Ruchirsharma, Columnist

Ruchirsharma, Columnist

रुचिर शर्मा का कॉलम: आर्थिक सुधार के 30 वर्ष: आर्थिक स्वतंत्रता में भारत अब भी पीछे

रुचिर शर्मा का कॉलम: आर्थिक सुधार के 30 वर्ष: आर्थिक स्वतंत्रता में भारत अब भी पीछे #RuchirSharma #Columnist

27-07-2021 08:12:00

रुचिर शर्मा का कॉलम: आर्थिक सुधार के 30 वर्ष: आर्थिक स्वतंत्रता में भारत अब भी पीछे RuchirSharma Columnist

मैं 17 वर्ष का था। मुझे एक बिजनेस पेपर में लेख लिखने का मौका मिला था, जब मुझे लोकसभा की स्पीकर गैलरी का पास मिला था, जहां जुलाई 1991 में मैंने मनमोहन सिंह का पहला बजट भाषण सुना। राजीव गांधी की हत्या के बाद भारत मुश्किल दौर से गुजर रहा था, जबकि नई सरकार के पास समय कम था, जिसके पास विदेशी कर्ज चुकाने के लिए फंड खत्म होता जा रहा था।\nलेकिन बदलाव की हवा का रुख सिंह के पक्ष में था। सोवियत साम्यवाद हाल ह... | 30 years of economic reform: India still behind in economic freedom

रुचिर शर्मा का कॉलम:आर्थिक सुधार के 30 वर्ष: आर्थिक स्वतंत्रता में भारत अब भी पीछे4 घंटे पहलेकॉपी लिंकरुचिर शर्मा, ग्लोबल इन्वेस्टर, बेस्टसेलिंग राइटर और द न्यूयॉर्क टाइम्स के स्तंभकारमैं 17 वर्ष का था। मुझे एक बिजनेस पेपर में लेख लिखने का मौका मिला था, जब मुझे लोकसभा की स्पीकर गैलरी का पास मिला था, जहां जुलाई 1991 में मैंने मनमोहन सिंह का पहला बजट भाषण सुना। राजीव गांधी की हत्या के बाद भारत मुश्किल दौर से गुजर रहा था, जबकि नई सरकार के पास समय कम था, जिसके पास विदेशी कर्ज चुकाने के लिए फंड खत्म होता जा रहा था। लेकिन बदलाव की हवा का रुख सिंह के पक्ष में था। सोवियत साम्यवाद हाल ही में फूटा था, पूंजीवाद बढ़ रहा था। भारत के लिए भी एक मुक्त बाजार सुधार पैकेज के मूल सिद्धांतों को लागू करने के लिए मुफीद समय था।

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्या NEET अंग्रेजी माध्यम, अमीरों की परीक्षा है? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदी पीएम मोदी का 71वां बर्थडे : देश में रिकॉर्ड टीकाकरण का लक्ष्य, सीएम योगी का ट्वीट- प्रभु राम आपको लंबी उम्र दें

मुझे सिंह का रोमांचक भाषण याद है। उनके शब्दों में डर और सुधारों से होने वाली वास्तविक आर्थिक प्रगति की उम्मीद, दोनों थे। 31 पेज लंबे भाषण का ज्यादातर हिस्सा उस भाषा में था, जो अपने दौर के नए प्रबुद्ध स्वर को दर्शाता थी, ‘हमारी रणनीति के केंद्र में विश्वसनीय वित्तीय अनुकूलन और व्यापक आर्थिक स्थिरता होनी चाहिए।’

भारत में सुधार की गति कुछ समय ही रही। अर्थव्यवस्था के पटरी पर आने के बाद राजनीति फिर अर्थशास्त्र पर हावी हो गई। राज्यों में मिली हार के बाद कांग्रेस के सदस्य ही सुधार के मोल पर सवाल उठाने लगे। सिंह का भी उत्साह ठंडा पड़ गया और बाद में बतौर प्रधानमंत्री भी उन्होंने उदारीकरण से ज्यादा कल्याणवाद पर ध्यान दिया। headtopics.com

