'2021 की शुरुआत में मिलेगा कोविड-19 का टीका', राहुल गांधी से चर्चा में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर का दावा - BBC Hindi

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- 'मुफ़्त ज़मीन लेने वाले प्राइवेट अस्पताल मुफ़्त इलाज क्यों नहीं कर सकते' लाइव अपडेट्स- (तस्वीर: EPA)

27-05-2020 13:29:00

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- 'मुफ़्त ज़मीन लेने वाले प्राइवेट अस्पताल मुफ़्त इलाज क्यों नहीं कर सकते' लाइव अपडेट्स- (तस्वीर: EPA)

दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ कर 55.88 लाख हो गए हैं. वहीं इस वायरस से मरने वालों की संख्या 3.50 लाख से अधिक हो गई है.

8:24कोविड-19: ब्राज़ील में हालात किस तेज़ी से बदले, 1 से क़रीब 25 हज़ार मौतों तकGetty ImagesCopyright: Getty Images26 फ़रवरी 2020 तक ब्राज़ील में कोरोना वायरस संक्रमण का कोई केस दर्ज नहीं हुआ था. यानी चीन के बाहर जब कोविड-19 का पहला केस दर्ज हुआ, तब से लगभग एक महीने बाद तक भी ब्राज़ील में कोई केस नहीं था.

मंत्री के बेटे ने धमकी दी तो महिला कॉन्स्टेबल बोली- ये पुलिस की वर्दी तुम्हारे बाप की गुलामी के लिए नहीं पहनी सचिन पायलट के साथ दिल्ली गए राजस्थान के विधायकों ने कहा, 'हम कांग्रेस के साथ हैं, कोई विवाद नहीं है' एएमयू छात्र शरजील उस्मानी की गिरफ़्तारी, क्या है यूपी पुलिस की एफ़आईआर का सच?

लेकिन 26 फ़रवरी को साओ पाउलो में, जो कि ब्राज़ील का सबसे घनी आबादी वाला शहर है, एक केस सामने आया.मरीज़ एक 61 वर्षीय बुज़ुर्ग थे जो उत्तरी इटली के लॉमबार्डी इलाक़े की यात्रा करके लौटे थे.लॉमबार्डी इटली का वो क्षेत्र है, जहाँ कोरोना वायरस ने सबसे अधिक नुकसान किया, एक बड़ी आबादी कोरोना से संक्रमित हुई और सबसे ज़्यादा मौतें भी वहीं हुईं.

आधिकारिक रूप से इन 61 वर्षीय बुज़ुर्ग को ही ब्राज़ील में कोविड-19 का पहला केस कहा जा रहा है, लेकिन विशेषज्ञों की राय है कि ‘वायरस इससे काफ़ी पहले ब्राज़ील में आ चुका होगा.’जैसे अप्रैल के पहले सप्ताह तक ब्राज़ील में आधिकारिक रूप से मरने वालों की संख्या पर नज़र नहीं जा रही थी, लेकिन बाद में मानो एक विस्फोट हुआ और अब तक ब्राज़ील में कोविड-19 से

24,512 लोगों की मौतहो चुकी है.11 अप्रैल को बताया गया कि दक्षिणी गोलार्ध पर स्थित देशों में ब्राज़ील पहला ऐसा देश है जहाँ मरने वालों की संख्या एक हज़ार से ज़्यादा हो गई है.उस समय तक यह थ्योरी भी काफ़ी चल रही थी कि ‘गर्म देशों में कोरोना वायरस का वैसा असर नहीं होगा जैसा यूरोप के ठंडे देशों में देखना को मिला.’

17 मई तक ब्राज़ील में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या स्पेन और इटली से ज़्यादा हो गई थी और अब ब्राज़ीलदुनिया का दूसरा ऐसा देशबन गया जहाँ कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे ज़्यादा मामले दर्ज हुए हैं.अमरीका, स्पेन, फ़्रांस, इटली और ब्रिटेन में अभी भी कोविड-19 से मरने वालों की संख्या ब्राज़ील से ज़्यादा है. मगर वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी ने एक अध्ययन के बाद यह चेतावनी दी है कि ब्राज़ील में मरने वालों की संख्या पाँच गुना बढ़कर,

अगस्त तक एक लाख 25 हज़ारहो सकती है.हाल ही में अमरीका ने कहा है कि ब्राज़ील से आने वाले किसी यात्री को वो अपने यहाँ एंट्री नहीं देंगे.लेकिन फ़रवरी से लेकर अप्रैल तक ब्राज़ील के राष्ट्रपति ज़ायर बोलसेनारो कोरोना वायरस संक्रमण की तुलना ‘सामान्य सर्दी ज़ुकाम’ से करते रहे और वे दावा करते रहे कि ‘मीडिया देश में भय का माहौल बना रहा है, इस संक्रमण से इतना डरने की ज़रूरत नहीं है.’

