगत.वर्ष 1941 में सूडान के मोर्चे पर उन्होंने लगातार 96 घंटे जागकर 55 मील लंबी सड़क पर 15 बारूदी सुरंगें नष्ट कीं, जिसके लिए उन्हें उस समय का सबसे बड़ा वीरता पुरस्कार विक्टोरिया क्रॉस दिया गया.

सुनें पूरी विवेचनाउनकी बेटी और 'विक्टोरिया क्रॉस-ए लव स्टोरी' की लेखिका अशाली वर्मा कहती हैं,"उनकी सोच थी कि नौजवान उनके साथ लड़ रहे थे और जिनकी लड़ाई में मौत हो गई थी, उनको ये सम्मान मिलना चाहिए था. इसीलिए वह इस बारे में कभी बात नहीं करते थे. हम जब बड़े हो रहे थे तो हमें पता नहीं था कि उन्हें ये पदक मिला था. दूसरों से और पढ़कर हमें इस बारे में पता चला."

अशाली बताती हैं,"उनका मानना था कि ये उनका कर्तव्य था कि वह चार दिन बिना सोए 55 मील लंबी सड़क पर बिछाई गए बारूदी सुरंगें हटाएं. वहीं एक विस्फोट में उनके कान का पर्दा फट गया और वो ताउम्र एक कान से नहीं सुन पाए. भारत वापस आने पर राष्ट्रपति भवन के सामने उस समय के वॉयसराय लॉर्ड लिनलिथगो ने 2000 लोगों के सामने उन्हें विक्टोरिया क्रॉस प्रदान किया."

भारत-चीन युद्ध पर रिपोर्टImage captionप्रेम भगत की बेटी अशाली वर्मा बीबीसी के दिल्ली स्टूडियो में रेहान फ़ज़ल के साथजनरल भगत ने इसके बाद नाम कमाया जब भारत-चीन युद्ध के बाद उन्हें इस लड़ाई में भारत की हार की जांच के लिए बनाई गई हेंडरसन भगत कमेटी का सदस्य बनाया गया.

उन्होंने इतनी बेबाक रिपोर्ट पेश की कि उसे आज तक भारत सरकार सार्वजनिक करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई है.दरियादिलीASHALI VARMAImage captionपाकिस्तान के जनरल अब्दुल हमीद ख़ान से मिलते हुए जनरल प्रेम भगतजनरल भगत का जुनून था भारतीय सैनिकों और अफ़सरों की बेहतरी के लिए काम करना. जनरल भगत पर किताब लिखने वाले मेजर जनरल बताते हैं कि 1970 में जालंधर में एक नवविवाहित कैप्टन अपनी पत्नी को वहां इसलिए नहीं बुला पाया क्योंकि वहां मकानों की कमी थी.

विवेचना: श्रीलंका में भारतीय सेना का वो नाक़ामयाब ऑपरेशनउनके सीओ ने उन्हें सलाह दी कि वे कोर कमांडर भगत से मिलें. जब वो जनरल भगत से मिलने पहुंचे तो उन्होंने उन्हें चाय पिलाई. उनकी बात सुनते ही अपने एडीसी से कहा कि मकान अलॉट करने वाले स्टेशन कमांडर और ब्रिगेडियर को बुला लें.

कुछ बुद्धिजीवियों ने रची कोरोना संकट से जूझ रही मोदी सरकार को जाल में फंसाने की साजिश सोनू सूद के बाद मजदूरों के मसीहा बने प्रकाश राज, घर पहुंचाने में कर रहे मदद निर्मला के तंज पर राहुल ने कहा, इजाजत दें तो 10-15 मजदूरों का बैग उठाकर पैदल यूपी निकल जाऊं

जब वो दोनों अफ़सर वहां पहुंचे तो उन्होंने उनसे पहला सवाल यही पूछा कि क्या आपके पास रहने के लिए घर है. उन्होंने जवाब दिया, जी हां. जनरल ने फिर पूछा कि तब इस नवविवाहित अफ़सर को घर क्यों आवंटित नहीं किया गया है?कमांडर ने जवाब दिया कि घरों की कमी है.जनरल भगत का जवाब था,"अगर कल लड़ाई होती है तो ये युवा अफ़सर युद्धभूमि पर जाएंगे. हम और आप कोर मुख्यालय पर बैठकर अपने अंगूठे से खेल रहे होंगे. अगर आपके पास मकान नहीं हैं तो किराए पर लीजिए. अगर इस शख़्स को अगले हफ़्ते तक घर न मिला तो मैं आपके घर का आवंटन कैंसिल कर इन्हें दे दूंगा.."

एडीसी को अपने सैलून में सुलवायाImage copyrightASHALI VARMAImage captionराष्ट्रपति राधाकृष्णन के साथ जनरल भगत और उनकी बेटी अशाली वर्माउनकी उदारता का एक और उदाहरण देते हैं मेजर जनरल अनिल रायकर. रायकर पांच साल तक उनके एडीसी रहे.जनरल भगत को जब कहीं दूसरे शहर जाना होता था तो वो अपने रेलवे सैलून से यात्रा करना पसंद करते थे.

