कोरोना वायरस: भारत से जिस दवाई के लिए परेशान थे ट्रंप उससे ज़्यादा मौतें- स्टडी

कोरोना वायरस: भारत से जिस दवाई के लिए परेशान थे ट्रंप उससे ज़्यादा मौतें

23-05-2020 07:10:00

कोरोना वायरस: भारत से जिस दवाई के लिए परेशान थे ट्रंप उससे ज़्यादा मौतें

जिन्हें हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्विन दी गई उनमें मृत्यु दर 18% रही, क्लोरोक्विन लेने वालों में मृत्यु दर 16.4% और जिन्हें ये दवाई नहीं दी गई उनमें मृत्यु दर नौ फ़ीसदी रही.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं सोनू सूद के बाद मजदूरों के मसीहा बने प्रकाश राज, घर पहुंचाने में कर रहे मदद कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने क्वारंटाइन से किया किनारा, सफाई में बोले- छूट वाली कैटेगरी में आता हूं Jio प्‍लेटफॉर्म से जुड़े अनंत अंबानी, 25 साल की उम्र में बने एडिशनल डायरेक्‍टर मोदी सरकार 2.0 का एक साल: मोदी के लिए पूरे साल चुनौती पेश करती रही दिल्ली

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

विवादों में अनुष्का शर्मा की पाताल लोक, पंजाब के एक वकील ने दर्ज की शिकायत बगैर भोजन-पानी के 75 साल तक जिंदा रहे प्रह्लाद जॉनी, 90 साल की उम्र में निधन मरकज केस: 83 विदेशी जमातियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगी पुलिस

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

वाह बा बा सी 😀😀 क्या लिखता है खुद रिपोर्ट भी तयार कर लेते हो 😀😀 दुनिया का सबसे बड़े बुधजीवि तुम्हारे स्टूडियो में है 😀😀 He is suffering from electionphobia. Andh bhakt sawdesi apnao gobar khao or muut pio हम तो डूबे हैं सनम तुमको भी ले डूबेंगे जरूरत उस समय थी फायदा या कारगर नही कोन जानता मांग थी मेडिकल की सो ट्रंप जी ने जरूरत पूरी की लेकिन कुछ हाथ बिना धोए पीछा पकड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं दवा कारगर नहीं

तो क्या मेडिकल परीक्षण/टेस्टिंग की दृष्टि से हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्विन और चीन के भारत भेजे गए मेडिकल किट में कोई फर्क नहीं ? nayisadak ndtvindia और कर लो मदद अब झेलो BBC. Apne desh ki baat kero vahan Corona ka kya haal hai. India ke bare mein tumhe chinta kerne ki jeroorat nahi hai. bbc chutiya भारत की एक भी चीज अच्छी लगती हे तुजे |हर बार, बार बार ये नादानीयत क्यु ?DrKumarVishwas priyank94111760

B B C भारत बिरोधी अभियान चलाया है दवा वाहा के डॉक्टर के कहने पर गया इनके पास मरने का समाचार आ गया यह झूठ की है । Sory to say but you behave like before 1947 British Media.... दवाई का दोष नहीं बात पनौती गिरी की होती है इकलौता शुद्ध निर्माण बनारस का अधबने मनहूस फ्लाईओवर उद्घाटन से पहले ही धराशायी बहुत से निर्दोष लोगों की जान लेकर

कभी भी भारत हित मे नही बोलता क्योंकि तुम्हारा चैनल देश विरोधी है ट्रम्प अमेरिका का सबसे घटिया राष्ट्रपति साबित होगा ।। बीबीसी वालों को बहुत ख़ुशी हो रही होगी इसीलिए तुम लोग NDTV की तरह देश तोड़ने का कार्य करते हो. देश के लोग अब धीरे धीरे तुम्हारा असली चेहरा पढ़ रहें है अब तुम्हारे इस बिकाऊ चैनल के भारत में थोड़े दिन रह गए है

Means trump is not good decision maker - and the best quality of leader to make futile decisions ठीकरा फोड़ दिया भारत की दवाई के सिर भी म्हारे देश मे तो कोई न मरा हैड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन से । LambaAlka कही ऐसा न हो इसका overdose से malaria भी और dangerous हो जाये। ट्रंप बिल्कुल हमारे मोदी जी जैसा है। ना ही अक्ल है ना ही पढ़ा लिखा। इसीलिए कहता हूं कुछ पढ़लिख लिया करो काम आएगा।

bbchindi_fakenews COVIDー19 bbchindi_propagenda_news दवा नकली तो नहीं कौन कहता है सड़कें सुनसान हैं हर तरफ कदमों के निसान हैं ! HCQ is the prime cause of death .... Who is the scientist who recommend an anti parasitic drug in viral disease 🙄 Dono desh ke neta ek jaise 😂😂 उपयोग का तरीका न जानो तो! उसी दवाई का इस्तेमाल भारत मे भी हो रहा है। हमारे यहाँ अमेरिका की तरह मौते क्यों नहीं हो रही है फेक न्यूज़ मास्टर?

