Coronapandemic, डॉ. समीरन पांडा इंटरव्यू, कोरोना वायरस महामारी, İcmr सीरो सर्वे रिजल्ट, İcmr सीरो सर्वे, İcmr Sero Survey Results, İcmr Sero Survey, Dr Samiran Panda İnterview, Coronavirus Pandemic, 68 Percent Population Corona İnfected, भारत Samachar

Coronapandemic, डॉ. समीरन पांडा इंटरव्यू

Corona Sero Survey: जिनको कोरोना नहीं हुआ, वही हैं निशाने पर, 40 करोड़ लोगों पर अभी खतरा मंडरा रहा

'जिनको कोरोना नहीं हुआ, वही हैं निशाने पर, 40 करोड़ लोगों पर खतरा मंडरा रहा' #CoronaPandemic

31-07-2021 05:26:00

'जिनको कोरोना नहीं हुआ, वही हैं निशाने पर, 40 करोड़ लोगों पर खतरा मंडरा रहा' CoronaPandemic

Dr. Samiran Panda Interview: डॉ. समीरन पांडा ने कहा कि यह बहुत बड़ा देश है। मास बेस में इसे अलग-अलग तरीके से देखते हैं। जब दूसरी लहर आई थी, तो पूरे देश में हुए संक्रमण का 80 प्रतिशत दस राज्यों से आया था।

Subscribeदेश की 68 फीसदी आबादी कोरोना संक्रमित हो चुकीआईसीएमआर के सीरो सर्वे में सामने आई बातडॉ. समीरन पांडा ने कहा-टीका सबको लगवाना ही पड़ेगानई दिल्लीपिछले दिनों आईसीएमआर का सीरो सर्वे आया, जिससे पता लगा कि भारत की 68 फीसदी आबादी कोविड से संक्रमित हो चुकी है और तकरीबन 40 करोड़ लोगों पर अभी खतरा मंडरा रहा है। इस बीच वैक्सीन को लेकर भी लोगों की दुविधा देखने को मिल रही है। ऐसे तमाम मसलों पर आईसीएमआर के महामारी विज्ञान और संक्रामक रोग विभाग के हेड डॉ. समीरन पांडा से राहुल पाण्डेय ने बात की।

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार यूपी : CM योगी ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग, जानें- किसको क्या मिला? नए राजपथ पर होगी अगले साल गंणतंत्र दिवस की परेड, तैयारियां जोरों पर

जब दूसरी लहर आई थी, तो पूरे देश में हुए संक्रमण का 80 प्रतिशत दस राज्यों से आया था। 19 राज्य ऐसे थे, जिनमें वैसा संक्रमण नहीं फैला, जैसा कि दिल्ली या फिर महाराष्ट्र में पाया गया था। इन तमाम राज्यों में जो लोग हैं, उनको लेकर एक आशंका जरूर है। वहां अगर तीसरी लहर आती है तो डर तो है ही, जोखिम भी है

डॉ. समीरन पांडाअगस्त-दिसंबर के बीच तीसरी लहर का दावा, पर मुश्किल है कोरोना का भविष्य बतानाहालिया सीरो सर्वे में 68 फीसदी आबादी के कोविड संक्रमित होने की बात कही गई है। इससे तीसरी लहर को लेकर क्या मतलब निकाला जाए? क्या वह दूसरी लहर से कम खतरनाक होगी?68 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी मिलने का मतलब है कि सौ आदमी में से 68 को इन्फेक्शन हो चुका है, इसलिए एंटीबॉडी तैयार हुई। ऐसा भी हो सकता है कि उस 68 फीसदी में कुछ लोगों ने वैक्सीन ले रखी हो, इस वजह से एंटीबॉडी तैयार हुई। बाकी रह गए 32 प्रतिशत, तो इस 32 प्रतिशत में एंटीबॉडी नहीं आई है। इनमें लड़ने की क्षमता पैदा नहीं हुई है, क्योंकि इनको संक्रमण नहीं हुआ है और वैक्सीन भी नहीं लगी है। इन पर संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। headtopics.com

