Covid 19, Pandemic, Patient, Reduce, Kerala, Infection Ratio, Decrease, Death, Maharashtra, Bombay

Covid 19, Pandemic

सतर्कता की दरकार

सतर्कता की दरकार in a new tab)

23-09-2021 01:59:00

सतर्कता की दरकार in a new tab)

महामारी को लेकर हाल-फिलहाल आए आंकड़े थोड़ी राहत वाले कहे जा सकते हैं।

हालांकि केरल और महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों में स्थिति अभी भी अच्छी नहीं कही जा सकती। केरल में रोजाना संक्रमण के मामले बीस हजार के आसपास चल रहे हैं। इलाज करा रहे मरीजों का आंकड़ा एक लाख इकसठ हजार से ऊपर बना हुआ है। चिंता की बात इसलिए भी है कि केरल में हालात अभी उतने काबू में नहीं हैं। फिर केरल कोई बहुत बड़ा राज्य भी नहीं है। इसलिए संक्रमण, सक्रिय मामलों और प्रति सप्ताह संक्रमण दर सबसे ज्यादा होना स्थिति की गंभीरता को बता रहा है। महाराष्ट्र की बात करें तो औसतन तीन हजार मामले रोज मिल रहे हैं। पूर्वोत्तर राज्यों में मिजोरम में प्रति सप्ताह संक्रमण दर पंद्रह फीसद से ज्यादा बनी हुई है।

तालिबान की तिजोरी खाली, अमेरिका सख़्त; पाकिस्तान, तुर्की, यूरोप तक आँच, चीन-रूस से बनेगी बात - BBC News हिंदी कृषि क़ानून पर केंद्र सरकार को ही मानना पड़ेगा, किसान नहीं मानेंगे: सत्यपाल मलिक - BBC News हिंदी आगरा में पुलिस हिरासत में सफ़ाईकर्मी की मौत, क्या है पूरा मामला? - BBC News हिंदी

देश भर में देखें तो सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कई राज्य अब कोरोना के खतरे से लगभग निकल चुके हैं। गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड आदि उत्तरी राज्यों में संक्रमण के मामलों में कमी बता रही है कि स्थिति कमोबेश सामान्य हो चली है। गौरतलब है कि सितंबर के मध्य में देश में संक्रमण फैलने की दर यानी आर वैल्यू में भी गिरावट आई है। दूसरी लहर के दौरान यह आंकड़ा 1.37 अंक पर बना हुआ था, यानी सौ संक्रमित एक सौ सैंतीस लोगों को संक्रमित कर रहे थे। पर मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बंगलुरु जैसे महानगरों को छोड़ दें तो बाकी जगहों पर अब यह एक से नीचे आ चुका है। यहां तक कि केरल और महाराष्ट्र में भी यह अब एक अंक से कम है। इन दोनों राज्यों में संक्रमण की फैलाव दर में कमी आना कुछ राहत की बात इसलिए भी है कि पिछले दिनों देश के कुल मामलों में अस्सी फीसद मामले यहीं से आ रहे थे।

खतरा अभी टला नहीं है। सितंबर-अक्तूबर के दौरान तीसरी लहर की आशंका काफी समय से जताई जाती रही है। कहने को टीकाकरण अभियान भी जोरों पर है, लेकिन फिर भी सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि रोजाना पच्चीस-तीस हजार संक्रमितों का आंकड़ा भी छोटा नहीं होता। खासतौर से आने वाले दिनों में त्योहारों का मौसम रहेगा। जाहिर है भीड़ बढ़ेगी और इसके साथ ही संक्रमण फैलने का खतरा भी बढ़ेगा। जैसे केरल में दोबारा से हालात बिगड़ने के पीछे बड़ा कारण ओणम और ईद पर बाजारों में अचानक से भीड़ उमड़ना बताया गया था। खतरा ज्यादा इसलिए भी है कि लोगों ने मास्क, सुरक्षित दूरी, बार-बार हाथ धोने जैसे बचाव उपायों को तो त्याग ही दिया है। यही सब संक्रमण को न्योता देता है। यह सही है कि महामारी से संबंधित आंकड़ों में गिरावट आ रही है, पर यह भी नहीं भूलना चाहिए कि जरा-सी लापरवाही अचानक से इन आंकड़ों के बढ़ने का कारण भी बन सकती है। और ऐसा हम दूसरी भयावह लहर के पहले भुगत भी चुके हैं। headtopics.com

