Mahoba Rally: प्रधानमंत्री पर प्रियंका का हमला, बोलीं- आठ हजार करोड़ के जहाज से घूमते हैं पर किसानों का कर्ज माफ नहीं करते

प्रधानमंत्री पर प्रियंका का हमला, बोलीं- आठ हजार करोड़ के जहाज से घूमते हैं पर किसानों का कर्ज माफ नहीं करते #PriyankaGandhiVadra #pmmodi #politics

Priyankagandhivadra, Pmmodi

27-11-2021 14:30:00

प्रधानमंत्री पर प्रियंका का हमला, बोलीं- आठ हजार करोड़ के जहाज से घूमते हैं पर किसानों का कर्ज माफ नहीं करते PriyankaGandhiVadra pmmodi politics

खजुराहो से प्रस्थान करके कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाडद्या महोबा में छत्रसाल स्टेडियम में आयोजित प्रतिज्ञा रैली को संबोधित करने आ रही हैं। उनके साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भी मौजूद रहेंगे। दस दिन के अंदर बुंदेलखंड में उनका यह दूसरा दौरा है।

बुंदेलखंड से पुराने रिश्तों को मजबूत करने और सियासी जमीन तैयार करने पहुंची कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा महोबा पहुंच गई हैं। प्रतिज्ञा रैली के मंच पर पहुंचते ही उनका वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने स्वागत किया। उनके साथ उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मौजूद हैं। प्रतिज्ञा रैली में प्रियंका गांधी का संबोधन प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री पर केंद्रित रहा। उन्होंने कहा कि आठ हजार करोड़ के जहाज पर प्रधानमंत्री जी घूमते हैं लेकिन किसानों की प्रतिदन की आय नहीं बढ़ा सकते हैं, किसानों का कर्ज नहीं माफ कर सकते हैं। योगी जी और मोदी जी तपस्या नहीं कर रहे, वो तो बड़े बड़े जहाजों में घूम रहे हैं। यहां पर देश का श्रमिक और नौजवान कर रहा तपस्या कर रहा है।

NDTV INDIA

यह भी पढ़ेंबीते दस दिनों में बुंदेलखंड में यह उनका दूसरा दौरा है, इससे पहले वह मध्य प्रदेश के सीमा वाले चित्रकूट के रामघाट पर महिलाअों से संवाद करने आई थीं। प्रधानमंत्री की महोबा में जनसभा के बाद कांग्रेस की रैली को लेकर सियासी चर्चाएं भी तेज हो गई हैं। 

महोबा के छत्रसाल स्टेडियम में कांग्रेस ने प्रतिज्ञा रैली में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि प्रियंका गांधी बदलाव की आंधी हैं, यह लोगों की आवाज है और विश्वास और भरोसा है। उन्होंने कहा कि आज बुंदेलखंड के लोगों को जरूरत है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की, क्योंकि वह जानते हैं कि वो जो वादा करेंगे वो निभाएंगे। बुंदेलखंड की आवाज और पीड़ा को राहुल गांधी ने सुना था और यूपीए की पूर्ववर्ती केंद्र की सरकार ने बुंदेलखंड के लिए दस हजार करोड़ बुंदेलखंड को दिया। आज यहां सड़कें दिख रही हैं, वो यूपीए की सरकार में किया गया विकास बयां कर रही है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंरैली में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यूपी के सीएम पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि संत-महात्माओं के चरणों में बैठकर राजा महाराज उनसे ज्ञान लिया करते थे लेकिन आज उनके कंधे पर हाथ रखा जा रहा है, ये संत महात्माओं का अपमान है। विरोधी दल के नेता संत महात्मा से ऊपर उठ गए हैं, ये हमारी भारतीय परंपरा का अपमान है। योगी आदित्यनाथ को मोदी कुछ नहीं समझते है और तभी कंधे में हाथ रखे दिखाई देते हैं। अभी तक जाति के आधार वोट पड़े थे और उनके मुख्यमंत्री बने थे, एक समय आया धर्म के नाम पर वोट पड़े और उनके नेता मुख्यमंत्री बने। अब सब लोग चर्चा कर रहे हैं कि हमने जाति और धर्म के नाम पर वोट दिया लेकिन हमको मिला क्या। यही कारण है कि कांग्रेस की प्रतिज्ञा लेकर आपके बीच आई हैं कि किसानों को 2500 रुपये क्विंटल में धान खरीदेंगे और चार सौ में गन्ना खरीदेंगे। लड़की हूं लड़ सकती हूं, इस नारे के साथ महिलाओं और लड़कियों के लिए वादे किए हैं।

पंजाब में ED रेड पर राजनीतिक घमासान: अब केजरीवाल बोले- चन्नी आम नहीं बेईमान आदमी; CM ने BJP से साठगांठ का आरोप लगाया था