उसमें जनरल के लिए एक बेडरूम होता था और एडीसी के लिए छोटा कमरा. एक बार श्रीमती भगत उनके साथ सफ़र नहीं कर रही थीं, जबकि रायकर अपनी पत्नी के साथ ट्रेन में उनके साथ थे.वो लड़ाई जब चीन पर भारत पड़ा भारी!रात को रायकर ने उसी ट्रेन में बगल के डिब्बे में जाने की इजाज़त मांगी तो जनरल भगत ने कहा कि तुम दोनों मेरे बेडरूम में क्यों नहीं सो जाते. मैं चूँकि अकेला हूँ तो मैं आपके कमरे में सो जाऊंगा. एडीसी अनिल रायकर ने बहुत मना किया लेकिन जनरल भगत नहीं माने.

अगले दिन जब ट्रेन अपने गंतव्य स्थान पर पहुंची तो उनको स्टेशन पर लेने आए अफ़सर ये देखकर आश्चर्यचकित रह गए कि जनरल भगत तो एडीसी के कमरे में बैठे हैं और उनके बेडरूम से उनके एडीसी अनिल रायकर निकल रहे हैं. उनकी परेशानी को और बढ़ाते हुए जनरल भगत ने मज़ाक किया,"देखिए मेरे एडीसी ने मुझे मेरे ही बेडरूम से बाहर निकाल दिया."

दंगापीड़ितों को शरण1964 में जनरल प्रेम भगत की कोलकाता तैनाती के दौरान वहां हिंदू-मुस्लिम दंगा हो गया.उनकी बेटी अशाली वर्मा कहती हैं,"हम लोग अपनी बालकनी पर खड़े थे. अचानक हमने देखा कि अलीपुर में हमारे घर के आसपास मुसलमानों की झुग्गियों में आग लगाई जाने लगी. मेरे पिता ने तुरंत अपने बंगले का गेट खुलवाया और जल रही झुग्गियों से बचकर भागे करीब 200 मुसलमानों को अपने यहां शरण दी. उन्होंने उनके खाने-पीने का भी इंतज़ाम किया और तब तक अपने घर में रखा जब तक उनके यहां का माहौल रहने लायक नहीं हो गया."

बाढ़ रोकने का नायाब तरीक़ाImage copyrightASHALI VARMAImage captionलॉर्ड लिनलिथगो से विक्टोरिया क्रॉस ग्रहण करते जनरल भगतआमतौर से जनरल अपना लोहा युद्ध के मोर्चे पर मनवाते हैं, लेकिन जनरल भगत ने उस समय लखनऊ शहर को गोमती नदी की बाढ़ से बचाया जब वो वहां के कोर कमांडर थे.

उबर इंडिया ने अपने 600 कर्मचारियों की छंटनी की, यह संख्‍या उसके कर्मचारियों की 25% RSS ने की पीएम मोदी की तारीफ, कहा- महामारी को रोकने के लिए समय पर लिए फैसले खुद को प्रोफेशनल बताने वाली चीन की सेना का रवैया पाकिस्तान समर्थित पत्थरबाजों जैसा, भारतीय जवानों को कंटीले तारों से मारा था

मेजर जनरल वीके सिंह याद करते हैं कि जब लखनऊ में गोमती का पानी ख़तरे से बहुत ऊपर चला गया, तो वे खुद वहां पहुंचे जहां बढ़े हुए पानी को सीमेंट की बोरियों से पाटने की कोशिश हो रही थी.उन्होंने देखा कि इसका कोई असर नहीं हो रहा था. उन्होंने वहीं आदेश दिया कि सीमेंट की बोरियों से भरे ट्रकों को पानी में गिरा दिया जाए. उन्होंने एक के बाद एक तीन ट्रक पानी में गिरवाए, जिससे बढ़े हुए पानी का बहाव रुक गया.

लखनऊ के लोग अब तक जनरल भगत की उस अक्लमंदी को याद करते हैं. और पढो: BBC News Hindi »

Truth is felt by each heart but a few ones can make future bright. Why not this present govt makes the above report public today? What the present govt is waiting for showing the report to the country. यह धर्म भूमि भारत है, यहांसत्यऔर असत्य के बीच में ही युद्ध हुआ है अभी तक, अगर चीन से युद्ध हुआ तो भारत हमेशा के तरह बिजयी रहेगा सत्यमेव जयते

वो रिपोट क्या थी. हमारे देश को एैसे ही जनरल की जरूरत है आज के दौर में Jai hind jai bhart report ke bare me kuchh nahi bataya.. kahaniya 10 bata di ... bakcho chenal ne 🇮🇳🙏🇮🇳अब भारत बदल गया है, वे दिन लद गए। Don’t forget he was a sapper a wrong precedence would have been set. A King as far should be an illiterate ; good for the growth of the Organisation.

