Vandana Singh Chauhan, Vandana Singh Chauhan Ias, Vandana Singh Chauhan Struggle Story, Dm Of Almora, Ias Vandana Singh Chauhan, Vandana Singh Chauhan Studied Upsc In Locked Room, Ias Struggle Story, Ips Struggle Story, Upsc, Upsc Main Exam, Upsc Prelims, Gurukul, Ias Result, Hindi Medium, यूपीएससी, वंदना सिंह चौहान

Vandana Singh Chauhan, Vandana Singh Chauhan Ias

अधिक पढ़ाई के खिलाफ था परिवार, वंदना सिंह चौहान ने छिपकर की थी UPSC की तैयारी

अधिक पढ़ाई के खिलाफ था परिवार, वंदना सिंह चौहान ने छिपकर की थी UPSC की तैयारी, यूं पूरा किया IAS बनने का सपना

14-09-2021 09:38:00

अधिक पढ़ाई के खिलाफ था परिवार, वंदना सिंह चौहान ने छिपकर की थी UPSC की तैयारी, यूं पूरा किया IAS बनने का सपना

12वीं की परक्षी के बाद वंदना ने घर पर रहकर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी, इस दौरान उन्होंने पूरे एक साल तक खुद को कमरे में बंद कर लिया था।

वंदना सिंह चौहान आज अल्मोड़ा जिले की डीएम हैं (फोटो क्रेडिट- यूट्यूब)यूपीएससी की तैयारी के लिए छात्र सालों-साल मेहनत करते हैं। हालांकि कड़ी मेहनत के बाद भी बहुत से लोग इसमें सफल नहीं हो पाते। लेकिन कुछ लोग बिना किसी कोचिंग के ही दुनिया की इस सबसे मुश्किल परीक्षा को क्लियर कर लेते हैं। ऐसी ही कहानी है हरियाण के नसरुल्लागढ़ गांव की रहने वाली वंदना सिंह चौहान की। हिंदी मीडियम से पढ़ी वंदना ने साल 2012 में यूपीएससी में आठवां रैंक प्राप्त किया था। हालांकि एक वक्त था, जब रूढ़िवादी सोच के कारण वंदना का परिवार उनकी पढ़ाई के खिलाफ था।

‘मेरे कोविड वैक्सीन सर्टिफ़िकेट पर पीएम मोदी की तस्वीर क्यों है?’ - BBC News हिंदी सिंघु हत्याकांड पर फूटा 'फोटो बम': निहंग प्रमुख का सम्मान करते कृषि मंत्री तोमर की फोटो वायरल, किसान नेता बोले- ‌लखबीर की हत्या BJP की साजिश आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल, NCB पर गभीर आरोप

दरअसल परिवार के लोग नहीं चाहते थे कि वंदना अधिक पढ़ाई-लिखाई करें। हालांकि वंदना ने अपने सपने को पूरा करने के लिए काफी संघर्ष किया। वह शुरुआत से हीआईएएस अफसरबनना चाहती थीं। 4 अप्रैल, 1989 को हरियाणा के नसरुल्लागढ़ गांव में जन्मीं वंदना के परिवार में लड़कियों को पढ़ाने का चलन नहीं था। एक इंटरव्यू के दौरान वंदना के पिता महिपाल सिंह चौहान ने बताया था कि गांव में कोई अच्छा स्कूल नहीं था, जिसके कारण उन्होंने अपने बेटे को पढ़ने के लिए बाहर भेज दिया था।

लेकिन वंदना भी आगे पढ़ना और बढ़ना चाहती थीं। वंदना के पिता बताते हैं, “उस दिन के बाद से ही उसने रट लगा ली थी कि मुझे कब पढ़ने भेजोगे?” शुरुआत में महिपाल सिंह चौहान ने बेटी की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया, हालांकि एक दिन जब वंदना के सब्र का बांध टूट गया तो उन्होंने गुस्से में आकर पिता से कह दिया कि मैं लड़की हूं, इसलिए मुझे पढ़ने नहीं भेज रहे। headtopics.com

बेटी की यह बात पिता को इस कदर चुभी कि उन्होंने वंदना का एडमिशन मुरादाबाद के एक गुरुकुल में करवा दिया। हालांकि वंदना की पढ़ाई को लेकर उनके दादा, ताऊ और चाचा समेत परिवार के सभी सदस्य महिपाल सिंह के फैसले के खिलाफ थे। लेकिन अपनी कड़ी मेहनत और दृढ़ निश्चय के आड़े वंदना ने कभी किसी को नहीं आने दिया।

बिना कोचिंग के एक साल तक कमरे मेंबंद होकर की थी तैयारी:12वीं की परक्षी के बाद वंदना ने घर पर रहकर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। इस दौरान वह लॉ की पढ़ाई भी कर रही थीं। वह दिन में करीब 12-14 घंटे पढ़ाई करती थीं। एक इंटरव्यू के दौरान वंदना की मां मिथिलेश ने कहा था, “गर्मियों में भी उसने अपने कमरे में कूलर नहीं लगने दिया। क्योंकि वह कहती थी कि कमरे में ठंडक होने से नींद आती है।”

