विकास दुबे: 'मुठभेड़' में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे?

विकास दुबे 'मुठभेड़' में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे?

11-07-2020 05:43:00

विकास दुबे 'मुठभेड़' में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे?

यूपी पुलिस के दावे किसी मसाला फ़िल्म की स्क्रिप्ट जैसे क्यों लग रहे हैं? एक साथ इतने संयोग हुए तो इतने ही सवाल भी उठ रहे हैं.

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटImage captionमध्य प्रदेश पुलिस की गिरफ़्त में विकास दुबेकानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य अभियुक्त विकास दुबे की कथित मुठभेड़ में मौत पर ठीक उसी तरह सवाल उठ रहे हैं जैसे कि इस पूरे घटनाक्रम में पुलिस की भूमिका से लेकर विकास दुबे के राजनीतिक संपर्कों तक को लेकर उठ रहे थे.

राजीव त्यागी की मौतः क्या 'मुर्ग़ों की लड़ाई' बनती जा रही है टीवी डिबेट इसराइल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच ऐतिहासिक शांति समझौता गुंजन सक्सेना में हुआ वायुसेना का अपमान? सोशल मीड‍िया पर करण जौहर ट्रोल

यूपी पुलिस की दर्जनों टीमें कई राज्यों और नेपाल तक में लंबा जाल बिछाने के बावजूद घटना के एक हफ़्ते बाद तक विकास दुबे को पकड़ नहीं पाईं. गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर में विकास दुबे ने कथित तौर पर ख़ुद को सरेंडर कराया. हालांकि मध्य प्रदेश पुलिस का दावा है कि गिरफ़्तार उन्होंने किया लेकिन इस गिरफ़्तारी पर संदेह जताया जा रहा है.

शुक्रवार को सुबह ही विकास दुबे के कथित तौर पर मुठभेड़ में पहले घायल होने और फिर कानपुर के हैलट अस्पताल में मारे जाने की ख़बर आई. यूपी एसटीएफ़ जानकारी दी कि विकास दुबे को उज्जैन से कानपुर लाया जा रहा था.कानपुर के पास ही पुलिस की एक गाड़ी अचानक हादसे का शिकार होकर पलट गई. इस दौरान विकास दुबे ने हथियार छीनकर भागने की कोशिश की, जिसके बाद पुलिस को आत्मरक्षा में अभियुक्त को मारना पड़ा.

दो और सहयोगी ऐसे ही 'मुठभेड़' में मारे गएलेकिन इस घटनाक्रम की 'क्रोनोलॉजी' इतनी सपाट और दोहराव वाली है कि इस पर लोगों को यक़ीन नहीं हो रहा है. दरअसल, जिस दिन विकास दुबे को उज्जैन में गिरफ़्तार किया गया, उसी दिन से सोशल मीडिया पर ऐसी आशंकाएं जताई जा रही थीं कि ऐसा ही कुछ विकास दुबे के साथ हो सकता है.

इसके पीछे वजह ये है कि विकास दुबे को दो अन्य सहयोगियों को एक दिन पहले ही यूपी एसटीएफ़ ने हरियाणा के फ़रीदाबाद से गिरफ़्तार करके यूपी की सीमा में लगभग इसी तरीक़े और इन्हीं परिस्थितियों में मारा गया था जिस तरह विकास दुबे को मारा गया.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

विकास दुबे के मारे जाने पर क्या बोली यूपी पुलिस?ऐसे कई बिंदु हैं जिनके आधार पर इस मुठभेड़ के दावे पर सवाल उठाए जा रहे हैं. मसलन, क़रीब 1200 किमी तक के सड़क मार्ग में कोई बाधा नहीं आई लेकिन कानपुर के पास पहुंचते ही अचानक ऐसा क्या हुआ कि सिर्फ़ उसी गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ जिसमें विकास बैठा हुआ था.

यही नहीं, इस गाड़ी में सवार पुलिसकर्मियों को चोटें आईं लेकिन विकास के साथ ऐसा कौन सा इत्तेफ़ाक होता है कि वह पुलिसकर्मियों के हथियार छीन कर पलटी हुई गाड़ी से निकलकर भागने लगता है.पुलिस ने यह तो बताया है कि कुछ पुलिसकर्मियों को चोट लगी है लगी है लेकिन इनके बारे में अब तक ज़्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है कि कितने पुलिसकर्मी घायल हैं और उन्हें कहां चोट लगी है.

