Covidpandemic, Coronavirusupdates, Third Wave Of Corona, Covid Vaccination, National Health Mission, Head Of The Department Of Respiratory Medicine At Kgmu, Dr, Suryakant, Third Wave Of Corona Will Affect The Younger Age More, Corona Guidelines Of The Government Of India, How Dangerous Will This Third Wave, Corona İn İndia

Covidpandemic, Coronavirusupdates

How to outbreak third wave of Corona: कोरोना की तीसरी लहर के प्रकोप बचने क्‍या हैं महामंत्र, ऐसे कर सकते हैं अपना बचाव

तीसरी लहर के प्रकोप को खत्‍म करने के लिए उसके प्रसार को रोकने के लिए क्‍या कहते हैं हमारे विशेषज्ञ, जानिए ! #CovidPandemic #CoronaVirusUpdates

11-05-2021 13:36:00

तीसरी लहर के प्रकोप को खत्‍म करने के लिए उसके प्रसार को रोकने के लिए क्‍या कहते हैं हमारे विशेषज्ञ, जानिए ! CovidPandemic CoronaVirusUpdates

आइए जानते हैं कि तीसरी लहर के प्रकोप को खत्‍म करने के लिए उसके प्रसार को रोकने के लिए क्‍या कहते हैं हमारे विशेषज्ञ। कोरोना की तीसरी लहर का क्‍या स्‍वरूप होगा। यह लहर क‍ितनी खतरनाक होगी। आइए जानते इस बारे में क्‍या कहते हैं हमारे विशेषज्ञ डॉ. सूर्यकांत।

How to outbreak  third wave of Corona:कोरोना के दूसरी लहर के खौफ के बीच तीसरी लहर की आशंका व्‍यक्‍त की जा रही है। विषेशज्ञों का मानना है कि इस वर्ष सितंबर व अक्‍टूबर में तीसरी लहर आने की प्रबल आशंका है। यह भी संभावना व्‍यक्‍त की जा रही है कि कोरोना की तीसरी लहर कम उम्र वालों को ज्‍यादा प्रभावति करेगी। वैज्ञानिकों का कहना है कि तीसरी लहर को लेकर हमें सतर्क रहना होगा।

राजस्थान: पाकिस्तान की जीत पर खुशी मनाने वाली शिक्षिका को नौकरी से निकाला, FIR दर्ज - BBC Hindi टूलकिट केस: दिशा रवि के ख़िलाफ़ जांच में कुछ मिला नहीं, पुलिस फाइल कर सकती है क्लोज़र रिपोर्ट यूपी में छीनी जा रही दलितों की ज़मीन, भू-माफ़िया को रोकने में नाकाम दिखती योगी सरकार

तीसरी लहर के प्रकोप से बचने का महामंत्रकेजीएमयू लखनऊ में रेस्पिरेटरी मेडिस‍िन विभाग के अध्‍यक्षडॉ. सूर्यकांत (ब्रांड एंबेसडर, कोविड टीकाकरण, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन)ने बताया कि कोरोना वायरस अभी खत्‍म नहीं हुआ है, इसलिए तीसरी लहर आने की आशंका प्रबल है। हालांकि, डॉ सूर्यकांत का मानना है कि यदि हम भारत सरकार की गाइडलाइंस को कठोरता से फॉलो करें तो शायद कोरोना की तीसरी लहर के प्रकोप को सीमित किया जा सकता है, लेकिन शर्त यह है कि सभी को इसका दृढ़ता से पालन करना होगा।

उन्‍होंने कहा राज्‍यों को भी भारत सरकार की गाइडलाइंस को पूरी तरह से अमल में लाना होगा। उन्‍होंने कहा कि भारत सरकार की ये गाइडलाइंस विभिन्‍न वैज्ञानिकों एवं अनुभवी डॉक्‍टरों के परामर्श से तैयारी की जाती है। यह अनुभवों एवं शोध पर आधारित होती है। वैज्ञानिकों एवं अनुभवी डॉक्‍टरों का बड़ा तबका इस पर काम करता है। उन्‍होंने जोर देकर कहा कि गाइडलाइंस को फालो करके तीसरी लहर के प्रकोप, प्रसार और इसकी मारक क्षमता को घटा सकते हैं। इसके लिए कंटनमेंट, परीक्षण और उपचार को लेकर सभी तरह की गाइडलाइंस का पालन करके इसके प्रसार को रोका जा सकता है। headtopics.com