उन्होंने यह भी कहा कि ‘अर्थव्यवस्था को जीवंत रखना ज़्यादा ज़रूरी है, इसलिए बुजुर्ग लोग घरों में रहें, लेकिन बाकी लोग अपने काम-धंधे करते रहें.’नीचे दिए ग्राफ़ में आप देख सकते हैं कि कैसे चीन ने अपने यहाँ संक्रमण को एक स्तर पर रोक दिया, जबकि ब्राज़ील ने चीन को पीछे छोड़ दिया है.

दिल्ली दंगों से लेकर चीन तक हर मर्ज़ की दवा क्यों हैं अजीत डोभाल? दिल्ली पहुंचे सचिन पायलट को झटका, खेमे के तीन विधायकों ने किया गहलोत का समर्थन सूरत कपड़ा व्यापारी दुकान खोलते वक़्त वंदे मातरम और बंद करते समय राष्ट्रगान गाएं: नगर निगम

Our World In DataCopyright: Our World In Data और पढो: BBC News Hindi »

Han main bhi court se sahmat hun Sabhi hospital ko nationalize karna chahiye, Kebal sirf 10% privte hona chahiye Ask to our Government, what action will be taken by them. Or why this all nonsense politicians give Land to such people those doing only business. मुफ्त इलाज करेंगे तो यह कमाएंगे कहां से इनको तो कमाने की लगी रहती है बस कुछ परसेंट ही इलाज हो पाता है प्राइवेट हॉस्पिटल में गरीब मरीजों को उसकी बहुत बड़ी वजह है socialjurist सर की वजह से होता है जो समय-समय पर आवाज उठाते रहते हैं गरीबों की गरीबों की मदद के लिए हर टाइम आगे आते है

सुप्रीम कोर्ट को पूछना नहीं चाहिए, प्राइवेट अस्पतालो को सीधे बंद कर देना चाहिए , TheSachinR हर प्रदेश सरकार , केन्द्र सरकार और मुफ्तमें जमीन लेने वाले हास्पिटल को इसका जवाब देना चाहिए । वो ईलाज तो मुफ्त करते हैं सिर्फ नेताओ की Khalidn3156 कुछ दिनों के बाद सुप्रीम कोर्ट - हम किसी के साथ ज़बरदस्ती नहीं कर सकते, इलाज करना या ना करना उनके स्वतंत्रता का अधिकार है। हम स्वतंत्रता के अधिकार का हनन नहीं कर सकते 😂😂😂

भाजपा का PPE घोटाला ,भाजपा नेता ने दिया इस्तीफा भ्रष्टाचार में गोल्ड मैडल जीत सकती है भाजपा जवाब दिया किसी ने 🤣🤣🤣 Baat m to dum hai. Jab free dawai nahi de sakte to free ki land q😬 Kiye ke woh log sarkar ke netao ko Moffat me election ka chanda dete hai desh LOTNe ke baad.aaj jitne bhi hospital unka Malik ziyada politics se chora hai.

Good हा बताओ नीचों मुफ्त में जनता को लुटतें हो ईस महामारी के समय भी तुम कुछ नहीं करना चाहते तो बंद कर दो तुम्हारी दुकान Q k wo sab Pvt hospital ko mantriyon ka support hai Sarkar ko hospital vapis le lene chahiye , zameen free n buildings are under banks ... Better takeover . सरकार कडून अशा अनेक जमीन अनेक खासगी संस्थांनी मात्र १ रुपया मासिक भाडे तत्त्वावर घेतलेल्या आहेत... आणि तेथे सर्व उद्योग व्यवसाय खासगीत चालतात... ह्या मधील बहूतेक संस्था ह्या राजकीय संबंधित अनेक कंजूस श्रीमंतांनी बळकावल्या आहेत... पण सरकारला सरकारी जागेतील झोपड्याच दिसतात...