LIVE: राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, पायलट बोले- मानी गई हमारी मांग 2 देसी हेलिकॉप्टर की LAC पर तैनाती, वजन में हल्के लेकिन जिम्मेदारी भारी विधायक दल की बैठक में बोले गहलोत, एक महीने में जो कुछ हुआ, वह बुरा सपना

इमेज कॉपीरइटReutersकांग्रेस पार्टी ने इस कथित एनकाउंटर पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि विकास दुबे यदि हथियार छीन कर भाग रहा था तो गोली उसके सीने पर कैसे लगी?कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला कहते हैं,"गोली तो पीठ पर लगनी चाहिए थी. विकास दुबे के पैर में रॉड पड़ी है, वो कुछ दूर तक भी ठीक से चल नहीं पाता तो पुलिसकर्मियों की पकड़ से कैसे भाग गया?"

सवाल यह भी पूछे जा रहे हैं कि 1200 किमी की यात्रा सड़क मार्ग से क्यों हो रही है, जबकि चार्टर्ड प्लेन से विकास दुबे को लाने की बात हो रही थी? और कार से लाए जाने के दौरान हथकड़ी क्यों नहीं लगाई गई.इमेज कॉपीरइटGetty Imagesइत्तेफ़ाक़ ही इत्तेफ़ाक़ये भी इत्तेफ़ाक़ ही रहा कि घटना से कुछ दूर पहले ही पत्रकारों की गाड़ियों को चेकिंग के लिए रोक लिया गया. और विकास दुबे को ले जा रही गाड़ी ऐसी जगह पलटी जहां रोड के किनारे डिवाइडर नहीं था.

ये भी इत्तेफ़ाक़ ही है कि पलटी हुई गाड़ी के आसपास सड़क पर दुर्घटना होने के निशान नहीं है और चलती सड़क पर गाड़ी के दुर्घटना का शिकार होने के चश्मदीद भी नहीं है.ये भी इत्तेफ़ाक़ ही है कि जिस विकास दुबे को महाकाल मंदिर के निहत्थे गार्डों ने पकड़ लिया वो यूपी एसटीएफ़ के प्रशिक्षित पुलिस अधिकारियों की पकड़ से भाग निकला और उन्होंने उसे ज़िंदा पकड़ने के बजाए मार देना बेहतर समझा.

ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब पुलिस के पास या तो अभी हैं नहीं या फिर वो देना नहीं चाहती. कानपुर पुलिस और यूपी एसटीएफ़ के अधिकारियों से हमने इन सवालों के बारे में जानने की कोशिश की लेकिन फ़िलहाल कोई जवाब नहीं मिल सका.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहामुठभेड़ में मारा गया कानपुर एनकाउंटर का अभियुक्त विकास दुबे

यूपी सरकार इससे पहले भी एनकाउंटर्स को लेकर सवालों के घेरे में रही है.सरकार का दावा है कि राज्य में बीजेपी सरकार बनने के बाद क़रीब दो हज़ार एनकाउंटर हुए हैं और इनमें सौ से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.कुछ मामलों में मानवाधिकार आयोग जैसी संस्थाओं से नोटिस भी मिले हैं लेकिन एनकाउंटर को लेकर सरकार ज़रा भी नरम नहीं हुई है.

क्या कथित तौर पर फ़र्जी एनकाउंटर्स को लेकर सरकार और अफ़सरों को न्यायालय या अन्य संवैधानिक संस्थाओं का भी डर नहीं रहता, इस सवाल के जवाब में वरिष्ठ पत्रकार सुभाष मिश्र कहते हैं,"इतने एनकाउंटर हुए, अब तक न तो किसी के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई हुई न ही कोई ऐसा नोटिस आया कि मानवाधिकार आयोग जैसी संस्थाओं या फिर न्यायालय से, जिससे कि सरकार या पुलिस वालों में कोई भय होता. तो पुलिस वालों का भी मनोबल बढता है कि कुछ नहीं होगा. पिछली सरकारों से तुलना करें तो पिछली सरकारों में सौ एनकाउंटर भी नहीं हुए. एनकाउंटर स्टेट की पॉलिसी बन गई है. इससे पुलिस को और बल मिला है.. सीएम ने हर मंच से कहा कि ठोंको नीति पर चलो."

अशोक गहलोत ने कहा, 'मैं ख़ुद ही विश्वास प्रस्ताव रखूँगा' महंत नृत्य गोपालदास को कोरोना, सीएम योगी फिक्रमंद US: चुनावी व्यस्तता के बीच कमला हैरिस ने मां को किया याद, शेयर की बचपन की तस्वीर

इमेज कॉपीरइटGetty Imagesसुभाष मिश्र कहते हैं," यूपी पुलिस के पास एक अच्छा मौक़ा मिला था. पुलिस इस मौक़े का सदुपयोग करती तो बहुत से राज़ खुल सकते थे. माफ़िया-पुलिस-नेता के गठजोड़ का सच जनता के सामने आ सकता था. ये पता चल सकता था कि विकास को किन लोगों ने संरक्षण दिया. उससे पुलिस का क्या कनेक्शन है. उसके बाद उसे सज़ा दिलाई जा सकती थी. ऐसी समस्याओं का समाधान पूरी तरह भले न होता लेकिन कुछ हद तक ज़रूर होता."