धोका मोई जी के दोस्त है जो दादागिरी दिखा के हम से ही दावा लेते है और अपने नागरिकों को भी नहीं बचा पाते, सब को सुपर पॉवर बनना है मगर जनता की मदद बिल्कुल भी नहीं करनी है उनको बस मारने दो। India_Against_Pakhand StandWithJamia यह बीबीसी वाल का दर्द छलका है लंदन में कोरोना वायरस की वजह से मौत नहीं हुई होगी आपके वहां क्योंकि आपके तो खुद की दवाई यूज होती है जो पूरी तरह से फर्फेक्ट हैं सालों बीबीसी वालों पहले खुद का देखो फिर दूसरों पर उंगली उठाना शुरू करो अंग्रेज चले गए बीबीसी को यहीं छोड़ कर

aamir7417 फेकू जी का झुठी जहा नाम औऱ काम होगा वहा सिर्फ काम तमाम ही होगा😊 हेड लाईन ऐसे बनाये हो कि इसका जिम्मेदार भारत है! Ye kya bhai.. ? 🙈🙈🙈🙈 plzzz join us 389 ALP candidate we are totally mentally harrasment plzzz help आखिर_कब_होगी_जॉइनिंग PiyushGoyalOffc PMOIndia INCIndia RailMinIndia yogigovtupdates JUSTICE_FOR_SELECTED_ALP_GKP Jgj

Ban BBC Sbko pta तुम इतने मादरचोद क्यों हो बीबीसी Apne patlkaron se research karwaoge to yahi nikalega.. Petrolpump saala paglagya hai Fake news. 7 दिन मे स्वदेशी का भूत उतरा। जो पार्टी 85%कॉरपोरेट चंदा लेती हो, FDI 100% कर दिया हो उनकी हैसियत है क्या विदेशी सामान की बिक्री बन्द कर दे, 7 दिन मे थूंक कर चाट लिया। भक्तों अब इसपर भी लाओ IT CELL जस्टिफिकेशन जल्दी से की देशहित मे फैसला वापस लिया

क्या आप को पता है ट्रम्प इस दवाई को रैगुलर ले रहे है। 6 एयरपोर्ट की नीलामी सारे चेनलो पर live होनी चाहिए, सरकार द्वारा देश बिकने का नजारा हर देशवासी देखे... इसी दवाई के लिए भारत को डिजिटल धमकी भी दी थी । ताज्जुब की बात है ईतनी बडी बेज़्य्यती के बाद भी ना अमेरिका का झंडा जलाया गया और ना ही किसी प्लेटफार्म पर इसका विरोध दर्ज कराया ।।

😜 Kitna Zeher hai BBC ke studio mai ye Aj pta laga।।। India mai recovery rate 40plus hai Hydoxychloroquien being used found to be fatel in USA. President Trump is using it. Medical experts's suggestion should be followed by Dignitaries. kya iss dawa ke use ka koi alag search hai ki kis medical condition wale patient ko yah dawa di gai aut dawa ki vajah se death huai .... bahut gairjimedarna statement hai

लेकिन इसे तो कोरोना था भी नहीं.. और ये वो दवा भी ले रहा था फिर भी ये तो अभी तक जिंदा है। बकवास बंद कर अपना.. Bhai, maro muje maro !!! JHOOT KA VIRUS H BBC CORONA SAE JADA DANGER Galat tarika hai ratings badane ka.... Wrong news headline... अमेरिका से भी बड़ा वैज्ञानिक बनता जा रहा है बीबीसी हिंदी। तेरा नाजायज बाप पाकिस्तान भी उसी दवाई के लिए परेशान हो रहा है और भारतीय राजनेताओं के आगे गिड़गिड़ा रहा है।

तुम लोगों को India 🇮🇳 फोबिया हो गयी है। तुझे बड़ी खुसी हो रही है, भारत की बुराई होगी तो।आप लोग तो दवाई दे रहे थे तो भी विरोध कर रहे थे।बड़े दोगले लोग हो आप। Afwao ka Badshah Ignore this and focus on this question.... This time ,you should raise questions on 20LCrs fund.Tell,if anyone have seen any types of benefits from same package.

