World Soil Day 2021: यहां के किसान अब जैविक खेती की राह पर, हो रहा आर्थिक लाभ और खेत की उर्वरा शक्ति भी बरकरार

#WorldSoilDay2021: यहां के किसान अब जैविक खेती की राह पर, हो रहा आर्थिक लाभ और खेत की उर्वरा शक्ति भी बरकरार #WorldSoilDay

Worldsoilday 2021, Worldsoilday

05-12-2021 12:55:00

WorldSoilDay2021: यहां के किसान अब जैविक खेती की राह पर, हो रहा आर्थिक लाभ और खेत की उर्वरा शक्ति भी बरकरार WorldSoilDay

World Soil Day 2021 दुनिया में हर साल 5 दिसंबर को विश्व मृदा के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों को हो रहे मृदा प्रदूषण के प्रति जागरूक करना है। दिसंबर 2013 को संयुक्त राष्ट्र महासभा की की बैठक में विश्व मृदा दिवस मनाने का संकल्प लिया गया।

World Soil Day 2021 दुमका के किसानों को अब जैविक खेती करना सुहाने लगा है। हालांकि जिले में अभी इनकी संख्या सैकड़ों में ही है, लेकिन इससे जुड़े किसानों का कहना कि भविष्य में अगर जैव खाद सहजता से उपलब्ध हो जाए तो बड़ी संख्या में किसान इससे जुड़ जाएंगे। बहरहाल, संताल परगना प्रमंडल में एकमात्र दुमका जिला में जीवाणु खाद का प्रयोग कर किसानों ने खेती करना शुरू किया है। इस वर्ष तकरीबन 475 एकड़ भू-भाग पर जैव खेती का लक्ष्य तय है। जिसमें तकरीबन 100 किसान खरीफ में धान और गैर दलहनी फसलों की खेती जैविक खाद के जरिए करेंगे। जबकि दलहनी फसलों की खेती करने वाले किसानों की तादाद करीब 400 के आसपास होगी।

MP: घर आईं नवजात जुड़वां बेटियां रिद्धि सिद्धि, किसान ने रथ पर बिठाकर 2KM लंबा जुलूस निकाला

यह भी पढ़ेंरामगढ़ और शिकारीपाड़ा के किसानों ने अपनाया है जैविक खेतीदुमका के रामगढ़ और शिकारीपाड़ा के किसानों ने जैविक खाद को अपना जैविक खेती कर रहे हैं। पिछले साल भी तकरीबन 325 एकड़ भू-भाग पर जैविक खेती की गई थी, जिसका परिणाम काफी सुखद था। इस वर्ष रामगढ़ और शिकारीपाड़ा के गमरा के अलावा विशुबांध के सुशील सोरेन, लखी सोरेन, सुमंत सोरेन, सुनीलाल बास्की एवं रूपलाल बास्की ने भी जैव खेती करने का निर्णय लिया है। रामगढ़ के बंसदुमा के बुधराय मुर्मू, मंडल हेंब्रम, बारिश मुर्मू, कुरूमटांड के मिस्त्री हेंब्रम, सनथ मुर्मू, नोरेन सोरेन, जियापानी के फणीभूषण मांझी, भुवनेश्वर मांझी, जरमुंडी के पूरन मंडल एवं मसलिया प्रखंड के बरमसिया के सुरेश टुडू जैविक खेती को बढ़ावा दे रहे हैं।

