Dunia Mere Aage, Sahitya, Light, Nature, Peace

Dunia Mere Aage, Sahitya

अशांति से शांति की ओर

अशांति से शांति की ओर in a new tab)

27-09-2021 02:36:00

अशांति से शांति की ओर in a new tab)

शांति-अशांति, विचार और विचारधारा- ये सब मनुष्य के मन में सनातन काल से चलने वाली हलचलें हैं।

शांति और विचार प्राकृतिक चेतना के प्रवाह हैं। जब विचार को निश्चित स्वरूप में एक विचारधारा के रूप में ढाला जाता है तो अंतहीन मत-मतांतरों की उत्पत्ति होकर विचार के प्राकृतिक प्रवाह में अवरोध से अशांति, असंतोष और अप्राकृतिक संस्थागत व्यवहार की क्षणिक उत्पत्ति होती है। मेरे-तेरे का सांप्रदायिक विचार और संगठनात्मक या संस्थागत व्यवहार मन के विस्तार को संकुचित करने की कोशिश में लग जाता है। अशांत मन और सांप्रदायिक विचार मनुष्यों के प्राकृतिक स्वरूप को यांत्रिक जड़ता में बदल डालता है। विचारवान मनुष्य का यांत्रिक कठपुतली में बदल जाना मनुष्य की संभावना का असमय खत्म हो जाना है। विचारधाराओं ने विचार को बांध कर मनुष्य को विचार के आधार पर न जाने कितने स्वरूपों में बांट कर अंशाति मूलक भूल-भुलैया खड़ा कर डाला।

महिलाओं के अधिकार के लिए आज भी डटे हैं : UP में 40% टिकट महिलाओं को देने पर राहुल गांधी आर्यन खान के सपोर्ट में आए जावेद अख्तर, कहा- 'फिल्म इंडस्ट्री हाई प्रोफाइल होने की सजा भुगत रही' बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तर

शांति और विचार ही प्राकृतिक सभ्यता को निरंतर जारी रखता है। विचारवान मनुष्य ही अपने जीवन में आई सारी चुनौतियों का सामना करना सीख पाया है। आज के काल में मनुष्य सभ्यता में यांत्रिक समाधान का एक विचार नए स्वरूप में उभरा है। मनुष्य की मदद या मनुष्य की शक्ति के विस्तार के लिए यंत्रों से मदद लेने का लंबा सिलसिला मनुष्य सभ्यता में चलता रहा है। पर अब यांत्रिक सभ्यता का विस्तार इस गति से मनुष्य के जीवन में रच-बस रहा है कि मनुष्य यांत्रिक सभ्यता का एक अंश हो गया है। मानवीय संवेदनाओं की बुनियाद पर खड़ी सभ्यता में जड़वत यांत्रिक सभ्यता जिस रूप में मनुष्यों में घुसपैठ करती जा रही है, वह एक बड़ी चुनौती है, जिसका समाधान आज के काल के मनुष्यों को विचार और प्रचार के मूल स्वरूप में खोजना होगा। प्रचार मनुष्य के विचार को प्रचार से प्रभावित कर अंधानुकरण की दिशा में ले जाता है, जबकि विचार मनुष्यों को सनातन काल से स्वतंत्रचेता स्वरूप में ही बने रहने की स्वतंत्र ऊर्जा प्रदान करते हैं।

विचार का प्रवाह और मशीन से विचार का प्रायोजित संचार- ये आज के काल का सर्वथा नया आयाम है। एक जड़ यंत्र किस बड़े स्वरूप में बिना एक दूसरे से आपस में मिले ही एक दूसरे को किस हद तक अशांत या समृद्ध कर सकता है, यह आज के काल का नया दृश्य है जो समूची मानव सभ्यता के सामने आ खड़ा हुआ है। स्वतंत्र विचार की जगह संकुचित और प्रायोजित प्रचार तंत्र ने कुछ मुनष्यों में एक नए भ्रम को जन्म दिया है। आज सशरीर या प्रत्यक्ष रूप से विचार विनिमय के बजाय यांत्रिक उपकरण या तकनीक द्वारा विचार का संचार कर मनुष्य को प्रभावित करने के नाते नए-नए उपकरण मनुष्य को सुलभता से उपलब्ध होते जा रहे हैं। headtopics.com

हमारी धरती पर जहां मनुष्य नहीं है, वहां प्राकृतिक रूप से शांति है। किसी किस्म का कोलाहल नहीं मिलता। आनंददायक अनुभव से मुलाकात होती है और हम आंतरिक और बाह्य शांति में डूब जाते हैं। हर मनुष्य में अपनी चेतना का भाव मूलत: मिलता है, पर हम सब अपनी चेतना को अन्य समकालीन जीवों की चेतना से एकाकार नहीं कर पाते। इसी से मन में असंतोष या अशांति का भाव पैदा होता है और हम सब शांति की खोज यात्रा के आजीवन यात्री हो जाते हैं। धरती से आकाश तक जो हवा पानी प्रकाश का विस्तार है, वह सब हमारे अंदर भी उसी रूप में मौजूद हैं। तीनों कभी किसी से भेद नहीं करते। तीनों ने मिल कर जीवन को निरंतर जीवन चक्र दिया। हर विचार बिंदु में वैसी ही बीज शक्ति होती है, जैसी पानी की बूंद में जीवनी शक्ति है। जैसे असंख्य बूंदें मिल कर साकार महासागर अभिव्यक्त करती हैं, वैसे ही निराकार विचार साकार मनुष्यों में जीवन की सनातन चेतना को हर मनुष्य के विचार प्रवाह को शांति के बीज स्वरूप में बनाए रखता है। अशांत स्थिति के अवरोध क्षणिक हलचलों को पैदा जरूर करते हैं, पर अवरोध अल्पकालीन ही होते हैं, जबकि शांति चित्त की सनातन आधार भूमि है। चित्त में शांति ही जगत में जीवन का सनातन बीज स्वरूप है।

