Orange Orchard, Coronavirus, Covid 19, Treatment İn Ground

Orange Orchard, Coronavirus

MP: संतरे के बाग में हॉस्पिटल और झोला छाप डॉक्टरों के भरोसे हैं ये कोविड मरीज

मध्य प्रदेश में झोलाछाप डॉक्टर पेड़ पर बोतलें लटका कर मरीज़ों का इलाज कर रहे हैं.

06-05-2021 11:57:00

मध्य प्रदेश में झोलाछाप डॉक्टर पेड़ पर बोतलें लटका कर मरीज़ों का इलाज कर रहे हैं.

देशभर में कोरोना के मामलों में हो रही बढ़ोतरी के चलते अस्पतालों में बुरा हाल है. कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने से अस्पतालों में बेड कम पड़ गए हैं, जिस्से मरीजों को अपना इलाज कराने में काफी मुश्किलों को सामना कर पड़ रहा है. कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण स्वास्थ्य सेवाओं का हाल बेहाल है. वहीं, हालत यह हैं कि सुसनेर में झोलाछाप डॉक्टर पेड़ पर बोतलें लटका कर मरीज़ों को स्लाइन चढ़ा रहे हैं. यह मामला सुसनेर से पिड़ावा राजस्थान की ओर जाने वाले रास्ते पर ग्राम धान्याखेडी से करीब आधा किलोमीटर दूर का है.

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना के मामलों में हो रही बढ़ोतरी के चलते अस्पतालों में बुरा हाल है. कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने से अस्पतालों में बेड कम पड़ गए हैं, जिससे मरीजों को अपना इलाज कराने में काफी मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा है. कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण स्वास्थ्य सेवाओं का हाल बेहाल है. वहीं, हालत यह हैं कि सुसनेर में झोलाछाप डॉक्टर पेड़ पर बोतलें लटकाकर मरीज़ों को स्लाइन चढ़ा रहे हैं. भोपाल से करीब 200 किलोमीटर दूर यह मामला सुसनेर से पिड़ावा राजस्थान की ओर जाने वाले रास्ते पर ग्राम धान्याखेडी से करीब आधा किलोमीटर दूर का है.

पेट्रोल-डीजल में लगी 'आग' से अब NDA में शुरू हुआ मतभेद, JDU ने कहा- कीमतें अब चुभने लगी हैं UN में मोदी का भाषण: प्रधानमंत्री ने कहा- पवित्र धरती को हमने मां का दर्जा दिया, 10 साल में 30 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में पेड़ भी लगाए पेट्रोल-डीज़ल की रिकॉर्ड कीमतों पर बोले पेट्रोलियम मंत्री- लाभकारी योजनाओं के लिए धन बचा रहे

यह भी पढ़ें#कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण स्वास्थ्य सेवाएं बेहाल हैं, सुसनेर में झोलाछाप डॉक्टर पेड़ पर लटाकर मरीज़ों को स्लाइन चढ़ा रहे हैं, गांववाले डरे हैं कि सरकारी अस्पताल में अगर इलाज कराने गए तो कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया जाएगा #CovidIndia#COVIDEmergencyIndiapic.twitter.com/KhsZvxSz8E

— Anurag Dwary (@Anurag_Dwary) May 5, 2021जानकारी के मुताबिक, यहां निजी चिकित्सक मुख्य सड़क से 200 मीटर की दूरी पर स्थित संतरे के एक बगीचे में दरी और कार्टून बिछाकर मरीज़ों का इलाज कर रहे हैं. वे मरीजों को पेड़ के नीचे लिटाकर उसपर बोतलें लटकाकर बीमारों को स्लाइन चढ़ा रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि इसी जगह पर आसपास के करीब 10 गांवों के मरीज बड़ी संख्या में अपना इलाज करवाने के लिए यहां पहुंच रहे हैं. headtopics.com

इलाज करा रहे मरीजों को न तो कोरोना का खौफ है और न ही उनके लिए 2 गज की दूरी और मास्क जरूरी है. Listen to the latest songs, only on JioSaavn.comयहां मौजूद मरीजों ने पूछे जाने पर बताया कि उन्हें इस बात का डर है कि अगर सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने गए तो उन्हें कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया जाएगा. इसी खौफ के चलते ग्रामीण क्षेत्रों के लोग झोलाछाप डॉक्टरों पर भरोसा करके इस तरह अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं. orange orchardcoronavirusटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | चुनाव 2021 (Elections 2021) के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें और जानें इलेक्शन रिज़ल्ट्स (Election Results) सबसे पहले |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

भास्कर एक्सप्लेनर: कोवीशील्ड को भी तो नहीं मिला है अमेरिका में अप्रूवल, फिर कोवैक्सिन से जुड़े फैसले पर क्यों मचा है बवाल?

