Loksabhaelections 2019, Resultswithamarujala, Votekaro, Lok Sabha Elections 2019, Elections 2019, Six Phase Election 2019, 7Th Phase Election 2019, Voting Excitement, Narendra Modi

Loksabhaelections 2019, Resultswithamarujala

लोकसभा चुनाव : छठे चरण तक नहीं आ पाया मतदान में खास उत्साह, अब सातवें की परीक्षा

अब तक लोकसभा 2014 और विधानसभा 2017 से कम हुआ मतदान

18.5.2019

लोकसभा चुनाव : छठे चरण तक नहीं आ पाया मतदान में खास उत्साह, अब सातवें की परीक्षा LokSabhaElections2019 ResultsWithAmarUjala VoteKaro

अब तक लोकसभा 2014 और विधानसभा 2017 से कम हुआ मतदान

ख़बर सुनें ख़बर सुनें भदैनी और मदनपुरा में रविवार को होने वाले सातवें चरण के मतदान की चहल-पहल 12 बजे धूप में भी साफ दिखाई दे रही थी, लेकिन सुंदरपुर और डीएलडब्ल्यू में वह उत्साह नहीं दिखा। बनारस में अफसरों की मानें 2014 जैसा उत्साह इस बार अभी तक के मतदान में नहीं है। हां, हर बूथ पर भाजपा के बूथ प्रबंधकों की सक्रियता साफ दिखाई दे रही थी। बनारस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीत के अंतर को रिकॉर्ड के स्तर पर ले जाने के लिए यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने करीब 11 बार दौरा किया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी आधा दर्जन बार बनारस आए। नामांकन के दिन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड-शो ने चुनाव प्रचार को नए आयाम पर पहुंचा दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट के मंत्रियों ने भी बनारस को खासा महत्व दिया। चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद जन जागरूकता अभियान में सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने लोगों से अपील की। गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, रेल मंत्री पीयुष गोयल, स्मृति ईरानी ने भी भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार किया। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश शर्मा, श्रीकांत शर्मा समेत अन्य ने चुनाव प्रचार को नई ऊंचाई दी। केंद्रीय मंत्री और लोजपा नेता राम विलास पासवान, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, अकाली दल नेता प्रकाश सिंह बादल समेत अन्य राजनीतिक हस्तियों ने बानारस को महत्वपूर्ण बनाया। बनारस का चुनाव प्रचार इस लिहाज से भी अहम रहा कि यहां दुनिया के कुछ देशों के अलावा हर राज्य से चुनाव प्रचार की टोली आई थी। इसके सामानांतर प्रियंका गांधी का रोड-शो काफी अहम रहा। रोड-शो में बनारस के लोगों की ही भीड़ और एकजुटता रही। हाईटेक से लेकर ग्राऊंड रूट लेवल तक के चुनाव प्रचार के बावजूद छह चरणों के मतदान में उत्साह का स्तर फीका रहा। 12 बजे दिन तक मतदान का प्रतिशत 30-35 प्रतिशत तक ही रहा। बनारस के कई पोलिंग बूथ के अफसरों ने भी माना 2014 की तुलना में इस बार मतदाताओं में उत्साह कम दिख रहा है। बनारस में डटी चुनाव आयोग की टीम के अफसरों का कहना है कि लगभग पूरे प्रदेश में 2014 के मुकाबले मतदान का स्तर कम रहा है। उप्र के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकेटेश्वर लू का भी मानना है कि 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनाव की तुलना में मतदान उत्साहजनक नहीं रहा है। पूरे प्रदेश का औसत मतदान प्रतिशत 60 प्रतिशत के करीब रहा। लू ने कम मतदान के लिए गर्मी या चिलचिलाती धूप को कारण मानने से इनकार कर दिया। कुंदन सिंह के अनुसार 2014 में नरेंद्र मोदी भाजपा के प्रचार अभियान के प्रभारी थे और जनता उन्हें भावी प्रधानमंत्री के रूप में देख रही थी। इसलिए उत्साह था। 