बिना किसी कोचिंग के वंदना ने पिता के साथ जाकरयूपीएससी की परीक्षादी। हालांकि 2012 में जब इसका परिणाम आया तो वंदना के साथ-साथ उनका पूरा परिवार और गांव के सभी लोग हैरान थे। 24 साल की वंदना ने यूपीएससी में 8वां रैंक हासिल किया था। और पढो: Jansatta »

सियासी बवाल के बीच राहुल गांधी का दिल्ली से लखीमपुर का सफर, देखें टाइमलाइन

लखीमपुर खीरी में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद का विवाद अबतक शांत नहीं हुआ है. लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने के बाद आखिरकार राहुल गांधी को वहां से बाहर निकलने दिया गया है. एयरपोर्ट पर राहुल अपनी गाड़ी से जाएंगे या प्रशासन की गाड़ियों से इस पर विवाद हुआ था. अब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सीतापुर से लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए और लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवार से मिलने पहुंच चुके हैं. देखें राहुल गांधी के दिल्ली से लखीमपुर के सफर की पूरी टाइमलाइन.

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद सरकार ने विभिन्न न्यायाधिकरणों में 37 सदस्यों की नियुक्ति कीकेंद्र ने राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण, आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण और सशस्त्र बल अधिकरण में विभिन्न पदों के लिए नियुक्ति की है. ये नियुक्तियां ऐसे समय में भी हुई हैं जब सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए चिंता जताई है कि केंद्र सरकार कर्मचारियों की कमी का सामना कर रहे न्यायाधिकरणों में नियुक्ति न करके उन्हें ‘निष्क्रिय’ कर रही है. अभी आगे आगे देखिये होता है क्या, पेगासस से चोरों की तरह जासूसी करवा कर निजता के मौलिक अधिकारों का अतिक्रमण करने वाला, न्याय के पवित्र मंदिर के सामने रोता है क्या। बड़ी अकर से कह दिया हम हलफनामा नहीं देंगे, न्यायपालिका जो तुला के कसौटी पर बैठा है खड़ा उतरता है क्या। मोदीजी को रंजन गोगोई ढूंढने मे वक़्त लगता है। सब इतनी आसानी से अपने ज़मीर बेचने को तैयार नहीं होते हैं ना।

रामविलास पासवान की बरसी पर चिराग के घर पहुंचे बीजेपी के नेता, JDU ने बनाई दूरीचिराग पासवान की ओर से आयोजित इस कार्यकर्म में बीजेपी की ओर से कई नेताओं ने शिरकत की जबकि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने कार्यक्रम से दूरी बना ली.

CPL: प्रीति जिंटा के विकेटकीपर की टीम सेमीफाइनल में पहुंची, धोनी के गेंदबाज ने किया कमालकैरेबियन प्रीमियर लीग (CPL 2021) के 29वें मुकाबले में निकोलस पूरन की अगुआई वाली गुयाना अमेजन वॉरियर्स ने जमैका तल्लावाहस को हराकर सेमीफाइनल में अपना स्थान पक्का कर लिया है। वहीं जमैका को लीग से बाहर होना पड़ा है।

अब्बाजान के बहाने सपा पर वार, योगी ने कांग्रेस को बताया 'आतंकवाद की जननी'सीएम ने कहा कि अब्बाजान कहे जाने वाले सब गरीबों का राशन हजम कर जाते थे, तब कुशीनगर का राशन नेपाल पहुंच जाता था, बंग्लादेश पहुंच जाता था. पहले गरीबों की नौकरी पर अब्बाजान कहने वाले डकैती डालते थे. aap_ka_santosh Waah yogi ji wahhh JaiShriRam jaiyogi bhagwaraaj myogiadityanath aap_ka_santosh aap_ka_santosh दंगाई खुद चेतावनी दे रहा है😂😂

योगी आदित्यनाथ के विज्ञापन में छपी कोलकाता फ्लाईओवर की तस्वीर, अखबार ने कहा- अनजाने में हुआअंग्रेज़ी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस के एक फ्रंट पेज पर 12 सितंबर को प्रकाशित उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के विज्ञापन में दिखाई गईं तीन प्रमुख तस्वीरों में से एक कोलकाता का फ्लाईओवर होने की वजह से विवाद हो गया है. तृणमूल कांग्रेस ने इस विज्ञापन को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है, तो भाजपा ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश सरकार जहां एक्सप्रेसवे का निर्माण करती है, वहीं पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी शासन में फ्लाईओवर धराशायी हो जाते हैं. यूपी मैं पाँच साल मैं सब अनजाने मैं हुआ अंजाने मे नहीं, बार बार हुआ है. ऐसी बहोत सी गलतियां है ईन 7 सालो मे अंजाने मे... 😛😛😛

भारत ने पहली बार माना, तालिबान के पास पूरे अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता - BBC News हिंदीपेगासस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, असदउद्दीन ओवैसी पर भाजपा नेता राधा मोहन सिंह का बयान, साथ में आज के अख़बारों की अन्य अहम सुर्खियां. 😀🤗😇😡 Isme bhi BJP ki pic chipka di 😂😂 शीर्षक कुछ, खबर कुछ 🙄🙄 सबेरे सबेरे फूंक लिए हो का 😂😂😂