Rafaledeal, Rafale, Cag, Dassaultaviation, Rafale Deal, Cag Report, Offset Contract, İndia France, Dassault Aviation

Rafaledeal, Rafale

राफेल डील: कैग ने ऑफसेट करार को लेकर की दसॉल्ट और एमबीडीए की खिंचाई

राफेल सौदे को लेकर नियंत्रण एवं महालेखा (सीएजी) ने अपनी रिपोर्ट में ऑफसेट शर्तों से जुड़े सवाल उठाए हैं।

23-09-2020 21:38:00

राफेल डील: कैग ने ऑफसेट करार को लेकर की दसॉल्ट और एमबीडीए की खिंचाई RafaleDeal Rafale CAG DassaultAviation INCIndia BJP4India

राफेल सौदे को लेकर नियंत्रण एवं महालेखा (सीएजी) ने अपनी रिपोर्ट में ऑफसेट शर्तों से जुड़े सवाल उठाए हैं।

ख़बर सुनेंनियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने बुधवार को संसद में पेश रिपोर्ट में भारत को अत्याधुनिक तकनीक के ऑफसेट करार अभी तक पूरा न करने पर फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट एविएशन और यूरोपीय मिसाइल निर्माता कंपनी एमबीडीए की खिंचाई की है। 36 राफेल विमानों की खरीद में तकनीक का हस्तांतरण अहम मुद्दा था। तकनीक डीआरडीओ को हस्तांतरित होनी थी और इसका इस्तेमाल हल्के लड़ाकू विमान तेजस के लिए जेट इंजन बनाने में किया जाना है। दसॉल्ट एविएशन राफेल विमानों की निर्माता कंपनी है जबकि एमबीडीए विमान के लिए मिसाइल सिस्टम की आपूर्तिकर्ता है।

दूर से ही लोगों को आकर्षित करता है बेगूसराय के मोहनपुर गांव का सरकारी स्कूल, ग्रामीणों की मदद से उपलब्ध है हर सुविधा Bihar Election 2020: ईवीएम में राजद की ‘लालटेन’ के आगे नहीं था बटन, तीन घंटे होता रहा मतदान बिहार: मुंगेर की एसपी लिपि सिंह को पद से क्यों हटाया गया? - BBC News हिंदी

संसद में पेश रिपोर्ट में कैग ने भारत की ऑफसेट नीति की प्रभावकारिता की गंभीर तस्वीर पेश की। इसमें कहा गया कि विदेशी वेंडरों का एक भी ऐसा मामला नहीं मिला जिसमें भारतीय उद्योग को तकनीक हस्तांतरित की गई होगा। विदेशी निवेश हासिल करने वाले 63 सेक्टरों में से रक्षा क्षेत्र 62वें नंबर पर है। रिपोर्ट में कहा गया, 36 मीडियम मल्टी कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एमएमआरसीए) से संबंधित ऑफसेट अनुबंध में वेंडरों मेसर्स दसॉल्ट एविएशन और एमबीडीए ने डीआरडीओ को अत्याधुनिक तकनीकी की प्रारंभिक पेशकश कर अपने ऑफसेट करार का 30 प्रतिशत पूरा करने का प्रस्ताव किया था।

कैग के अनुसार, डीआरडीओ इस तकनीक का इस्तेमाल हल्के लड़ाकू विमान के लिए स्वदेश में ही विकसित इंजन कावेरी के लिए करना चाहता है लेकिन अभी तक वेंडर ने तकनीक हस्तांतरण की पुष्टि नहीं की। पांच राफेल विमानों का पहला बैच 29 जुलाई को भारत पहुंचा था। करीब चार साल पहले भारत ने फ्रांस से 59,000 करोड़ रुपये में 36 राफेल विमानों की खरीद का सौदा किया था। इसके तहत कुल लागत का कम से कम 30 फीसदी खर्च कर कंपोंनेट की खरीद करनी थी या अनुसंधान और डेवलपमेंट सुविधाएं स्थापित करनी थी।

दरअसल, जब सरकार किसी दूसरे देश की कंपनी से बड़ा करार करती है तो, कुछ भारतीय कंपनियों के साथ समझौता होता है। इन्हें ऑफसेट पार्टनर कहा जाता है यानी इन कंपनियों को वह विदेशी जिससे कुछ खरीदा जा रहा है या करार हो रहा है, वह अलग-अलग किस्म के काम देगा। यह नियम 300 करोड़ रुपये से अधिक की सभी खरीद पर लागू होता है। कैग ने कहा, वेंडर अपने ऑफसेट प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में नाकाम रहे। रक्षा मंत्रालय को ऑफसेट नीति की समीक्षा करने और लागू करने की आवश्यकता है।