2017 में सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी के बाद चुनाव हो रहा था। लोग समाजवादी पार्टी की सरकार से त्रस्त थे। भाजपा नए समीकरण और वादे के साथ मैदान में थी। कुंदन सिंह कहते हैं कि इस बार तो ऐसा कुछ नहीं था। मतदान करके आने के बाद भी चुनाव का मुद्दा क्या रहा, वह इसे ही नहीं समझ पा रहे हैं। बीएचयू में प्रो. मीनाक्षी सिंह का कहना है कि लोगों को लगना चाहिए कि वह लोकतंत्र का हिस्सा हैं। मुझे नहीं लग रहा है कि लोगों को इसका एहसास हो पा रहा है। दीपक पटेल कहते हैं कि सामान्य और समृद्ध वर्ग मतदान करने बूथ तक नहीं आता। उसे गर्मी लगती है। जबकि बाकी वर्ग जमकर लोकतंत्र को मजबूत कर रहा है। बुझारत यादव का कहना है कि इसका कारण चुनाव आयोग है। पहले प्रत्याशी और उसके कार्यकर्ता लोगों को घर से निकालकर बूथ तक ले आते थे। अब चुनाव आयोग जिस तरह से खर्च की सीमा समेत अनेक मानदंड तय किए हैं, उससे मतदान का उत्साह घट गया है। सपा-बसपा के नेता कम मतदान को गठबंधन के पक्ष में मानते हैं। समाजवादी पार्टी के नेता सुशील दुबे कहते हैं कि यह कोई छिपी बात नहीं है। सबसे अधिक वोट प्रतिशत बसपा का रहता है। दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी रहती है। इसके बाद भाजपा को वोट देने वाले मतदाताओं की संख्या रहती है। अंत में कांग्रेस को वोट देने वाले रईस मतदाता घरों से निकलते हैं। उनके घरों का पांच में से औसतन दो या तीन वोट ही पोल हो पाता है। संजय निषाद इसे दूसरे तरह से समझाते हैं। वह कहते हैं कि एससी, एसटी के बीच में बसपा का कॉडर सक्रिय है। पिछड़ी और अन्य पिछड़ी जाति भी इसे लेकर सक्रिय रहती है। जबकि अपरकास्ट चुनाव में खास रुचि नहीं लेता। संजय निषाद के अनुसार यही वर्ग कांग्रेस और भाजपा का खास वोटर है। मो. जमालुद्दीन बताते हैं कि अल्पसंख्यक समुदाय भी पिछले तीन चार चुनाव से करीब-करीब शत-प्रतिशत मतदान कर रहा है। भदैनी और मदनपुरा में रविवार को होने वाले सातवें चरण के मतदान की चहल-पहल 12 बजे धूप में भी साफ दिखाई दे रही थी, लेकिन सुंदरपुर और डीएलडब्ल्यू में वह उत्साह नहीं दिखा। बनारस में अफसरों की मानें 2014 जैसा उत्साह इस बार अभी तक के मतदान में नहीं है। हां, हर बूथ पर भाजपा के बूथ प्रबंधकों की सक्रियता साफ दिखाई दे रही थी। विज्ञापन बनारस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीत के अंतर को रिकॉर्ड के स्तर पर ले जाने के लिए यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने करीब 11 बार दौरा किया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी आधा दर्जन बार बनारस आए। नामांकन के दिन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड-शो ने चुनाव प्रचार को नए आयाम पर पहुंचा दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट के मंत्रियों ने भी बनारस को खासा महत्व दिया। चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद जन जागरूकता अभियान में सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने लोगों से अपील की। गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, रेल मंत्री पीयुष गोयल, स्मृति ईरानी ने भी भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार किया। