Jammuandkashmir

Jammuandkashmir

कश्मीरी नेताओं के संग पीएम मोदी की मीटिंग, BJP से ऐसे रहे हैं J-K की पार्टियों के रिश्ते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार जम्मू-कश्मीर के नेताओं की सर्वदलीय बैठक बुलाई #JammuAndKashmir

24-06-2021 06:43:00

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार जम्मू-कश्मीर के नेताओं की सर्वदलीय बैठक बुलाई JammuAndKashmir

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा जम्मू-कश्मीर के नेताओं की बुलाई सर्वदलीय बैठक में कश्मीर के नेता मुलाकात कर रहे हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि राज्य में चुनावी प्रक्रिया बहाल हो सकती है. पीएम मोदी ने जम्मू कश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर दो बार सरकार बनाने की ऐतिहासिक शुरुआत की थी जबकि उससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी ने नेशनल कॉफ्रेंस के साथ केंद्र में मिलकर सरकार बनाया था.

(अपडेटेड 24 जून 2021, 9:05 AM IST)जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त हुए करीब दो साल होने जा रहे हैं, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार गुरुवार राज्य के नेताओं की सर्वदलीय बैठक बुलाई है. पीएम मोदी जम्मू-कश्मीर के 8 दलों के 14 नेताओं के साथ सीधे संवाद करेंगे. प्रधानमंत्री आवास पर दोपहर 3 बजे बुलाई गई बैठक का फिलहाल एजेंडा गुप्त रखा गया है. ऐसे में इस बैठक पर सिर्फ जम्मू-कश्मीर ही नहीं बल्कि देश भर की निगाहें लगी हुई हैं.

पीएम मोदी से फोन कॉल के बाद कोच ने कहा - कांस्य पदक के लिए डटकर खेलेंगी भारतीय शेरनियां - BBC Hindi IND vs ENG LIVE Score: बुमराह ने इंग्लैंड को दिया नौवा झटका, ब्रॉड 4 रन बनाकर आउट MP: बाढ़ में फंसे लोगों की मदद करने गए मंत्री नरोत्तम मिश्रा खुद फंसे, करना पड़ा एयरलिफ्ट, देखें VIDEO

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा बुलाई सर्वदलीय बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और पीएमओ राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह भी मौजूद रहेंगे. इसके अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा भी शामिल होंगे. वहीं, जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के फारुख अब्दुल्ला से लेकर पीडीपी की महबूबा मुफ्ती और कांग्रेस के गुलामी नबी आजाद सहित कश्मीर की सभी पार्टियों के नेता पीएम मोदी की इस बैठक में शामिल हो रहे हैं.

पीएम आवास पर होने वाली बैठक को लेकर किसी एजेंडे का औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा है कि जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया पर मंथन होगा. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने, राज्य का परिसीमन और विधानसभा चुनाव पर भी बात हो सकती है. भले ही बीजेपी के अब जम्मू-कश्मीर की प्रमुख क्षेत्रीय पार्टियों के साथ रिश्ते बिगड़ गए हों, लेकिन एक समय में पार्टी ने ना सिर्फ उनके साथ हाथ मिलाया बल्कि केंद्र से लेकर राज्य तक में सरकार भी चलाई है. headtopics.com

कश्मीर पर राजनीतिक दलों से बात करने की पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे हैं. पीएम मोदी ने जम्मू कश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर दो बार सरकार बनाने की ऐतिहासिक शुरुआत की थी. उससे पहले कश्मीर में बीजेपी वैसे ही अलग थलग थी जैसे 1967 से पहले पूरे भारत में. जम्मू-कश्मीर में कोई भी दल बीजेपी साथ मिलकर सरकार बनाने को राजी नहीं होता था.

दरअसल, जनसंघ के दौर से ही जम्मू-कश्मीर बीजेपी के सियासी एजेंडे में रहा था. अनुच्छेद 370 को लेकर बीजेपी और वहां की क्षेत्रीय पार्टियों के साथ रिश्ते नहीं बन पा रहे थे. लेकिन, अटल बिहारी वाजपेयी ने सबसे पहले जम्मू-कश्मीर के दलों को गले लगाना शुरू किया. वाजपेयी ने 1999 में नेशनल कॉफ्रेंस के साथ केंद्र में हाथ मिलाया और अब्दुल्ला परिवार को अपनी कैबिनेट में जगह दी जबकि नरेंद्र मोदी ने 2015 में पीडीपी से हाथ मिलाया और जम्मू-कश्मीर सरकार में बीजेपी हिस्सेदार बनी थी.

