लालू माइनस बिहार की पॉलिटिक्स मुमकिन नहीं - BBC News हिंदी

चारा घोटाले के कई मामलों में जेल जाने के बाद राजनीति में लालू यादव की कितनी प्रासंगिकता है?

5 घंटो पहले

''लालू, जिनका अकसर पसंदीदा वाक्य होता है कि तुम दिल्ली वालों को कुछ पता नहीं है.' आज उन लालू प्रसाद यादव का जन्मदिन है. लालू की कहानी पढ़िए-

चारा घोटाले के कई मामलों में जेल जाने के बाद राजनीति में लालू यादव की कितनी प्रासंगिकता है?

इश्क़-विश्क़ से दूर का नाता नहींलालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी उन्हें साहेब कह कर पुकारती हैं. अपने बाद राबड़ी को मुख्यमंत्री बनाने पर लालू को कई आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा था. कुछ साल पहले जब लालू बीबीसी के दफ़्तर आए थे तो हमने उनसे पूछा था कि राबड़ी देवी के अलावा आपका कहीं इश्क़-विश्क़ हुआ?

एलोपैथी विवाद के बाद अब बाबा रामदेव ने बताया डॉक्टरों को देवदूत, कहा लेंगे कोरोना वैक्सीन - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi 'बाबा जेल में हैं पर मुझे रोज़ दिखते हैं'; कश्मीरी बेटियों ने मोदी से की गुहार - BBC News हिंदी रवीश कुमार का प्राइम टाइम : मृत्यु ही अंतिम सत्य, अंतिम सत्य छुपाती सरकार वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर

लालू का जवाब था, "हम दिल वाला आदमिये नहीं हैं. ई सब काम हम कभी नहीं किया. राबड़ी देवी से शादी से पहले हमने उनको देखा भी नहीं था. आज कल तो जिससे शादी करना होता है उसकी फ़ोटो मंगाई जाती है. उससे मिलने के लिए पूरा का पूरा परिवार जुटता है और फिर लड़का उससे सवाल जवाब करता है. हमसे कोई क्यों 'लव' करेगा? हम तो गाँव के लोग थे. फ़क़ीर के घर में पैदा हुए थे. अब तो इंटरनेट आ गया है. लोग मोबाइल से 'मेसेज' भेजते हैं. हमारे पास अगर किसी का मोबाइल फ़ोन आ गया तो हमें सुनने के बाद आज भी फ़ोन 'ऑफ़' करना नहीं आता."

इमेज स्रोत,PRAVEEN JAINलालू का पालक गोश्तलालू ख़ुद कहते हैं कि उन्हें खाना बनाने का बहुत शौक़ है - शाकाहारी और मांसाहारी दोनों.शिवानंद तिवारी बताते हैं, "खाने के मामले में सुपर कुक हैं लालू यादव. हम तो कई दफ़ा खाए हैं लालू यादव के यहाँ. एक बार वो मुफ़्ती मोहम्मद सईद के यहाँ से पालक गोश्त की रेसिपी सीख कर आए थे. उन्होंने हमें फ़ोन कर कहा, आइए हम आपको खिलाते हैं. क्या शानदार उसका शोरबा था. उसका स्वाद हम अभी तक भूले नहीं हैं." headtopics.com

इमेज स्रोत,FACEBOOK/TEJASHWI YADAVइमेज कैप्शन,लालू प्रसाद यादव की पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादवचूहा भी खाते थे लालूलालू एक स्वप्न देखने के बाद कुछ दिनों के लिए विशुद्ध शाकाहारी हो गए थे. लेकिन कम लोगों को पता है कि लालू एक ज़माने में चूहे खाने के शौक़ीन थे.

कुमकुम चड्ढ़ा बताती हैं, "जब वो रेल मंत्री थे तो उन्होंने मुझे एक बार बताया था कि आप को गाँव के बारे में कुछ नहीं पता है. हम लोग तो चूहा खा कर बड़े हुए हैं. हम चूहे को पकड़ कर उसको ज़मीन में दे मारते थे, और फिर उसको नमक-मिर्च लगा कर आग में भून कर खाते थे. हम चूहियों को नहीं मारते थे, क्योंकि डर रहता था कि वो कहीं गर्भवती न हो. इस बीच लालू के साथी प्रेम गुप्ता ने ये सफ़ाई देने की कोशिश की कि लालू ग़रीबी की वजह से चूहा खाया करते थे. लालू ने तुरंत उनको टोक कर कहा, लोग कुत्ता खा सकता है, तो हम चूहा क्यों नहीं?"