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश शर्मा, श्रीकांत शर्मा समेत अन्य ने चुनाव प्रचार को नई ऊंचाई दी। केंद्रीय मंत्री और लोजपा नेता राम विलास पासवान, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, अकाली दल नेता प्रकाश सिंह बादल समेत अन्य राजनीतिक हस्तियों ने बानारस को महत्वपूर्ण बनाया। बनारस का चुनाव प्रचार इस लिहाज से भी अहम रहा कि यहां दुनिया के कुछ देशों के अलावा हर राज्य से चुनाव प्रचार की टोली आई थी। इसके सामानांतर प्रियंका गांधी का रोड-शो काफी अहम रहा। रोड-शो में बनारस के लोगों की ही भीड़ और एकजुटता रही। फिर भी कम मतदान हाईटेक से लेकर ग्राऊंड रूट लेवल तक के चुनाव प्रचार के बावजूद छह चरणों के मतदान में उत्साह का स्तर फीका रहा। 12 बजे दिन तक मतदान का प्रतिशत 30-35 प्रतिशत तक ही रहा। बनारस के कई पोलिंग बूथ के अफसरों ने भी माना 2014 की तुलना में इस बार मतदाताओं में उत्साह कम दिख रहा है। बनारस में डटी चुनाव आयोग की टीम के अफसरों का कहना है कि लगभग पूरे प्रदेश में 2014 के मुकाबले मतदान का स्तर कम रहा है। उप्र के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकेटेश्वर लू का भी मानना है कि 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनाव की तुलना में मतदान उत्साहजनक नहीं रहा है। पूरे प्रदेश का औसत मतदान प्रतिशत 60 प्रतिशत के करीब रहा। लू ने कम मतदान के लिए गर्मी या चिलचिलाती धूप को कारण मानने से इनकार कर दिया। क्यों हुआ कम मतदान? कुंदन सिंह के अनुसार 2014 में नरेंद्र मोदी भाजपा के प्रचार अभियान के प्रभारी थे और जनता उन्हें भावी प्रधानमंत्री के रूप में देख रही थी। इसलिए उत्साह था। 2017 में सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी के बाद चुनाव हो रहा था। लोग समाजवादी पार्टी की सरकार से त्रस्त थे। भाजपा नए समीकरण और वादे के साथ मैदान में थी। कुंदन सिंह कहते हैं कि इस बार तो ऐसा कुछ नहीं था। मतदान करके आने के बाद भी चुनाव का मुद्दा क्या रहा, वह इसे ही नहीं समझ पा रहे हैं। बीएचयू में प्रो. मीनाक्षी सिंह का कहना है कि लोगों को लगना चाहिए कि वह लोकतंत्र का हिस्सा हैं। मुझे नहीं लग रहा है कि लोगों को इसका एहसास हो पा रहा है। दीपक पटेल कहते हैं कि सामान्य और समृद्ध वर्ग मतदान करने बूथ तक नहीं आता। उसे गर्मी लगती है। जबकि बाकी वर्ग जमकर लोकतंत्र को मजबूत कर रहा है। बुझारत यादव का कहना है कि इसका कारण चुनाव आयोग है। पहले प्रत्याशी और उसके कार्यकर्ता लोगों को घर से निकालकर बूथ तक ले आते थे। अब चुनाव आयोग जिस तरह से खर्च की सीमा समेत अनेक मानदंड तय किए हैं, उससे मतदान का उत्साह घट गया है। कम मतदान किसके पक्ष में सपा-बसपा के नेता कम मतदान को गठबंधन के पक्ष में मानते हैं। समाजवादी पार्टी के नेता सुशील दुबे कहते हैं कि यह कोई छिपी बात नहीं है। सबसे अधिक वोट प्रतिशत बसपा का रहता है। दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी रहती है। इसके बाद भाजपा को वोट देने वाले मतदाताओं की संख्या रहती है। अंत में कांग्रेस को वोट देने वाले रईस मतदाता घरों से निकलते हैं। उनके घरों का पांच में से औसतन दो या तीन वोट ही पोल हो पाता है। संजय निषाद इसे दूसरे तरह से समझाते हैं। वह कहते हैं कि एससी, एसटी के बीच में बसपा का कॉडर सक्रिय है। पिछड़ी और अन्य पिछड़ी जाति भी इसे लेकर सक्रिय रहती है। जबकि अपरकास्ट चुनाव में खास रुचि नहीं लेता। संजय निषाद के अनुसार यही वर्ग कांग्रेस और भाजपा का खास वोटर है। मो. जमालुद्दीन बताते हैं कि अल्पसंख्यक समुदाय भी पिछले तीन चार चुनाव से करीब-करीब शत-प्रतिशत मतदान कर रहा है। विज्ञापन और पढो: Amar Ujala