देश में नब्बे के दशक में गठबंधन की राजनीति शुरू हुई तो बीजेपी ने भी तमाम क्षेत्रीय पार्टियों को मिलाकर एनडीए का गठन किया. 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में केंद्र में सरकार बनी तो फारुख अब्दुला की नेशनल कॉफ्रेंस भी गठबंधन का हिस्सा बनी. बीजेपी और नेशनल कॉफ्रेंस का गठबंधन राज्य में नहीं था बल्कि केंद्र में था. फारुख अब्दुल्ला खुद वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे थे. इसके अलावा उनके बेटे उमर अब्दुल्ला भी वाजपेयी सरकार में मंत्री रह चुके हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री रहते हुए कश्मीर के लोगों के साथ बेहतर तालमेल बनाया था. वाजपेयी ने कहा था कि इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत. इसी फॉर्मूले पर हम कश्मीर के विकास के लिए काम करना चाहते हैं और हम जम्मू-कश्मीर के जन-जन को गले लगाकर चलें, इसी भाव के साथ हम आगे बढ़ना चाहते हैं. इसके बावजूद बीजेपी अपना सियासी आधार वहां नहीं बढ़ा सकी. 2004 में वाजपेयी की सत्ता से बाहर होते ही नेशनल कॉफ्रेंस और बीजेपी का गठबंधन टूट गया. headtopics.com

UP Election: उप्र में मुख्यमंत्री पद के लिए प्रियंका होंगी कांग्रेस का चेहरा, अकेले सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी पार्टी Delhi Rape Case: राहुल गांधी, केजरीवाल और आदेश गुप्ता का हुआ 'हाय-हाय' से सामना कोरोना को लेकर CM की चेतावनी: गहलोत ने कहा- दूसरी लहर अभी पूरी तरह खत्म नहीं, लेकिन इसका प्रभाव राजस्थान में अब सबसे कम, हमें तीसरी लहर को रोकना है

जम्मू-कश्मीर की पार्टियों के साथ बीजेपी का दोबारा तालमेल नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद हुआ. साल 2014 के आखिर में जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव हुए, जिसमें कोई भी पार्टी बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाई थी. ऐसे में बीजेपी और पीडीपी दोनों ही पार्टियां सैद्धांतिक रूप से एकदम विपरीत थी, लेकिन चुनाव के नतीजों ने दोनों को नजदीक ला खड़ा किया है.

जम्मू-कश्मीर में साल 2015 में बीजेपी-पीडीपी गठबंधन की सरकार बनी थी. गठबंधन के बाद मुफ्ती मोहम्मद सईद मुख्यमंत्री बनाए थे जबकि डिप्टी सीएम बीजेपी के खाते में गया था. इस तरह से मोदी ने 2015 में मुफ्ती मोहम्मद सईद के साथ बीजेपी की सरकार बनवाकर जम्मू कश्मीर में भाजपा को मुख्यधारा की पार्टी बना दिया. 7 जनवरी 2016 को मुफ्ती सईद का निधन हो गया.

जम्मू-कश्मीर में मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की अचानक मौत के बाद राज्य में संवैधानिक संकट खड़ा हो गया था. इस तरह से कश्मीर में सरकार बनाने को लेकर एक बार फिर खींचतान शुरू हो गई. जिसके बाद फिर पीडीपी-बीजेपी सरकार बनाने के लिए तैयार हो गई. ढाई महीने के बाद 4 अप्रैल 2016 को महबूबा मुफ्ती पहली महिला मुख्यमंत्री जम्मू-कश्मीर की बनीं जबकि उपमुख्यमंत्री बीजेपी के विधायक निर्मल सिंह को बनाया गया.

हालांकि, दो साल के बाद 2018 में बीजेपी और पीडीपी के रिश्ते ऐसे बिगड़े की महबूबा मुफ्ती ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद दोनों का गठबंधन टूट गया. यहीं से बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर में अपने एजेंडे को अमलीजामा पहनाने का मौका मिला गया. केंद्र ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया. साल 2019 के लोकसभा चुनाव जीतकर मोदी दूसरी बार सत्ता में सबसे पहले कश्मीर की धारा 370 को खत्म करने का एतिहासिक कदम उठाया. headtopics.com

मोदी सरकार ने पांच अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म कर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में बांट दिया. जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश बना दिया और लद्दाख को. मोदी सरकार ने यह कदम उठाने के समय कश्मीर के नेताओं को नजरबंद कर दिया था, जिसके बाद अब प्रधानमंत्री अब पहली जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ बैठक करने जा रहे हैं, जिस पर सबकी निगाहें टिकी हैं. एजेंडे को बिना सार्वजनिक किए बुलाई इस सर्वदलीय बैठक को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं और सबको इंतजार है कि आखिर इस बैठक का नतीजा क्या निकलकर आएगा?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें और पढो: आज तक »

Tokyo Olympic: हॉकी सेमीफाइनल में भारत की हार, Great Britain से कांस्य के लिए होगी जंग

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम अर्जेंटीना से 2-1 से हार गई. भारत की महिला हॉकी टीम ने सेमीफाइनल में शानदार शुरुआत की थी. उसने पहले क्वार्टर के शुरुआत में ही गोल दाग दिया था. हालांकि मैच खत्म होते होते भारत के हाथ से ये मुकाबला फिसल गया. भारत की महिला हॉकी टीम भी सेमीफाइनल से आगे नहीं बढ़ पाई है. अब भारतीय महिला टीम शुक्रवार को ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ कांस्य पदक के लिए भिड़ेगी. आपको बता दें भारतीय पुरुष हॉकी टीम भी सेमीफाइनल में हार चुकी है, उनका भी मुकाबला कांस्य पदक के लिए होने वाला है. देखें वीडियो.