''पुलिस वालों को लगा कि ये हैदराबाद कांड की तरह उनके लिए हीरो बनने का मौक़ा है. लोगों ने भी पुलिस वालों को एसी घटनाओं के बाद कंधों पर बिठाकर हीरो बनाया है."रिटायर्ड पुलिस अधिकारी विभूतिनारायण राय कहते हैं, 'ये जो कहानी सुनाई जा रही है इसमें बहुत झोल हैं, जितने सवालों के जवाब दिए जा रहे हैं, उनसे ज़्यादा सवाल उठ रहे हैं. कल से ही मीडिया में कहा जा रहा था कि विकास दुबे को रास्ते में ही मार दिया जाएगा. और ये हो गया. यूपी पुलिस को अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए इस एनकाउंटर की किसी निष्पक्ष एजेंसी से स्वयं ही जांच करानी चाहिए ताकि ये पता चले की ये फ़ेक एनकाउंटर है या असली एनकाउंटर है.'

और पढो: BBC News Hindi »

सुशांत केस में सीबीआई जांच से क‍िसे परेशानी? देखि‍ए हल्ला बोल में बहस

महाराष्ट्र सरकार से पहले बिहार सरकार, रिया और सुशांत के पिता ने भी हलफनामा दाखिल किया. सुशांत की बहन श्वेता कीर्ति सिंह आज पहली बार मीडिया के सामने आईं. उन्होंने वीडियो जारी करके भाई के लिए इंसाफ की अपील की और CBI जांच की मांग की. श्वेता के साथ सुशांत की पूर्व गर्ल फ्रेंड अंकिता लोखंडे ने भी वीडियो जारी किया और कहा कि हमें सत्य का पता लग जाएगा. उधर, कंगना रनौत ने मुंबई पुलिस की जांच पर सवाल उठाए और CBI जांच की मांग की . आज सुप्रीम कोर्ट में रिया ने एक बार फिर बिहार में दर्ज FIR पर सवाल उठाए और उसे गैरकानूनी बताया. बिहार सरकार और सुशांत के पिता ने रिया के सवालों को खारिज किया. देखें हल्ला बोल.

इसी से हमारी पहचान होती है कि हम भारतीय है।। एक अपराधी को मारने और बचाने के लिए मीडिया में इतनी बहस हो रही है।। ये कोई गांधी वादी तो नही थे जो उज्जैन मंदिर में दर्शन करके दान पुण्य करके लौट रहे थे और उसे मार दिया।। हमे शर्म है ऐसी अशिक्षित भारतीयता पर। एक इतफ़ाक़ ऐसे होना चाहिए कि सारे देश विरोधी एक साथ पाताल लोक चलेजाये मजा आजायेगा

priyankaAmbedk2 मै_भी_बेरोजगार BanEVM जय_जोहार जय_ज्योती जयभिम जयभीम जय_मूलनिवासी Ye ettefak nhi. Socha samjh ke kiya gya game ha अधिकारी, नेता, पुलिस, सरकार, सब बच गए! सब गोलमाल है. Sawal ye hai ki itna bara criminal ko hatkadi q nahi lagaya gaya होता है, ये इन्तेफ़ाक़ भी ना बहुत धोकेबाज है कभी भी हो जाती है 😂😂

Jab wo apne wade se palat gai to police kya chij hai ha to apko koi diikt h kya ye hmare yogi ji yaha insaaf me koi let nhi hota h on the spot Encounter? How Wse sochne wali bat tio h agr usko bhagna hi ta tio sredr kyo kia विकास दुबे जो भ्रामण समाज से आता हैं जिसका फ़र्ज़ी एनकाउंटर उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में हुवा हैं अगर यही विकास दुबे फर्जी एनकाउंटर किसी दूसरी सरकार में हुवा होता तो संघी& अंदभक्त हिन्दू विरोधी कहकर सारा देश सरपर उठालेते मगर आज सब ग़ुलामों की तरह चुप हैं 1 सवाल नही कररहे हैं

I have remember Akshay Kumar Movie Jolly LLB which is story base on fake encounter to destroy our judiciary system अभी कुछ और इत्तेफ़ाक़ आना बाक़ी है। ये रंगा, बिल्ला और भोगी बाबा को बचाने का प्लान था Aapka Chanel tab kah th jab usne police waalo ko maara tha? DrKafeelWantsJustice इतिफाक से UP पुलिस हिमैन निकली।