जमीन मुफ्त में मिली हो तो इसका मतलब यह नही की वहाँ करोडों रुपये के मेडिकल उपकरण भी मुफ्त में आये हो। मुफ्त नही बल्कि इलाज में 20:80 वाली सब्सिडी व्यवस्था होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट जो पिछले कुछ सालों से क़ब्र में है लग रहा है ज्यादा गर्मी की वजह से कुछ देर के लिए क़ब्र से बाहर सांस लेने के लिए आया है लेकिन जैसे ही मोटा भाई की नज़र क़ब्र की तरफ मुड़ेगी ये फिर ज़मीन में छुप जायेगा

झू ठो के सवाल पूछ के लोग के मूर्ख न बनाएं ? पूछे के बा (जनता के लेल कुछ अच्छा?) त 42 रुपया के स्पीड पोस्ट C J I के भेज के पूछ ल ? जवाब मिल जाय ? क्योंकि मुफ्त में जमीन कागज़ में मिली होगी, अंदर बाहर जेबे भी तो गर्म की होंगी क्योंकि अधिकतम अस्पताल राजनेताओं द्वारा संबंधित या वित्त पोषित हैं। ईकदम 100 टका question 🙏 Supreme Court🙏

जो गोचर भूमि पर यूनिवर्सिटी ओर हॉस्पिटल बना रखे हैं ये दोनों जो सही चार्ज हो वही ले ज्यादा लूट ना करे सरकार अब व्यापारी बन गई है । प्रवासी मजदूरों के लिए बस के लिए permission लेनी होगी । प्रवासी मजदूरों के लिए ट्रेन राज्यों से किराया हिस्सा मिलने के बाद ही चलाई जायेगी । सोशल डिसटेनसिग का पालन न करके बीच की सीटें खाली नही छोडी जायेगी क्योंकि Airlines और सरकार घाटा सहन नही कर सकती

सरकारी कॉलेज में टैक्स पेअर के पैसे से पढ़ने वाले वकील, फ्री में कैसे क्यों नहीं लड़ते , अगर सुप्रीम कोर्ट इसका जबाव दे सकती तो, वो हॉस्पिटल से सवाल पूछ सकती है, जमीन ही तो फ्री मिली है, मेडिकल इक्विपमेंट्स , स्टाफ की सैलरी कहां से आएगी अगर फ्री में इलाज होगा तो। वाह अभी याद आया मुफ्त में ज़मीन देने के समय क्या हुआ था बीमारी की जड़ भी सरकार है- शराब, गुटका, तम्बाकू, सिगरेट एडवेर्टीस्मेंट देने से कुछ नहीं होता बिक्री बड़ जाती है

पूछने से क्या होता है। ऐसा आदेश जारी करना चाहिए बाहर देश की तरह यहाँ vip सिर्फ 500 लोग कर दो और विधायक सांसद की भत्ता फ्री टेलीफोन सारि सुविधा बन्द कर दो सब गरीबी मिट जाएगा देश की Right Rahul Gandhi Ka supporter jarur dekhe ye video Right Bahut der kardi... भारतीय आमजनों को आज पता चला कि निजी हॉस्पिटल को भी शासकीय जमीन फ्री में दे दी गई और यहां गरीब आमजन नागरिकों के पास जमीन का टुकड़ा तक नही।

सही पकड़ा है कौ के ये सब जमीने नेता लोगोने मुफत मे हडप रखी है और अस्पताल बनवाये है Muft ilaj bahot dur . Paise dekar bhi sahi ilaj nahi hota . Cut pratice chalti hai . SC उनही को नोटीस दे जो उन्हे जगा मुफ्ट मे डिये है न्याय जी कृपया सवाल मत पुछीये आदेश दीजीए और हा न्याय कि जी ये Activating our sympathy,we are being served apathy.

बहुत सहीह सरकार जो जनता के खज़ाने पर काबिज है उस से सुप्रीम कोर्ट कहता है जिस का चाहे फ़्री और जिस का चाहे लूट कर ईलाज करो । और प्राइवेट पर चाबुक वाह सुप्रीम कोर्ट वाह मुफ्त की VIP सुविधाएं लेने वाले सारे विधायक और सांसद अपने इलाके में काम क्यों नही करते ? ठीक इसी प्रकार निजी अस्पताल मुफ्त में ईलाज नही करते! निजी अस्पताल मुफ्त का जमीन पाने के लिये कितने करोड़ खिलाते है किसी को पता नही!

