चीन और अमेरिका को आखिर क्‍यों अखर रहा है रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन का भारत दौरा? जानें- एक्‍सपर्ट व्‍यू

चीन और अमेरिका को आखिर क्‍यों अखर रहा है रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन का भारत दौरा? जानें- एक्‍सपर्ट व्‍यू #VladimirPutin #USA #WorldNews

Vladimirputin, Usa

27-11-2021 14:20:00

चीन और अमेरिका को आखिर क्‍यों अखर रहा है रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन का भारत दौरा? जानें- एक्‍सपर्ट व्‍यू VladimirPutin USA WorldNews

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा पर चीन और अमेरिका की पैनी नजर है। पुतिन छह दिसंबर को भारत के दौरे पर आ रहे हैं। रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नई दिल्ली में होने वाले 21वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

पुतिन की इस यात्रा पर चीन और अमेरिका की पैनी नजर है। खास बात यह है कि पुतिन की यात्रा ऐसे समय हो रही है, जब अमेरिकी विरोध के बावजूद भारत रूस से एस-400 मिसाइल सिस्‍टम खरीद रहा है। यहां बड़ा सवाल यह है कि भारत के लिए अमेरिका ज्‍यादा उपयोगी है या रूस ज्‍यादा अहम है। आइए जानते हैं कि रक्षा और सामरिक रूप से भारत के लिए रूस और अमेरिका दोनों क्‍यों उपयोगी है। शीत युद्ध और उसके बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में किस तरह का बदलाव आया है। आइए जानते हैं कि भारत की रक्षा नीति क्‍या है।

NDTV INDIA

शीत युद्ध के समय और उसके बाद1-प्रो. हर्ष वी पंत का कहना है कि शीत युद्ध के पूर्व और उसके बाद भारत का दोनों देशों के साथ संबंधों में बड़ा बदलाव आया है। शीत युद्ध के दौरान पूर्व सोवियत संघ के साथ भारत के बहुत मधुर संबंध थे। उस दौरान भारत और अमेरिका के बीच रिश्‍ते उतने मधुर नहीं थे। शीत युद्ध के बाद अंतरराष्‍ट्रीय परिदृष्‍य में बड़ा फेरबदल हुआ है। इसका असर देशों के अंतरराष्‍टीय संबंधों पर भी पड़ा है। शीत युद्ध के खात्‍मे के बाद भारत-अमेरिका संबंधों में बड़ा बदलाव आया है। मौजूदा अंतरराष्‍ट्रीय परिदृश्‍य में क्षेत्रीय संतुलन में बड़ा फेरबदल हुआ है। इसके चलते दोनों देशों के संबंधों में बड़ा बदलाव आया है। भारत और अमेरिका के संबंधों को इसी क्रम में देखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें2-प्रो. पंत का कहना है कि भारत की आजादी के बाद से दोनों देशों के बीच मधुर संबंध रहे हैं। रक्षा, अंतरिक्ष, परमाणु ऊर्जा, औद्योगिक तकनीकी और कई अन्य महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों के विकास में रूस का बड़ा अहम योगदान रहा है। वैश्विक राजनीति और कई महत्त्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अमेरिका के समक्ष रूस एक सकारात्मक संतुलन स्थापित करने में सहायता करता है। साथ ही यह रूस-भारत-चीन समूह के माध्यम से भारत और चीन के बीच एक सेतु का भी कार्य करता है। headtopics.com

यह भी पढ़ें3-

और पढो: Dainik jagran »

UP Opinion Poll Live Updates: BJP और Samajwadi Party में कड़ी टक्कर? | UP Assembly Election 2022

UP Opinion Poll Live Updates: इस बार UP में किसकी सरकार?| UP Assembly Election 2022 | Janata Ka Moodपांच राज्यों में होने वाले चुनावों को लेकर आज Zee News के...

भारत-रूस 2+2 डायलॉग के लिए 6 दिसंबर को भारत आएंगे पुतिन21वां भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन 6 दिसंबर को दिल्ली में आयोजित किया जा रहा है. प्रधानमंत्री मोदी के साथ होने वाले इस 2+2 डायलॉग के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 5- 6 दिसंबर को भारत यात्रा पर रहेंगे. | Geeta_Mohan ATCard यहाँ पढ़ें: Geeta_Mohan phir band, baja, folk songs, welcome bigrade are ready for this next booking Geeta_Mohan Two great leaders will meet,

भारत दौरे पर आने वाले हैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, जानिए क्या है इस यात्रा का प्रमुख एजेंडाव्लादिमीर पुतिन पीएम नरेंद्र मोदी के साथ नई दिल्ली में होने वाले 21वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। साथ ही रूस के विदेश और रक्षा मंत्री के बीच बैठक आयोजित की जाएगी। यह जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने दी है। हमारा मीडिया तो अमेरिकी राष्ट्रपति के आगमन पर पगला जाता है। लेकिन भारत के लोग रूस के राष्ट्रपति को ही पसंद करते हैं।

जूनियर हॉकी विश्वकप में भारत ने दर्ज की बड़ी जीत, कनाडा को 13-1 से हरायागत चैंपियन भारत ने कल फ़्रांस से मिली हार के झटके से उबरते हुए कनाडा को यहां कलिंगा स्टेडियम में खेले गए जूनियर विश्व कप हॉकी टूर्नामेंट के पूल बी मैच में गुरूवार को 13-1 के बड़े अंतर से पीट दिया।

भारत-म्यांमार सीमा पर भूकंप, मिजोरम और कोलकाता में लगे झटकेनई दिल्ली। मिजोरम के थेनजोल में शुक्रवार सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.1 मापी गई। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में भी भूकंप के झटकों को महसूस किया गया। भूकंप से जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

क्या डेल्टा से ज़्यादा ख़तरनाक हो सकता है कोरोना का नया वेरिएंट, भारत में भी अलर्टदुनियाभर में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट को लेकर चिंता जताई जा रही है। इसे अब तक का सबसे ज़्यादा म्यूटेशन वाला वेरिएंट बताया जा रहा है। इसमें इतने ज़्यादा म्यूटेशन हैं कि इसे एक वैज्ञानिक ने डरावना बताया है तो दूसरे वैज्ञानिक ने इसे अब तक सबसे ख़राब वेरिएंट कहा है।