कैग ने कहा, 2005 से मार्च 2018 तक 66,427 करोड़ रुपये के 48 ऑफसेट करार विदेशी वेंडरों से हुए और दिसंबर 2018 तक 19,223 करोड़ की कीमत के ऑफसेट देश में होने थे लेकिन इनमें से मात्र 11,396 करोड़ रुपये ही आए जा ेकि प्रतिबद्धता का मात्र 59 फीसदी ही है।नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने बुधवार को संसद में पेश रिपोर्ट में भारत को अत्याधुनिक तकनीक के ऑफसेट करार अभी तक पूरा न करने पर फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट एविएशन और यूरोपीय मिसाइल निर्माता कंपनी एमबीडीए की खिंचाई की है। 36 राफेल विमानों की खरीद में तकनीक का हस्तांतरण अहम मुद्दा था। तकनीक डीआरडीओ को हस्तांतरित होनी थी और इसका इस्तेमाल हल्के लड़ाकू विमान तेजस के लिए जेट इंजन बनाने में किया जाना है। दसॉल्ट एविएशन राफेल विमानों की निर्माता कंपनी है जबकि एमबीडीए विमान के लिए मिसाइल सिस्टम की आपूर्तिकर्ता है।

विज्ञापनसंसद में पेश रिपोर्ट में कैग ने भारत की ऑफसेट नीति की प्रभावकारिता की गंभीर तस्वीर पेश की। इसमें कहा गया कि विदेशी वेंडरों का एक भी ऐसा मामला नहीं मिला जिसमें भारतीय उद्योग को तकनीक हस्तांतरित की गई होगा। विदेशी निवेश हासिल करने वाले 63 सेक्टरों में से रक्षा क्षेत्र 62वें नंबर पर है। रिपोर्ट में कहा गया, 36 मीडियम मल्टी कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एमएमआरसीए) से संबंधित ऑफसेट अनुबंध में वेंडरों मेसर्स दसॉल्ट एविएशन और एमबीडीए ने डीआरडीओ को अत्याधुनिक तकनीकी की प्रारंभिक पेशकश कर अपने ऑफसेट करार का 30 प्रतिशत पूरा करने का प्रस्ताव किया था।

कैग के अनुसार, डीआरडीओ इस तकनीक का इस्तेमाल हल्के लड़ाकू विमान के लिए स्वदेश में ही विकसित इंजन कावेरी के लिए करना चाहता है लेकिन अभी तक वेंडर ने तकनीक हस्तांतरण की पुष्टि नहीं की। पांच राफेल विमानों का पहला बैच 29 जुलाई को भारत पहुंचा था। करीब चार साल पहले भारत ने फ्रांस से 59,000 करोड़ रुपये में 36 राफेल विमानों की खरीद का सौदा किया था। इसके तहत कुल लागत का कम से कम 30 फीसदी खर्च कर कंपोंनेट की खरीद करनी थी या अनुसंधान और डेवलपमेंट सुविधाएं स्थापित करनी थी।

दुनिया के दो अमीर मुकेश अंबानी और जेफ़ बेज़ोस आमने-सामने और बीच में बिग बाज़ार - BBC News हिंदी निकिता मर्डर केस: तौसीफ बोला- मेरी जान को खतरा, दूसरी जेल में करें शिफ्ट 'अभिनंदन को पाकिस्तान ने भारत के डर से छोड़ा था', पाकिस्तान में सांसद के इस बयान पर हंगामा - BBC News हिंदी

दरअसल, जब सरकार किसी दूसरे देश की कंपनी से बड़ा करार करती है तो, कुछ भारतीय कंपनियों के साथ समझौता होता है। इन्हें ऑफसेट पार्टनर कहा जाता है यानी इन कंपनियों को वह विदेशी जिससे कुछ खरीदा जा रहा है या करार हो रहा है, वह अलग-अलग किस्म के काम देगा। यह नियम 300 करोड़ रुपये से अधिक की सभी खरीद पर लागू होता है। कैग ने कहा, वेंडर अपने ऑफसेट प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में नाकाम रहे। रक्षा मंत्रालय को ऑफसेट नीति की समीक्षा करने और लागू करने की आवश्यकता है।

और पढो: Amar Ujala »

Bihar Election 2020: बिहार की सियासत में जंगल राज से लेकर जनरल डायर तक की एंट्री! देखिए स्पेशल रिपोर्ट

