Supremecourt, Uttarpradesh, Crimenews, Many Flaws Found During Hearing, Supreme Court Shocked, Signature Of Minor Child, Supreme Court Of İndia, Supreme Court, Murder Case Hearing, Minor Accused, Up News, सुप्रीम कोर्ट

Supremecourt, Uttarpradesh

सुप्रीम कोर्ट हैरान: चार साल के बच्चे के दस्तखत 12 की उम्र में भी हूबहू, हत्या के मामले में सुनवाई के दौरान मिलीं कई खामियां

क्या चार साल का कोई बच्चा कक्षा एक में प्रवेश लेते वक्त खुद फॉर्म पर दस्तखत कर सकता है? क्या यह दस्तखत 12 साल की उम्र में

21-10-2021 03:45:00

सुप्रीम कोर्ट हैरान: चार साल के बच्चे के दस्तखत 12 की उम्र में भी हूबहू, हत्या के मामले में सुनवाई के दौरान मिलीं कई खामियां SupremeCourt UttarPradesh CrimeNews

क्या चार साल का कोई बच्चा कक्षा एक में प्रवेश लेते वक्त खुद फॉर्म पर दस्तखत कर सकता है? क्या यह दस्तखत 12 साल की उम्र में

मृतकों में से एक के बेटे ऋषिपाल सोलंकी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर बताया कि पांच मई 2020 को उसके पिता व चाचा की हत्या कर दी गई। वे उस समय अपने खेत से ट्रॉलियों में गन्ना भर कर बागपत की चीनी मिल ले जा रहे थे। ट्रॉली खराब होने पर उसे सड़क किनारे रोक कर ठीक करने लगे। उसी समय क्षेत्रीय लोगों से कुछ विवाद हुआ, जिसके बाद दोनों की हत्या कर दी गई। हत्या करने वाले एक आरोपी ने खुद को नाबालिग बता कर जेजेबी से अर्जी दी, जो स्वीकार हुई। सोलंकी ने सत्र न्यायालय और इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपील की, जो खारिज हो गईं। याची के अनुसार अपचारी इस घटना के समय बालिग था, उसकी चिकित्सकीय जांच होनी चाहिए।

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्यों दुर्घटनाग्रस्त हुआ जनरल रावत का हेलीकॉप्टर? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर पलभर में उजड़ा परिवार: जनरल रावत की सिर्फ दो बेटियां, हादसे में माता-पिता दोनों को खोया जनरल रावत का उत्तराधिकारी कौन?: इस अफसर को CDS बनाने पर लग सकती है मुहर, चीन से टकराव के चलते जल्द होगा फैसला

सरकार ने बताई विसंगतियां: इतना मेधावी की तीन कक्षा प्रमोट हुआ?हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ अपील न करने वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में माना अपचारी ठहराए गए व्यक्ति के दस्तावेजों में कई विसंगतियां हैं। उसने 2009 में कक्षा एक में प्रवेश लिया। इस हिसाब से 2014 में उसे कक्षा पांच या छह में होना चाहिए, लेकिन खुद को नाबालिग बताने के लिए दिए दस्तावेजों के अनुसार 2014 में उसने कक्षा आठ का फॉर्म भरा। वह बहुत मेधावी होता तो शायद उसे तीन कक्षा आगे प्रमोट कर दिया जाता। वहीं 2014 में कक्षा आठ पास करने पर 2016 में उसे दसवीं में होना चाहिए था। लेकिन उसने 2019 में दसवीं पास की, यह उसके मेधावी होने पर संशय पैदा करता है।

चार साल का बच्चा आंगनबाड़ी में होना चाहिए, कक्षा एक में कैसे?जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस बीवी नागरत्ना ने कहा कि चार साल का बच्चा कक्षा एक में कैसे प्रवेश ले सकता है? उसे तो आंगनबाड़ी में होना चाहिए। संभव है कि उसके दस्तावेज फर्जी ढंग से बनाए गए हैं। इस पर अपचारी के वकील ने कहा कि दस्तावेजों में खामी नहीं है, मिड-डे मील के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में अभिभावक बच्चों को स्कूल में एडमिशन करवा देते हैं। headtopics.com

