Madhyapradesh, Goodnews, Farmers, Greenrobot, Jabalpur-Jagran-Special, Green Robot, Engineering Students, Google Map, Google Location, Gyan Ganga College, Jabalpur Hindi News, Madhya Pradesh News, Madhya Pradesh News

Madhyapradesh, Goodnews

Good News: अब खेती करना आसान बना देगा ग्रीन रोबोट, जबलपुर में इंजीनियरिंग के नौ विद्यार्थियों ने किया तैयार

अब खेती करना आसान बना देगा ग्रीन रोबोट, जबलपुर में इंजीनियरिंग के नौ विद्यार्थियों ने किया तैयार #MadhyaPradesh #GoodNews #Farmers #GreenRobot

24-10-2021 06:30:00

अब खेती करना आसान बना देगा ग्रीन रोबोट, जबलपुर में इंजीनियरिंग के नौ विद्यार्थियों ने किया तैयार MadhyaPradesh GoodNews Farmers GreenRobot

जबलपुर के ज्ञान गंगा निजी इंजीनियरिंग कालेज के मैकेनिकल कंप्यूटर साइंस और इलेक्ट्रिकल के विद्यार्थियों ने एक ऐसा ग्रीन रोबोट तैयार किया है जिसकी मदद से पौधे लगाने का काम आसान होगा। इसकी खासियत यह है कि यह पूरी तरह से बैटरी व मोबाइल एप से संचालित होता है।

जबलपुर के ज्ञान गंगा निजी इंजीनियरिंग कालेज के मैकेनिकल, कंप्यूटर साइंस और इलेक्ट्रिकल के विद्यार्थियों ने एक ऐसा ग्रीन रोबोट तैयार किया है, जिसकी मदद से पौधे लगाने का काम आसान होगा। इसकी खासियत यह है कि यह पूरी तरह से बैटरी व मोबाइल एप से संचालित होता है। यह गूगल मैप पर दिखाई लोकेशन पर जाकर पौधे लगा सकता है। इसे बनाने की लागत अभी करीब एक लाख रुपये आई है, मगर इस पर अभी और शोध किया जा रहा है, जिससे कि इसकी लागत को कम किया जा सके और किसानों के लिए इसे आसानी से उपलब्ध कराया जा सके।

शहर के निजी इंजीनियरिंग कालेज से मैकेनिकल कोर में पढ़ाई कर रहे प्रखर मणि त्रिपाठी बताते हैं कि उन्होंने एक साल पहले इसकी योजना बनाई और कालेज में साथ पढऩे वाले नौ विद्यार्थियों को इस मिशन में जोड़ा। इसके बाद टीम ने खेती की लागत को कम करने के लिए चार पहियों पर चलने वाला ग्रीन रोबोट तैयार किया है। इसकी खूबी की वजह से इसका पेटेंट करने के लिए आवेदन भी किया है।

ऐसे करता है काम- रोबोट पर करीब 100 पौधे एक बार में रखे जा सकते हैं। इनका वजन अधिकतम 15 किग्रा तक हो सकता है।- इसमें ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस ) लगा होता है, जिसके चलते दूर बैठा व्यक्ति मोबाइल एप के जरिये इसे वहां भेज सकता है, जहां पौैधे लगाने हैैं। headtopics.com

-चूंकि, अभी इसके खुद के मूवमेंट को ट्रक करने की सुविधा विकसित नहीं हुई है, ऐसे में इसे अपनी आंखों के सामने ही संचालित करना ज्यादा बेहतर होता है।-इसमें लोहे का एक पाइप लगा होता है, जो सबसे पहले ड्रिल की तरह काम करते हुए चार इंच तक का गड्ढ़ा तैयार करता है।

-इसके बाद लोहे के दूसरे पाइप की मदद से गड्ढ़ा में पौधा रखा जाता है। कौन सा पौधा लगाना है, उसके लिए रोबोट को कमांड देने का सिस्टम इसमें लगा हुआ है।- जिस पाइप के जरिये गड्ढ़ा खोदा गया था, उसी की मदद से पौधे के आस-पास मिट्टïी भरी जाती है।-रोबोट में एक अन्य पाइप भी लगा होता है, जिसके जरिये पौधे को सींचा भी जाता है। रोबोट पर ही छोटा सा पानी का टैैंक भी होता है।

-यह कितनी भी दूरी से संचालित किया जा सकता है, क्योंकि इसको इंटरनेट के जरिये कमांड दी जाती है। रोबोट में मोबाइल सिम लगी होती है, जिसके जरिये ही इससे संपर्क स्थापित होता है।- एक बार चार्ज करने पर यह लगभग डेढ़ से दो हजार पौधे लगा सकता है।इस तरह से चलता है

रोबोट में 60-60 वाट की मोटर का उपयोग इसके चारों व्हील के साथ किया गया है। इससे कुल 240 वाट की मोटर की पावर इसको मिलती है। इसके अलावा इसमें 12 वोल्ट की बैटरी का उपयोग किया गया है। इससे खेत में ऊंचे-नीचे रास्ते में भी यह ठीक तरह से चल सकता है। जरूरत के अनुसार इसकी क्षमता को घटाया या बढ़ाया जा सकता है। मसलन, मोटर को जरूरत के हिसाब से बदला जा सकता है। अलबत्ता, टीम इसको अपग्रेड करने की कोशिश कर रही है। इसमें कैमरा लगाने और पावर बढ़ाए जाने पर काम किया जा रहा है। headtopics.com