आज बिहार में प्रधानमंत्री मोदी ने ताबड़तोड़ तीन रैलियां की. इधर बिहार चुनाव का पहला राउंड चल रहा था, और उधर मोदी के प्रचार का दूसरा राउंड. प्रधानमंत्री मोदी ने आज आरजेडी पर जमकर प्रहार किया. तेजस्वी को जंगलराज का युवराज बता दिया, तो बिहार के अतीत की परतें भी उघाड़ने की कोशिश की. बिहार चुनाव में तेजस्वी तगड़ी सियासत कर रहे हैं. एक बार फिर से विरोधियों के निशाने पर नीतीश आए हैं. बिहार चुनाव के पहले चरण की वोटिंग से ठीक पहले अंग्रेजों के जल्लाद अफसर जनरल डायर की एंट्री हो गई. तेजस्वी यादव, चिराग पासवान और पप्पू यादव ने एक साथ मुंगेर में दुर्गा विसर्जन के दौरान हुई लाठीचार्ज और फायरिंग पर पुलिस को जनरल डायर बताते हुए, नीतीश कुमार पर हमला बोला. स्पेशल रिपोर्ट, आज इसी पर देखिए अंजना ओम कश्यप के साथ.

लोकसभा ने महामारी विधेयक को दी मंजूरी, कोरोना योद्धाओं को मिलेगा संरक्षणलोकसभा ने महामारी विधेयक को दी मंजूरी, कोरोना योद्धाओं को मिलेगा संरक्षण MonsoonSession Parliament LokSabha RajyaSabha PMOIndia BJP4India INCIndia

कृषि बिलः विरोध दबाने को BJP ने नेताओं को दिए निर्देशकेंद्रीय कृषि मंत्री ने इसके साथ ही पंजाब, हरियाणा और आस-पास के सूबों के सांसदों और केंद्रीय मंत्रियों के साथ कई बैठकें की हैं। सूत्रों की मानें तो तोमर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पदाधिकारियों से भी विधेयकों के संबंध में संपर्क किया है।

कंगना के फैंस ने राखी सावंत को किया ट्रोल, ड्रामा क्वीन ने दिया जवाबहाल ही में कंगना के फैंस ने राखी सावंत की एक फोटो को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था जिसमें राखी पाकिस्तानी झंडे को अपने ऊपर लपेटे हुए नजर आई थीं. अब इस फोटो को लेकर राखी सावंत का बयान आया है. Shame On Rakhi Sawant कृपया सभी सनातनी मुझे फॉलो करें 👉 Akshay4Hindu फॉलो बैक भी मिलेगा🙏🚩 कृपया बैल आइकॉन भी खोल ले🔔 मिल के भगवा लहरायेंगे 🚩 🙏जय श्री राम🙏 राखी सावंत की अगर यह फोटो सच है तो उसे जेल में होना चाहिए बदतमीज कहीं की

चंडीगढ़ में भाजपा नेता ने कमिश्नर के पीए को मारा थप्पड़, कर्मचारियों ने दिया धरनाआक्रोशित कर्मचारियों ने नगर निगम के बाहर धरना-प्रदर्शन किया. इस घटना के विरोध में चंडीगढ़ नगर निगम के कर्मचारी संगठनों ने आज काम-काज ठप करने का ऐलान किया है. satenderchauhan सही किया कर्मचारियों ने। नेताओं को भी अपनी औकात में रहना चाहिए, चाहें वो जिस पार्टी के भी हों। आदमी नौकरी करता है... कुछ गलत करे तो उसके खिलाफ कार्यवाही करें लेकिन अपनी ज़ुबान और हाथों पर काबू रखें। वरना एक दिन कोई पलट के वहीं पीटेगा। satenderchauhan अब उस नेता कि भाजपा में और तरक्की होगी जितने अपराध उतनी तरक्की और तडीपार होते हि राष्ट्रीय अध्यक्ष फिर गृहमंत्री बना दिया जाएगा।

विमान यात्रियों को कैसे मिलेगा रिफंड, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से स्थिति साफ करने को कहाविमान यात्रियों को कैसे मिलेगा रिफंड, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से स्थिति साफ करने को कहा Airlines airtravel SupremeCourtOfIndia DGCA HardeepSPuri dgca HardeepSPuri रोज़गार_नहीं_तो_सरकार_नहीं dgca HardeepSPuri गो एअर पहले लॉक डाउन के समय की फ्लाइट के पैसे मार कर बैठा हुआ है। dgca HardeepSPuri goair to return hi ni kr rha hai

बनारस की शिवांगी को राफेल स्क्वाड्रन की पहली महिला फाइटर पायलट बनने का मौका मिलाभारतीय वायु सेना (Indian Air Force) में महिला फाइटर पायलटों की भर्ती शुरू होने के बाद राफेल ( Rafale ) को उड़ाने का मौका बनारस की शिवांगी को मिला है. बीएचयू से एनसीसी करने के बाद शिवांगी ने भारतीय वायु सेना की राफेल स्क्वाड्रन की पहली महिला फाइटर पायलट बनने का सौभाग्‍य हासिल किया है. Congrats Congratulations.