कार्टून: अबकी बार... दीवार के पार



पीएम मोदी के लोकसभा में जोरदार भाषण के दौरान ZEE NEWS रहा नंबर-1

CAA प्रदर्शनकारियों की मौत पर बोले CM योगी- 'अगर कोई मरने के लिए आ रहा है तो...'



पाँच दिन झारखंड में क्या करेंगे डॉ. मोहन भागवत?

राज्यसभा में विपक्ष और होने जा रहा कमज़ोर?



आज तक @aajtak

शाहीन बाग में रास्ता खुलवाने के लिए प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने पहुंचे SC की ओर से नियुक्त मध्यस्थ



Live: मध्य प्रदेश की 8 लोकसभा सीटों पर 9 बजे तक 12.6 प्रतिशत मतदानचुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक मध्य प्रदेस की सभी 8 लोकसभा सीटों पर 9 बजे तक 12.6 प्रतिशत मतदान हो चुके हैं. जिनमें मुरैना में 10.92 फीसदी, ग्वालियर में 10.03 फीसदी, सागर में 13 फीसदी, राजगढ़ में 15 फीसदी मतदान हो चुके हैं. terrorist pragya thakur created a history becoming first terrorist in india to contest election जय हो

लोकसभा चुनाव LIVE: दिल्ली में दिग्गजों ने डाला वोट, सुबह 10 बजे तक 8 फीसद मतदानLok Sabha Election 2019: सात राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग शुरू हो चुकी है. आज बिहार, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल की आठ-आठ सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. वहीं हरियाणा की 10, झारखंड की चार, उत्तर प्रदेश की 14 और दिल्ली की सात सीटों पर मतदान हो रहा है. ManojTiwariMP पालतू जानकर को भी CM बन ना है दिल्ली का

LIVE: बांकुरा लोकसभा सीट पर वोटिंग जारी, 9 बजे तक 11.62% मतदानपश्चिम बंगाल की बांकुरा लोकसभा सीट से इस बार कुल 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. भारतीय जनता पार्टी की ओर से डॉ. सुभाष सरकार और तृणमूल कांग्रेस की ओर से सुब्रत मुखर्जी चुनाव लड़ रहे हैं. 12 मई को मतदान के बाद 23 मई को चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे.

LIVE: बस्ती लोकसभा सीट पर मतदान जारी, 9 बजे तक 11.40% वोटिंग दर्जBasti Constituency उत्तर प्रदेश की बस्ती लोकसभा सीट से 11 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. बीजेपी ने मौजूदा सांसद हरीश चंद्र उर्फ हरीश द्विवेदी पर फ‍िर दांव लगाया है. हरीश के सामने सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से बसपा के राम प्रसाद चौधरी चुनावी मैदान पर हैं. कांग्रेस ने राज क‍िशोर स‍िंह को मैदान में उतारा है.

