Lakhimpurkheri, Lakhimpurkheriviolence, Ashishmishra, Ajaymishra, लखीमपुरखीरी, लखीमपुरखीरीहिंसा, आशीषमिश्रा, अजयमिश्रा

Lakhimpurkheri, Lakhimpurkheriviolence

लखीमपुर हिंसा: किसानों को ‘धमकी’ देने वाले अजय मिश्रा केंद्रीय मंत्री बनने से पहले क्या थे

लखीमपुर हिंसा: किसानों को ‘धमकी’ देने वाले अजय मिश्रा केंद्रीय मंत्री बनने से पहले क्या थे #LakhimpurKheri #LakhimpurKheriViolence #AshishMishra #AjayMishra #लखीमपुरखीरी #लखीमपुरखीरीहिंसा #आशीषमिश्रा #अजयमिश्रा

20-10-2021 08:30:00

लखीमपुर हिंसा: किसानों को ‘धमकी’ देने वाले अजय मिश्रा केंद्रीय मंत्री बनने से पहले क्या थे LakhimpurKheri LakhimpurKheriViolence AshishMishra AjayMishra लखीमपुरखीरी लखीमपुरखीरी हिंसा आशीषमिश्रा अजयमिश्रा

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ ने किसान आंदोलन को लेकर धमकी दी थी. उनके ख़िलाफ़ तीन अक्टूबर को किसानों ने उनके पैतृक गांव बनबीरपुर में आयोजित एक समारोह में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के जाने का विरोध किया था. आरोप है कि इस दौरान उनके बेटे आशीष मिश्रा ने अपनी गाड़ी से कुचलकर चार किसानों की हत्या कर दी थी. केंद्रीय मंत्री का आपराधिक इतिहास रहा है.

नई दिल्ली:केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ पिछले करीब एक महीने से चर्चा में बने हुए हैं और संयुक्त किसान मोर्चा की अगुवाई में किसान उनका इस्तीफा और गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. इसकी वजह लखीमपुर खीरी की भयावह घटना और उनकी ‘दादागिरी’ है.

तमिलनाडु : कोरोना वैक्सीन नहीं तो होटल और मॉल्स में एंट्री नहीं, मदुरै कलेक्टर का आदेश PHOTOS: बिना मास्क के हजारों की भीड़ में बांके बिहारी के दर्शन करने पहुंचीं कंगना रणौत, सोशल मीडिया पर शेयर कीं तस्वीरें दुनिया के किसी कोने में रहें सलमान, एक मैसेज करो आ जाता है कॉल: Aayush Sharma

उत्तर प्रदेश केलखीमपुर खीरीजिले के तिकोनिया क्षेत्र में किसानों का एक समूह उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ तीन अक्टूबर को प्रदर्शन कर रहा था, तभी एक एसयूवी (कार) ने चार किसानों को कथित तौर पर कुचल दिया, जिससे उनकी मौत हो गई थी. इस घटना में कुल आठ लोगों की मौत हुई थी.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ लखीमपुर खीरी के सांसद भी हैं, जिनके विरोध में वहां के आंदोलित किसानों ने उनके पैतृक गांव बनबीरपुर में आयोजित एक ‘दंगल’ में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के जाने का विरोध कर रहे थे.हालांकि ये सब अचानक से नहीं हुआ था. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दस महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसानों की नाराजगी headtopics.com

अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’के उस बयान के बाद और बढ़ गई थी, जिसमें उन्होंने किसानों को ‘दो मिनट में सुधार देने की चेतावनी’ और ‘लखीमपुर खीरी छोड़ने’ की चेतावनी दी थी.बीते 25 सितंबर को एक समारोह में मंच से केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ने कहा था, ‘मैं केवल मंत्री नहीं हूं, सांसद, विधायक भर नहीं हूं, जो विधायक और सांसद बनने से पहले मेरे विषय में जानते होंगे, उनको यह भी मालूम होगा कि मैं किसी चुनौती से भागता नहीं हूं.’

मिश्रा ने चेतावनी भरे लहजे में कहा, ‘जिस दिन मैंने उस चुनौती को स्वीकार करके काम कर लिया उस दिन पलिया नहीं, लखीमपुर तक छोड़ना पड़ जाएगा, यह याद रहे.’इसमें उन्हें यह भी कहते सुना जा सकता है कि ‘सामना करो आकर, हम आपको सुधार देंगे, दो मिनट लगेगा केवल.’इतना ही नहीं लखीमपुर खीरी में बीते तीन अक्टूबर को हुई इस हिंसा के मामले में उनके बेटे आशीष मिश्रा पर किसानों को कुचलकर उनकी हत्या किए जाने का आरोप है.