पार्ट्नर्शिप अपने मालिकों की हे न ... क्या उसी जमीन पर सरकारी अस्पताल नहीं बन सकता था। शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र का निजीकरण ही गलत है। इनको सरकारी नियंत्रण में ही होना चाहिए। मुफ्त में सब मिलने के बाद येही लोग सरकार को आंखे दिखाने लगते हैं। Right punch IndiaToday18 प्राइवेट अस्पताल इसदेशका अनाज खाते है और देशवासीवोंसे संकटकालमे पैसा लेते यह उचित नहीं है। narendramodi RahulGandhi rautsanjay61

Ek hi dil, dimag, gurda hai... Kitni baar jeetoge SC सरकार की मिलीभगत है। हवाई यात्रा का किराया फिक्स करने वाली चतुर सरकार इलाज के खर्च की सीमा फिक्स नहीं करना चाहती Should be free treatment a limited time after that can take a minimum fee. प्राइवेट हॉस्पिटल वालों को, मुफ्त में जमीन थोड़े मिलता। है, मुफ्त में तो सरकार देती, है न जो पार्टियाँ होती है उनसे पैसा लेती हैं।

How will be the equipments and manpower will be managed. अब तो यही काम बचा है मतलब पूछना अस्पताल से सवाल पैदल चलने वाले मजदूरों के लिए कोई आवाज नहीं इसे क्या समझा जाए यह सब गवर्नमेंट की लापरवाही का नतीजा है। जो अमीर को अमीर और गरीब को गरीब बनाने के नीति पर काम करता है। Major work of Modi government for last 1 year which has a mile stone in indian historyमोदी है तो मुमकिन है

प्राइवेट अस्पताल ताला.. लगाव Finally supreme court back 🤗 faizal_vns ये बस पूछनी ऑफिस है SUPREME COURT PRIVATE HOSPITAL KO NOTICES KYO NAHI DAETI बी बी सी अरे सुप्रीमकोर्ट अंकल, तुम्हारा सवाल किससे है सरकार से या प्राइवेट अस्पतालों से, आज दो महीने बाद भी सुप्रीमकोर्ट पूछ ही रहा है ऑर्डर फिर भी नहीं दे रहा है,

मुफ्त मे चुनाव के समय वोट लेने वाले नेता मदद क्यु नहीं करते? क्या उसी जमीन पर सरकारी अस्पताल नहीं बन सकता था। शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र का निजीकरण ही गलत है। इनको सरकारी नियंत्रण में ही होना चाहिए। मुफ्त में सब मिलने के बाद येही लोग सरकार को आंखे दिखाने लगते हैं। Fir kaha mil rahi h jameen had h bilkul

Sirf puchna kafi nahi hai use apply karwana bhi zaroori hai. Na karein free main lekin fee minimum hona chaiye Atlest at the time of pandemic. Sir Jaipur golden hospital sarkari jameen par kaam private Bala Aise or bhi hai Right सुप्रीम_कोर्ट को आदेश भी देना चाहिए कम से कम महामारी का महामारी चलते संकट मई परिस्थिति में तो हो ये और कि अन्य ईलाज भी बंद से

अब सवाल पूछ कर क्या होगा. सभी अस्पतालों को सरकार को तुरंत अधिग्रहण करना चाहिए। सफेद कुर्ता वाले का चक्कर है साहेब.... इनके वजह से देश काला हो गया साहेब... आप भी बीच बीच में मज़ाक कर देते है.... साब प्राइवेट हॉस्पिटल एक दिन का 1 लाख रुपये ले रहा है और सरकारी हॉस्पिटल मरीज़ जब तक मर था नही जब तक कोई डॉक्टर मरीज़ को हट नहीं लह गा था

Sarkar aise hospitals ko acquire kare. ज़मीन फ़्री कहाँ है, बाबू साहब को तो खिलाना पड़ता तो है ना, और हॉस्पिटल बनाने, डॉक्टर में तो पैसा लगता है ना। अगर ना कर सकते है तो बैन करो। मुफ़्त सुविधाएं लेने वाले जज क्या मुफ़्त न्याय (बिना मोटी फ़ीस वाले वकील के)देते हैं? इस देश में सुप्रीम कोर्ट भी है क्या? अच्छा लगा जान कर।

प्रत्येक प्राइवेट संस्थान केवल लाभ लेना चाहती हैं रिस्क लेना नहीं

कोरोना से हटकर: 2020 में उद्योगों से निकलने वाली गैसों में आएगी 8 प्रतिशत की गिरावटकोरोना से हटकर: 2020 में उद्योगों से निकलने वाली गैसों में आएगी 8 प्रतिशत की गिरावट Lockdwon4 CabonEmission GlobalGDP

Corona World LIVE: कनेक्टिकट में कोरोनो वायरस की वजह से 49 लोगों की मौतCorona World LIVE: कनेक्टिकट में कोरोनो वायरस की वजह से 49 लोगों की मौत America Brazil CoronaUpdate Lockdown4 coronavirus CoronaHotSpots CoronaVirusUpdate coronaupdatesindia PMOIndia MoHFW_INDIA realDonaldTrump WHO POTUS PMOIndia MoHFW_INDIA realDonaldTrump WHO POTUS Dearest netao apni salary or aish ke liye sub khol rahe ho, yahan desh me private naukri 4 mth se nhi, salary January se mili nhi per schools fees mang rahe. Kya dacaity Dale log, bijli,kiraya khana.