अमेरिका ने कोवैक्सिन को इमरजेंसी यूज की अनुमति (EUA) देने से इनकार कर दिया। कई देशों में कोवैक्सिन लगवाने वालों को वैक्सीनेट लोगों में नहीं गिना जा रहा। इन खबरों के बाद सवाल उठ रहे हैं कि क्या स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन खराब है? क्या वह हमें कोरोनावायरस से सुरक्षित रखने में कमजोर है? यह ऐसे सवाल हैं, जिनके जवाब वैक्सीन लगवाने से जुड़े फैसलों को प्रभावित कर सकते हैं। | US FDA rejected Emergency Use Approval Application for Covaxin; All You Need To Know About Covaxin India Trial Data; क्या स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन खराब है? क्या वह हमें कोरोनावायरस से सुरक्षित रखने में कमजोर है?

Sir ye na ho to Hospital me Qadam rakhne ki bhi jagah nhi bachegi. Jhhola chhap hi h jo kafi had tak control kiye h कम से कम वो इलाज तो कर रहे हैं. किसीकी किडनी तो नहीं निकाल रहे. Respect those doctors 🙏 30 percent marks lekar doctor bane logo se to achha hai अगर झोला छाप डॉक्टर ना होते तो मरने वालों की संख्या बहुत बढ़ जाती,

What BJP rulers are doing there ? क्या करेगा जी लोगो को जो मिल रहा है उसी पर भरोसा किए जा रहे है ये बात आपको समझ में नहीं आएंगे क्योंकि आप लोग ac or बहुत बड़े आदमी हो न ओर किसी भी डाक्टर को झोला छाप मत बोलिए 🙏🙏🙏🙏 Yeh hukumat se aur kya umeed rakh sakte hai सुसनेर के धान्याखेड़ी गांव के झोलाछाप डॉक्टर का मामला , पंचायत सचिव को पड़ा महंगा । निलंबन का आदेश जारी ।

Mp men to asli bhagt ki sarkar h journoashish1 sahab 'कुछ हद तक ये झोला छाप डॉक्टर ही ग़रीबों की जान बचा रहे है क्यूँकि अमीरों ने तो धंधा बना लिया है ना🙏🏻 They charge 5 lacs minimum to each patient admitted in the hospital for 7 days and additionally they will make you run for the immunity booster and the SOLD IT IN BLACK

जब अगूठाछाप देश चला सकता ह तो झोलाछाप इलाज भी कर सकता ह।

बिहार के बक्सर के बाद अब यूपी के गाजीपुर में नदी में तैरते दिखे शवबिहार के बक्सर के बाद अब उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा के किनारे शव नजर आए. मंगलवार को गाजीपुर के गंगा तट पर कुछ शव दिखाए दिए. गाजीपुर और बक्सर के बीच करीब 55 किलोमीटर की दूरी है. बक्सर में सोमवार को करीब 100 शव पानी में तैरते हुए दिखाई दिए थे. इन लाशों को देखने के बाद बिहार के अधिकारियों ने तर्क दिया था कि यह उत्तर प्रदेश से आई हैं. अधिकारियों के अनुसार बिहार में शवों को पानी में डालने की परंपरा नहीं है. देश के हालात खराब कर दिए मोदी सरकार ने bycotmodgoverment मैली होती गंगा, रोती हुई जनता, मौत के सौदागर और तमाशेबाज प्रधान लाशों पर महल बनाने में व्यस्त! गंगा_मे_बहतीं_लाशें मोदी_है_तो_मातम_है मोदीजी_इस्तीफा_दो

और झोला छाप मामा DevSarkaar जब देश में इलाज की सुविधाओं का टोटा होगा तो यही झोलाछाप डॉक्टर काम करेंगे जो लोग इन झोला छाप डॉक्टर को स्पोर्ट कर रहे हैं, अगर जब मामला इनके हाथ से निकल जाये गा तब क्या करेंगे जिन्हें हम आप झोला छाप कहते है आज वही आधी आबादी के भगवान है। क्योंकि सिस्टम ही फेल है। झोलाछाप डॉक्टर्स की बदौलत ही इंडिया का ग्रामीण सामाज ज़िंदा है, वरना सरकारों से तो पूछो ही मत प्रति 1000 लोगों पर कितने डॉक्टर हैं इंडिया में.