यह भी पढ़ेंचित्रकूट में महिलाओं से किया था संवादबुंदेलखंड में दस दिन के अंदर कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा का यह दूसरा दौरा है। बीते 17 दिसंबर को चित्रकूट के रामधाट पर मंदाकिनी नदी पर नावों से बनाए मंच से उन्होंने महिलाओं से संवाद किया था। इस दौरान महिलाओं के बीच उन्होंने उठो द्रौपदी शस्त्र उठा लो... कविता सुनाकर अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ने का आह्वान किया था। इसके साथ ही आधी आबादी को राजनीति में पचास फीसद भागीदारी देने की बात कही थी। दस दिन बाद महोबा में उनकी प्रतिज्ञा रैली का शनिवार को आयोजन किया गया है। यह रैली प्रधानमंत्री की जनसभा के ठीक बाद आयोजित किए जाने को लेकर राजनीतिक गलियारों में कई सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं।

और पढो: Dainik jagran »

चुनावों का सबसे बड़ा Opinion Poll: देखिए #DNA LIVE Sudhir Chaudhary के साथ

Fir kya unhe bailgaadi mai ghumna chahiye मनमोहन सिंह साइकिल से जाते थे और यह पैदल आती हैं😃 आपने सवाल पूछा कि राजस्थान किसानों का कर्जा माफ क्यों नही हुआ। वैसे अगर कभी पप्पू PM बना तो इस जहाज में बैठेगा की नही ये क्या थे,किस हैसियत से मजे करते फिरते थे और आज भी कर रहे हैं।राजतंत्र नहीं है पिंकी रानी लोकतंत्र है।लोगों ने चुना है देश का प्रधान है।तुम लोग अभी भी भरम में जी रही हो।देश के लोग ही सज्जन हैं उल्लू बन जाते हैं।

Sab kuch maf kardo, sab free kardo, tax midle class bharega... tofir middle class tumhe vote kyu dega...?

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

भारत-म्यांमार सीमा पर भूकंप का तेज झटका, रिक्टर स्केल पर 6.3 मापी गई तीव्रताEarthquake बांग्लादेश के चिट्टागोंग के 175 किमी पूर्व में भारत म्यांमार सीमा पर शुक्रवार सुबह भूकंप का तेज झटका महसूस किया गया। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.1 मापी गई है। फिलहाल किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं मिली है।

एसबीआई पर एक करोड़ का जुर्माना, नियम तोड़ने पर आरबीआई ने लिया ऐक्शनबैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 19 की उप-धारा (2) के उल्लंघन के कारण एसबीआई पर जुर्माना लगाया है। आरबीआई ने पहले ही इस संबंध में एसबीआई को एक नोटिस जारी किया था। Decent behavior of Bank staff became cause of suspicion ! . कर्मचारियों का 'शालीन व्यवहार' ! संदेह का कारण बना।

भारत के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर कोरोना का खतरा, इस टीम ने रद्द किया अपना दौरादक्षिण अफ्रीका में सामने आए कोरोना के नए स्ट्रेन के बाद भारत के आगामी दौरे पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। भारत को 7 हफ्ते के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर 17 दिसंबर से 26 जनवरी के बीच 3 टेस्ट, 3 वनडे और 4 टी20 मुकाबले खेलन हैं।

शुभमन के अर्धशतक से शुरु हुआ दिन जड़ेजा के 50 पर रुका, आज यह होगी रणनीतिशुभमन के अर्द्धशतक से शुरु हुआ दिन जड़ेजा के 50 पर रुका, आज यह होगी रणनीति Cricket INDvNZ KanpurTest

Anil Vij का किसान नेता पर बयान बदलने का आरोप, टिकैत ने दिया ये जवाबकृषि कानूनों के खिलाफ जिस आंदोलन की आवाज किसानों ने दिल्ली तक पहुंचा दी, उस विरोध के आज एक साल पूरा हो चुके हैं. किसान विरोध के तौर पर दिल्ली की सीमाओं पर डट कर मांगों के समर्थन में विरोध तेज कर रहे हैं. सरकार पहले ही तीनों कृषि कानूनों को वापसी की फाइल मे डाल चुकी है लेकिन किसान वापसी के ट्रैक्टर पर फिलहाल सवार नहीं होंगे. पंजाब- हरियाणा और दूसरे सटे राज्यों से किसानों का दिल्ली सीमा तक पहुंचना लगातार जारी है. देखें इस पर क्या बोले किसान नेता राकेश टिकैत. वामपंथी चडूनी राजनीतिक पार्टी बना रहा है ..उसके बाद ये डकैत राकेश टिकैत अन्ना की तरह विलुप्त हो जाएगा।