वैसे भी सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार एक बार जेजेबी ने दसवीं के प्रमाणपत्र के आधार पर बच्चे को नाबालिग करार दे दिया तो फिर वही निर्णय अंतिम रहता है। लेकिन इस तर्क पर सुप्रीम कोर्ट राजी नहीं हुई, उसने कहा कि जेजेबी ने आदेश में विस्तृत वजहें नहीं लिखी हैं। वह खुद मामले पर आदेश जारी करेगी। इसके लिए सभी पक्षों को दो दिन में लिखित जवाब रखने को कहा गया है।

विस्तार कक्षा आठ के फॉर्म में भी हूबहू बने रह सकते हैं? ऐसा एक वाकया देख कर देश की सबसे बड़ी अदालत ने बुधवार को हैरानी जताई। मामला दो हत्याओं का है, जिसमें किशोर न्याय बोर्ड (जेजेबी) बागपत ने अपचारी को नाबालिग घोषित किया है। सुप्रीम कोर्ट ने कई खामियां सामने आने के बाद मामले पर अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है।

विज्ञापनमृतकों में से एक के बेटे ऋषिपाल सोलंकी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर बताया कि पांच मई 2020 को उसके पिता व चाचा की हत्या कर दी गई। वे उस समय अपने खेत से ट्रॉलियों में गन्ना भर कर बागपत की चीनी मिल ले जा रहे थे। ट्रॉली खराब होने पर उसे सड़क किनारे रोक कर ठीक करने लगे। उसी समय क्षेत्रीय लोगों से कुछ विवाद हुआ, जिसके बाद दोनों की हत्या कर दी गई। हत्या करने वाले एक आरोपी ने खुद को नाबालिग बता कर जेजेबी से अर्जी दी, जो स्वीकार हुई। सोलंकी ने सत्र न्यायालय और इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपील की, जो खारिज हो गईं। याची के अनुसार अपचारी इस घटना के समय बालिग था, उसकी चिकित्सकीय जांच होनी चाहिए।

सरकार ने बताई विसंगतियां: इतना मेधावी की तीन कक्षा प्रमोट हुआ?हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ अपील न करने वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में माना अपचारी ठहराए गए व्यक्ति के दस्तावेजों में कई विसंगतियां हैं। उसने 2009 में कक्षा एक में प्रवेश लिया। इस हिसाब से 2014 में उसे कक्षा पांच या छह में होना चाहिए, लेकिन खुद को नाबालिग बताने के लिए दिए दस्तावेजों के अनुसार 2014 में उसने कक्षा आठ का फॉर्म भरा। वह बहुत मेधावी होता तो शायद उसे तीन कक्षा आगे प्रमोट कर दिया जाता। वहीं 2014 में कक्षा आठ पास करने पर 2016 में उसे दसवीं में होना चाहिए था। लेकिन उसने 2019 में दसवीं पास की, यह उसके मेधावी होने पर संशय पैदा करता है। headtopics.com

आखिरी सैल्यूट LIVE: राजनाथ संसद में बोले- क्रैश में बचे ग्रुप कैप्टन वरुण लाइफ सपोर्ट पर; CDS रावत का शव आज दिल्ली लाया जाएगा कप्तानी से हटे नहीं; हटाए गए कोहली: 48 घंटे की डेडलाइन के बाद विराट से छीनी वन-डे की कमान; रोहित को सौंपी किसान आंदोलन पर फैसला आज: संयुक्त किसान मोर्चा और केंद्र सरकार के बीच बनी सहमति; सिंघु बॉर्डर पर जल्द अहम मीटिंग

