सुशांत सिंह केस: क्या बिहार पुलिस मुंबई जाकर जाँच कर सकती है?

सुशांत सिंह केस: क्या बिहार पुलिस मुंबई जाकर जाँच कर सकती है?

03-08-2020 17:40:00

सुशांत सिंह केस: क्या बिहार पुलिस मुंबई जाकर जाँच कर सकती है?

आईपीएस विनय तिवारी को क्वारंटीन सेंटर भेजने के बाद बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस के बीच बढ़े टकराव का क़ानूनी पक्ष क्या है?

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटRHEA CHAKRABORTY/INSTAGRAMसुशांत सिंह राजपूत की मौत के कारणों की जाँच को लेकर बिहार और मुंबई पुलिस के बीच टकराव खुलकर सामने आ गया है.इस मामले की जाँच के लिए पटना से मुंबई पहुंचे बिहार पुलिस के अधिकारी आईपीएस विनय तिवारी को बीएमसी की ओर से क्वारंटीन सेंटर भेज दिया गया है.

IPL 2020: RCBvsMI- सुपर ओवर में जीती आरसीबी, मुंबई के ईशान ने जीता दिल - BBC News हिंदी ड्रग्स चैट पर दीपिका ने खोले राज- 'हां मैंने मांगा था माल, पर उसका मतलब है सिगरेट' बिहार चुनाव: तेजस्वी यादव हो सकते हैं महागठबंधन का CM चेहरा, साथ खड़ी है कांग्रेस

बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने इस मामले की निंदा की है.उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि “विनय तिवारी को जबरन क्वारंटीन कर दिया गया है.”@ips_gupteshwarबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी बीएमसी की इस कार्रवाई को ग़ैर-ज़रूरी बताया है.

उन्होंने कहा है कि विनय तिवारी के साथ जो कुछ भी हुआ है, वह ठीक नहीं हुआ है.मुंबई पुलिस ने खोला मोर्चालेकिन इसी बीच मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने बिहार पुलिस द्वारा इस मामले की जाँच किए जाने पर सवाल उठाए हैं.ये पहला मौक़ा है जब दोनों राज्यों के पुलिस विभाग इस मामले में अधिकार क्षेत्र के उल्लंघन को लेकर आमने-सामने आए हैं.

इमेज कॉपीरइटTwiiterमुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा है, “बिहार पुलिस ने इस मामले में एक एफ़आईआर दाख़िल की है. उनकी ओर से इस मामले में संपर्क भी किया गया था. लेकिन उनकी एफ़आईआर और उनके अधिकार क्षेत्र के बाहर जो जाँच चल रही है, उसके क़ानूनी आधार की जाँच की जा रही है.”

उन्होंने आगे कहा, “जहां तक हमारी जानकारी है, जब हमें किसी अन्य अधिकार क्षेत्र में अपराध घटित होने की सूचना दी जाती है, तब हम उसे दर्ज ज़रूर करते हैं. लेकिन ज़ीरो एफ़आईआर नंबर दाख़िल किया जाता है और इसके बाद उस मामले को उस न्यायिक क्षेत्र में भेज देते हैं जहां का वो मामला होता है.”

इसके बाद परमबीर सिंह कहते हैं कि उन्हें ये जानकारी नहीं है कि बिहार पुलिस किस क़ानूनी आधार पर जाँच कर रही है.वे कहते हैं, “हमें क़ानूनी रूप से ये नहीं पता है कि बिहार पुलिस को आईपीसी, सीआरपीसी के किस सेक्शन या किस विशेष क़ानून के तहत एक्सट्रा टेरिटोरियल इन्वेस्टिगेशन का अधिकार मिला है. हम इस मामले में क़ानूनी सलाह ले रहे हैं. इस सलाह के तहत ही आगे की कार्रवाई की जाएगी. फ़िलहाल हमनें दस्तावेज़ साझा नहीं किए हैं.”

परमबीर सिंह के इस बयान से एक बात स्पष्ट है कि दोनों राज्यों की पुलिस के बीच अधिकार क्षेत्र का टकराव काफ़ी गंभीर स्तर पर पहुंच चुका है.बिहार पुलिस की जाँच क़ानूनी?लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या कोई क़ानून बिहार पुलिस को मुंबई में घटित घटना की जाँच करने का अधिकार देता है.