जय हो

बिहार: समस्तीपुर में महिला की गोली मारकर हत्या, प्रेम प्रसंग के मामले में मर्डर की आशंकाअपराधियों ने घटना को अंजाम देने के बाद युवती का मोबाइल भी अपने साथ लेकर फरार हो गए. हालांकि युवती को बाइक पर साथ लेकर जा रहे युवक की न तो पहचान हो पाई है न ही उसका कोई पता चल पाया है.

नीरव मोदी की भारत प्रत्यर्पण के खिलाफ याचिका ब्रिटिश हाईकोर्ट ने की नामंजूर50 वर्षीय नीरव मोदी को ब्रिटेन में मार्च 2019 में गिरफ्तार किया गया था और तब से वह वांड्सवर्थ जेल में बंद है. ब्रिटेन की भारतीय मूल की गृह मंत्री प्रीति पटेल ने 15 अप्रैल 2021 को उसे भारत प्रत्यर्पित किए जाने का आदेश दिया था. Ayega nahi phir bhi 😂😂 लोकतंत्र का चौथा सबसे मज़बूत स्तंभ कहा जाने वाला मीडिया भी स्किल इंडिया के यूपी के कर्मचारियों का दो माह का वेतन न मिलने के मुद्दे पर चुप हो गया है।कैसी विडंबना है कोई साथ देने को तैयार नही है। कोई भी कुछ नही बोल रहा सब सरकार का ही गुण गान कर रहे है अब कौन मदद करेगा हम लोगो की ? वो फिर भी नही आएगा।मोदी सरकार खुद नही चाहती।यह वापसी 2024 के पास करवाने का इरादा नीति है।यह सभी राजनीतिक मोहरे है जो खुद ही आगे करे है खुद ही पीछे करने है।इस काम मे यह फिर मुनाफे मे रहेंगे।यह नोट कर लो एन डी टी वी✍🙏

'राजनीतिक नहीं थी' पवार की मेजबानी में विपक्ष के नेताओं की बैठक पर NCP का बयानशरद पवार के घर मंगलवार को राजनीतिक दलों की बैठक ने 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले तीसरे मार्चे की तैयारी की सुगबुगाहट को तेज कर दिया है. इस बैठक में कांग्रेस नदारद थी जबकि तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी, राष्ट्रीय लोकदल और वाम दलों समेत आठ विपक्षी दलों के नेता शामिल हुए थे. पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि उन्होंने शरद पवार से अपने संगठन राष्ट्र मंच के लिए सभा की मेजबानी करने के लिए कहा था. बताते चलें कि सिन्हा ने साल 2018 में ‘राष्ट्र मंच’ का गठन किया था. Modi ji ko harane ke liye....unse bhi age sochna hoga..... Or ese to bilkul bhi nahi harenge.... True 🇮🇳🙏 Lol

सियासत: पश्चिम बंगाल के बंटवारे की अपने ही नेताओं की मांग से मुश्किल में भाजपासियासत: पश्चिम बंगाल के बंटवारे की अपने ही नेताओं की मांग से मुश्किल में भाजपा WestBengal BJP PartitionOfBengal BJP4Bengal MamataOfficial BJP4Bengal MamataOfficial हा हा , मोदी को समझे न्ही तुम लोग। यही तो प्लान है, पहले मना किया और कुछ दिन बाद यही मांग मां ली जायेगी।

महाराष्ट्र की सियासत: कांग्रेस के 'एकला चलो' के नारे से मुश्किल में है शिवसेनामहाराष्ट्र: कांग्रेस के 'एकला चलो' के नारे से मुश्किल में है शिवसेना Maharashtra ShivsenaVsCongress BMCElection Shivsena INCIndia ShivSena INCIndia 😂😂😂😂😂😂😂 ShivSena INCIndia अभी देखते जाओ आगे आगे क्या होता है ।

नेपाल में राजनीतिक संकट : सुप्रीम कोर्ट ने ओली के 20 मंत्रियों की नियुक्ति रद्द कीनेपाल में राजनीतिक संकट : सुप्रीम कोर्ट ने ओली के 20 मंत्रियों की नियुक्ति रद्द की Nepal NepalCrisis KPSharmaOli SupremeCourtOfNepal That's it Real Yoga 😂 😂 NepaliTimes IndiaInNepal USEmbassyNepal