Ye to honi hi thi 🌚🌚🌚🌚 तेरा फुफा लगता है क्या राम राज्य में तो पूरी दाल ही काली है। पुलिस चाहती ही नहीं है कि राज खुले। its is fake encounter which is done by up police for presser of up govt. जनाब यह भारत को अखण्ड और फिर खण्डित करने का बृटिश तोहफा है। ठीक है,भैंस आओ चाहे बकरी ,ठोक दिया दरिन्दे को हमे यही काफी।कमसे कम जेलसे गुंडाराज तो नही चलायेगा,शहाबुदीन,अतीक,मुखतार की तरह

Whar is the difference it would made other than covering up the menters? Whatever the reason or coincidence..gangster like him need to have an end ...kudos UP police Modi Hai To Mumkin hai. विकास दुबे अभि जिंदा हैं पुलीस ने किया एन्काऊंटर का नाटक यह भी एक इत्तेफाक है कि हमारे देश के कुछ देशभक्त नेता बचके निकल जाएंगे इस इत्तेफाक से

कसाब को जेल में रखकर क्या उखाड़ लिया जब अपराध साबित हो गया था तो उसको मारना ही सही था When Amit Shah and Mama are involved uthana ethepaak tho banatha hai. UN UNHumanRights hrw Greenpeace Reuters nytimes washingtonpost AJEnglish EUKosovo Europarl_EN NobelPrize MWLOrg_en amnesty cnni WSJ japantimes TheKoreaHerald OIC_OCI guardian Independent IMFNews WHO WhiteHouse thehill HuffPost FinancialXpress

ese log desh chla rhe ऐसे इत्तेफाक़ अच्छे हैं सर जी ऐसा ही इतिफाक Joli LLB 2 मूवी में सिंह साहेब के साथ हुआ था उस पिक्चर में एक इतिफाक सिंह जी के साथ हुआ था और इस केस में विकास दुबे के साथ हुआ हैं लगता है किसी क्षत्रिय ने परशुराम बन कर ब्राह्मणों का पृथ्वी से अंत करने का बीड़ा उठाया लिया है । इक्तेफक एक से दो होते है अगर अत्यधिक हो तो समझ जाए उसे बनाया गया है

Jolly LLB-2 तो देखी ही होगी उसमें आतंकवादी के स्थान पर एक निर्दोष की बलि चढ़ाकर दोषियों को बचाने की कोशिश हुई थी उसमें रील लाइफ कनेडियन सच्चाई सामने ले आया था यहां दोषी को मारकर दोषियों को बचा लिया मज़े की बात ये है यहां रियल लाइफ कनेडियन भी चाटु है आवाज़ दबा दी गई और साज़ बच गए। खाकी के और खादी के सब राज़ बच गए। न जज बैठे न कोर्ट लगी,सज़ा मुक़र्रर I सारे टिड्डे मारे गए, और बाज़ बच गए।

पुलिश ने आम आदमी के किये न्याय का नया रास्ता खोल कर दिखाया है सुक्रिया। अब लोग अदालत नही जाने वाले एसा हमे लगता है अच्छा तरीका है गुड Shukra karo oos ko mandir main he nahi mara kyoki ye bharat hai. 100 galatio ke baad marte hai. Varna America jaisa hona chahaie 1 minute main khel khatm. नियम और कानून के नाम पर चिल्लाने वालों इतना बड़ा अपराध का सजा क्या मिलना चाहिए था, जब न्याय के रूप में इसे मौत नहीं मिलता तो क्या।जो एनकाउंटर को फर्जी बता रहे हैं वो अप्रत्यक्ष रूप से उन आठ शहीद पुलिस कर्मियों का अपमान कर रहे हैं।

AgendaAajtakयोगी जी ने साफ तो कहा है जो दूसरों के जीने का अधिकार को छीनेगा उसे खुद जीने का कोई अधिकार नहीं वास्तव, जोली एल एल बी 2 Jiski lathi uski bhais ... jai jai sri ram सारी राजनैतिक दलो के जिन जिन नेताओं का फट के कमल हो रखा था। इसीलिए ठुकवा दिया, आखिर उन सबको जिनका फट के कमल हो रखा है, आखिर उन सबको अपनी गान भी तो बचानी है। कहीं अगर जुबान खोल देता तो उन सबकी गान में डंडा न हों जाता जो इससे मिले हुए थे और हराम की सम्पत्ति जमा कर रखी हैं सबने।

