Quad, Quadsummit, Foreignsecretary, Harshvardhanshringla, Foreign Secretary, Harsh Vardhan Shringla, Agenda Of Quad Summit İn Us, Quad On Indo-Pacific, Quad Countries, Indo Pacific Region, India, Australia, Japan, Joe Biden, Pm Narendra Modi, Scott Morrison, Yoshihide Suga, Jagran Mudda, Agenda Of Quad Summit, Quad Summit İn United States, क्वाड, Quad On Afghanistan Crisis, South China Sea, Jagran Mudda, Jagran Plus, अफगानिस्तान संकट, दक्षिण चीन सागर, भारत, जापान, अमेरिका, आस्ट्रेलिया, क्वाड शिखर सम्मेलन

Quad, Quadsummit

अंतरराष्‍ट्रीय कूटनीति के लिहाज से क्वाड शिखर सम्मेलन बेहद अहम, जानें क्‍या होगा भारत का एजेंडा

अंतरराष्‍ट्रीय कूटनीति के लिहाज से क्वाड शिखर सम्मेलन बेहद अहम, जानें क्‍या होगा भारत का एजेंडा #QUAD #QuadSummit #ForeignSecretary #HarshVardhanShringla

20-09-2021 19:10:00

अंतरराष्‍ट्रीय कूटनीति के लिहाज से क्वाड शिखर सम्मेलन बेहद अहम, जानें क्‍या होगा भारत का एजेंडा QUAD Quad Summit ForeignSecretary HarshVardhanShringla

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 24 सितंबर को वाशिंगटन में क्वाड समूह की बैठक में शामिल होंगे। अंतरराष्‍ट्रीय कूटनीति के लिहाज से यह बैठक बेहद महत्‍वपूर्ण मानी जा रही है। आइए जानें क्वाड शिखर सम्मेलन में क्‍या होगा भारत का एजेंडा...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 24 सितंबर को वाशिंगटन में क्वाड समूह की बैठक में शामिल होंगे। इसके बाद वह 25 सितंबर को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly, UNGA) के 76वें सत्र की एक उच्च स्तरीय बैठक को भी संबोधित करेंगे। गौर करने वाली बात यह कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) खुद 24 सितंबर को व्यक्तिगत मौजूदगी वाले पहले क्वाड शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेंगे। ये बैठकें अंतरराष्‍ट्रीय कूटनीति के लिहाज से बेहद महत्‍वपूर्ण मानी जा रही हैं। आइए जानें क्वाड शिखर सम्मेलन में क्‍या होगा भारत का एजेंडा... 

सिंघु हत्याकांड पर फूटा 'फोटो बम': निहंग प्रमुख का सम्मान करते कृषि मंत्री तोमर की फोटो वायरल, किसान नेता बोले- ‌लखबीर की हत्या BJP की साजिश भास्कर एक्सप्लेनर: कश्मीर से कन्याकुमारी जहां जाइए वहां मिलेंगे बिहारी, आखिर बिहार से क्यों होता है इतना पलायन? महाराष्ट्र सरकार औऱ ड्रग माफियाओं के बीच क्या है कनेक्शन, आर्यन खान केस में शिवसेना नेता की याचिका पर भड़की बीजेपी

बाइडन के साथ द्व‍िपक्षीय बैठक भी करेंगे पीएम मोदी समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक क्वाड शिखर सम्मेलन से इतर राष्ट्रपति जो बाइडन 24 सितंबर को पीएम नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय बैठक भी करेंगे। यही नहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर भी न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर कई द्विपक्षीय और बहुपक्षीय बैठकें करेंगे। भारत की विदेश नीति के लिहाज से भी ये बैठकें बेहद महत्‍वपूर्ण साबित होने वाली हैं।

जलवायु परिवर्तन और कोरोना संकट भी बड़ी समस्‍या विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्र‍ृंगला ने सोमवार को बताया कि व्यक्तिगत मौजूदगी वाले पहले क्वाड शिखर सम्‍मेलन के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के आमंत्रण पर भारत इसमें हिस्सा लेगा। क्वाड फ्रेमवर्क के तहत इसमें सहयोग का एजेंडा रचनात्मक होगा। क्वाड गठबंधन के चारों देश ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका इंफ्रास्क्ट्रचर कनेक्टिविटी, उभरती तकनीक, जलवायु परिवर्तन, शिक्षा और कोरोना संकट पर काम कर रहे हैं। खास तौर पर कोविड-19 रोधी वैक्सीन आपूर्ति को लेकर आपसी सहयोग से काम हो रहा है। headtopics.com