एक केंद्रीय मंत्री द्वारा इस स्तर की धमकी भरी बयानबाजी करने की वजह क्या है, इसका अंदाजा उनके पुराने आपराधिक रिकॉर्ड को देखकर लगाया जा सकता है.मिश्रा के खिलाफ पहला मामला साल 1990 में दर्ज किया गया था, जिसमें उन पर आईपीसी की धारा 323 (स्वेच्छा से चोट पहुंचाने के लिए दंड), धारा 324 (खतरनाक हथियारों या साधनों से स्वेच्छा से चोट पहुंचाना) और 504 (शांति भंग करने के इरादे से जान-बूझकर किया गया अपमान) के तहत आरोप लगाए गए थे.

इसके बाद साल 1996 में उनके नाम पर तिकोनिया पुलिस थाने में एक ‘हिस्ट्री शीट’ खोला गया था, लेकिन कुछ महीने बाद उसे बंद कर दिया गया. इसके बाद 23 वर्षीय प्रभात गुप्ता नाम के व्यक्ति की हत्या के आरोप में साल 2000 में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी. लखीमपुर खीरी के तिकोनिया इलाके में गुप्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. headtopics.com

'बीजेपी को महंगाई अब डायन नहीं, भौजाई नजर आती है', बोले Tejashwi Yadav 'जालीदार टोपी वाले और लुंगी छाप' गुंडों पर बरसे Keshav Prasad Maurya, देखें क्या कहा Caste Census क्यों है जरूरी? Tejashwi Yadav ने बताया

इस मामले में साल 2004 में उन्हें बरी कर दिया गया था, लेकिन गुप्ता के परिवार ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अपील दायर की और मामला अभी भी विचाराधीन है.गौरतलब है कि जिला पंचायत सदस्य से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले अजय कुमार मिश्रा वर्ष 2012 में खीरी जिले के निघासन विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के विधायक चुने गए.

पार्टी ने 2014 में उन्हें खीरी लोकसभा से उम्मीदवार बनाया और वह चुनाव जीत गए. 2019 में उन्हें भाजपा ने दोबारा मौका दिया और वह पुन: लोकसभा का चुनाव जीत गए.अजय मिश्रा द्वारा लोकसभा और विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग को सौंपे गए हलफनामें में भी इन मामलों के विवरण मिलते हैं.

अजय मिश्रा का साल 2012 का हलफनामा.साल 2012 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने आयोग को बताया था कि उनके खिलाफ अपराध संख्या 92/2005, मुकदमा संख्या 3592/07, 3593/07 के तहत न्यायालय ने संज्ञान लिया है, जिसमें उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 147 (दंगा), 323 (स्वेच्छा से चोट पहुंचाने के लिए दंड), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जान-बूझकर किया गया अपमान), 506 (आपराधिक धमकी) और 452 के तहत आरोप लगाए गए हैं.

हलफनामे में यह भी कहा गया है कि हत्या मामले में निचली अदालत द्वारा उन्हें बरी किए जाने वाला केस हाईकोर्ट में लंबित है.साल 2014 का चुनावी हलफनामा.इसके बाद साल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने निर्वाचन आयोग को पुराने मामले को दोहराते हुए एक नया मामला- अपराध संख्या 41/2000, मुकदमा संख्या 518/2001- के बारे में बताया, जिसमें उन पर हत्या का आरोप लगाया गया था और 29/03/2004 को उन्हें दोषमुक्त कर दिया गया था. headtopics.com

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में दायर अपने हलफनामे में अजय मिश्रा ने अपने पूर्ववर्ती दो आरोपों को हटा दिया और सिर्फ साल 2000 के उस हत्या मामले का उल्लेख किया, जिसमें निचली अदालत ने बरी कर दिया था और इसके खिलाफ अपील के बाद ये मामले इलाहाबाद हाईकोर्ट में लंबित है.

साल 2019 का चुनावी हलफनामा.इस तरह यहां दस्तावेजों से स्पष्ट होता है कि मिश्रा के खिलाफ आपराधिक आरोपों की लंबी-चौड़ी फेहरिस्त है, जिसमें हत्या जैसे संगीन आरोप भी शामिल हैं.इसी साल जुलाई के पहले हफ्ते में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार किया तो उत्तर प्रदेश के तीन दलित और तीन पिछड़े सांसदों के साथ ही इकलौते ब्राह्मण अजय मिश्रा को मंत्रिमंडल में शामिल किया.