टीम में ये हैं शामिलटीम में प्रखर मणि त्रिपाठी के अलावा निशि पाटिल, प्रयाग जैन, आदित्य सिंह पटेल, गौरव पटेल, डा. वंदना रॉय, साक्षी नामदेव, सुरभि खुरसिया, डा. पूर्णिमा ब्यौहार शामिल हैं।जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के तहत संचालित राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में देशभर के 30 प्रोजेक्ट का चयन किया गया है, जिसमें इनका रोबोट भी शामिल है। अब विवि के एग्री बिजनेस यूनिट में रोबोट तैयार करे वाले विद्यार्थियों को दो माह का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है, जहां अनुभवी कृषि विज्ञानियों की मदद से ये रोबोट की खेती में उपयोगिता बढ़ाने और इसकी लागत कम करने पर काम कर रहे हैं। बाद में कृषि मंत्रालय इसे राष्ट्रीय स्तर पर परखेगा, जिसमें यह सफल रहा तो मंत्रालय इसे आगे बढ़ाने के लिए अनुदान भी देगा।

-डा. एसबी नहाटकर, प्रमुख, एग्री बिजनेस यूनिट, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालयकृषि के क्षेत्र पर संकट है। दूसरी पीढ़ी तैयार करना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में युवाओं को खेती के लिए आकर्षित करना जरूरी है। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के विज्ञानी इस ओर तेजी से काम कर रहे हैं। इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों द्वारा तैयार किए गए रोबोट को उपयोगी बनाने और उन्हें किसान तक पहुंचाने का काम चल रहा है। यह रोबोट खेती करने का तरीका बदल देगा।

-प्रो.प्रदीप बिसेन, कुलपति, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय और पढो: Dainik jagran »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

अफगानिस्तान में सैन्य अभियानों के लिए पाकिस्तानी एयरस्पेस का इस्तेमाल करने के समझौते के करीब अमेरिकाअमेरिकी प्रशासन ने शुक्रवार को सांसदों को सूचित किया कि उनका अफगानिस्तान में सैन्य और खुफिया अभियानों के संचालन के लिए पाकिस्तान से उसके हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल के लिए पाकिस्तान के साथ एक समझौते को औपचारिक रूप देने के करीब है। अच्छा है अब ठुकाई का समय आ गया । और तालिबानों की ठुकाई भी पाकिस्तान ही करवायेगा । इसी बहाने एमरोन खान को कुछ भीख में मिल ही जायेगा ।।।

'आरोपी हीं नहीं, शिकायतकर्ता भी हो जाते हैं लापता', जजों के सामने बोले महाराष्ट्र के सीएमसीएम उद्धव ठाकरे ने जस्टिस चंद्रचूड़ की बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि इस राज्य में आरोपी ही नहीं कई बार तो शिकायतकर्ता भी लापता हो जाते हैं. mewatisanjoo Anil Deshmukh - Aropi Parambir - Shikaykarta 🤣🤣 mewatisanjoo शासन आपका है। पुलिस आपकी है, प्रशासन आपका है, सत्ता भी आपकी है, तो फिर इन घटनाओं के प्रति जिम्मेदारी किसकी तय होगी?

गुलाम कश्मीर में पाकिस्तान के 1947 हमले के विरोध में व्यापक प्रदर्शन, आजादी समर्थक लगे नारेप्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तानी सेना और अन्य प्रशासकों से कब्जा किए गए क्षेत्र को छोड़ने की मांग की। पार्टी के चेयरमैन सरदार शौकत अली कश्मीरी ने कहा पाकिस्तान क्षेत्र पर कब्जा और जम्मू एवं कश्मीर में हजारों निर्दोष लोगों की हत्या करने का अपराधी है। To retweet this, there is no RanaAyyub ReallySwara 🐷 ndtv sagarikaghose And the list goes on........

ईंधन के बढ़ते दामों के बीच योगी सरकार के मंत्री बोले- समाज के 95% लोगों को पेट्रोल की ज़रूरत नहींउत्तर प्रदेश के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी का यह बयान ऐसे वक़्त में आया है जब देश के अधिकतर हिस्सों में पेट्रोल के दाम सौ रुपये प्रति लीटर को पार कर गए हैं. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस बयान पर तंज़ कसते हुए कहा कि ‘अब मंत्रीजी को भी पेट्रोल की ज़रूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि जनता उन्हें पैदल कर देगी.’ गजेडी है गजेडि ये हो क्या रहा है सरकार के पास पैसे का अंबार लग रहा है जैसे पीएम केयर, सरकारी संस्थान बेचने पर प्राप्त धन, पीएसयू, बैंको और एलआईसी इत्यादि के बेचने पर प्राप्त धन, पेट्रोल डीजल के टैक्स से प्राप्त धन इसके अलावा प्रत्येक साल प्राप्त डायरेक्ट और इन डायरेक्ट टैक्स खर्चा बजट के अलावा

वार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदलीवार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदली LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine asadowaisi RahulGandhi asadowaisi RahulGandhi ओवैसी के बाप का क्या जाता है, जो मुंह में आया सो बक दिया, परिवार में भी जो जिम्मेदारी निभाता है, उसके खिलाफ सबसे अधिक नुक्ता-चीनी करने वाले गैर-जिम्मेदार ही होते हैं! asadowaisi RahulGandhi save_our_job_in_hp

दिल्ली के हजारों कर्मचारियों को तोहफा, सैलरी के साथ मिलेगा दीवाली बोनसकहा गया है ‘बोनस का भुगतान न करना एक गंभीर मुद्दा है और सभी प्रमुख नियोक्ताओं से आग्रह किया जाता है कि वे आगामी त्योहारों के सीजन में अपने ठेकेदारों द्वारा आउटसोर्स किए गए श्रमिकों / कर्मचारियों को बोनस का वितरण सुनिश्चित करें।’