डॉ. सूर्यकांत का मानना है कि तीसरी लहर और ज्यादा खतरनाक होगी, क्योंकि इस बार के संक्रमितों में कोविड-19 के खिलाफ विकसित हुई इम्युनिटी तब तक खत्म हो चुकी होगी। बस एक ही रास्ता है कि सितंबर से पहले देश की एक बड़ी आबादी का टीकाकरण कर दिया जाए, ताकि कोरोना उतना प्रभावी न रह जाए। वे कहते हैं कि टीकाकरण को रफ्तार देने के लिए छोटे स्तर पर कार्ययोजना तैयार करने और उसके प्रभावी क्रियान्वयन की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि वास्‍तव में दुनिया की कोई वैक्‍सीन कोरोना वायरस के खिलाफ सौ फीसद प्रभावी नहीं है। 

उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीन के बाद भी 20 से 30 फीसद लोगों को यह खतरा बना रहता है कि दोबारा सकंमण हो जाए, लेकिन वैक्‍सीन लगवाने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि बीमारी घातक व गंभीर नहीं होने पाती है। वैक्‍सीन लगने के बाद भी आपको कोविड के प्रोटोकॉल का पालन करना है। क्‍योंकि टीका लगने के बाद भी वायरस आपके सांस मार्ग से प्रवेश कर सकता है और यह बाहर भी जा सकता है। अर्थात आप भी संक्रमित हो सकते हैं व दूसरों को भी संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह महामंत्र दवाई भी और कड़ाई भी असरदार है।

सरकार दूसरी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने की कोशिश में जुटी है। ऑक्सीजन की किल्लत को देखते हुए दुनिया के अन्य देशों से उत्पादन इकाइयों की स्थापना के लिए उपकरण आ रहे हैं। कोरोना जांच में भी तेजी लाई जा रही है। हालांकि, आपतकालीन स्थितियों से निपटने में टीकाकरण की रफ्तार प्रभावित हुई है। वैक्सीन की कमी की शिकायतों के बाद सरकार ने रूसी स्पुतनिक वी के इस्तेमाल की इजाजत तो दी ही, दुनिया की अन्य वैक्सीन के लिए भी भारत के दरवाजे खोल दिए। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने राज्यों को परिस्थितियों के अनुरूप माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने और स्थानीय लॉकडाउन लगाने की छूट दी है।

डॉ. सूर्यकांत ने कहा कि इस समय देश में 20 से 25 लाख टीका प्रतिदिन लगाया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि देश की आबादी के लिहाज से टीकाकरण की यह गति काफी धीमी है। इसकी गति को बढ़ाना होगा। उन्‍हाेंने एक आंकड़े के जरिए यह समझाने का प्रयास किया है कि यदि हम प्रतिदिन एक करोड़ टीका लगाते तो तीसरी लहर के पहले पूरे देश में टीकाकरण की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इससे संक्रमण के प्रसार को रोकने में मदद मिलेगी। इस बाबत उन्‍होंने इजराइल जैसे देशों का उदाहरण पेश किया। headtopics.com

Pak vs NZ T20WC 2021: पाकिस्तान की लगातार दूसरी जीत, न्यूजीलैंड को 5 विकेट से हराया लखीमपुर हिंसा: राष्ट्रपति से केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा की बर्ख़ास्तगी और गिरफ़्तारी की मांग अरविंद केजरीवाल राम के नाम से क्या हासिल करना चाहते हैं - BBC News हिंदी और पढो: Dainik jagran »

MP में मामा का नया अंदाज, VIDEO: बीच सड़क पर गाड़ी से उतरे शिवराज और वर्चुअली भाषण दिया, ट्रैफिक क्लियर करने को भी कहा

मध्यप्रदेश में उपचुनाव का प्रचार कर रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नया अंदाज सामने आया है। वे सड़क पर ही खड़े होकर खंडवा में मोबाइल से वर्चुअली लोगों को संबोधित करने लगे। इस दौरान कुछ लोग भी जुट गए। सीएम मोबाइल के साथ उन्हें भी देखकर संबोधित करने लगे। पुनासा की सड़क पर खड़े शिवराज के इस अंदाज का लोगों ने हाथ उठाकर स्वागत किया और वीडियो भी बनाए। | Shivraj Singh Chouhan made the road an election platform in MP MP में शिवराज सिंह चौहान ने सड़क को ही बना दिया चुनावी मंच