IPL: सुपर ओवर में RCB ने मारी बाजी, मुंबई के काम न आई पोलार्ड-किशन की तूफानी पारियां वो मौके जब KBC के सेट पर छलके अमिताभ बच्चन के आंसू, फैंस भी हुए भावुक सुशांत केस: AIIMS ने CBI को सौंपी रिपोर्ट, खुलेंगे एक्टर की मौत से जुड़े राज

क़ानून विशेषज्ञों की मानें तो सीआरपीसी में इसे लेकर स्थिति बिलकुल स्पष्ट है.इमेज कॉपीरइटसीआरपीसी की धारा 174स्पष्ट रूप से कहती है कि जब किसी पुलिस स्टेशन में तैनात पुलिस अधिकारी को ये सूचना मिलती है कि किसी व्यक्ति की मौत आत्महत्या या किसी अन्य परिस्थितियों में हुई है तो वह तत्काल एक नज़दीकी कार्यपालक मजिस्ट्रेट को इसकी सूचना देगा ताकि मौत के कारणों की समीक्षा की जा सके.

फ़िलहाल मुंबई पुलिस इसी धारा के तहत इस मामले की जाँच कर रही है. और ये धारा मुंबई पुलिस को इस मामले की जाँच करने का अधिकार देती है.अब सवाल उठता है कि बिहार पुलिस ने जो एफ़आईआर दर्ज की है, उसके आधार पर वह सुशांत सिंह की मौत के कारणों की जाँच कर सकती है या नहीं.

क़ानून में इसे लेकर भी स्थिति बिलकुल स्पष्ट है. चूंकि ये मामला बांद्रा पुलिस थाना क्षेत्र का है तो उसी न्यायिक क्षेत्र की पुलिस को मौत के कारणों की जाँच करने का अधिकार है.ऐसे में सवाल उठता है कि क्या बिहार पुलिस के अधिकारी मुंबई में जाकर जाँच कर सकते हैं.

क़ानूनक्या कहता है?क़ानूनी मामलों के जानकार और सुप्रीम कोर्ट के वकील आलोक कुमार मानते हैं कि ये संभव नहीं है.वे कहते हैं, “क़ानून ने एक जाँच अधिकारी को काफ़ी शक्तियां दी हैं. अगर उसे लगता है कि उसे दिए गए मामले की जाँच की कोई कड़ी कन्याकुमारी में है तो वह वहाँ भी जा सकता है. शर्त बस इतनी है कि वह अपराध उसके न्यायिक क्षेत्र में हुआ हो.”

“मेरा मानना है कि सुशांत सिंह राजपूत के केस में पटना पुलिस का कोई रोल नहीं है. और वह इस मामले की जाँच नहीं कर सकती है. क्योंकि शिकायतकर्ता ने अपने आरोप में जिस भी घटना का ज़िक्र किया है, वह मेरे हिसाब से पटना में नहीं हुआ है. हालांकि, अगर मामला कुछ ऐसा है कि सुशांत सिंह राजपूत का कोई बैंक अकाउंट पटना का है जिससे पैसे निकाले गए हैं, या उस बैंक अकाउंट से कोई फ्रॉड हुआ है, तब पटना का न्यायिक क्षेत्र बनता है. मेरी सीमित जानकारी के मुताबिक़, शिकायत में जिन सारी घटनाओं का ज़िक्र किया गया है, वे मुंबई में घटी हैं. ऐसे में स्थानीय पुलिस ही मामले की जाँच कर सकती है.”

“इस मामले में पटना पुलिस मुंबई जाकर, सबूत जुटाकर, बयान लेकर पटना कोर्ट में चार्जशीट दाख़िल नहीं कर सकती है. यही सीआरपीसी का प्रावधान है.”लेकिन सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकीलविकास सिंह का कहनाहै कि इस घटना की वजह पटना से जुड़ी हुई है इसलिए एफ़आईआर पटना में कराई गई है.

एम्स से छुट्टी के बाद पहली बार ऑफिस पहुंचे अमित शाह, कई अहम मुद्दों पर की बैठक नई रक्षा खरीद प्रक्रिया के तहत हथियारों के लिए तीनों सेनाएं खर्च सकेंगी 2290 करोड़ रुपये IPL में पहली बार 200+ रन बनाने के बावजूद मैच टाई हुआ, रन चेज करते हुए मुंबई इंडियंस ने आखिरी 5 ओवर में रिकॉर्ड 89 रन बनाए

लेकिन आलोक कुमार विकास सिंह की बात को मज़बूत क़ानूनी तर्क नहीं मानते हैं.इमेज कॉपीरइट@TWEET2RHEAवे कहते हैं, “अगर उनके पिता जी पटना में थे तो भी... आप जो भी आरोप लगाते हैं वो क़ानूनी आधार पर ठीक होना चाहिए, (देखना चाहिए) कि क्या वो धारा के अंतर्गत अपराध है भी या नहीं.”