कई वर्ष बाद सिंह के एक सलाहकार ने मुझे बताया कि उन्होंने 1993 में सबसे बड़ी गलती यह की कि आईएमएफ से लिया गया लोन चुकाने की जल्दबाजी की। जब तक लोन बाकी रहता, सरकार कह सकती कि सुधार के लिए ऋणदाताओं का दबाव है। इस बहाने के बिना सख्त कदम उठाना मुश्किल था। ऐसा सिर्फ भारत के साथ नहीं हुआ। बहुत कम सरकारें बिना दबाव के बदलाव लागू कर पाई हैं। यह भारत के सुधार के विचित्र इतिहास में एक जरूरी और सबसे यादगार दौर था, लेकिन अनोखा नहीं। भारत ने संकट के बाद के सुधारों को पहले 80 के दशक की शुरुआत में उन्नत किया था, और 2000 के दशक की शुरुआत और 2010 की शुरुआत में फिर ऐसा किया।

पूरे समय में, भारत उन व्यापक सुधारों का प्रतिरोधी रहा, जिसने चीन सहित कई पूर्वी एशियाई देशों की अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा दिया। अक्सर भारतीय राजनेताओं ने व्यक्तिगत बिजनेस या उद्योग की मदद के लिए तैयार उपायों को आर्थिक सुधार के रूप में पेश किया, जबकि वास्तव में ये उपाय प्रतिस्पर्धा और वृद्धि को घटाने वाले थे। बिजनेस समर्थक होना और पूंजीवाद समर्थक होना समान नहीं है। कांग्रेस के उत्तराधिकारी भी उन्हीं समाजवादी आदर्शों में डूबे हैं, जो राज्य के हस्तक्षेप का द्वार खोलते हैं। हर दशक में सुधारों का दौर आता है, फिर भी भारत आर्थिक स्वतंत्रता की हेरिटेज फाउंडेशन रैंकिंग में 178 देशों में सबसे निचले तीन देशों में है।

सिंह के भाषण के 30 वर्ष बाद हम फिर ‘दोराहे’ पर हैं। महामारी में भारत के पास उस स्तर पर प्रोत्साहन लागू करने के लिए फंड नहीं है, जैसा कई विकसित देश कर रहे हैं। इसलिए फिर सुधार का दबाव है। लेकिन समय बदल गया है। अब ‘आत्मनिर्भरता’ उन देशों में भी नया सिद्धांत है, जिन्हें वैश्वीकरण से बड़ा लाभ हुआ। राजकोषीय समेकन बाहर हुआ, हावी सरकार फिर चलन में है। ज्यादातर आधुनिक अर्थव्यवस्थाएं अब विकृत पूंजीवाद पर चल रही है, जिसमें लगातार प्रोत्साहन और राहत पैकेज दिए जाते हैं, जो कि अमीरों के लिए समाजवाद का स्वरूप है।

भारत के लिए मेरी उम्मीदें अब राजनीति से बाहर ही ज्यादा हैं। सबसे ऊपर डिजिटल क्रांति हैै। विडंबना यह है कि बड़ी टेक कंपनियां इतनी शक्तिशाली हो चुकी हैं कि नया आत्मविश्वासी राजनीतिक वर्ग उनपर नकेल कस रहा है। भारत में भी जोखिम यह है कि ज्यादा प्रतिरोधी नियामक माहौल, वैश्विक वृद्धि के सुनहरे मौके को गंवा न दे। भारत की अर्थव्यवस्था अभी उतनी मुक्त नहीं है, इसलिए उसे विनियमन और ज्यादा सख्त सरकार के चलन को कम करने की जरूरत है। जैसा कि सिंह ने 1991 के भाषण में कहा था, ‘कम सरकार यानी ज्यादा विकास।’ भले ही दुनिया अब मुक्त बाजार के उत्साहियों के अधीन नहीं है, लेकिन भारत के लिए उन शब्दों पर अमल समझदारी होगी। headtopics.com

अमेरिका 9/11 हमलों के बाद चरमपंथ को ख़त्म करने में कितना कामयाब रहा - BBC News हिंदी आज का इतिहास: आजाद भारत में जन्म लेने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री मोदी का आज जन्मदिन, BJP में आने के 16 साल बाद CM और 29 साल बाद PM बने चीन ने अमेरिका-ब्रिटेन-ऑस्ट्रेलिया के ऑकस समझौते को बताया ग़ैर-ज़िम्मेदाराना - BBC Hindi

(ये लेखक के अपने विचार हैं) और पढो: Dainik Bhaskar »

Imran Khan कर रहे तालिबान का बचाव, अमेरिका के टारगेट पर आया Pakistan

तालिबान के समर्थन में कई मौकों पर खुलकर बल्लेबाजी करने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने फिर पूरी दुनिया से उस आतंकी संगठन की मदद की अपील कर दी है. इमरान खान ने कहा है कि तालिबान सरकार को अभी विदेशी फंड्स की जरूरत है, अगर दुनिया ने मदद की तो ये संगठन सही दिशा में आगे बढ़ सकता है. अगर पाकिस्तान तालिबान का रहनुमा है तो इमरान उसके सबसे बड़े हमदर्द हैं, जिनका दिल तालिबान के लिए धड़कता है. दरअसल एक इंटरव्यू में इमरान खान से अफगानिस्तान के आतंकवादी संगठन हक्कानी नेटवर्क पर सवाल हुआ और वो उसका बचाव करने में डींगें मारने लगे. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वारदात.