यह भी पढ़ेंधान और गैर दलहनी फसलों के लिए एजेनोबैक्टर और पीएसपी का प्रयोगकिसानों को कम खर्च पर खेती और रसायनिक खादों से निर्भरता कम करने के उद्देश्य से जैविक खेती को बढ़ावा देने की पहल हो रही है। इसके लिए जीवाणु खाद को विकल्प के तौर पर किसानों को अपनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। एजेनोबैक्टर और पीएसपी जैसे जीवाणु खाद मात्र 15 रुपये में 100 ग्राम की मात्रा उपलब्ध ह, जिसका प्रयोग आधा एकड़ जमीन के लिए तय बीज की मात्रा में किया जा सकता है। मात्र 150 रुपये के करीब खर्च कर किसान एक एकड़ भू-भाग पर बिना रसायनिक खाद के प्रयोग किए बेहतर खेती कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए जरूरी यह है कि मिट्टी के पोषक तत्वों की जांच करा लेने के बाद इसका उपयोग ज्यादा प्रभावी है। एजेनोबैक्टर हवा से नाइट्रोजन लेकर नाइट्रोजन को खाद के फार्म में बदलता है। इससे पौधे को प्रचुर मात्रा में नाइट्रोजन मिलता है। जबकि, फास्फेट साल्यूबलाइङ्क्षजग बैक्टेरिया नन-साल्यूबल फास्फोरस को साल्यूबल बनाता है। इससे पौधे को फास्फोरस मिलता है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंपहाड़पुर के किसान कर रहे वर्मी कंपोस्ट से सब्जी व फल की खेतीरामगढ़ प्रखंड के पहाड़पुर गांव के किसान बीते दो साल से सिर्फ वर्मी कंपोस्ट का इस्तेमाल कर सब्जी और फल की खेती कर रहे हैं। बीते वर्ष इस गांव के तकरीबन दो दर्जन से अधिक किसानों ने पांच हेक्टेयर में हरी सब्जी की खेती औसतन एक किसान पांच से छह हजार रुपये की आमदनी किए थे जो रासायनिक खाद के खेती से अपेक्षाकृत एक से दो हजार रुपये ज्यादा थी। इस बार यही किसान जैविक आलू की भी खेती कर रहे हैं। इसी गांव के बलदेव मुसूप केले की जैविक खेती कर 70-80 हजार रुपये की कमाई कर चुके हैं। जबकि, गांव के राजधन मुसूप, नेमानी मुसूप, चिगडू मुसूप, महेश मुसूप समेत कई किसान सामूहिक रूप से आम का बागीचा लगाए हैं, जिससे पिछले साल सवा लाख रुपये की आमदनी हुई है। इस बागीचा में भी जैविक खाद का ही प्रयोग किया जा रहा है। किसानों को जैविक खेती के लिए प्रेरित करने वाले प्रेम कुमार साह के मुताबिक पहाड़पुर में तकरीबन दो दर्जन किसान खुद वर्मी कंपोस्ट तैयार करते हैं। इन्हें उद्यान विभाग, आत्मा और कृषि विज्ञान केंद्र से भी समय-समय पर जैविक खेती के लिए प्रशिक्षित व प्रोत्साहित किया जाता है। पहाड़पुर के बलदेव मुसूप कहते हैं कि वह किसान क्लब से जुड़कर आसपास के गांव तालझरनी, मोहनपुर, तुलसी, झापरडीह, गोविंददपुर के अलावा कई गांवों के किसानों को जैविक खेती करने और मिट्टी की उर्वरा शक्ति बचाए रखने के लिए जागरूक व प्रेरित कर रहे हैं जिसका सुखद परिणाम सामने आ रहा है।

‘केंद्र कर रही सम्मान, आप क्यों नहीं’, पद्मश्री मिलने के बाद धरने पर बैठा ये 'गूंगा पहलवान'

यह भी पढ़ेंबिरसा कृषि विश्वविद्यालय में जीवाणु खाद तैयार किया जाता है। चूंकि जीवाणु खाद बाजार में उपलब्ध नहीं है इसलिए किसानों की सहज पहुंच इस तक नहीं है। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए दुमका में कृषि विज्ञान केंद्र में जैविक खाद उपलब्ध हैैं। जैविक खाद के प्रयोग रसायनिक खाद का प्रयोग करने की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके अलावा किसानों को गोबर से तैयार खाद, वर्मी कंपोस्ट के प्रयोग के लिए प्रेरित व प्रशिक्षित किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-डा.अजय कुमार द्विवेदी, वरीय कृषि विज्ञानी, केवीके, दुमकासमय-समय पर आत्मा की ओर से किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रशिक्षण देने की पहल की जाती है। क्षेत्र भ्रमण के दौरान भी किसानों को जैविक खेती से होने वाले लाभ के बारे में जानकारी देकर इसे अपनाने के लिए जागरूक किया जाता है। इसका परिणाम भी सुखद मिलने लगा है। किसान इस ओर रूख कर रहे हैं।

-संजय मंडल, परियोजना उप निदेशक, आत्मा, दुमकायह भी पढ़ेंक्या मनाया जाता विश्व मृदा दिवसदुनियाभर में आज के दिन को विश्व मृदा के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों को हो रहे मृदा प्रदूषण के प्रति जागरूक करना है। आज के समय में लोगों द्वारा मिट्टी का भरपूर तरीके से दुरुपयोग किया जा रहा है। लोगों को मिट्टी की गुणवत्ता बताने के लिए ही विश्व मृदा दिवस मनाया जाता है। इसी शुरूआत दिसंबर 2013 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 68वीं सामान्य सभा की बैठक में पारित संकल्प के द्वारा 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस मनाने का संकल्प लिया गया था। इस दिवस को मनाने का उदेश्य किसानों के साथ आम लोगों को मिट्टी की महत्ता के बारे में जागरूक करना है। headtopics.com

सूरत: मकर संक्रांति के दिन हुई बछड़े और बछिया की शादी, धूमधाम से निकली बारात

और पढो: Dainik jagran »

कोरोना की पाबंदियों के बीच होंगे चुनाव, किस पार्टी को मिलेगी जीत? देखें शखंनाद

चुनावी शंखनाद शुरू हो चुका है. चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव का ऐलान कर दिया है. नेताओं ने कमर कस ली है. वहीं कई पाबंदियां लागू हो चुकी हैं. सबके अपने दावे हैं, सबके अपने वादे हैं. इस बार मतदाताओं की संख्या बढ़ी है. ऐसे में कोरोना और मतदाताओं की संख्या को देखते हुए चुनाव आयोग ने पूरा प्लान तैयार किया है. चुनाव आयोग की तारीखों के ऐलान के बाद देश के सबसे बड़े सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ की प्रतिक्रया भी सामने आई है. देखें कैसे तारीखों के ऐलान के बाद शुरू हुआ बयानों का दौर.