 यह भी पढ़ेंचीन की आक्रामकता भी बड़ा मुद्दा विदेश सचिव (Foreign Secretary Harsh Vardhan Shringla) ने कहा कि आपूर्ति श्रृंखलाओं को अधिक लचीला और विश्वसनीय बनाने के लिए उन्हें विश्वसनीय और विविधतापूर्ण बनाने की जरूरत है। यही जरूरत हमें एक साथ काम करने का मौका दे रही है। हम आपूर्ति श्रृंखला के लचीलेपन को लेकर की जा रही पहलकदमियों में कवाड राष्ट्रों के साथ शामिल हैं। पड़ोसी देशों से सामने आ रही चुनौतियों पर श्रृंगला ने कहा कि अफगानिस्तान और पूर्वी सीमा पर चीन हमें नई वास्तविकताओं का आभास करा रहे हैं।

यह भी पढ़ेंआतंकवाद अभी भी एक गंभीर चुनौतीविदेश सचिव (Harsh Vardhan Shringla) का यह बयान क्‍वाड शिखर सम्‍मेलन के एजेंडे की ओर भी इशारा करता है। इस बयान से साफ संकेत मिल रहा है कि क्‍वाड शिखर सम्‍मेलन में अफगानिस्‍तान और चीन की आक्रामकता का मुद्दा भी छाया रहेगा। अफगानिस्‍तान में तालिबान की वापसी और पाकिस्‍तान का तालिबान सरकार के साथ खुलकर आना बदलते अंतराष्‍ट्रीय परिदृय की ओर इशारा करते हैं। इससे पूर्व के हुए सम्‍मेलनों में उठाए गए मुद्दों से भी स्‍पष्‍ट संकेत मिलता है कि आतंकवाद अभी भी एक गंभीर चुनौती बना हुआ है।

यह भी पढ़ेंहिंद प्रशांत क्षेत्र, अफगान संंकट पर भी चर्चा संभव समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक हाल ही में क्वाड देशों के राजदूतों ने कोविड-19 महामारी, जलवायु परिवर्तन, नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की प्रतिबद्धता के महत्व को रेखांकित किया था। यही नहीं अमेरिका बार बार हिंद प्रशांत क्षेत्र में सहयोग को मजबूत करने का संकेत देता आया है। पीटीआइ के मुताबिक क्वाड शिखर सम्मेलन में मुक्त और समावेशी हिंद प्रशांत क्षेत्र, अफगानिस्तान में जारी संकट समेत तमाम समसामयिक चुनौतियों पर चर्चा किए जाने की संभावना है। हाल ही में अमेरिका का पाकिस्‍तान के प्रति सख्‍त रुख भी एक बड़ा संकेत दे रहा है।

यह भी पढ़ेंसाइबर स्पेस पर भी चर्चा संभवविदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि सम्‍मेलन में क्‍वाड देशों के नेता अपसी संबंधों को गहरा करने के साथ साथ उभरती प्रौद्योगिकियों और साइबर स्पेस पर साझेदारी के मसले पर भी ध्‍यान केंद्र‍ित करेंगे। सम्‍मेलन में स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक को बढ़ावा देने जैसे क्षेत्रों में आपसी सहयोग को आगे बढ़ाने पर भी चर्चा संभव है। कोरोना महामारी के साथ साथ जलवायु संकट पर भी विचार विमर्श संभव है। वैसे मौजूदा वक्‍त में दक्षिण चीन सागर में शी चिनफिंग की बढ़ती आक्रामकता भी एक बड़ी चुनौती बनी हुई है। headtopics.com

LIVE News Today: यूपी चुनाव में 40% टिकट महिलाओं को देगी कांग्रेस, प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान बेहद शानदार है UP का कुशीनगर एयरपोर्ट, कल PM नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन - देखें PHOTOS नवजोत कौर का कैप्टन को खुला चैलेंज: अमृतसर से चुनाव लड़ें पॉपुलैरिटी पता चल जाएगी, पाकिस्तानी को घर में रखना ज्यादा खतरनाक