इनकी पहचान का कोई तरीका है कि ये 32 फीसदी लोग कौन हो सकते हैं?यह बहुत बड़ा देश है। मास बेस में इसे अलग-अलग तरीके से देखते हैं। जब दूसरी लहर आई थी, तो पूरे देश में हुए संक्रमण का 80 प्रतिशत दस राज्यों से आया था। देश में 19 राज्य ऐसे थे, जिनमें वैसा संक्रमण नहीं फैला, जैसा कि दिल्ली में या फिर महाराष्ट्र में पाया गया था। तो इन तमाम राज्यों में जो लोग हैं, उनमें एक आशंका जरूर है। यहां मैं दो चीजें कहना चाहूंगा। 32 प्रतिशत यानी लगभग 40 करोड़ लोग। इन 40 करोड़ लोगों में एंटीबॉडी नहीं है। ये बहुत सारे राज्यों में फैले हुए हैं। तो जिस जिस राज्य में दूसरी लहर इतनी ऊंचाई तक नहीं गई, संक्रमण उतना नहीं फैला, वहां अगर तीसरी लहर आती है तो डर तो है ही, जोखिम भी है। इन राज्यों में जरूर सावधानी बरतनी चाहिए।

देश में अगस्त से दिसंबर के बीच तीसरी लहर के आने की भविष्यवाणी की जा रही है। कुछ जानकारों ने उन मॉडलों पर भी सवाल उठाए हैं, जिनके आधार पर ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं...यह भविष्यवाणी की बात नहीं है। यह मॉडलिंग एक्सरसाइज है। मान लीजिए कि हिमाचल प्रदेश में दूसरी लहर के बाद पिछले दिनों बहुत सारे टूरिस्ट चले गए। जिसको हम पॉप्युलेशन डेंसिटी कहते हैं, वहां वह अचानक बढ़ गई, तो उधर संक्रमण फैलने के चांस भी बढ़ गए। यह भविष्यवाणी नहीं है, विज्ञान है। जिस राज्य में पहली या दूसरी लहर में ज्यादा संक्रमण नहीं हुआ, उस राज्य में जरूर जोखिम है।

हाल में यह खबर भी आई है कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बावजूद कुछ लोग डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित हुए। इस मुश्किल को रोकने के लिए क्या किया जा सकता है?अभी देश में डेल्टा वैरिएंट फैल रहा है तो इसके लिए भी वही सावधानियां रखनी होंगी, जो कोरोना के लिए रखते हैं। कोविड का जो टीका है, वह आपको संक्रमण से लड़ने की ताकत तो देता है, लेकिन वह संक्रमण को रोकता नहीं है। आपने टीका लगवा लिया, उसके बाद अगर आपको संक्रमण हो गया तो वह गंभीर नहीं होगा। आपको अस्पताल में एडमिट होने, ऑक्सिजन या इंजेक्शन लगवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। लेकिन संक्रमण फिर भी आपको हो सकता है, और आपसे दूसरों में फैल भी सकता है। इसलिए मास्क तो हमेशा लगाए रहना चाहिए।

दूसरी लहर में कुछ लोग बार-बार ऑक्सिमीटर इस्तेमाल करते थे, यह देखने के लिए कि शरीर में ऑक्सिजन लेवल क्या है। ऐसे ही देखने में आ रहा है कि लोग अपना एंटीबॉडी लेवल भी चेक करा रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए कोई सलाह?अमेरिका का जो एफडीए है, उसका और हमारा यही कहना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद किसी को अपनी एंटीबॉडी की जांच कराने की जरूरत नहीं है। जब टीका लगाते हैं तो शरीर में दो किस्म की लड़ने की क्षमता आती है। एक है एंटीबॉडी मिडियेटेड इम्यूनिटी, जो टीके से मिलती है, और एक है सेल मिडियेटेड इम्युनिटी, जो शरीर डिवेलप करता है। इन दोनों को न नापकर अगर सिर्फ एंटीबॉडी नापते हैं और उसके नंबरों से परेशान होते हैं तो यह नहीं करना चाहिए। headtopics.com

गोवा के पूर्व CM फलेरो का कांग्रेस से इस्तीफा, सोनिया गांधी को लिखा पत्र- 'पार्टी का पतन रुकने की कोई उम्मीद नहीं' यूपी : कैबिनेट मंत्री जितिन प्रसाद के साथ छह मंत्रियों को मिली जिम्मेदारी, जानिए किसे कौन-कौन सा मिला मंत्रालय दिल्ली पुलिस ने दबोचा शातिर अपराधी, नेशनल ताइक्वांडो में जीत चुका है गोल्ड मेडल

कॉकटेल वैक्सीन की भी दुविधा है। दोनों वैक्सीन एक ही कंपनी की लगवाएं या अलग-अलग कंपनियों की?अभी तक अपने देश में मिक्स वैक्सिनेशन का कोई निर्देश जारी नहीं हुआ है और न ही इसके बारे में कोई ठोस सबूत निकलकर आया है। मेरी सलाह है कि इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचना है।