पाकिस्तान: पैगंबर के पोस्टर फाड़ने के आरोप में श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर शव को जलायापुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि श्रीलंकाई नागरिक प्रियंता कुमारा सियालकोट जिले में एक कारखाने में जनरल मैनेजर के तौर पर कार्यरत था। Pathetic nation.

हुड़दंग के आरोप में निलंबित सांसदों का धरना, संसद में विपक्ष के रवैए पर उठा सवालहुड़दंग के आरोप में निलंबित सांसदों के धरने पर बैठे रहने की जिद के बाद भी राज्यसभा में कामकाज चल निकलना यही बताता है कि ये सांसद एक हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। विपक्षी दल इन सांसदों का साथ देकर न केवल अपना नुकसान कर रहे हैं। लोकतंत्र की रक्षा के लिए धरना और प्रदर्शन संवैधानिक अधिकार है सत्ताधारी दल हमेशा से दबाने का प्रयास करते आए हैं चाहे अंग्रेजों से देखा जाए या अंग्रेजों के अनुयायियों से लेकिन जनता को अपनी आवाज शांतिपूर्ण ढंग से धरना और प्रदर्शन के माध्यम से उठाना ही पड़ेगा भूख हड़ताल भी

कर्नाटक-गुजरात के बाद महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन की दस्तक, भारत में अब तक चार संक्रमितदेशभर में कई जगह कोरोना के मामले हर रोज सामने आ रहे हैं. ऐसे में केंद्र सरकार सहित राज्य सरकारें अलर्ट मोड पर हैं. लोगों से कोरोना गाइडलाइंस का पालन करने की अपील की जा रही है. केंद्र सरकार ने राज्यों को पत्र लिखकर भी दिशा निर्देश जारी किए हैं.

नगालैंड में सेना के ऑपरेशन में आम लोगों की मौत से तनाव - BBC News हिंदीनगालैंड के मोन ज़िले के ओटिंग इलाक़े में शनिवार रात को सुरक्षाबलों की कार्रवाई में कई आम लोगों के मारे जाने की ख़बर है. पंजाब आज से पैंतीस साल पहले यह सब देख चुका है.. SackTeni4LakhimpurJustice तोबा तोबा सेना जनता की हिफाजत के लिए है ना कि उन्हें मारने के लिए۔ (((माँ काली की शक्तिः मेरी भक्ति)))� (,.शक्तियो और साधना का मात्र एक स्थान 100%चमत्कार_देखें_घर_बैठे_72_घंटो_में_100_%_ गरंटीड_उपाय +91-8764713798 just call me ((*स्पेसलिस्ट_प्रेमी_वशीकरण))(मनचाहा प्यार )� (काम-कारोबार)� ( पति - पत्नी में अनबन)' समस्या है तो समाधान भी है '

पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक की लिंचिंग में 118 गिरफ्तार, श्रीलंका के पीएम ने की वारदात की निंदा, निष्पक्ष जांच की मांगपंजाब के पुलिस महानिरीक्षक राव सरदार अली खान व प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता हसन खावर ने शनिवार को प्रारंभिक जांच रिपोर्ट साझा करते हुए कहा कुमारा पर उस पोस्टर को फाड़ने और कूड़ेदान में डालने का आरोप था जिस पर कुरान की कुछ आयतें लिखी हुई थीं। जो कभी नहीं होगी। पाकिस्तान से निष्पक्ष जांच की आशा n रखे। गिरफ्तारी का नाटक तो पुराना शगल है जिहादिस्तान का।

'मुंबईकर' के आगे भारत के शेर ढेर: मुंबई में जन्मे एजाज ने टीम इंडिया के सभी 10 विकेट लिए, कुंबले के रिकॉर्ड की बराबरी कीभारत में क्रिकेट का गढ़ है मुंबई। मुंबई ने भारत के लिए खेलने वाले एक से बढ़कर एक क्रिकेटर दिए हैं। इन खिलाड़ियों ने दुनियाभर में जाकर विपक्षी टीम को परास्त किया है। लेकिन, आज इसी मुंबई में पैदा हुआ एक खिलाड़ी भारतीय टीम के लिए उलझन बन गया। न्यूजीलैंड के लिए खेल रहे एजाज खान ने भारतीय बल्लेबाजों के गुरूर को उसी जमीन पर ला दिया जहां वो पैदा हुए थे। | Ajaz Patel Wickets Video; Shubman Gill, Virat Kohli Shreyas Iyer Out By Spinners | IND vs NZ 2nd Test