Soche te rahiye khoon jalate rahiye Shi hua dusra k jan lete tha tb .....jb uski jan par aai toh chill chill k bol rhe tha m vikas duba...apna jan sbko pyara hota h...sochni chahiye uske jan pyara h toh usi tarah police wala k v Jindagi.ittafaq.ha.baki.sab.bakwas.ha.jiyo.aur.jinado. Humaa to khushi hai hai vo maragya par uska ristadaro ko jyda gaam hai apko pata he kon log hai vo

Ek kamina maragaya to media bolo khujli kyun विकास दुबे मारा गया, अपनी जलन कम करने के लिए भरनाल लगा ले! Raising question of encounter of Dube by Indian media is very bad. He is a terrorist. So I think no one will take side of him. Saale sbb mile h politician's apne naam khulne ki vjah se iss jaldi nipta diye

Fake encounter Sabko pata hai.. PLANNING tha..! Sab politics Hai We should believe the story of encounter specialists esp when big guns have vast experience of encounter of living beings (criminals in the eyes of state) as well as non living beings (truth, data) खून का बदला खून मेरे प्यारे उत्तर प्रदेश के पुलिस बालों बधाई स्वीकार करो अपने आठ साथियों की हत्या का बदला जरूरी था और आपने लिया कुत्तो का काम भौंकना है उन्हे भौंकने दो तुम पर मुझे भरोसा है कि तुम श्रीराम और श्रीकृष्ण की भूमि उत्तर प्रदेश से माफिया खत्म कर दोगे

Saspance hi saspance JOLLY LLB PART TWO !!!!!!! अगर साजिश करके मारा गया है तो बहुत अच्छा है । सभी राज्यों को इसपे सोचना चाहिए और सारे अपराधियों को ऐसे ही साजिश करके ऊपर पहुंचा देना चाहिए assassination of BJP-backed Bikash Dubey is a planned mystery that is locked iThen the mouths of some people and the upper class administration in

हरहर हरमहादेव... पुलिस से पंगा...... भारी तो पड़ेगा ना ये इतेफ़ाक सरकार है। Jolly LLB: Janaab Bahut Ittefaaq Hain Aapki Zindagi me. सारे कड़ियों को जोड़िये पता चल जाएगा देश के हर नागरिक को पता था यही होगा आप किस दुनिया में रहते हो भाई? जैसे बीबीसी की पत्रकारिता में होते है इस्लाम के प्रचार के और मासूम साबित करने में।

Inspired by Jamal Khasoggi case 🙏 जब एकतिफक के बाद एकतिफाक होता रहे तो उस पर शक करना लाजमी है .NO ITTEFAK IN MURDERS OF POLICE MEN? THAT'S THE POINT OF CONTENTION FOR MEDIA? विकास का एनकाउंटर होना ही था आज नही तो कल क्योकि नेता बड़े अधिकारी कुत्ते को तब तक हड्डी डालते है। जब तक वो दुसरो पर भोंकता है। जिस दिन उन्ही पर भोंकना शुरू हड्डी बन्द काम तमाम बोले तो एनकाउंटर और एक पते की बात बता दूं 99% एनकाउंटर फेंक झूठे ही होते है। इतिश्री

20 को मार चूका था उस पर study कर लो 70 केस की study कर लो 2001 मे थाने में मर्डर उसके गवाहों की study कर लो 8शहीद हुए पुलिस वालो के परिवार की study कर लो 30 साल का उसका क्रिमनल रिकॉर्ड चैक कर लो लगता है योगी जी ने तुम्हारी दुकान पर ताला लगा दिया 🔏 इत्तेफाक बनाये जाते हैं, सोची समझी साजिश के तहत.. ये पाल्तु लोग अब भौंक्ने लगे अब । हम गोदीमीडिया मोदि के पाल्तु doggy है। मोदि हे तो अपराध मुम्किन है। योगि नहि Don है। spit your face

शरलाक होम्स, क्या बता सकते है कि उन आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का चश्मदीद कौन था,उन भुक्तभोगी पुलिस कर्मीयों को छोड़कर? यूपी के जिन गड्ढों में गिरकर दुर्दांत अपराधी मारे जाते हो.. ऐसे गड्ढे अच्छे है.. 😍😍 Ho sakte hai...Hai to mumkin hai. हेलीकाप्टर ... थोड़े था 🙄 गाड़ी थी.... बारिश का मौसम था🤔 पलट .... गई😐 और मैं तो सोच रहा था कि बस तेज कदमों से न चल दे। इसने तो पुलिस का हथियार छीन के भागने की कोशिश कर दी। आगे का तो दुनियाँ देख ली। ऐसी पलटी कि बॉलीवुड भी हैरान है😮😮

BBC chudru channel swal 8 police ko mar deya gya tap ittefaq gand me ghus gya tha ज़िंदगी इत्तेफाक है। जब अपराधी अपने आप को प्रशासन से उपर समझने लगता है तो सारे कानून और नियमों को ताक पर रख कर प्रशासन लगाम लगाती है। पुलिस और इत्तफाक साथ साथ चलते है 😷😊 एनकाउन्टर कोई कानून नहीं ! अवस्था है!! जब सामुहिक लोकसेवक , शिक्षण-प्रशिक्षण पा भी, असफल होजाते! विरले होता!!