चार साल का बच्चा आंगनबाड़ी में होना चाहिए, कक्षा एक में कैसे?जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस बीवी नागरत्ना ने कहा कि चार साल का बच्चा कक्षा एक में कैसे प्रवेश ले सकता है? उसे तो आंगनबाड़ी में होना चाहिए। संभव है कि उसके दस्तावेज फर्जी ढंग से बनाए गए हैं। इस पर अपचारी के वकील ने कहा कि दस्तावेजों में खामी नहीं है, मिड-डे मील के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में अभिभावक बच्चों को स्कूल में एडमिशन करवा देते हैं।

वैसे भी सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार एक बार जेजेबी ने दसवीं के प्रमाणपत्र के आधार पर बच्चे को नाबालिग करार दे दिया तो फिर वही निर्णय अंतिम रहता है। लेकिन इस तर्क पर सुप्रीम कोर्ट राजी नहीं हुई, उसने कहा कि जेजेबी ने आदेश में विस्तृत वजहें नहीं लिखी हैं। वह खुद मामले पर आदेश जारी करेगी। इसके लिए सभी पक्षों को दो दिन में लिखित जवाब रखने को कहा गया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

दिल्ली: 7 साल के बच्चे का किडनैप...दशहत के 3 घंटे, पुलिस ने ऐसे किया रेस्क्यूदिल्ली के शाहदरा इलाके से एक 7 साल के बच्चे को किडनैप करके 1 करोड़ 10 लाख की फिरौती मांगी गई थी. शाहदरा पुलिस ने 3 घंटे के अंदर केस को सुलझा बच्चे को सुरक्षित रीकवर कर लिया. पुलिस ने आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है.

JK: पुंछ के जंगलों में घिरे आतंकी, फाइनल वार के लिए पैरा-कमांडो भी तैनातबताया जा रहा है कि भट्टा दुरियन के घने जंगलों में 4-6 आतंकी छोटी छोटी टुकड़ियों में छिपे हुए हैं. इन्हें सुरक्षाबलों ने चारों तरफ से घेर लिया है. हालांकि, सुरक्षाबल किसी भी तरह का कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते. पिछले 10 दिन से जारी इस मुठभेड़ में 9 जवान शहीद हो चुके हैं.

Kushinagar Airport: अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के उद्घाटन के बाद अब महापरिनिर्वाण मंदिर में पीएम मोदीकुशीनगर को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की सौगात मिल गई है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई narendramodi

बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तरमुंबई के जुहू स्थित एक बुक स्टोर में 'चेंजमेंकर्स' नाम की किताब के लॉन्‍च के मौके पर जावेद अख्‍तर (Javed Akhtar) ने शाहरुख और आर्यन का नाम लिए बिना उनका समर्थन किया। उन्‍होंने कहा कि जांच के नाम पर बॉलिवुड और इंडस्ट्री के बड़े-बड़े सिलेब्रिटीज को निशाना बनाया जा रहा है। इंसान बड़ा अपने कर्मों से और अपनी सोच से होता है, यही दल्ला जब बंगला तोड़ा गया कंगना का तब दल्ला कोनसा बिल में छुपा बैठा था तब कियू नही मुंह खोला Javedakhtarjadu इन जैसे लोग अब भी देश को राह दिखाएंगे

कोरोना के कारण रिकार्ड मौतों के बाद रूस में सख्त पाबंदियां लगाने का प्रस्तावरूस में कोरोना संक्रमण का कहर एक बार फिर बढ़ने लगा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के कारण सर्वाधिक 1015 मौतों और 33 हजार से ज्यादा नए मामलों के मिलने के बाद कुछ सख्त पाबंदियां लगाने का प्रस्ताव किया गया है। Has it something to do with Sputnikv?

भारतीय सबमरीन के झूठ पर पाकिस्‍तान के जहरीले बोल- बताया क्षेत्र में शांति का 'दुश्‍मन'Pakistan NSA On Indian Submarine: पाकिस्‍तानी नौसेना के भारतीय पनडुब्‍बी को रोकने के दावे की पोल खुलने के बाद भी पाकिस्‍तानी दुष्‍प्रचार करने में लगे हुए हैं। अब आतंकियों का पालने वाले पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोइद युसूफ ने भारत को शांति का दुश्‍मन करार दे दिया है।