ITC के शेयर में 4 फीसदी की बढ़त, सनराइज फूड्स से डील की खबर का फायदासप्‍ताह के पहले कारोबारी दिन यानी मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार की बढ़त के साथ शुरुआत हुई. बता दें कि ईद पर्व का अवकाश होने के कारण सोमवार को घरेलू शेयर बाजार, कमोडिटी वायदा बाजार और मुद्रा बाजार में कारोबार नहीं हुआ.

इंदौर में 300 साल में पहली बार ईदगाह में नहीं पढ़ी जा सकी ईद की नमाजदेश में कोविड-19 के प्रसार का बड़ा केंद्र बने इंदौर में सोमवार को ईद-उल-फितर का त्योहारी उल्लास घरों में सिमट गया। Well-done 🤝🤝🤝 Mtlb 1947 48 me bhi padhi gyi thi इसमें इतना कष्ट क्यों भाई महामारी में तो सबको सकारात्मक होना चाहिए! फिर इस बात का मलाल क्यों क्या साबित करना चाहते हो आप मिडिया वाले जहां और जिस बात को दिखाना ल बताना चाहिए वहां आप की चुप्पी की किमत लग जाती है! VIRENINFRA drneeraj13 ChouhanShivraj

महामारी से बचाव का भारत का संकल्प, अब दुनिया को दिखा रहा एक नई राहवैश्विक चुनौती के इस कालखंड में हम सभी इस बात के साक्षी बने हैं कि देशहित में लिए गए निर्णय में देश का एक सामान्य नागरिक भी अपनी क्षमता से बढ़कर योगदान देना चाहता है। दुनिया ये भी खुली आँखों से देख रही हैं कि सरकारी उदासीनता के कारण किस तरह प्रवासी मजदूर पैदल अपने घरों को जाने को विवश हैं जो ट्रेन चलाई जा रही हैं वो भी लेट हैं और जाना था बिहार तो जा रही हैं उड़ीसा, ट्रेन में ही लोगों की भूख-प्यास से मौत हो रही हैं,लॉकडाउन में सरकार💯% फेल हैं

अब दिल्ली की ओर बढ़ा पाक से आ रहा टिड्डियों का दलIndia News: राजस्थान की राजधानी जयपुर के बाद अब टिड्डियों का दल दिल्ली (Locust swarm attack likely on Delhi) की ओर बढ़ रहा है। अगर हवा की गति और दिशा अनुकूल रही तो जल्द ही उनका कहर राष्ट्रीय राजधानी पर टूटेगा। वे यहां आ गए तो दिल्ली के 22 प्रतिशत ग्रीन कवर पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है। केजरीवाल नाम की टीडी पहले से ही दिल्ली वाले झेल रहे है तो यह टिड्डियाँ क्या चीज़ है 🙄 केजरीवाल दिल्ली

PM CARES फंड की जांच नहीं करेगी लोक लेखा समिति, BJP ने रोका रास्ता न टायरों के निशान-न शीशों को नुकसान... कैसे पलटी विकास दुबे की गाड़ी? विकास दुबे: 'मुठभेड़' में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे? कोरोना वायरस: 12 से 26 जुलाई के बीच भारत के पाँच शहरों से UAE की विशेष उड़ानें - BBC Hindi राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया दिल्ली दंगा: दो शिकायतों में कपिल मिश्रा का नाम, अदालत ने पुलिस से जवाब मांगा कांग्रेस सांसदों की बैठक में फिर उठी राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग Amitabh Bachchan Covid 19 Positive: अमिताभ बच्चन को कोरोना, मुंबई के नानावटी अस्पताल में किया गया एडमिट कौन नहीं चाहता था, विकास दुबे ज़िंदा रहे? नेपाल के पीएम ओली को विलेन बनाकर भारतीय मीडिया बड़ी भूल कर रहा है? अमिताभ हुए कोरोना पॉजिटि‍व, सेहत के लिए दुआ मांग रहे नेता-अभिनेता