“अब मान लीजिए कि रिया चक्रवर्ती पटना में रह रही होतीं और कह सकते हैं कि वह पटना न्यायिक क्षेत्र में रहती हैं और उन्होंने मानसिक तनाव देकर मेरे बेटे को आत्महत्या के लिए मजबूर किया. लेकिन मैं अगर पटना में हूँ और मुझे मानसिक तनाव हुआ है. लेकिन मेरे मानसिक तनाव से मेरे बेटे ने आत्महत्या नहीं की है. आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में ये देखा जाता है कि पीड़ित कौन है. इस मामले में पीड़ित सुशांत सिंह राजपूत हैं, उनके पिता नहीं. वह एक शिकायतकर्ता हैं.”

हालांकि सोमवार शाम को सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने अपना एक वीडिया जारी करके मुंबई पुलिस को फिर से कठघरे में खड़ा कर दिया है. उन्होंने कहा है कि मुंबई की बांद्रा स्टेशन पुलिस को उन्होंने 25 फरवरी को ही लिखा था कि मेरे बेटे की जान को ख़तरा है. इस बाबत उन्होंने शिकायत भी दर्ज कराई थी. 14 जून को बेटे की मौत के बाद उन्होंने बांद्रा पुलिस से जिन लोगों के ख़िलाफ़ शिकायत थी, उनके ख़िलाफ़ एक्शन लेने को कहा. लेकिन 40 दिनों तक कोई एक्शन नहीं लिया गया जिसके बाद उन्होंने पटना में मामला दर्ज कराया है.

@ANIउनके इस बयान के बाद मुंबई पुलिस की प्रतिक्रिया सामने आ गई है. मुंबई पुलिस के मुताबिक 25 फरवरी को बांद्रा पुलिस स्टेशन में ऐसी कोई शिकायत दर्ज नहीं की गई थी.बहरहाल, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट आने वाले दिनों में फ़ैसला दे सकती है जिसके बाद ये तय होगा कि आगे की जाँच बिहार पुलिस करेगी या मुंबई पुलिस.

और पढो: BBC News Hindi »

कृष्ण जन्मभूमि के बहाने मंदिर राजनीति का शुरू हुआ पार्ट-2? देखें दंगल

अयोध्या तो झांकी है, काशी मथुरा बाकी है, ये अब सिर्फ नारा नहीं रहा है. कोर्ट में मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मसला पहुंच गया है, जिस पर आज पहली सुनवाई हुई. 5 अगस्त को अयोध्या में भूमिपूजन के साथ ही मंदिर-मस्जिद पर बड़ा विवाद खत्म हुआ था लेकिन अब कृष्ण जन्मभूमि को भी मुक्त कराने के नाम पर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है और 13.37 एकड़ ईदगाह की जमीन पर दावा हुआ है. मथुरा के मसले पर बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने कभी खुलकर आंदोलन की बात नहीं की लेकिन मंदिर आंदोलन के अगुवा रहे नेताओं ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मसले को भी हिंदू आस्था बताने से कभी परहेज नहीं किया है. इसीलिए आज दंगल में हमारा मुद्दा है, क्या अब सौगंध कृष्ण की खाते हैं? देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

किसी एक जिले से दूसरे जिले में इन्वेस्टीगेशन और इन्क्वायरी ट्रांसफर की लीगल प्रोसीडिंग होती है जबकि यहाँ प्रोसीडिंग नही राजनीति चल रही है Yess Provision of CrPC allow it बिल्कुल नहीं BBC, केवल आप ही कर सकते है। हां लेकिन मुम्बई पुलिस का ईछा नहीं है कि बिहार पुलिस जांच करे ShameOnMumbaiPolice ShameOnMahaGovt

Jab BBC India k andar aake India k against khabrein chap sakti hai to Bihar police Mumbai mein investigation kyon nahi kar sakti. केंद्र सरकार का रवैय्या क्या होगा...? ये क्या chutiyapa लगा रखा है तुम न्यूज वाले दिन भार सुशांत देश मे हर साल लाखो किसान आत्महत्या करते कितने मीडिया और ट्विटर के दलाल लोग सीबीआई जाच की मांग करते है कोई नहीं और अब नौटंकी कर रहे है लोग जाच agencies को अपना काम करने दो खुद ट्विटर पे न्यायधीश ना बने शुक्रिया