LIVE: जौनपुर लोकसभा सीट पर वोटिंग जारी, 9 बजे तक 9.07% मतदान दर्जउत्तर प्रदेश की जौनपुर लोकसभा सीट पर मुख्य मुकाबला बीजेपी और बीएसपी उम्मीदवार के बीच है. बीजेपी ने मौजूदा सांसद कृष्णा प्रताप सिंह पर दांव लगाया है, जबकि बीएसपी से श्याम सिंह यादव और कांग्रेस से देवव्रत मिश्रा मैदान में हैं. वीर्यवर ईर्ष्यालु कुछ बंदर जामुन के पेड़ पे आम ढूंढ रहे है, अंधो ओर पप्पू के नगर मे अपना मकान ढूंढ रहे हैं। गठबंधन2 लाख वोट से जीत रहा है

लोकसभा चुनाव LIVE: सोनीपत में वोटिंग जारी, 12 बजे तक 24.28 फीसदी मतदानSonipat lok sabha seat 2019 के लोकसभा चुनाव में सोनीपत सीट से कुल 29 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. सोनीपत लोकसभा सीट पर कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का मुकाबला बीजेपी के रमेश कौशिक से है. गड़ी उजाले खाँ गोहाना Goverment schooll Both no. - 9 में --- वोटिंग मशीन जो समय लेती है उतना समय भी लोगों को वोट डालने के लिए नहीं दिया जा रहा।।।।।।। और लोगो के साथ अधिकारी गलत व्यवहार कर रहें है।।।।।

LIVE: डुमरियागंज लोकसभा सीट पर मतदान जारी, 9 बजे तक 7.60% वोटिंग दर्जDomariyaganj Constituency उत्तर प्रदेश की डुमरियागंज लोकसभा सीट से 10 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. बीजेपी ने मौजूदा सांसद जगदम्बिका पाल पर फ‍िर दांव लगाया है. पाल के सामने सपा-बसपा गठबंधन की तरफ से बसपा के आफताब आलम चुनावी मैदान पर हैं. कांग्रेस ने डॉक्टर चंद्रेश कुमार उपाध्याय को मैदान में उतारा है. B.S.P

LIVE: प्रतापगढ़ लोकसभा सीट पर मतदान जारी, 9 बजे तक 10.68% वोटिंग दर्जप्रतापगढ़ लोकसभा सीट पर 8 उम्मीदवार मैदान में हैं जिसमें मुख्य मुकाबला बीजेपी के संगम लाल गुप्ता और कांग्रेस के राजकुमारी रत्ना सिंह के बीच है. बहुजन समाज पार्टी ने अशोक त्रिपाठी को मैदान में उतारा है. मैं प्रतापगढ़ रामपुर से हु, यहाँ बीजेपी आ रही है,, मोदी मैजिक जारी है।। Pratapgarh and All Of Constituencies of UP Will Remained Saffron Looks and Go With Party Of Sabka sath sabka vikas आने वाले वर्षों में कांग्रेस पार्टी इतिहास बनने वाली है

LIVE: कांठी लोकसभा सीट पर 2 बजे तक 57% मतदान, चुनावी रणभूमि में 7 प्रत्याशी2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल की कांठी लोकसभा सीट पर 7 कैंडिडेट चुनाव मैदान में हैं. मुख्य मुकाबला बीजेपी, कांग्रेस, सीपीएम और टीएमसी के बीच है. इस सीट पर बीजेपी और शिवसेना के उम्मीदवार भी टक्कर दे रहे हैं. Vote wisely people of West Bengal do get rid of the the people who spread hatered in the name of religion चुनावो के दौरान पश्चिमी बंगाल में जो हिंसा हो रही है उसके देखते हुए ऐसा लग रहा है जैसे पश्चिमी बंगाल को कश्मीर बनते कोई नही रोक सकेगा।

LIVE: सीवान लोकसभा सीट पर मतदान जारी, 2 बजे तक 32% वोटिंगबिहार की सीवान लोकसभा सीट पर जेडीयू और आरजेडी दोनों ने महिला उम्मीदवार को टिकट दिया है. जेडीयू ने कविता सिंह को उम्मीदवार बनाया है, जबकि आरजेडी ने बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नी हीना शहाब मैदान में हैं. इस सीट से कुल 19 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