My india is great Jaha ki MP ki hi pragya thakur ho, waha se kya ummeed karte hai aap This is a hope to escape from this pendamic. Something is better than nothing ये झोलाछाप डॉक्टर ही अपना घर्म निभा रहे हैं । जान के बादले माल नही लूट रहे हैं । कम से कम उनके पास बेड की वयवस्था है'और आक्सीजन संतरे दे रहे हैं ।

95 लाख डॉलर के आलीशान बंगले में रहती हैं एडेल, ब्रेकअप के बाद बनीं स्टारएडेल ने चार साल की उम्र से सिंगिंग में हाथ आजमाना शुरू कर दिया था। उनका मन पढ़ने से ज्यादा गायकी में लगता था।

I appreciate the work of jholachhap doc Achhi bat hai ki ilaaj ho rha nhi degree wale hospital me ilaaj km maut jyada ho rhi kyoki doctor to ilaaj ke nam per khanapurti kr rhe hai इनको इतनी बेज़्जती से संबोधित कर रहे है जैसे ये बहुत बड़ा अपराध कर रहे है,सच तो ये है की आज की इस स्थिति में विश्व के डॉक्टर्स भी सिर्फ प्रैक्टिस और ट्रायल कर रहे है,रोज कुछ अलग अलग तरीके सामने आते है।डॉक्टर्स ज्यादा होंगे प्राइमरी हेल्थ ज्यादा होंगी तो लोग इनके पास क्यों जायेंगे

At least they are doing something. Not sitting idle like you stuffed. भारत मे झोलाछाप डॉक्टरों की वजह से ही मौत का आंकड़ा कम है अभी तक वरना अभी तक आधा देश जल खत्म हो चुका होता। Is desh ki sarkar bhi to झोलाछापों के हाथ में है Jhola chap ne hi is corona mahamari m aadhe desh ko bacha rakha h vrna deegre dhari doctor n to lut Macha rakhi h

देश में करोना की हालत बत्तर पर इसके लिए सुप्रीम कोर्ट,हाईकोर्ट जिस प्रकार से दिशा निर्देश और अन्याय का साथ दे रहे यह हमारे देश का दुर्भाग्य है दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार की अनदेखी ,70 साल से कांग्रेस ने क्या किया जज को नही पता की कितने हॉस्पिटल व एम्स है What do u mean jhola shap doctor. They have 2 year diploma in medical.

भारत में 40,000 रुपये के अंदर खरीदने के लिए ये हैं बेस्ट स्मार्टफोन्स, देखें लिस्टभारतीय बाजार में एफोर्डेबल प्रीमियम स्मार्टफोन्स की संख्या बढ़ती ही जा रही है. कंपनियां आजकल 40 हजार रुपये के रेंज में भी बढ़िया स्मार्टफोन्स उपलब्ध करा रही हैं. इस रेंज में भी अब फ्लैगशिप लेवल स्मार्टफोन्स आने लगे हैं.

सही तो है, सरकार क्या कर सकती है जब सरकार को मंदिर बनाने के लिए चुना है लोगों ने और सरकार मंदिर बना रही है ☺️☺️☺️☺️ यह झोलाछाप डाक्टरों की वजह से ही गांव देहातों मे लोग जिंदा बचे हुए हैं। ओर सच तो यह है कि इन झोलाछापो को बीमारी की पकड है। यह 10 रुपये की दवाई से मरीज को ठिक कर देते हैं। शहर के डाक्टर 10000 रु की तो जांच करा देते हैं तब पता चलता है कि इसे तो केवल सर्दी जुकाम है।

Desh me bhi toh ek Jhola wala , Gareeb Chaywala Fakir Chokidaar etc ka raaj hai . Wo apna Aalishan Mehal bnvva raha . Ye janta ke Jaan bachhane ke koshish kr rhe . Ye sab log kumbh s lote hai आप झोलाछाप डॉक्टर की बात कर रहे हैं तो हमारा प्रधानमंत्री कौन सा पढ़ा लिखा है वह तो सबसे बड़ा झोलाछाप है। झोलाछाप डॉक्टर गरीबों के मसीहा हैं कम पैसे में गरीबों का इलाज तो कर रहे हैं। बड़े हॉस्पिटल और बड़े डॉक्टर मरीजों को लूटने का काम करते हैं। 10 रू की दवा 1000 में बेचते हैं।