You are fake news network and anti india. 🤣😥 भारत में कोरोना की संख्या में उछाल मारने का सबसे बड़ा कारण रमज़ान रहा है जिसमें मुसलामानों ने मनमानी करते हुए सरकारी आदेशों का पालन नहीं किया Now Bhakts will start saying that the supreme leader knew this beforehand, that's why he gave it to Trump. 😆😆😆

कोरोना काल में RBI का बड़ा ऐलान, 0.4 प्रतिशत घटाई ब्याज दर, लोन लेना आसानभारतीय रिजर्व बैंक (RBI) प्रमुख शक्तिकांत दास एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए रेपो दर में कमी का ऐलान किया rbigovernor

द्रमुक ने पीएम मोदी से न्यूजप्रिंट पर सीमा शुल्क में छूट देने और विज्ञापन दर बढ़ाने के लिए कहाद्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कहा कि पिछले दो महीने के दौरान आर्थिक गतिविधियां ठहर गई हैं। इस स्थिति ने समाचारपत्रों के अस्तित्व पर सवालिया निशान लगा दिया है।

कोरोना वायरस के वैक्सीन को लेकर उम्मीदें जगीं, ब्रिटेन में इंसानी परीक्षण का दूसरा चरण शुरूकोरोना वायरस के वैक्सीन को लेकर उम्मीदें जगीं, ब्रिटेन में इंसानी परीक्षण का दूसरा चरण शुरू CoronavirusPandemic बहुत अच्छा🙏🙏🙏

सोशल डिस्टेंसिंग के लिए दो मीटर की दूरी भी काफी नहीं, कोरोना को लेकर चौंकाने वाला खुलासासोशल डिस्टेंसिंग के लिए दो मीटर की दूरी भी काफी नहीं, कोरोना को लेकर चौंकाने वाला खुलासा Lockdown4.0 CoronaVirus SocialDistancing they are simple people with clean hearth 1-2-6. और सुनाओ । और सुनाओ । पहले सब मिलकर सबकुछ पक्का कर कि माज़रा क्या है और करना क्या है।

Corona World LIVE: पाकिस्तान में 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के मामले 48 हजार पारCorona World LIVE: पाकिस्तान में 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के मामले 48 हजार पार CoronaUpdate Lockdown coronavirus CoronaHotSpots CoronaVirusUpdate coronaupdatesindia PMOIndia MoHFW_INDIA WHO realDonaldTrump POTUS

आखिरकार वुहान में जंगली जानवरों के खाने पर लगाया गया बैन - Coronavirus AajTakचीन के जिस शहर से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तहलका मचा रहा है, आखिरकार चीन ने उस वुहान शहर में जंगली जानवरों के खाने पर बैन can they be democratic and have elections? Aajtak Shame on you. You are most worst channel. Everyone wants anjana modi to be terminated as she is anti national चीन को मौत चाहिए!

कोरोना संक्रमण: तब्लीग़ी जमात से जुड़े सवाल पर डॉ. हर्षवर्धन ने कहा- ''बहुत हुआ'' मजदूरों की मदद के नाम पर पब्लिस्टी स्टंट के आरोप, सोनू सूद ने द‍िया जवाब योगी आदित्यनाथ का वो बयान जिस पर मच रहा है सियासी घमासान अभिजीत बनर्जी की सलाह- प्रत्येक भारतीय को 1000 रुपये हर महीने दे सरकार ईद के दिन फिर दिल्ली की सड़कों पर निकले राहुल, टैक्सी ड्राइवर से जाना हाल एक साल तक सैलरी से 50 हजार रुपये PM-CARES में दान करेंगे CDS बिपिन रावत 2 महीने बाद शुरु हुई घरेलू उड़ान, देखें कैसा था पहला दिन कोरोना वायरस: दिल्ली के सभी निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम्स में 20 प्रतिशत बेड कोविड-19 के लिए - BBC Hindi नांदेड़ में साधु की हत्या, आश्रम के अंदर घुसकर द‍िया गया वारदात को अंजाम गुरुग्राम से बिहार की साइकिल यात्रा, ज्योति के सम्मान में डाक टिकट जारी यूपी सरकार का महाराष्ट्र सरकार को जवाब, उद्धव को माफ नहीं करेगी मानवता