इमेज स्रोत,SANJAY YADAV/BBCइमेज कैप्शन,चरवाहा विद्यालय के उद्घाटन के वक्त लालू प्रसाद यादवसाधना कट हेयर स्टाइललालू के हेयर स्टाइल का एक ज़माने में बहुत मज़ाक़ उड़ाया जाता था और लोग 'साधना कट' कह कर उसका उपहास करते थे. लेकिन लालू इसका भी पुरज़ोर जवाब देना जानते थे.

वो कहते थे, "हम लड़की तो नहीं हैं न. हम शुरू से ही छोटा बाल रखते हैं. हमारा बाल खड़ा रहता है. हम न कंघी रखते हैं, न अपना मुंह देखते हैं आइना में और न ही कोई मेक-अप करते हैं. बाल बड़ा रखने से माथा खुजलाता है और गर्दन में दर्द होता है. बाल छोटा होने से मैं अपने हाथ से ही कंघी का काम कर लेता हूँ. आज कल सब कोई लड़की की तरह बड़ा बाल रख रहा है. विचित्र सूरत लगता है उनका. बड़ा बाल रखने से कोई भी उसको पकड़ के दुई मुक्का मार सकता है. छोटा बाल रखने से हाथ में बंधाएगा ही नहीं." headtopics.com

कोरोना वैक्सीन की 100 करोड़ डोज़ दान करेंगे दुनिया के अमीर देश - BBC News हिंदी पंजाब : तीन सदस्यीय कमेटी ने सौंपी रिपोर्ट, कैप्टन ही 'कैप्टन' रहेंगे, नवजोत सिद्धू की अभी बड़ी ओपनिंग नहीं एलोपैथी के आलोचक बाबा रामदेव अब लगवाएंगे कोरोना की वैक्सीन, डॉक्टरों को बताया 'देवदूत'

इमेज स्रोत,PRAVEEN JAINलोक-संगीत के लिए दीवानगीकॉलेज के दौरान लालू थियेटर किया करते थे. एक बार उन्होंने शेक्सपियर के नाटक 'मर्चेंट ऑफ़ वेनिस' के भोजपुरी रूपांतरण में शायलॉक की भूमिका निभाई थी. लालू को सिनेमा देखने का उतना नहीं, लेकिन बिहार का लोक-संगीत सुनने का बहुत शौक़ है.

शिवानंद तिवारी याद करते हैं, "गाँव देहात का जो नाच गाना है, वो लालू को भी बहुत पसंद है. जब वो जेल से निकल कर आए थे, तो हमारे यहाँ चंपारण का एक ग्रुप है. उसे उन्होंने अपने यहाँ गाने के लिए बुलाया था. लोक संगीत के मामले में हम दोनों का टेस्ट मिलता-जुलता है. जब भी उनके यहाँ इस तरह का कोई आयोजन होता है, तो हमें भी फ़ोन आता है, आवा, आवा. गाँव में लौंडे का नाच हो, या चैता हो, हम लोग रात-रात भर चैता सुनते थे. भिखारी ठाकुर तो छपरा ज़िला, यानि लालू यादव के ही ज़िले के थे. उनको भोजपुरी का शेक्सपियर कहा जाता है. लालू को उनकी रचनाएं बहुत पसंद हैं."

इमेज स्रोत,Ptiचारा घोटाले ने गिराया लालू को ऊँचाइयों सेलालू की लोकप्रियता को बहुत बड़ा धक्का लगा जब चारा घोटाले में उनका नाम सामने आया. मार्च, 1996 में सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जाँच सीबीआई को सौंप दी. इस मामले से लालू लाख कोशिशों के बावजूद बाहर नहीं निकल पाए. आख़िर 30 जुलाई, 1997 को वो पहले मुख्यमंत्री बने जिन्हें आपराधिक कार्यों से न सिर्फ़ अपना पद छोड़ना पड़ा, बल्कि जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा.

सुबह 10 बजे जब वो 1, अणे मार्ग वाले अपने निवास की पहली मंज़िल से नीचे आए, आंखों में आँसू भर कर अपनी पत्नी और बच्चों को अलविदा कहा और मुख्यमंत्री की सरकारी कार में बैठ कर सीबीआई के दफ़्तर सरेंडर करने गए. उनके समर्थकों ने उनके लिए लालू ज़िंदाबाद के नारे तो लगाए, लेकिन लोग इसके विरोध में बिहार या पटना की सड़कों पर नहीं उतरे. लालू इस झटके से कभी उबर नहीं पाए. headtopics.com

लालू के लिए सड़क, बिजली, पानी बड़ा मुद्दा नहींलालू का अभी भी मानना है कि चुनाव बिजली, सड़क और पानी के मुद्दे पर नहीं जीते जाते.एक ज़माने में लालू के नज़दीक रहे श्याम रजक कहते हैं, "लालू जानबूझ कर अपने मतदाताओं को अभाव में रखना चाहते हैं. एक बार उन्होंने अपनी ही चुनाव सभा में कहा था कि अगर सड़कें बनेंगी तो वाहन आएंगे और पुलिस वाले तुम्हारे गाँव जल्दी पहुंचेंगे और तुम पर ज़ुल्म ढाएंगे. छोड़ दो तुम्हें सड़क की ज़रूरत नहीं है."