इसे बना दो वित्त मंत्रो 😬 Hello Bhaskar Kya bhaskar bhi line me lag gya... 😀🙏

दिल्ली के तरह लखनऊ घेरने के एलान के साथ किसानों का मिशन उत्तर प्रदेश का आगाजउत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब किसान संगठनों ने भी अपनी ताल ठोंक दी है। आज लखनऊ में संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन को और तेज करने का एलान किया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने दिल्ली की तरह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ घेरने का भी एलान किया है।

UP: गन्ने के खेत में बैठे अजगर ने निगला हिरण का बच्चा, ग्रामीणों के उड़े होशग्रामीणों द्वारा मिली जानकारी के आधार पर मौके पर पहुंचे दुधवा टाइगर रिजर्व और वन विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने देखा तो गन्ने के खेत में करीब डेढ़ कुंतल वजन का अजगर एक हिरण के बच्चे को निगल कर बैठा हुआ था. LIKE SUBSCRIBE AND SHARE WEDDELL SEAL via YouTube After reading this news, Now I can end my weekend and sleep calmly....😴 WONDERFUL

गाजियाबाद के मोदीनगर में युवक की गला रेतकर हत्या, गन्ने के खेत में मिला शवगाजियाबाद के मोदीनगर की कादराबाद चौकी क्षेत्र रोरी ग्राम की रेलवे क्रॉसिंग के पास गन्ने के खेत में 25 वर्षीय सुशील भारद्वाज का शव मिला. वह कृष्णापुरी मोदीनगर के रहने वाले थे. इसकी सूचना किसान श्याम पाल ने पुलिस को फोन करके दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है. TanseemHaider शव की शिनाख्त हो गयी है शव को पोस्टमार्टम हेतु भिजवाया गया है , थाना मोदीनगर पर अभियोग पंजीकृत कर घटना के अनावरण हेतु टीमे गठित की गई है ।

गोल्ड में बदल सकता है मीराबाई का मेडल: वेटलिफ्टिंग में सोना जीतने वाली चीनी एथलीट होउ पर डोपिंग का शक, सैंपल-A में संदेह के बाद सैंपल-B के लिए समनटोक्यो ओलिंपिक से इस वक्त बड़ी खबर सामने आ रही है। वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीतने वाली मीराबाई चानू का मेडल गोल्ड में बदल सकता है। सूत्रों के मुताबिक पहले नंबर पर रहीं चीनी एथलीट होउ जिहूई पर डोपिंग का शक है। एंटी डोपिंग एजेंसी ने होउ को सैंपल-B टेस्टिंग के लिए बुलाया है। माना जा रहा है कि उनका सैंपल-A क्लीन नहीं है। | China India (Tokyo Olympics); Mirabai Chanu Gold Medal Chance | China Weightlifter Facing Doping Test at Tokyo Olympics Olympics अग्रिम बधाई Olympics Gold confirm hai⚡️⚡️⚡️⚡️ Olympics इन्कम टैक्स घोटाले पर कुछ लिखो?

बिहारः सिर पर क्रिकेट हेलमेट, हाथ में मंजीरा लिए विस के बाहर RJD विधायकों का प्रदर्शनबिहार विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन ही महागठबंधन के विधायक नीतीश सरकार पर हमलावर दिखे। राजद के विधायक तो सिर पर हेलमेट और हाथ में मंजीरा लेकर सत्र में भाग लेने पहुंचे।

हैदराबाद में डॉक्टरों का विरोध प्रदर्शन, COVID रोगी के परिजनों ने सहकर्मी पर किया है हमलाडॉ प्रणय ने कहा कि पोस्ट ग्रेजुएट रेजिडेंट डॉक्टर का मास्क मरीजों के परिचारकों द्वारा फाड़ा गया और उन्हें थप्पड़ मारा गया और सीओवीआईडी ​​वार्ड में मरीजों के परिचारकों द्वारा पेट पर लात भी मारी गई। डॉक्टरों ने प्रशासन से बात की है।