Bihar police Mumbai जाकर क्यों नहीं जांच कर सकती? JusticeforSushantSingRajput A new shooting.... Action on Actors vs Actors on Action Yes जांच करवाओ ना Nahi.. Sirf BBC hi.. Jaa sakta hai... Jehadi midiya jo hai.. The case is within the jurisdiction of Bombay police.Bihar is just politicising the case. Why not ?

बिलकुल कर सकती है अगर हरियाणा पुलिस राजस्थान की SOG टीम को रोक सकती है अगर तब आवाज उठाई जाती तो शायद बिहार पुलिस कर सकती है । जैसी करनी वैसी भरनी लोकतंत्र की हत्या की आग लगाई उन्होंने है तो यह आग उनके घर तक तो पहुचेगी ही । बिहार में बाढ से 18 लाख लोग बेघर हो गए हैं Fir जहां हो/घटना जिस area में है वहीं थाना जांच कर सकता हैं पर पुलिस रिश्वत खा लेतब क्या हो सकता हैं court का ही सहारा रह जाता हैं

Nahi bbc dogle ke ghar ke jake check karegi केसे कर सकती है। जब मुंबई police कर रही है। 55 संसद जितवा के भी एक CBI जाँच नही हो सकता तो फिर घण्टा का लीडर है ये लोग Bihar police ne 0 fir karni chahiye thi सरकार के आदेश पर तो देवलोक मैं भी जाँच करने जा सकती है। इसी क्षेत्राधिकार की समस्या के निदान के लिए CBI का गठन किया गया है । SushantSinghRajputCase के लिए सीबीआई का आवश्यकता है

मुझे पहले ही लग रहा था महाराष्ट्र_सरकार व मुम्बई_पुलिस सच दबना चाह रही हैं शक अब ओर गहरा हो गया जिसे तरह एक बिहार के बड़े अफसर को करोटाइन किया गया,सुशांत_सिंह_राजपूत_सुसाइड_केश में कोई ना कोई पेंच जरूर है। भष्ट_मुम्बई_पुलिस NCP_Congress ये भारत है, यहां पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की हेजमनी (hegemony) पूरे देश में नहीं चलती है।

CBI बिहार पुलिस तो तुम्हारे लंदन में जाकर भी इन्वेस्टिगेशन कर सकती है समझा क्या है बिहार पुलिस को BBC वालो 20 soldiers martyred duringbthe faceoff with the Chinese were from the Bihar regiment . Not an issue. Floods that have killed so many. Not an issue. Well done. Rather, shame on you RheaChakroborty is in Kolkata. JusticeForSushant SalmanKhan is helping RheaChakroborty .

Nhi Kyo tmlog news bale bihar_police ko etna kamjoor smjhte ho kya Cbi ki entry jaruri he नियम यह है कि वहां के राज्य सरकार की भी मदद लेनी है। अगर वहां की सरकार मदद नहीं करती तो फिर सुप्रीम कोर्ट का ही रास्ता बचता है। MumbaiPoliceSoldOut MumbaiPolice CPMumbaiPolice mybmc CMOMaharashtra मीडियाखबरों अनुसार आपने itsSSR केस में bihar_police officecmbihar प्रति आर्टिकल 261संविधान और पुलिसएक्ट सहित विधिशासन और पदीय शपथ का उल्लंघन किया है।मतभूलो-पद,जीवन,पैसा,सैक्स सब यहीं पड़ा रहेगा और ईश्वर आपका भी न्याय करेंगे

बिल्कुल Bsdk, tu apna paid chutiyapa Band kar काहे नहीं जा सकती, मुम्बई इंग्लैंड में पड़ता है क्या!!!