लोकसभा चुनाव LIVE: सिरसा में वोटिंग जारी, 2 बजे तक 41.25 फीसदी मतदानहरियाणा की सिरसा लोकसभा सीट पर आज मतदान हो रहा है. कांग्रेस ने अशोक तंवर को मैदान में उतारा है वहीं इंडियन नेशनल लोक दल से चरणजीत सिंह रोरी को टिकट मिला है. बीजेपी ने सुनीता दुग्गल को अपना उम्मीदवार बनाया है. इस सीट पर इन्हीं तीन दलों के बीच मुकाबला है. folt fot soneyaya gouad tath travaos mani rooud bare gouadu lachho baney vatlay कांग्रेस कही भी कड़ा मुक़ाबला नहीं दे रही है सिवाय अमेठी, रायबरेली और शायद वायनाड में। बहादुर बनो कमल का बटन दबाओ गद्दारो को इटली के दरबार में पहुंचाओ आज 12 मई है मतदान करो और बच्चों का भविष्य सुरक्षित बनाओ



नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन

मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत

महात्मा गांधी ने कई बार कहा कि वो कट्टर हिन्दू हैं: मोहन भागवत

भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप

गुजरात में ट्रंप के तीन घंटों पर खर्च होंगे 85 करोड़

J&K: अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद का आरोप, 'नहीं मिली भारत आने की मंजूरी'

CAA, NPR और NRC के समर्थन में 154 प्रतिष्ठित नागरिक, याचिका पर किया हस्ताक्षर

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

19 मई 2019, रविवार समाचार

पिछली खबर

पीएमओ में जब मोदी बैठक लेते हैं तो इंटरनेट की कई सर्विस बंद हो जाती हैं

अगली खबर

रेलवे ने किया नियमों में बदलाव, अब स्टेशन आने से आधा घंटा पहले जमा करने होंगे बिस्तर
कार्टून: अबकी बार... दीवार के पार पीएम मोदी के लोकसभा में जोरदार भाषण के दौरान ZEE NEWS रहा नंबर-1 CAA प्रदर्शनकारियों की मौत पर बोले CM योगी- 'अगर कोई मरने के लिए आ रहा है तो...' पाँच दिन झारखंड में क्या करेंगे डॉ. मोहन भागवत? राज्यसभा में विपक्ष और होने जा रहा कमज़ोर? आज तक @aajtak शाहीन बाग में रास्ता खुलवाने के लिए प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने पहुंचे SC की ओर से नियुक्त मध्यस्थ आज तक @aajtak प्रियंका गांधी राज्यसभा जाएंगी या नहीं, सोनिया गांधी लेंगी फैसला सेना में औरतें: सुप्रीम कोर्ट के आदेश का मतलब क्या है? Man vs Wild: पीएम मोदी के बाद रजनीकांत का स्वैग, सामने आया फर्स्ट लुक LIVE: शाहीन बाग पहुंचे वार्ताकार, प्रदर्शनकारियों से कर रहे हैं बातचीत
नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत महात्मा गांधी ने कई बार कहा कि वो कट्टर हिन्दू हैं: मोहन भागवत भारत ने हमारे साथ बहुत अच्छा सलूक नहीं कियाः ट्रंप गुजरात में ट्रंप के तीन घंटों पर खर्च होंगे 85 करोड़ J&K: अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद का आरोप, 'नहीं मिली भारत आने की मंजूरी' CAA, NPR और NRC के समर्थन में 154 प्रतिष्ठित नागरिक, याचिका पर किया हस्ताक्षर दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में सुंदरकांड का पाठ करवाएगी AAP, ट्वीट में ऐलान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, डर और लालच दिखाकर धर्मांतरण कराना महापाप से कम नहीं ट्रंप भारत यात्रा: झुग्गियों को दीवार से ढकने के बाद 45 परिवारों को जगह खाली करने का नोटिस जब राजीव गांधी ने सोनिया के क़रीब आने के लिए दी थी रिश्वत चेन्नई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस की मंजूरी के बिना हजारों की संख्या में मुस्लिम सड़क पर उतरे