और पढो: Jansatta »

Uttarakhand Rains Live Updates: उत्तराखंड में जारी बारिश का कहर, रामनगर-रानीखेत रूट पर रिजॉर्ट में 100 लोग फंसे

उत्तराखंड में सोमवार को भूस्खलन में पांच व्यक्तियों की मौत हो गई। भारी बारिश और बर्फबारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। इससे नदी-नाले उफान पर आ गए और चारधाम यात्रा ठप हो गई। रामनगर-रानीखेत रूट पर एक रिजॉर्ट में करीब 100 लोग फंस गए। केरल में बाढ़ और भारी बारिश में मरने वालों की संख्या 35 तक पहुंच गई है। लगभग 4,000 लोग अब राज्य के विभिन्न शिविरों में रह रहे हैं। सितंबर के बाद अक्टूबर में भी बारिश के रेकॉर्ड तोड़ने का सिलसिला कायम है। अक्टूबर की बारिश ने दिल्ली (सफदरजंग) में 61 सालों का रेकॉर्ड तोड़ दिया है, पालम में भी 24 घंटे के अंतराल पर इतनी बारिश पहले कभी नहीं हुई। हालांकि आज से मौसम साफ हो जाएगा। दिल्ली सफदरजंग में बीते 24 घंटे के अंतराल में 87.9 एमएम बारिश हो चुकी है। पल-पल के अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ...

पिछड़े वर्गों की जातिगत जनगणना प्रशासनिक रूप से कठिन: सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहाशीर्ष अदालत में केंद्र की दलील ऐसे समय में आई है, जब उसे विपक्षी दलों और यहां तक कि जदयू जैसे उसके सहयोगियों से जातिगत जनगणना की मांग लगातार की जा रही है. बीते 20 जुलाई को लोकसभा में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा था कि भारत सरकार ने फैसला किया है कि जनगणना में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के अलावा अन्य जाति-वार आबादी की गणना नहीं की जाएगी.

अमेरिका में पटरी से उतरी ट्रेन, डिब्बे पलटने से 3 की मौत, कई घायलअमेरिका के सिएटल और शिकागो के बीच चलने वाली एमट्रैक कंपनी की ट्रेन शनिवार दोपहर को उत्तर-मध्य मोंटाना में पटरी से उतर गई। इस हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। अमरीका में भी ट्रेन पलटती है ?🙄🤔

यूपी की मऊ विधानसभा से बाहुबली मुख्‍तार अंसारी की लगातार 5 जीतों का क्या है राजउत्तर प्रदेश की मऊ विधानसभा सीट प्रदेश ही नहीं बल्कि देश में चर्चा का विषय बनी रहती है और इसके पीछे की मुख्य वजह गैंगस्टर से राजनेता बने मुख्तार अंसारी हैं। इस समय अंसारी बांदा जेल में बंद है और उन पर कई आरोप लगे हुए हैं, जिनकी सुनवाई कोर्ट में चल रही है।

WHO की ये गाइडलाइंस पहले आती, तो कोरोना से बच सकती थी लाखों लोगों की जानविश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वायु गुणवत्ता को लेकर नई गाइडलाइंस बनाई हैं. अगर इन गाइडलाइंस का पालन सभी देश करें तो हर साल लाखों लोग मौत के मुंह में न जाते. उनकी असामयिक मौत को टाला जा सकता है. 15 साल से इस नई गाइडलाइंस का इंतजार था. ऐसा दावा किया जा रहा है कि अगर यह गाइडलाइंस पहले बनी होती तो शायद कोरोना काल में लाखों लोगों को बचाया जा सकता था.

आतंकी सरकार की पैरवी कर खुद को बताया आतंक से पीड़ित, देखें इमरान की दोमुंही चालअफगानिस्तान का बच्चा-बच्चा कहता है कि उनके मुल्क में जो कोहराम मचा वो पाकिस्तान की पैदाइश है. अफगानी आतंकियों को पालने पोसने से लेकर उन्हें ट्रेनिंग, पैसा, और पनाह सबकुछ पाकिस्तान ने दिया और आखिरकार अफगानिस्तान के भविष्य पर एक बार फिर कालिख पोतने में कामयाब हो गया. पाकिस्तान और उसके पीएम इमरान खान की इस चालबाजी को पूरी दुनिया जानती और समझती है फिर भी इमरान बड़ी बेशर्मी से कहते फिरते हैं कि उनका मुल्क आतंकवाद से पीड़ित है. शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संबोधित किया. देखें वीडियो. KeshavPrasadMi6 रात दिन आतंकवादीयो के लिए भीख में चव्वनी मांग कर पेट पालने वाले तेरी औकात दुनिया जान चुकी है ! सबका हेडमास्टर तू ही है और उसका स्कूल तेरे घर के आंगन में ही है दुनिया जान चुकी है UN में पाकिस्तान को आखरी चेतावनी पीओके खली करो। मोदी है तो मुमकिन है पाकिस्तान परस्त लिब्रेंडू और कांग्रेसी चमचों कब समझ लेना चाहिए मोदी क्या चीज है

किसान मोर्चा का कल भारत बंद, नेताओं की लोगों से घर पर रहने की अपीलसोनीपत स्थित पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में किसान नेताओं ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि लोग बेवजह घरों से बाहर ना निकलें अन्यथा परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. Nice👍 🔔 🔔