Are bhai han plan murder hi tha to kya hua ....ek aatanwadi ko hi mara n ...maulana pe news dikhao n himmat h to वो मप्र के किसी शीर्ष के सम्पर्क में आया, कुछ न कुछ आश्वाशन पा के ही उसने यह सरेंडर किया था। मप्र का पुलिस का अधिकारी मनाता है कि वो जिंदा कानपुर न पहुचे।कड़ी चेकिंग में आराम से उसकी गाड़ी उज्जैन आ गई। इस हत्याकांड की जड़े मप्र में है। 'आज तक' के कारण साजिश में पलीता लग गया।

भक्क सोबड़ी के दल्ले TBC.. घोड़े के बाल... आंधी आई..बड़ा आया 'इत्तेफाक ऐसा कैसे' पूछने बकैती खोद कही के 😠😠 Ye. Bhi. Ho. Sakta. Hai. Visal. Dubey. 2..4.. CD.bna. gya. Ho. Chotey. Bdey. Khane. Pine. Valo. Ki. Marney. Se. Pehle. Sbut. Apno. Ke. Paas. Rakhgya. Ho 😡 Salimk843 मैं किसी भी अपराधी का पक्ष नहीं ले रहा हूं , परंतु मैं इतना जरूर कहना चाहूंगा अपराध को साबित करने का काम किसका है? पुलिस या न्यायालय क्या इस बंदे को किस किस सफेदपोशों का संरक्षण प्राप्त था यह जांच का विषय है

Get some burnol for urself..... Y media wasting their time,, kya ye anna hazare jaisa tha,, jo itna babaal,, saala gandi naali ka keeda tha ,, great work UP Police,, यूपी के पुलिस वाले अपने नाकामियों को छुपाने के लिए ये किया गया है प्री प्लानिंग किया गया योगी सरकार पर बहुत बड़ा सवाल खड़ा होता है जब मीडिया का काफिला STF कार को फॉलो कर रहे थे तो 1 किलो मीटर पहले ही मीडिया वालों को क्यों रुकवाया गया, CBI कि जांच हो,

How can we forget our 8 on duty police personnels Have u raised that much concern at that time as well? Justice has been done... कमाल हैं,आप चैनल्स वाले भी ना, इस देश के कानून को छोड़ के सबको पता हैं की इस अपराधी की जान ली गयी हैं, घटना तो सीधी हैं, उसने पुलिस कोई मारा, पुलिस ने उसको,इसको बस अदालत नहीं समझ पायेगी, क्यूंकि कानून की आँखों पर पट्टी पड़ी हैं बचपन से पता हैं जब अमिताभ की मूवी अन्धा कानून आयी थी

2020 का सबसे अच्छा जोक्स 👇👇😂😂 आरोपी ने आत्मसमर्पण करने के बाद भागने की कोशिश की।।। Jo bhi tha acha itfaak tha Aaj tak usko court mai prove kaha kar paye Ittefak kaisa bhaishab. Desh ke system ki le li gayi hai acche se. There is no need of supreme Court now. Asheesh25279402 अगर इत्तेफ़ाक ना होता तो ना चिल्लाता, ना पकडा जाता,इत्तेफ़ाकन गाडी ना पलटती, ना वो मारा जाता, इत्तेफ़ाकन ❗😉

8 police bale ko mara tha vul gaya kiya...chutiyapan mat karo vai...jo huwa sahi huwa... अब चाराचोर को ही देख लो, जेल में रहकर कौन सा घोटालेबाजी का भंडा फोड़ कर दिया.🤔 Encounter pahle bhi hue par encounter se crime kam nahi hote Jaise k sath ittefaq h, hameshaa he kuch particular chizo k opposite bolna, kuch particular chizo ka favor krna, kuchh particular type k logo ka supportive tweet krna..

story for ittefaq_2 ? On indian politics and politicians. विकास दुबे हत्यारा बनाम उत्तर प्रदेश पुलिस हत्यारी।जैसे को तैसा मिला बच गया नटुरू गंजा सांडे का तेल चपोरने वाला।दफन हो गई जाने कितने राज नही तो गिरती कितने सफेदपोशो पर गाज।अब बकचोदी मीडिया भुनाएगी अपने अपने अंदाज ऐसे ही हर रोज बनेगा लोकतंत्र का मजाक,और जनता रहेगी बदहवास। जय भारत

