Uttarakhand, Politics, Assemblypolls 2022, Re, Congress, Uttrakhand, Election, New Team, उत्तराखंड, चुनाव, प्रदेश नेता, हरीश रावत

Uttarakhand, Politics

उत्तराखंड चुनाव: BJP का मोदी कार्ड, कांग्रेस का युवा चेहरा और AAP का कर्नल पर दांव!

अगले साल पहाड़ी राज्य #Uttarakhand में होने जा रहे विधानसभा चुनाव ने सियासी हलचल को तेज हो गयी है | #Politics #AssemblyPolls2022 #RE

24-07-2021 01:30:00

अगले साल पहाड़ी राज्य Uttarakhand में होने जा रहे विधानसभा चुनाव ने सियासी हलचल को तेज हो गयी है | Politics AssemblyPolls2022 RE

एक तरफ बीजेपी अपने तमाम बड़े चेहरों की रैलियां करवाने जा रही है तो वहीं कांग्रेस भी इस बार युवा चेहरों पर भरोसा जता रही है. अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी भी इस राज्य में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने को तैयार दिख रही है.

बीजेपी की बात करें तो उनकी तरफ से आने वाले दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और जेपी नड्डा की रैलियां होने जा रही हैं. अभी तक तारीखों का ऐलान तो नहीं हुआ है, लेकिन बैठकों का दौर जारी है. इस समय कांग्रेस भी चुनावी मोड में आ गई है. गुरुवार को पार्टी की तरफ से गणेश गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी के साथ हरीश रावत को चुनाव संचालन समिति का मुखिया बनाया गया है. मतलब पार्टी की तरफ से अनुभव के साथ युवा जोश को तरजीह दी जा रही है.

'काउंसिल को लगा कि पेट्रोल-डीजल को GST दायरे में लाने का अभी वक्त नहीं' : निर्मला सीतारमण यूपी में बारिश से तबाही : 40 से ज्यादा की मौत, जौनपुर में दीवार के नीचे दबा पूरा परिवार PM के जन्मदिन पर रिकॉर्ड टीकाकरण : अब तक 2 करोड़ टीके लगे, ढाई करोड़ का आंकड़ा छूने की उम्मीद

कांग्रेस पर उठाए सवाललेकिन बीजेपी की नजरों में कांग्रेस के ये सारे एक्सपेरिमेंट फेल होने जा रहे हैं. कहा गया है कि पार्टी इस समय अंदरूनी लड़ाई से ग्रस्त है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि चुनाव से पहले 6 महीने के लिए उन्हीं चेहरों को अदल-बदल कर वापस लाना, ये जनता के समझ से परे है और जनता जानती है कि साढ़े 4 साल में विपक्ष की भूमिका में कांग्रेस पूरी तरह फेल रही है. इस बार भी बीजेपी को ही आशीर्वाद मिलेगा.

कौशिक ने इस बात पर भी जोर दिया कोरोना काल में कांग्रेस ने कोई काम नहीं किया. उन्होंने बताया कि पिछले सालों में जहां देश और दुनिया कोरोना से लड़ रही थी, वहीं उत्तराखंड में कांग्रेस जनता से लड़ रही थी,साढ़े 4 सालों में कांग्रेस ने कभी भी जनहित के मुद्दों को प्राथमिकता नहीं दी. headtopics.com

आम आदमी पार्टी की दस्तकइस बार आम आदमी पार्टी भी अपने जनाधार को मजबूत करने पर जोर दे रही है. इसी वजह से सीएम अरविंद केजरीवाल से लेकर मनीष सिसोदिया तक पहाड़ी राज्य का दौरा कर चुके हैं. फ्री बिजली का ऐलान भी किया गया है और कर्नल अजय कोठियाल को सीएम चेहरा बनाने पर विचार किया जा रहा है. ऐसे में मुकाबले को त्रिकोणीय करने का प्रयास हो रहा है.

अब आम आदमी पार्टी जरूर अपना मुकाबला बीजेपी से मान रही है, लेकिन कांग्रेस की नजरों में अभी भी उनकी बीजेपी से टक्कर है. ऐसे में उनकी पार्टी की तरफ से सिर्फ निशाना भी भाजपा पर ही साधा जा रहा है. राज्य में लगातार बदल रहे मुख्यमंत्री पर तंज कसते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भाजपा को अपना घर संभालना चाहिए,चार साल में उन्होंने प्रदेश को तीन मुख्यमंत्री देने के आलावा कोई कार्य नहीं किया है और जनता उनको हटाने का मन बना चुकी है.