और पढो: Jansatta »

अमृतसर से ग्राउंड रिपोर्ट: सिख किसान बोले- आंदोलन और धर्म अलग नहीं, निहंग हमारी और हमारे धर्म की रक्षा के लिए सिंघु पर डटे रहेंगे

पंजाब के ज्यादातर किसानों को सिंघु बॉर्डर पर दलित लखबीर सिंह की नृशंस हत्या का मलाल नहीं है। उनका मानना है, आंदोलन और धर्म अलग-अलग नहीं हैं, दोनों एक साथ चलेंगे। प्रदर्शनकारी किसानों का कहना है कि निहंग सिंघु बॉर्डर पर जमे रहेंगे, क्योंकि वे किसानों और सिख धर्म की रक्षा के लिए हैं। | Sikh farmers said - movement and religion are not separate, Nihang will stand on Singhu to protect us and our religion

राजस्थान: अधिकारियों ने की जनता की समस्याओं की अनदेखी, नाराज नगर अध्यक्ष चढ़े टॉवर परराजस्थान: अधिकारियों ने की जनता की समस्याओं की अनदेखी, नाराज नगर अध्यक्ष चढ़े टॉवर पर Rajasthan Tower President Problem Officer

ड्रग्स की महामारी के खिलाफ मुखर अभियान: भारत में छह करोड़ से भी अधिक लोगों को ड्रग्स की लततमाम जिंदगियां तबाह करने वाला ड्रग्स माफिया देश विरोधी गतिविधियों में भी लिप्त है। असम सरकार ने ड्रग्स के खिलाफ निर्णायक मुहिम छेड़ी हुई है। इस अभियान की पूर्ण सफलता में हमारे लिए सर्व समाज का सहयोग भी बहुत आवश्यक है। himantabiswa BJP4India INCIndia गलत डाटा है ये इतना तो पंजाब हरियाणा , यूपी और दिल्ली में ही होंगे

महामारी से मुकाबला: अमेरिका में 12-17 साल तक के 56% बच्चों को टीके की पहली डोज लगी, स्कूल खुलने के बाद बाइडेन सरकार की बड़ी तैयारीअमेरिका में कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट घातक असर दिखा रहा है। लेकिन स्कूल और अन्य सार्वजनिक स्थान खुलने के बाद बाइडेन सरकार ने बच्चों को महामारी से सुरक्षा कवच मुहैया कराने का युद्धस्तर पर अभियान भी छेड़ा हुआ है। सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार अमेरिका में अब तक 12 से 17 वर्ष के लगभग 56 फीसदी बच्चों को वैक्सीन की पहली खुराक जबकि 45 फीसदी बच्चों को दूसरी डोज लग चुकी है। | 56% of children aged 12-17 years in America got the first dose of vaccine, Biden government's big preparation after school opens

Narendra Giri की शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने, देखें क्या रही मौत की वजहमहंत नरेंद्र गिरि का दो घंटे तक चला पोस्टमार्टम खत्म हो चुका है और पार्थिव शरीर पहले मठ फिर संगम तट से होते हुए वापस मठ पहुंचा. इसके बाद महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम यात्रा निकाली जा रही है. अब से थोड़ी देर बाद महंत को मठ में ही भू समाधि दी जाएगी. महंत ने अपने सुसाइड नोट में ख्वाहिश जताई कि मठ के पार्क में उन्हें समाधि दी जाए जिसकी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. मौत के मामले में आज शिष्य आनंद गिरि से घंटों तक पूछताछ भी चली. इसी बीच नरेंद्र गिरि की शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ चुकी है. जिसके मुताबित मौत की शुरुआती वजह फांसी बताई जा रही है. नरेंद्र गिरि का विसरा भी सुरक्षित रखा गया है. देखिए.

Asaduddin Owaisi: 'संभल गाजियों की धरती', ओवैसी की जनसभा के लिए लगे पोस्टर पर विवादउत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में ओवैसी की पार्टी सौ सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है। पार्टी शहरों में जनसभाएं कर रही है। ओवैसी की संभल में रैली से पहले ही एक पोस्टर को लेकर विवाद शुरू हो गया है।

तालिबान राज: ट्रंप की पूर्व अधिकारी बोलीं- पाक के बजाय भारत की मदद ले अमेरिकातालिबान राज: ट्रंप की पूर्व अधिकारी बोलीं- पाक के बजाय भारत की मदद ले अमेरिका Afghanistan Kabul Taliban America