Yes indeed Prem Bhagat was a competent man a thoroughbred undoubtably. But to attribute his exposing 1962 may be too much. 1962 was inglorious disgraceful neither Army nor bureaucracy nor Political class had any idea. They were working at cross purposes ;thanks to Krishna Menon ? 👍! अब क्या दिक्कत है!

बेसिर पैर के ट्वीट करने वाले महापुरुष का नाम भी लिखे।बतख के बारे जानने की उत्सुकता है इसमें चीन से हुई हार की रिपोर्ट पर ज्यादा कुछ बताया नहीं गया। Fake media fake reporting good job BBC दुनिया की एक जगह ऐसी बताइए जहां पर आप लोगों ने आग ना लगाई हो, कोई तो जगह होगी.. Hiiii sach chupaya jata hai kyuki bahar aya toh chacha nehru ki kalai khul jayegii

भारत की दो टूक- LAC पर चीन की आपत्ति गलत, हमें अपनी जिम्मेदारी मालूमभारत चीन सीमा पर बने तनावपूर्ण माहौल को कम करने के प्रयासों पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि दोनों तरफ से बातचीत के जरिए शांतिपूर्ण तरीके से समस्या के हल करने की कोशिश की जा रही है. Geeta_Mohan bijlibill_maaf_karo_yogi_sarkar

कोरोना वायरस से लड़ने में भारत की मदद करेगी यह दवा, बेचने की हो रही तैयारीकोरोना वायरस से लड़ने में भारत की मदद करेगी यह दवा, बेचने की हो रही तैयारी CoronaUpdate Lockdown4 coronavirus CoronaHotSpots CoronaVirusUpdate coronaupdatesindia PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice

OIC में पाकिस्तान की भारत के खिलाफ नापाक चाल, मालदीव ने की नाकामबाकी एशिया न्यूज़: Organisation of islamic cooperation (OIC) के दौरान Pakistan ने भारत पर Islamophobia का आरोप लगाया। इसके बाद Maldives ने भारत का समर्थन किया है और साफ कहा है कि वह भारत के खिलाफ किसी कार्रवाई का समर्थन नहीं करेगा। धन्यवाद! मालदीव।भारत हमेशा आपके लिए खड़ा रहेगा। हमें आप पर गर्व आपने 20 करोड़ मुस्लिम को सम्मान बक्सा! और हम साथ मे हुऐ सम्मानित!!

5000mAh की बैटरी के साथ Moto G8 Power Lite भारत में हुआ लॉन्च, कीमत 8,999 रुपयेMoto G8 Power Lite को पिछले महीने ग्लोबली लॉन्च किया गया था। मोटो जी8 पावर लाइट में मीडियाटेक का ऑक्टाकोर हीलियो पी35 प्रोसेसर है।

अम्फान से हुए नुकसान के लिए भारत को 5 लाख यूरो की मदद देगा यूरोपियन यूनियनबाकी यूरोप न्यूज़: Amphan Cyclone ने भारत में पश्चिम बंगाल में खूब तबाही मचाई। इसे देखते हुए यूरोपियन यूनियन ने नुकसान की भरपाई में मदद के लिए भारत को 5 लाख यूरो की मदद का ऐलान किया है। eucopresident vonderleyen आप लोगों को प्रणाम

अम्फान तूफान: यूरोपीय संघ ने भारत को दी पांच लाख यूरो की आर्थिक मददअम्फान तूफान: यूरोपीय संघ ने भारत को दी पांच लाख यूरो की आर्थिक मदद AmphanCyclone WestBengal Odisha PMOIndia narendramodi MamataOfficial

कोरोना संक्रमण: तब्लीग़ी जमात से जुड़े सवाल पर डॉ. हर्षवर्धन ने कहा- ''बहुत हुआ'' योगी आदित्यनाथ का वो बयान जिस पर मच रहा है सियासी घमासान कोरोना वायरस: दिल्ली के सभी निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम्स में 20 प्रतिशत बेड कोविड-19 के लिए - BBC Hindi कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi दिल्ली के तुगलकाबाद में भीषण आग से 1500 झुग्गियां जलकर राख, सैकड़ों लोग बेघर गाजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर आज आधी रात से दोबारा होगा सील, इन लोगों को मिलेगी छूट Rang De India, A Campaign By Rang De and NDTV आयुष मंत्रालय पर अखिलेश यादव का तंज- कोरोना से बचाता है काढ़ा और च्यवनप्राश, तो मुफ्त बांटे सरकार 'पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है'..कहने वाली शिक्षिका ने मांगी माफी प्रियंका गांधी ने CM योगी आदित्यनाथ का Video शेयर कर पूछा- क्या यूपी में कोरोना वायरस के 10 लाख से ज्यादा मरीज हैं मजदूरों की मदद के नाम पर पब्लिस्टी स्टंट के आरोप, सोनू सूद ने द‍िया जवाब