Covid-19 : भारत में 24 घंटे में कोरोना के 8,603 नए मामले दर्ज, 8,190 ने दी मात PM मोदी आज देहरादून में ₹18,000 करोड़ की विभिन्न परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन और शिलान्यास विवाद: स्वरा भास्कर के बच्चा गोद लेने के फैसले पर लोगों ने जताई नाराजगी, कहा- तुमसे शादी कौन करेगा?

अजय मिश्रा को गृह राज्य मंत्री जैसा महत्वपूर्ण पद मिला. पार्टी ने ब्राह्मण चेहरे के रूप में उन्हें आगे किया और उनकी यात्रा और कई सभाएं भी आयोजित की गईं. और पढो: द वायर हिंदी »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

लखीमपुर हिंसा: भाजपा कार्यकर्ता सहित चार गिरफ़्तार, आशीष मिश्रा को न्यायिक हिरासत में भेजा गयाबीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी ज़िले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समूह पर कथित तौर पर वाहन चढ़ा दिए जाने के बाद चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के मामले में भाजपा कार्यकर्ता सुमित जायसवाल, शिशुपाल, सत्यप्रकाश त्रिपाठी और नंदन सिंह बिष्ट को पुलिस ने गिरफ़्तार किया है. इस मामले में अब तक 10 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

PM Kisan Samman Nidhi: किसानों को फिर मिल सकती है खुशखबरी, 10वीं किश्त की तारीख तयमीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस योजना के तहत जिन किसानों के खाते में पीएम किसान की नौवीं किस्त नहीं आई है, उन्हें अब अगली किश्त के साथ पिछली राशि मिलेगी।

Target Killing In Kashmir : आतंकियों ने मजदूरों को नहीं कश्मीर की तरक्की को गोली मारीTarget Killing In Kashmir गैर कश्मीरी श्रमिकों के घाटी छोड़ने से कश्मीर के लोग भी खासे चिंतित हैं। वे इस बात को लेकर परेशान हैं कि कुशल श्रमिकों के कश्मीर छोड़ने से यहां जारी निर्माण कार्य से लेकर बढ़ई आदि के काम पर भी खासा असर पड़ेगा।

लखीमपुर हिंसा केस में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने यूपी पुलिस को घेरा, कहा- अधिकारियों ने लापरवाही कीलखीमपुर खीरी में हिंसा की जांच के बीच केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं की मौत के लिए सीधे तौर पर पुलिसकर्मियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कार्रवाई की बात कही है. Hahaha...kitna mazak kr rhe hain taini sahab... पहले तू इस्तीफा दे,उसके बाद देखेंगे।।

खुशखबरी: केंद्रीय कर्मियों को सरकार की सौगात, वित्त मंत्रालय का दीपावली पर एडहॉक बोनस देने का एलानवित्त मंत्रालय ने केंद्र सरकार के कर्मियों को दीपावली के मौके पर नॉन-प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस (एडहॉक बोनस) देने की मा0 मुख्यमंत्री श्री योगी जी प्रणाम, महोदय जी हम विवाहित बेटियों की भी मांग पूरी करे मृतक आश्रित कोटे मे विवाहित बेटियों के अनुकम्पा नियुक्ति के सम्बन्ध मे शासनादेश जारी कर दिनांक 24जून2020 वाला अपना वादा पूरा करे बेटियों पर दया करे,नियमावली 1974 के नियम 2(ग) (3)मे संशोधन करे

केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने की पड़ोसी देश की भर्त्सना, भारत- पाक मैच को लेकर दिया यह बयानकेंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री रामदास आठवले ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान की भर्त्सना करते हुए कहा है कि क्रिकेट के टी-20 विश्व कप में भारत को पाकिस्तान के साथ नहीं खेलना चाहिए। Atmnirbhar Bharat, Modi ji ka sapna, pura karenge Capt Amarinder Singh ji रामदास अठावले जी तो भ्रम के शिकार हैं उन्हें पता ही नहीं होता की वो क्या बोल रहे हैं । बेचारे INDIAN CRICKETERS AND BCCI LOSING THEIR GRADES AND ARE CALLED BY PUBLIC AS TRAITORS , WHERE JAWANS HAVE LAID THEIR LIVES FOR THE MOTHERLAND . _ CRICKETERS ARE PLAYING WITH INDIAN SENTIMENTS OF NATIONAL PRIDE AND UNITY OF THE NATION , SHALL HAVE TO PAY IN FUTURE THROUGH BOYCOTTS ?