ऐसे में उत्तराखंड का मुकाबला कड़ा है, बीजेपी को फिर 2017 वाला प्रदर्शन दोहराना है तो वहीं कांग्रेस को फिर वापसी करनी है. आप भी अपनी धमक दिखाने का प्रयास करने वाली है.Live TV और पढो: आज तक »

Breaking News Live Updates: देश-दुनिया की ब्रेकिंग न्यूज

छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल को गिरफ्तार किया गया है। रायपुर पुलिस ने विवादित बयान देने के सिलसिले में यह गिरफ्तारी की है। उधर उत्तर प्रदेश में आज बड़ी सियासी हलचल हो रही है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath), बीएसपी सुप्रीम मायावती (Mayawati) और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) एक साथ ऐक्टिव हैं। आज हरियाणा के करनाल में किसानों की महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) है। इसको देखते हुए प्रशासन ने करनाल समेत 5 जिलों में इंटरनेट सेवा को बंद (Internet Ban) कर दिया और करनाल में धारा-144 लागू कर दिया है। अफगानिस्तान (Afghanistan) में सरकार बनाने जा रहे तालिबान ने चीन और पाकिस्तान के साथ CPEC परियोजना (CPEC Project) में शामिल होने की इच्छा जताई है। तमाम ब्रेकिंग न्यूज (Breaking News) और ताजा खबरें (Latest News in Hindi) आपको सबसे पहले नवभारत टाइम्स ऑनलाइन पर मिलेंगी। तो बने रहिए हमारे साथ...

'संसद नहीं चलने देने का Rahul Gandhi का पुराना रिकॉर्ड', BJP का Congress पर पलटवारइजरायली स्पाईवेयर पेगासस से भारत में जासूसी के मामले पर देश में राजनीति गरमा गई है. जासूसी कांड को लेकर संसद में आज फिर घमासान हुआ. टीएमसी के राज्यसभा सांसद शांतनु सेन को संसद सत्र के बाकी हिस्से के लिए निलंबित कर दिया गया. शांतनु सेन ने गुरुवार को आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव से सदन में कागजात छीनकर फाड़ दिए थे. आज हंगामे के चलते राज्यसभा को दोपहर ढाई बजे तक और लोकसभा को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया. जासूसी के आरोपों पर बीजेपी ने विपक्ष पर पलटवार किया है. सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा है कि संसद नहीं चलने देने का राहुल गांधी का पुराना रिकॉर्ड है. इस Video में देखिए और क्या बोले राज्यवर्धन सिंह राठौर. RahulGandhi &पालतू लॉबी सदन में मुद्दे नही उठाती..!☺️☺️ सदन से वाकआउट करते है सदन में हंगामा खड़ा करते है RahulGandhi को अच्छी तरह पता है सदन में बहस होगी तो बाड्रा कांग्रेस का झुट का गुब्बारा फूटने में 02 मिनट नही लगेगा Rahul Gandhi always become an obstacle and not a decision maker or taker. Ab to Sarkar bhi chali gayi ab toh sudhar jao. दलाली और मुखबिरी तुम्हारा पुराना धनदा है

Pegasus Spyware : अमेरिका का कुख्यात वॉटरगेट कांड क्या था, जिससे हो रही 'पेगासस स्नूपगेट' की तुलनापेगासस स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर के जरिए भारत में पत्रकारों, नेताओं समेत कई लोगों की कथित जासूसी के मुद्दे पर विपक्ष हमलावर है। विपक्ष इसे अमेरिका के वॉटरगेट स्कैंडल से भी ज्यादा खतरनाक बता रहा है, जिसने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन की कुर्सी ले ली थी।

Twitter Update: जल्द मिलेगा डिसलाइक का बटन, हो रही टेस्टिंगTwitter के प्रोडक्ट प्रमुख Kavyon Beykpour ने पिछले साल ही कहा था कि ट्विटर जल्द ही डिसलाइक बटन पेश करेगा। ट्विटर ने भी इस फीचर के Eagerly waiting 👀 New channel wale account 😄😄😄🤔🤔 बेचारे मोदी जी का क्या होगा 😊😊

सबक: पाकिस्तान एफएटीएफ की निगरानी में, काम आ रहा है भारत का दबावहाल ही में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, 'हमारे कारण पाकिस्तान एफएटीएफ की निगरानी में है, और उसे ग्रे सूची में रखा गया 'xxzzz,xxzçxxxxzxxxxccxxzzzzzzzzzxxzxxztxzzgzzZ xxzzzz X X vz,z*z ZZ**zz,,&'7770777xcxc*z' ¥=

आक्सीजन संकट: राज्यों की रिपोर्ट-केंद्र का आंकड़ा, सियासी घमासान से अलग है जमीनी हकीकतIMA के एक पूर्व अध्यक्ष और पूर्वी दिल्ली में एक निजी अस्पताल के मालिक कहते हैं कि जब रोगी की मौत कार्डिक अरेस्ट से हुई है तो इसे ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत कैसे लिखा जा सकता है. हालांकि वे यह भी कहते हैं कि ये सच्चाई है कि अगर ऑक्सीजन सप्लाई का मैनेजमेंट बेहतर होता तो 15-20 फीसदी मौतें टाली जा सकती थी.

नाकामी: देश के पास नहीं है ऑक्सीजन की कमी से मौतों का पता लगाने वाली प्रणालीऑक्सीजन या फिर स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से एक भी मौत न होने के बाद हर कोई अलग अलग तर्क दे रहा है जबकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