Chal na apna kam kar mc bbc ... Just Close this Chapter Here !! Y media trial started aginst UP pol. Fact here is that he was a Goon and he is now no more !! Let others also understand this as a strong Message !! Okay एक पे चढ़ा कफन सौ के राज दफन। It's Clear Pre- planning murder.. तेरा दामाद था न जो तकलीफ हो रही हैं

Are yrr ek criminal Mara gya aap media walo ko sukoon nhi h usse. Br br sawal uthate ho aaplo. ये सरकार ब्राम्हण विरोधी हैं ये इत्तेफाक़ अच्छे हैं मोदी है तो मुमकिन है। क्योंकि इत्तफ़ाक से उसने आठ पुलिस वालों को मार डाला था। विकास_दुबे विकास_दुबे_एनकाउंटर Dramatic climax विकास दूबै का का encounter एक सोची समझी साजिश के तहत हुआ सब कुछ प्लान के मुताबिक हुआ इत्तेफाक कैसे?

आपको क्या तकलिफ है । जब फैसला ऑन द स्पॉट ही होना है तो क्या जरूरत है, कोर्ट,मानवाधिकार आयोग, जजों की क्यों जनता पर इनकी सैलरी का भार डाल रखा है,क्या फर्क है अपराधी एवं पुलिस में? narendramodi PMOIndia timesofindia इस फेक एनकाउंटर की जांच होनी चाहिए,ऐसे तो कल को किसी आम आदमी को भी मार देगी पुलिस। चच्चा ई up है, यहाँ कुछौ हो सकता है।।

विकास दुबे: मुठभेड़ में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे? जवाब है, खबर देना बंद कर घर जाओ।मास्क लगाओ और आराम करो। सब कुछ पहले से निश्चित था जी Vikas dubey must be punished coz of his sin. But.... Kya Ab insaf polish ki gooli tay karegi, court, kanoon vayavastha ki zaroorat nahi? Vishwas uth gaya mera.. Yogi ji ko chahiye fresh gaddaro ki list banakar sab ko unke anjam tak pahucha de

पुलिस के काम करने का तरीका भी उन अपराधियो जैसा ही है जिनके विरुद्ध एओ लड़ते हैं। Is tarah ke gunde la yahi anjam hina chahiye. ज़रा पाकिस्तान की मूठभेड़ों के बारे में भी बताइए। चीन के Uighur के बारे में भी । या उन्होंने आपको पैसे खियाएँ हैं WhatSay Ek us insan k liy media 2 din se ro rhi h jo ek gunda tha hr kisi k liy khtra thaa shrm kro.... Students kabse apna hak k liy ladh rhe h wo nh dikhai de rha kyaa media agr sath deti to kbka ye decision badal chuka hota but nhin bakwas news ko trend me chlana koi media se sikhe

Tum log najdeek nahi jaana. Nahi to pata hai n मर गया वो अब तुझे ज्यादा पूछना है तो जा उस से पूछ लें जो मरा एक टिप्पणी नहीं कर सकता है ऐसा सुप्रीम कोर्ट का क्या काम फालतू पैसा बर्बाद हो रहा है देश का ऐसे कोर्ट कचहरी का देश में कोई स्थान नहीं होने चाहिए जो सिर्फ नेताओं के लिए रात 1:00 बजे सरकार बनाने के लिए खुले

अब इस्तेफाक हमेसा होनी चाहिये अपराधियों के साथ वो चाहे कीसी धरम का भी हो कोई फर्क नहीं पडता उत्तर प्रदेश को माफियओं का अड्डा बन गया था बसपा आई तो उसके माफिया ऐक्टिव हो जाते थे और सपा आई तो उसके माफिया ऐक्टिव हो जाते थे योगी जी आये तो सबको नेगेटिव कर दिया अयेसा ही बन्दा चाहिए था Chello yaar police bhai mere eak haat pakdo - mujhe phone may bath karna hai. 😀

पुलिस अपराधियों की भूमिका का निर्वहन ईमानदारी पूर्वक कर रही है जो लोकतंत्र के लिए खतरनाक है! NoMoreBJP yadavakhilesh Puraane photo Mein hair style change hai baal safed hai... Isme baal kaale hai aur hair style bhi alag..... कुछ भी कहिए यूपी में विकास तो खूब हुआ है... मतलब आप इधर से टाटा सफारी डालेंगे... और उधर से महिन्द्रा TUV 300 निकलेगी