ये भी कहते हैं कि जिनको नैचरल इम्यूनिटी है, उनको टीके की जरूरत नहीं है...यह भी एक गलत बात है। हमें मानना चाहिए कि टीका सबको लगवाना ही पड़ेगा। किसी में यह क्षमता नहीं है कि वह कोविड से गारंटी से सुरक्षित रह सकता है। विज्ञान कहता है कि ऐसा कोई केस नहीं है कि महामारी के इस दौर में किसी को कोविड नहीं होगा। इसलिए टीका तो सबको लगवाना चाहिए।

Navbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत- सुसाइड या मर्डर? देखें दस्तक

जब राष्ट्रीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु की खबर आई और इस खबर के साथ ही सवाल ने जन्म लिया कि सुसाइड किया या हत्या हुई? क्योंकि यूपी पुलिस जब महंत नरेंद्र गिरि की मौत को शुरुआती जांच में सुसाइड कह रही है. तब सुसाइड नोट में जिस शिष्य का नाम है वो साजिश के तहत हत्या बता रहा है. अलग-अलग आरोप लगाए जा रहे हैं. जो नाम चल रहे हैं वो हैं आनंद गिरि, अजय सिंह, मनीष शुक्ला, अभिषेक मिश्रा और इसके अलावा दो और नाम जोड़े जा रहे हैं. सबसे बड़ा नाम आरोपी के तौर पर शिष्य आनंद गिरि का है जिसे उत्तराखंड में हिरासत में ले लिया गया है. देखें 10 तक का ये एपिसोड.

Means, Vaccine Doesn't work

हवाई यात्र‍ियों को बड़ी राहत, कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने पर आरटीपीसीआर जरूरी नहींमुंबई व कोलकाता जाने वाले हवाई यात्री कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वाले लोग बिना आरटी-पीसीआर के ही सफर कर सकेंगे। उन्हें केवल वैक्सीन लगवाने का प्रमाणपत्र अपने साथ रखना होगा। नया निर्देश आने के बाद गोरखपुर से मुंबई व कोलकाता जाने वाले यात्रियों की संख्या बढ़ गयी है। Same needed to one state to other state इस बात की गारंटी कौन देगा कि दोनों डोज़ ले चुके व्यक्ति को कोरोना नही होगा और यदि कोरोना हो सकता है तो फिर इस लापरवाही की वजह

कोरोना: महाराष्ट्र की सरकारी बसों पर होगी एंटी माइक्रोबियल कोटिंग, वायरस को फैलने से रोकेगीकोरोना: महाराष्ट्र की सरकारी बसों पर होगी एंटी माइक्रोबियल कोटिंग, वायरस को फैलने से रोकेगी Maharashtra Bus LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI OfficeofUT

IND vs SL: श्रीलंका में टीम इंडिया पर कोरोना का कहर, दो और खिलाड़ी हुए पॉजिटिवIND vs SL: श्रीलंका में टीम इंडिया पर कोरोना का कहर, दो और खिलाड़ी हुए पॉजिटिव INDvsSL YuzvendraChahal KrishnappaGowtham

चीन में कोरोना की नई लहर की चिंता और वैक्सीन पर सवाल - BBC Hindiचीन के नानजिंग शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस की एक नई किस्म बीजिंग और पांच अन्य प्रांतों में फैल गई है.

'खेलों के महाकुंभ' पर कोरोना का साया: डरा रहे आंकड़े, टोक्यो में आज रिकॉर्ड 3865 मामले'खेलों के महाकुंभ' पर कोरोना का साया: डरा रहे आंकड़े, टोक्यो में आज रिकॉर्ड 3865 मामले Tokyo2020 Olympics Covid19 Coronavirus TokyoOlympics Tokyo2020

महत्व के मुद्दों पर चर्चा नहीं करने दिया जा रहा - Rahul Gandhi का सरकार पर आरोपसदन में शोर शराबा और हंगामे की वजह से लगातार सदन स्थगित हो रही है. सरकार की कोशिश है कि सदन में काम हो लेकिन विपक्ष मांगों पर अड़ा है. एक दिन पहले सदन में पर्चे फाड़े गए और ऐसा करने वाले सांसदों पर सख्ती के भी आसार हैं. आज सुबह राहुल गांधी ने ट्विट करके कहा कि सरकार सांसदों को महत्व के मुद्दों पर चर्चा नहीं करने दे रही है, तो मायावती ने भी जासूसी कांड की जांच की मांग की. संसद में कल के पर्चाफाड़ विरोध के बाद विरोधी सांसदों पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है. देखें ये रिपोर्ट.