Help me *Ma delhi mein rahti hai * meri nabalik beti ke sath balatkar hua hai *Police FIR darj nahin kar rahi hai *Aur Mera Pati badmas ke dar ke Karan Ghar chhod kar chala Gaya hai *Main akele Apne bacchon Ko lekar rati ho *Kripya meri madad Karea Mob 9953080474 Humare visheshagy kahete hai pfizer ko bharat me vaccine bechne ki permission dedi jaye. Aur sirf ek company ko paisa kamane ka mauka naa mile par yahi moka Pfizer ko mile to 3re laher ka prakop khtam ho jaye ga. 🙏🏻

कहने से क्या hi रोकने का कोई जुगाड़ नही है इनके पास

Third Wave Of COVID-19: कोविड महामारी की तीसरी लहर से बचाव के पुख्ता उपायThird Wave Of COVID-19 केरल को वैक्सीन की जितनी खुराक दी गई थीं उससे ज्यादा टीकाकरण किया गया क्योंकि वहां की नर्सों ने इसका सर्वाधिक बेहतर इस्तेमाल किया है। महाराष्ट्र में लगभग हर अस्पताल में आक्सीजन का बफर स्टॉक है और मेडिकल आक्सीजन बनाने की व्यवस्था भी।

UP: CM Yogi Adityanath बोले- Corona की दूसरी लहर के खिलाफ युद्धस्तर पर काम जारीदेश के अन्य राज्यों की तरह उत्तर प्रदेश में भी कोरोना वायरस का कहर जारी है. आज (रविवार) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- कल से 11 और जिलों में 18 प्लस का टीकाकरण शुरू होगा. 7 जिलों में पहले से जारी है टीकाकरण अभियान. कोरोना की दूसरी लहर के खिलाफ युद्धस्तर पर काम जारी है. वाराणसी में 750 बेड का अस्पताल डीआरडीओ बना रहा है. दूसरी लहर को रोकने के लिए प्रयास सार्थक हो रहे हैं. देखें वीडियो. 🐷🐍😡 False Exactly, lower the testing by 1 lac lower the cases, well done sir.

Himachal Lockdown: हिमाचल प्रदेश में बढ़ी सख्ती, जानें क्या हैं नए प्रतिबंधशिमला न्यूज़: Himachal Pradesh Latest News: कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के मद्देनजर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई। बैठक के बाद राज्य में और सख्ती करने का फैसला किया गया।

द‍िल्ली: महज 10 दिन में तैयार 500 ICU बेड्स का अस्पताल, देखें क्या हैं खास इंतजामपूरा देश और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली कोरोना के कहर से जूझ रही है. कई लोगों ने महामारी में अपनी जान गंवा दी. गुरु तेग बहादुर(जीटीबी) अस्पताल के नजदीक रामलीला मैदन में महज 10 दिनों के भीतर 500 आईसीयू बेड्स वाले अस्पताल का निर्माण किया गया है. ये वेंटिलेटर्स बेड्स हैं. कोरोना की तीसरी लहर से पहले दिल्ली सरकार ने अपनी क्षमता बढ़ाई है. यहां ऑक्सीजन उत्पादन की भी व्यवस्था की गई है. देखें ग्राउंड रिपोर्ट. Lockdown+ testing+ vaccination. Strict lockdown bhot jaruri h. Jai hinf

केरल से ग्राउंड रिपोर्ट: पहली लहर के बाद से ही तैयारी शुरू की, वार्ड मैनेजमेंट के जरिए हर संक्रमित की निगरानी; ऑक्सीजन के मामले में किसी और पर निर्भर नहींनए मरीज, संक्रमण दर बढ़ने के बावजूद मृत्युदर सबसे कम रखने में कैसे कामयाब हुआ केरल? ऑक्सीजन संकट क्यों नहीं आया ? | Monitoring of every infected through ward management in Kerala; Self-sufficient in making oxygen fir vahan ka cm oxygen kyu mang rha tha centre se. Rahney do bhai that model is a flip model रहने दो भाई तुम से ना हो जाएगा, NDTV तुम्हारा पसंदीदा चैनल भी केरल ने ऑक्सीजन की कमी की खबर छाप चुका हूँ, ये वामपंथ झूठा अब तो नही चलेगा