इमेज स्रोत,AFPलालू का ऋणलालू के लिए रोटी से बड़ी है इज़्ज़त. उन पर भले ही भ्रष्टाचार के आरोप लगे हों और वो भारतीय राजनीति के कथित रूप से सबसे बड़े जातिवादी नेता हों, लेकिन इस बात से कम लोग इनकार करेंगे कि उन्होंने अपने लोगों को एक पहचान दी है.कुमकुम चड्ढा कहती हैं, "लालू का सबसे मज़बूत पक्ष है, अपने लोगों को एक पहचान देना. मुझे याद है एक बार एक टैक्सी ड्राइवर मुझे ले कर जा रहा था. तब लालू के ख़िलाफ़ हवा थी, क्योंकि यादवों का उनसे मोह भंग हो गया था. उसने कहा लालू ने हमारे लिए ये नहीं किया, वो नहीं किया, पैसा कमाया. उसने वो सब बातें गिनवाईं, जिनके लिए लालू उन दिनों बदनाम हो रहे थे. लेकिन उसने कहा कि लालू का एक ऋण है जो हम लोग कभी नहीं चुका सकेंगे. और वो ऋण है कि लालू ने हम लोगों को आपके बराबर बैठने का मौक़ा दिया."

बिहार: समीक्षा के बाद बढ़ी कोविड-19 मौतों की संख्या, 5458 से बढ़कर 9429 हुई Petrol, Diesel Price Today : मुंबई में 102 और भोपाल में 104 के ऊपर बिक रहा पेट्रोल, आज फिर बढ़े दाम UP में दैनिक भास्कर ने बड़ा भ्रष्टाचार रोका: कोरोना जांच के लिए 100 करोड़ से ज्यादा की टेस्टिंग कीट 3 से 5 गुना ज्यादा दाम पर खरीदी जा रही थी, भास्कर में खबर छपी तो टेंडर हुआ निरस्त

इस समय लालू चारा घोटाले के कई मामलों में जेल में बंद हैं. वो शायद अब कोई चुनाव भी न लड़ सकें. लेकिन क्या भारतीय राजनीति में उनकी प्रासंगिकता नहीं रही?शिवानंद तिवारी कहते हैं, "वो आदमी आज जेल में बंद है. इसके बावजूद आप बिहार की राजनीति में लालू यादव को माइनस करके वहाँ की राजनीति की कल्पना ही नहीं कर सकते. आज भी अगर आप बिहार के अख़बार पढ़ें और नीतिश कुमार और सुशील मोदी के वक्तव्यों पर आपकी नज़र जाए तो लगता है कि लालू का भूत अभी भी उनके सिर पर सवार है. ये इसलिए है, क्योंकि उन्हें मालूम है कि समाज में कितनी गहराई तक लालू यादव जमे हुए हैं."

और पढो: BBC News Hindi »

Mamata Banerjee संग Rakesh Tikait की मीटिंग की Inside Story

आज देशभर में दो मुलाकातों की चर्चा हो रही है, एक योगी आदित्यनाथ की अमित शाह से हो चुकी मुलाकात और कल प्रधानमंत्री मोदी से होने वाली मीटिंग को लेकर. वहीं दूसरी मुलाकात ने राष्ट्रीय बहस को छेड़ दिया, ये मुलाकात हुई है बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और किसान नेता राकेश टिकैत के बीच. आखिर बंगाल से दिल्ली तक क्या सियासी गेम प्लान तैयार हो रहा है? क्या है आंदोलन पर बैठे किसानों का प्लान? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

अरसे बाद परिवार के साथ लालू यादव मना रहे बर्थ डे, मीसा ने शेयर की तस्वीरेंराजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव अपना 74वां जन्मदिन मना रहे हैं. शुक्रवार को उनके समर्थकों की ओर से जन्मदिन के अवसर पर बधाई दी गई. लालू यादव की बेटी मीसा भारती ने ट्विटर पर कुछ तस्वीरें भी साझा कीं और अपने पिता को जन्मदिन की बधाई दी.