यह भी पढ़ेंयूएनजीए यह होगा एजेंडावहीं संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में भारत पूरी ताकत से आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन, कोरोना रोधी वैक्सीन की उपलब्धता, हिंद-प्रशांत एवं संयुक्त राष्ट्र में सुधार जैसे वैश्विक मुद्दे उठाएगा। विश्व के सर्वोच्च निकाय में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि कोविड-19 महामारी और अफगानिस्तान के घटनाक्रम संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र में प्रभावी रहने के आसार हैं। तिरुमूर्ति ने कहा कि कोविड-19 महामारी और इसके मानवीय प्रभाव के अलावा अन्य मुद्दे सत्र के उच्चस्तरीय हिस्से में प्रभावी रह सकते हैं।

और पढो: Dainik jagran »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

इस हफ्ते वाशिंगटन में क्वाड देशों की पहली बैठक, अंतर्विरोध दूर करने की होगी चुनौतीइस सप्ताह वाशिंगटन में क्वाड देशों की पहली वैयक्तिक शिखर बैठक विश्व राजनीति की दशा-दिशा बदलने वाली साबित हो सकती है। समन्वय मजबूत करें तो स्वाभाविक है कि जिसे खबरदार किया जा रहा है उसके कानों में चेतावनी गूंजेगी।

हिंद-प्रशांत: क्षेत्र पर बाइडन प्रशासन का विशेष ध्यान, अमेरिकी विशेषज्ञों ने क्वाड सम्मेलन को बताया बेहद अहमहिंद-प्रशांत क्षेत्र: विशेष रूप से है बाइडन प्रशासन का ध्यान, अमेरिकी विशेषज्ञों ने क्वाड सम्मेलन को बताया बेहद अहम IndoPacific Region America POTUS PMO India QUAD POTUS PMOIndia POTUS PMOIndia Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP AITC4Gujarat AITCofficial AITC_Parliament BanglarGorboMB

क्वाड करेगा कमाल! अफगानिस्तान, दक्षिण चीन सागर में बढ़ते चीनी वर्चस्व को लेकर टिकी दुनिया की नजरेंचीनी वर्चस्व को थामने के लिए भारत जापान अमेरिका और आस्ट्रेलिया ने क्लाड्रीलैटरल सिक्योरिटी डायलाग यानी क्वाड ( QUAD ) का गठन किया। अब 24 सितंबर को अमेरिका में इसकी बैठक होने जा रही है। क्वाड देशों की मीटिंग पर दुनिया की नजरें टिकी।

मोदी-बाइडन मुलाकात तय: शुक्रवार को वॉशिंगटन में पहली बार होंगे रूबरू, क्वाड बैठक में भी शामिल होंगेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 सितंबर को अमेरिका रवाना होंगे। वे वहां क्वाड देशों की शिखर बैठक व यूएन महासभा की बैठक में वहाँ जाकर बोल देना अब कि बार ट्रम्प सरकार। किस मुह से मिलेंगे बायडन से। शरम है क्या। बेशरम। एक बार जोर से बोलो अब की बार ट्रम्प सरकार।।

हिंद-प्रशांत: क्षेत्र पर बाइडन प्रशासन का विशेष ध्यान, अमेरिकी विशेषज्ञों ने क्वाड सम्मेलन को बताया बेहद अहमहिंद-प्रशांत क्षेत्र: विशेष रूप से है बाइडन प्रशासन का ध्यान, अमेरिकी विशेषज्ञों ने क्वाड सम्मेलन को बताया बेहद अहम IndoPacific Region America POTUS PMO India QUAD POTUS PMOIndia POTUS PMOIndia Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP AITC4Gujarat AITCofficial AITC_Parliament BanglarGorboMB

Aukus से झल्लाए चीनी मीडिया ने इसे भारत के लिए बताया झटका - BBC News हिंदी अमेरिका , ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच सुरक्षा साझेदारी को लेकर एक समझौता हुआ है जिसे ऑकस नाम दिया गया है. इसकी चीन और उसका सरकारी मीडिया लगातार निंदा कर रहा है. Let face this fact, sooner or later. Close relations with the United states only gonna benefit US only. India's role with US will always remain as minor, because of US ignorance. So better for New Delhi must be is maintain its strategic autonomy. & China is simmering into chaos.