ये जो तुम जानकर अंजान बने जाते हो इसी अदा पर मेरी जान फिदा है तुम पर सवाल तो इस भोलेपन से पूछ रहे हो जैसे कि जानते ही नहीं कि हकीकत क्या है 😂 देश का सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट कोर्ट कचहरी सब मुर्दा है इस कारण सबको बम ब्लास्ट करवा देना चाहिए साहब जी और बाबा जी के राज्य में कुछ भी हो सकता है Well done great job

विकास दुबे के मुठभेड़ में मारे जाने पर उठ रहे हैं सवाल | DW | 10.07.2020आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी विकास दुबे शुक्रवार सुबह उत्तर प्रदेश पुलिस के हाथों मारा गया. पुलिस इसे मुठभेड़ बता रही है, लेकिन इस तथाकथित मुठभेड़ पर कई सवाल उठ रहे हैं. कहानी बहुत बड़ी है।

यूपी के टोल प्लाजा पर लगे रहे होर्डिंग और चकमा देकर निकल गया था विकास दुबेविकास दुबे 2 जुलाई की रात आठ पुलिसकर्मियों की हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद से ही फरार था. विकास दुबे की तलाश में पूरे उत्तर प्रदेश को छावनी में तब्दील कर दिया गया था. इसके बावजूद न केवल विकास दुबे पुलिस को गच्चा देता रहा, बल्कि वह यूपी, हरियाणा से लेकर मध्य प्रदेश तक घूमता रहा. arvindojha देश खुश है, बस मोदी और योगी विरोधियों की ठुक रही है। सारा देश जानता था कि वो ठोका जाएगा और कांग्रेस पार्टी एंटोनियो की तरह (बाटला हाउस एनकाउन्टर) सभी चमचे विधवा विलाप करेंगे।

इंडिया ग्लोबल वीक 2020 में पीएम मोदी व्यापारियों को कर रहे हैं संबोधितब्रिटेन में आज से इंडिया ग्लोबल वीक 2020 की शुरुआत, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन शुरू IndiaGlobalWeek2020 NarendraModi narendramodi PMOIndia

डायमंड सिटी सूरत से क्यों पलायन कर रहे हैं मजदूर?गुजरात का शहर सूरत हीरा उद्योग (Diamond Indutry) के लिए मशहूर है। शहर में हीरा तराशने वाली नौ हजार से अधिक इकाइयों में छह लाख से अधिक लोग काम करते हैं। लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए इन इकाइयों को 13 जुलाई तक बंद कर दिया गया है। मजदूर तो मजदूर है भाई, जहां काम और पैसा दिखाई देगा, उधर ही निकल लेगा यूपी बिहार के लोग महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, राजस्थान की सरकारों को कभी माफ़ नही करेगे ।अगली बार ये सरकारें वापिस चुनाव में नही जीत सकती हैं। सभी लोग सौतेलेपन ब्योहार से दुःखी है।भूख से मर जाएंगे लेकिन वापस नही जाएंगे।

पेरिस समझौते पर कितना अमल कर रहे हैं देश | DW | 09.07.2020विश्व मौसम विज्ञान संगठन तापमान, बारिश और हवा के पैटर्न के कम अवधि के पूर्वानुमान मुहैया कराने के प्रयास कर रहा है. इसके जरिए देशों को यह जानने में मदद मिलेगी कि कैसे जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम में बदलाव हो रहा है. ClimateChange ParisAgreement

दिग्विजय के आरोप- जिसका शक था वह हो गया, कई राजों पर पर्दा डालने किया गया, गृहमंत्री का जवाब- वह फ्री बैठे हैं इसलिए कुछ भी बोल रहे हैंदिग्विजय ने कहा- यह पता लगाना आवश्यक है कि विकास ने महाकाल मंदिर को सरेंडर के लिए क्यों चुना?जिसे मध्यप्रदेश के एक निजी सुरक्षा गार्ड ने पकड़ लिया, वो यूपी एसटीएफ के हथियार छीनकर भाग रहा था | Digvijay's accusations- which was suspected, many secrets were covered, CBI should be investigatedदिग्विजय के आरोप- जिसका शक था वह हो गया, कई राज पर पर्दा डालने किया गया, सीबीआई जांच होना चाहिए digvijaya_28 drnarottammisra myogiadityanath Sab ke sab mile hue hai. digvijaya_28 drnarottammisra myogiadityanath digvijaya_28 drnarottammisra myogiadityanath सब कुछ स्क्रिपटेड है। विकासदुबे को अदालत तक पंहुचना नहींथा। आठ पुलिस वालों को मार कर उसने खुद डेथ वारंट साईन किया था। पर UPPolice के इस एनकाउंटर पर सवाल उठेंगे ज़रूर।