Jansatta Special Story, Jansatta Coments, Jansatta Feature Story, Jansatta Story On Religion, Special Story On Goddes, Worship, Jansatta Religious Story And Feature

Jansatta Special Story, Jansatta Coments

सफलता का आधार है गलती

सफलता का आधार है गलती

11-04-2021 23:02:00

सफलता का आधार है गलती

हम सब अपने जीवन में कई तरह की गलतियां करते हैं। गलतियां इतनी बुरी नहीं होती, जितनी हम उन्हें बना देते हैं।

और पढो: Jansatta »

महासंकट में भारतीय सेना का कमिटमेंट, क्या Corona की त्रासदी से बचाएगी सेना? देखें खबरदार

देश पर महासंकट के बीच कुछ राहत की खबर ये है कि दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ जैसे कुछ राज्यों में रोजाना के केस कुछ कम हुए हैं. हालांकि ये बात भी सच है कि जहां 18 से 19 लाख टेस्ट रोज हो रहे थे, वहां रविवार को सिर्फ 15 लाख टेस्ट हुए. अब भी बहुत बड़ी चुनौती इसलिए है, क्योंकि 12 राज्य ऐसे हैं, जहां एक्टिव केस 1 लाख से भी ज्यादा हैं. इस चुनौती के साथ बड़ा सवाल ये है कि देश का आक्सीजन संकट कब खत्म होगा. खासतौर पर दिल्ली में जो हाहाकार मचा है. उसमें हर कोशिश नाकाम क्यों हो रही हैं. आज भी कई अस्पतालों से ऑक्सीजन के लिए इमरजेंसी मैसेज आए. हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से सेना की मदद लेने को कहा था. दिल्ली सरकार ने रक्षा मंत्रालय को चिट्ठी लिखी है. जिसमें ऑक्सीजन सप्लाई के लिए सेना के संसाधन लगाने और बेड्स के लिए अस्थाई अस्पताल बनाने की मांग है. दिल्ली सरकार की मांग पर रक्षा मंत्रालय विचार कर रहा है. सेना अपनी पूरी ताकत से कैसे दिल्ली और देश की मदद कर सकती है. सेना की तैयारी क्या है? वहीं आज सरकार ने कोरोना जांच के लिए सीटी स्कैन पर लोगों को आगाह किया है. देखें खबरदार.

केवल सरकार विफल नहीं हुई हैं, हम मानवता के ख़िलाफ़ अपराधों के गवाह बन रहे हैं...संकट पैदा करने वाली यह मशीन, जिसे हम अपनी सरकार कहते हैं, हमें इस तबाही से निकाल पाने के क़ाबिल नहीं है. ख़ाससकर इसलिए कि इस सरकार में एक आदमी अकेले फ़ैसले करता है, जो ख़तरनाक है- और बहुत समझदार नहीं है. स्थितियां बेशक संभलेंगी, लेकिन हम नहीं जानते कि उसे देखने के लिए हममें से कौन बचा रहेगा.

कोविड संकट ‘सरकार बनाम हम’ की लड़ाई नहीं, बल्कि 'हम बनाम कोरोना’ है: सोनिया गांधीकांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर अपनी ज़िम्मेदारियों और कर्तव्यों से पल्ला झाड़ने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश में कोविड संक्रमण के हालात पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई जानी चाहिए, जिससे महामारी से बेहतर ढंग से निपटने के लिए क़दम उठाना और जवाबदेही तय करना सुनिश्चित हो सके. बहोत लेट...🤔 इसकी बात की क्या वैल्यू है सब जगह 0 सीट लायी है । ये तो किसी नगर निगम का चुनाव भी नही जीत सकती इसको बोलने का क्या हक़ है? Yeh County ki nahi hai isseliye baat bol nahi patti. Congress ki bina yeh ladai ho hi nahi sakte. Maam isse bayanu se fark parta hai. Isteffa do p. M isteffa do de modi ji.

'हम भी शपथ लेते हैं कि बंगाल से मिटा देंगे राजनीतिक हिंसा'ममता को शपथ दिलाने के बाद बोले राज्यपाल जगदीप धनखड़- 'हमारी प्राथमिकता इस संवेदनहीन हिंसा का अंत करना है। उम्मीद है कि मुख्यमंत्री कानून के शासन को बहाल करने के लिए तत्काल कदम उठाएंगी।'

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: पल दो पल जले जो हम वो दिया मांगते हैं, आपके हैं आपसे दया मांगते हैंचार्ली चैपलिन की फिल्म ‘द किड’ का प्रदर्शन सन 1921 में हुआ था। अगर यह महामारी का दौर ना होता तो पूरे विश्व में इस महान फिल्म के प्रदर्शन का शताब्दी समारोह आयोजित किया जाता। यह फिल्म मानवीय करुणा का सेल्यूलाइड पर लिखा महाकाव्य माना जाता है। चार्ली चैपलिन फिल्म विधा के महान गुरु की तरह माने जाते हैं। | Moment by moment, we ask for what you gave, you belong to us. माननीय शिक्षामंत्री जी इस वर्ष 10वी,12वी के छात्रों में पढ़ाई नही हो पाई है,कई बच्चे पढ़ने की इच्छा रखते हुए भी नही पढ़ पाए है, पिछले वर्ष कोरोना से पहले बच्चो में अच्छी पढ़ाई हुई थी उनकी परीक्षा लेना वाजिब था परंतु इस वर्ष परीक्षा लेना अनुचित होगा cancelboardexams2021

आज का जीवन मंत्र: जब हम ईमानदारी से परिश्रम करते हैं तो भगवान भी हमारी मदद करते हैंकहानी - पुराने समय में एक दिन पृथ्वी गाय का रूप लेकर देवताओं के पास पहुंची। गाय ने कहा, 'अत्याचारी राजाओं के कारण मैं बहुत दुखी हूं। खासतौर पर कंस के नेतृत्व में सभी राजा मुझे बहुत परेशान कर रहे हैं।' | aaj ka jeevan mantra by pandit vijayshankar mehta, Lord vishnu lesson for happiness and success, how to get success in life

सरकार ने कोविड बेड बढ़ाए, पर उतनी ऑक्सीजन आपूर्ति नहीं, हम कैसे काम करें: गंगाराम अस्पतालदिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के प्रमुख डॉ. डीएस राणा ने कहा कि उन्हें ऑक्सीजन की केवल 500 से 1500 घन मीटर की आपूर्ति मिल रही है और अस्पताल में 516 कोविड मरीज़ हैं, जिनमें से 129 आईसीयू और 29 वेंटिलेटर पर हैं. आपूर्ति की कमी के कारण इन 29 मरीज़ों को आधी रात से से हाथों के ज़रिये वेंटिलेशन दिया जा रहा है लेकिन यह लंबे समय तक नहीं किया जा सकता.