'सुशांत की पूर्व मैनेजर का फोल्डर गायब' मुंबई पुलिस का बिहार पुलिस को जवाबसुशांत सुसाइड केस में हर पल नए मोड आ रहे हैं बीती शाम बिहार पुलिस की टीम ने मुंबई के मालवणी पुलिस थाने में जाकर दिशा सल्याण की अप्राकृतिक मौत के बारे में पूछताछ करने गई. मुंबई पुलिस ने सभी विवरण साझा करने की बात कही लेकिन उसी समय एक कॉल मिलने के बाद चीजें बदल गईं. उन्होंने बिहार से आई टीम को बताया कि दिशा के फोल्डर को अनजाने में डिलीट कर दिया गया है और इसे नहीं ढूंढ सकते. बिहार पुलिस को दिशा का लैपटॉप देने से भी मना कर दिया गया. आज बिहार पुलिस दिशा के परिवार के सदस्यों के बयान लेने गई थी लेकिन परिवार का कोई सदस्य मौजूद नही मिला. बिहार पुलिस उस चाबी वाले को भी खोज रही है जिसने सुशांत के दरवाजे के लॉक खोला था. आदरणीय मामाजी हम सरकार बना सकते हैं , तो गिराना भी जानते हैं । भेदभाव करना छोड़िए और चयनित युवाओं को नियुक्ति करें। WeWantJrSalesManJoining सारे सबूत नष्ट कर दिए जाएंगे तब CBI जांच होगी ? Ab to bhagwaan hi kuch ker sakte h is case mein

सुशांत केस में ब‍िहार पुल‍िस को जांच का हक नहीं- मुंबई पुल‍िस कम‍िश्नरसुशांत सुसाइड केस में मुंबई के पुलिस कमिश्नर से आजतक से बातचीत की है. इस मामले में उन्होंने कहा है कि हमने अभी किसी को क्लीन चिट नहीं दी है. साथ ही बिहार पुलिस की जांच पर उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस को जांच का अधिकार नहीं है. Kya mubai police ne FIR darz ki hai 🤔? डर गई मुंबई पुलिस ! किसको बचा रही है सरकार और कब तक ..!! MumbaiPoliceSoldOut MumbaiPoliceExposed UdhavResignOrCBI4SSR adityathackeray Surajpancholi CBIForSSRHomicideCase RheaChakroborty CBICrucialForSSR BiharPolice YourNaman RoopaSpeaks BabyPenguin mamta_kale India should be put under Army rule for 10 years and new policy to be made for political system

सुशांत मामला: बिहार के डीजीपी का आरोप- मुंबई पुलिस नहीं दे रही है कोई जानकारीसुशांत मामला: बिहार के डीजीपी का आरोप- मुंबई पुलिस नहीं दे रही है कोई जानकारी SushantSinghRajput BiharPolice MaharashtraPolice ips_gupteshwar MumbaiPolice NitishKumar ips_gupteshwar MumbaiPolice NitishKumar कल तो ये पूरा गुणगान कर रहे थे मुंबई पुलिस का ips_gupteshwar MumbaiPolice NitishKumar कल तो यही महाशय टीवी पे कह रहे थे की मुम्बई पुलिस जाँच में सहयोग कर रही हैं ? ips_gupteshwar MumbaiPolice NitishKumar जहाँ सीएम का बेटा कांड में शामिल होगा वहाँ क्या खाक मदद मिलेगी।

सुशांत केसः मुंबई पुलिस पर जमकर बरसे बिहार डीजीपी बोले- मुंह क्यों छिपा रहे होबिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले को मुंबई पुलिस बनाम बिहार पुलिस न किया जाए. हम सुशांत सिंह मामले में जस्टिस चाहते हैं. biharpoliceforSSR Nahi marega Sarkar Ka davaw

सुशांत केस: बिहार-मुंबई पुलिस में आर-पार, CBI जांच के लिए भी तेज हुई मांगसुशांत मामले की जांच करने मुंबई पहुंचे बिहार पुलिस के अफसर को क्वारनटीन कर दिया गया. जिसके बाद लगातार मुंबई पुलिस के रवैये पर बिहार पुलिस के द्वारा सवाल खड़े किए जा रहे हैं. Now, it's time for independent CBI enquiry..... 😘💔 CBI will do much better in assiduously arriving at truth of the matter.They are indifferent agency,better trained and more reliable.When two State police are antagonistic now,CBI enquiry is the best option.Crime needs to be exposed thread bare.

सुशांत केस: पुलिस एसोसिएशन का आरोप, मुंबई में पटना पुलिस को जान का खतराबिहारी इतनी आसानी से ना छोड्ने वाले इस केस को जैसे को तैसा जब बिहार पुलिस के पास तफ्तीश के लिए आयेंगे तो आपलोग एक कदम बढ़ाकर असहयोग करना। अबे तो घोंचू, गाड़ी क्यों नही दी जा रही है उनको..!!