फैक्ट चेक: अंतरिक्ष से हिमालय का नजारा नहीं, सॉफ्टवेयर से बनी है ये तस्वीरसोशल मीडिया पर जिस फोटो को लोग अंतरिक्ष से हिमालय पर्वत का नजारा बताकर शेयर कर रहे हैं, उसे एक जर्मन ग्राफिक डिजाइनर ने सॉफ्टवेयर की मदद से बनाया था FactCheck AFWAFactCheck | AFWACheck, journalistjyoti AFWACheck journalistjyoti Save country... Abhi koi bhi exam karana maut ke bararbar hai koi government ko samjhao Vaccine_do_exam_lo PostponeESE2021

काम का ऐसा जुनून: गटर सही से साफ है या नहीं यह जांचने के लिए मैनहोल में उतर गई महिला ऑफिसर, उनके काम की जमकर हो रही है तारीफभिवंडी नगर निगम की एक महिला ऑफिसर सुविधा चव्हाण के काम करने के तरीके की जमकर तारीफ हो रही है। सुविधा चव्हाण ने मंगलवार को बारिश से पहले शहर के कुछ मैनहोल का निरीक्षण किया था। जांच के दौरान उन्हें सफाई पर संदेह हुआ तो वे सीधे गटर में सीढ़ियों के सहारे उतर गईं। कुछ जगह तो उन्हें उम्मीद के मुताबिक सफाई मिली, लेकिन कुछ जगहों पर गंदगी देख उन्होंने जिम्मेदार लोगों को फटकार भी लगाई। | Suvidha Chavan | Maharashtra Thane Municipal Corporation Woman Officer Suvidha Chavan Climbed Down A Manhole CMOMaharashtra RSOS_EXAM_Cancel_करे RSOS_exam_cancel_करें RSOS_exam_cancel_करें RSOS_exam_cancel_करें RSOS_exam_cancel_करें RSOS_exam_cancel_करें RSOS_के_छात्रों_को_प्रमोट_करें CancelExamSaveStudents CancelExamsSaveLives priyankagandhi ashokgehlot51 GovindDotasra CMOMaharashtra Really appreciable... 🙏 CMOMaharashtra इन महिला अधिकारी ने गटर में उतर कर स्वयम सफाई का निरीक्षण किया है, यह उनके काम के प्रति वफादारी एवं ईमानदारी दर्शाती है। ऐसे अधिकारियों से सीख लेना चाहिए पूरे भारतवर्ष के अधिकारियों को,मुझे व पूरे देश को गर्व है इनके कार्य से।well done & good job mam..

India में हर Vaccine को जहां मिलता है अप्रूवल, कैसी है वो लैब, देखें रिपोर्टदेश में वैक्सीनेशन पॉलिसी को रफ्तार देने के लिए केंद्र सरकार ने अब अपनी जिम्मेदारियों को Revise किया है. लेकिन सबसे ज्यादा जरूरी ये है कि वैक्सीन की सप्लाई बढ़ाई जाए जिसके लिए स्वदेशी वैक्सीन कंपनियों के अलावा कई विदेशी वैक्सीन के भारत में आने का रास्ता भी साफ किया जा रहा है. लेकिन क्या आपको पता है कि जो भी वैक्सीन भारत में लगाई जाती है उसे फाइनल अप्रूवल कहां से मिलता है ? वो जगह है - सेंट्रल ड्रग्स लेबोरेट्री जो हिमाचल प्रदेश के कसौली में स्थित है. ये विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से प्रमाणित. देश की इकलौती वैक्सीन टेस्टिंग लैब है. देखें वीडियो. ❤ aam khao sirf tum log guthliyo se kya kam 🙂

6,000mAh बैटरी वाले Realme C25s स्मार्टफोन की सेल आज, कीमत 10 हजार से है कमRealme C25s स्मार्टफोन की सेल आज दोपहर 12 बजे से Flipkart और Realme वेबसाइट पर शुरू होगी। रियलमी सी25एस मौजूदा Realme C25 का अपग्रेड वर्ज़न है, जो कि भारत में अप्रैल में लॉन्च किया गया था।

एक राह जो ले जाती है प्रकृति से स्वयं की ओरअगर यह चेतना ईश्वर है तो यही ज्ञात होता है कि ईश्वर भी सर्वव्यापी है. वह फूलों, पेड़ों, जानवरों, नदियों, हवाओं, बादलों की गर्जन में, चिड़ियों के गीतों में, बहार में, मोर के नृत्य में, हम सभी में है. हम सभी परस्पर हैं. ले जाते है ले आती है ,ये कोई बात है क्या,राह कही नही,आती जाती ,भावनाएँ है जो कुछ महसूस कराती है,ईन्हें के वश मे जा हादी बनता है बड़ा तबका तो ,कुछ ईमोशनल