लोग शहरों के डाक्टर, होस्पीटलो से डरने लगे है शायद At least this can give you some better knowledge and your time will also be utilise in good things. कम से कम झोला छाप डॉक्टर मरीजों को देखकर सरकार की सहायता ही कर रहें है। सोचो झोला छाप डॉक्टर के यहां इतने मरीज तो सोचो सरकारी हॉस्पिटल की क्या हालत होगी। सरकार मदद करने वाले इन झोला छाप डॉक्टर के बारे में सोचे। उत्तरप्रदेश, बिहार और मध्यप्रदेश में इन डॉक्टर ने सरकार की लाज बचाई ।

कम से कम वह लोगों की जान तो बचा रहे हैं

Kisan Andolan: किसानों के आंदोलन के विरोध में हैं मेट्रो मैन ई श्रीधरन, जानिए क्या कहाKisan Andolan मेट्रो मैन ई.श्रीधरन भी किसानों के धरना प्रदर्शन के विरोध में हैं। उनका कहना है कि जो लोग धरना देकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं वो किसान नहीं बल्कि बिचौलिए हैं। ये आंदोलन सिर्फ मोदी सरकार के विरोध में है उनको बदनाम करने के लिए है। श्रीधरन अब पूरा संघी कुत्ता बन चुका है वही भौंकेगा उतना ही भौंकेगा जितना कहा जाएगा Up Police me Constable aur SI ke logo ko Suvidha dilayiye Sir Aap Log,Khane pine ka HRA,DA,Vardi Bhatta,Rahane ke Aawas, Weekaly WOFF de, sabase Pahale Kam se kam 34000 Constable Ki Salary ho, Teacher ki kaha se Kaha Salary chali gayi hai,aur Constable ka khuch nahi huwa,Thanks.. METRO MAN के रूप मे सम्पूर्ण राष्ट्र आपका सम्मान करता है। कहाँ गंदी राजनीति के कीचड़ मे फस रहे हो। आप एक विधानसभा का चुनाव भी हार गए न। राजनीति आप जैसों के लिए नही है कृपया इससे आप परहेज करें तो उचित होगा।

अगर ये ग्रामीण चिकित्सा डॉक्टर नहीँ होते तो कोरोना से तबाही और भी ज्यादा होती. गांव में ना तो हॉस्पिटल होते हैं और ना ही प्राइवेट इलाज़ कराने के लिए पैसे, ऐसे में गांव वालों का वाज़िब दाम में बेहतर इलाज़ सिर्फ ये ग्रामीण चिकित्सा डॉक्टर ही कर सकते हैं. विश्वगुरु भारत की परिकल्पना है ये ndtv वालों ने कितनी मदद की है अभी तक कोरोना महामारी में लोगों की दहशत फ़ैलाने के अलावा ?

This is awesome of new india भाजपा राज है साहिब यहाँ अस्पताल नहीं मंदिर ज़रूरी है। गांव देहात में इन्ही की वजह से बहुत से लोग जिंदा है CNN govt still charging tax on medical equipment काहै रे एक ही खबर को केतना दिन घुमायेगा मतलब साफे भड़वेपन फर आ गेल हो का where should they go for treatment ? In cities there are no bed no oxygen no hospital available what do you expect from them to do ? Atleast they have Doctors may be its a JHOLACHAPP

Kam se kam ilaaj to mil rha h

बक्सर: कोरोना काल में गंगा में बह रही लाशों के पीछे जुड़ी है वर्षों पुरानी परंपराबिहार के बक्सर से कोरोना काल की सबसे भयानक तस्वीर आई, जहां गंगा नदी के महादेवा घाट के पास करीब 40 लाशें तैरती दिखाईं दीं. माना जा रहा था कि कोरोना की इस महामारी में लोग अपनों का अंतिम संस्कार नहीं कर पा रहे हैं, इसलिये लाशों को गंगा नदी में फेंक रहे हैं, लेकिन इसके पीछे की कहानी कुछ और ही है. sujjha गुलामी को सलाम ,गुलाम हो तो आ.....जेसा sujjha जो कुछ छुपाना हों छुपा लो ये सब ऊपर वाला देख रहा है sujjha Bas ab e hi sun na baki tha .....parampara wahhhh.......kitna giroge niche or

जी मैं आप झोलाछाप कह रहे हैं यही तो गरीबों के मसीहा हैं हे🚩 राम 😔 Dare marijon tumhe cobid ke kyu najar ate ha Direct Vitamin C ki Chhatra Chhaya. शुक्र मानिए हो तो रहा है bhai yaha jhola chap desh chala raha hai