मोपला विद्रोह पर बोले योगी आदित्यनाथ, हिंदुओं की हत्या को जिहादियों ने रची थी साजिश, यह है 1921 की नरसंहार वाली कहानी

1921 में जिहादियों ने की थी हजारों हिंदुओं की हत्या, बोले योगी आदित्यनाथ...

25-09-2021 12:33:00

1921 में जिहादियों ने की थी हजारों हिंदुओं की हत्या, बोले योगी आदित्यनाथ...

1921 के केरल में हुए नरसंहार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिहादियों की साजिश बताया है। उन्होंने कहा कि कई दिनों तक चले नरसंहार में लगभग 10 हजार हिंदू मारे गए थे।

दादरी की एक जनसभा में योगी आदित्यनाथ। फोटो- एक्सप्रेस By प्रेमनाथ पांडेयकेरल के मालाबार में साल 1921 में हुए मोपला विद्रोह को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने योजनाबद्ध नरसंहार बताया है। उन्होंने कहा कि जिहादियों ने मिलकर हजारों हिंदुओं की हत्या कर दी थी। शनिवार को वह आरएसएस से जुड़ी पत्रिका पांचजन्य के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। योगी ने कहा, ‘हमें इस बात पर विचार करना चाहिए कि हम कैसे पूरी मानवता से जिहादी विचार को खत्म कर सकते हैं ताकि ऐसा माहौल बने कि कभी मालाबार के उस नरसंहार जैसी घटना दोहराई न जाए।’

BJP सांसद गौतम गंभीर को पिछले छह दिन में तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी Delimitation : परिसीमन का प्रारूप तैयार, जम्मू संभाग की सात और सीटें बढ़ेंगी PM Modi Mann Ki Baat Live: पीएम मोदी बोले- सत्ता में नहीं, सेवा में रहना चाहता हूं; मैं सिर्फ जनता का सेवक

योगी ने कहा कि जिहादी विचार से मुक्त माहौल बनाने के लिए पूरे देश को साथ आना होगा। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के 75वें साल में हमें संकल्प लेना चाहिए कि हम अपने इतिहास को अच्छी तरह जानें। क्योंकि जो भी देश अपने इतिहास को याद नहीं रखता, वह अपनी भूमि को भी सुरक्षित नहीं रख सकता।

1921 के नरसंहार के बारे में बोलते हुए योगी ने कहा, 100 साल पहले केरल के मोपला में जिहादी तत्वों ने हजारों हिंदुओं की हत्या कर दी थी। कई दिनों तक लगातार योजनाबद्ध तरीके से हिंदुओं को मौत के घाट उतारता जाता रहा। अनुमान लगाया जाता है कि 10 हजार से ज्यादा हिंदुओं की नृशंस हत्या कर दी गई थी। हजारों माताओं, बहनों को प्रताड़ित किया गया और कई मंदिर तोड़ दिए गए। headtopics.com

यूपी के सीएम ने कहा कि इस नरसंहार को छिपाने के लिए कई लोग सामने आ गए। पूछा गया कि क्या हिंदुओं ने धर्मांतरण करने से इनकार कर दिया गया था, इसलिए उन्हें मार दिया गया? इस सवाल पर कई लोग कहने लगे कि खिलाफत आंदोलन के फेल होने की वजरह से मुस्लिम समुदाय में गुस्सा था। इनका कहा है कि ज़मींदार मुस्लिमों का शोषण कर रहे थे। अगर ऐसा था तो आम हिंदुओं को क्यों मार दिया गया?

केवल इसलिए कि उन्होंने धर्मांतरण करना ठीक नहीं समझा? सच ये है कि जिन वामपंथियों ने स्यूडो सेक्युलरिजम को सपोर्ट करने के लिए इतिहास लिखा वे केवल तुष्टीकरण में यकीन रखते थे।।1971 में केरल की सरकार ने भी इसे स्वतंत्रता सेनाओं का आंदोलन बताया था। हालांकि संघ परिवार का कहना है कि यह केवल हिंदुओं की हत्या का अभियान था। रिपोर्ट्स के मुताबिक इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टोरिकल रिसर्च की कमिटी ने 387 लोगों के नाम संवतंत्रता सेनानियों की लिस्ट से हटाने का प्रस्ताव दिया है। यूपी के सीएम ने कहा कि पहली बार वीर सावरकर ने अपनी किताब में इस नरसंहार कि असलियत लिखी थी।

योगी ने कहा, भीमराव आंबेडकर ने भी अपनी किताब ‘पाकिस्तान ऐंड द पार्टिशन ऑफ इंडिया’ में मालाबार के मोपला में हिंदुओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार का जिक्र किया था। इसके बाद एनी बेसेंट ने भी इस बारे में लिखा है।बता दें कि 20 अगस्त 1921 में केरल के मालाबार में मोपला विद्रोह की शुरुआत हुई थी। पहले तो यह विद्रोह अंग्रेजों के खिलाफ शुरू हुआ लेकिन फिर इसने सांप्रदायिक रूप ले लिया। मोपला मुसलमानों ने हजारों हिंदुओं की हत्या की और जबरन धर्मांतरण करवाया गया। पहले विश्वयुद्ध में तुर्की की हार के बाद अंग्रेजों ने वहां के खलीफा को कुर्सी से हटाया। इसके बाद खिलाफत आंदोलन की शुरुआत हुई। खिलाफत आंदोलन को महात्मा गांधी का भी समर्थन मिला हुआ था। अंग्रेजों ने इसे कुचलने के लिए बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। बाद में इस आंदोलन का नेतृत्व मोपलाओं के हाथ में चला गया और उन्होंने ऊंची जाति के जमीदार हिंदुओं को निशाना बनाना शुरू किया। धीरे-धीरे यह आंदोलन सांप्रदायिक दंगा बन गया।

और पढो: Jansatta »

शंखनाद: Samajwadi Party की साइकिल पर बैठेंगी कितनी सवारी?

जैसे जैसे दिन बीत रहे हैं, उत्तर प्रदेश का रण धारदार होता जा रहा है, सत्ता पक्ष और विपक्ष अपने-अपने दल को बढ़ाने में लगे हुए हैं, गठबंधनों का दौर चल रहा है. इसी कड़ी में आज कांग्रेस की बागी नेता अदिति सिंह आज बीजेपी में शामिल हुईं तो दूसरी ओर आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने अखिलेश यादव से मुलाकात की. साथ ही कृष्णा पटेल वाली अपना दल पार्टी ने भी समाजवादी का दामन थाम लिया. यूं समझिए कि गठबंधन वाली राजनीति बहुत तेजी से विस्तारित हो गई है, ताकि पार्टियां अपने विरोधियों को मात दे सकें. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

अब छोटा फैनटा चुनाव जीतने के और क्या करे गा myogiadityanath आप हमेशा नफरत की भाषा क्यों बोलते हो मुझे शर्म आती है जब आपको लोग योगी कहते हैं आप किसी भी एंगल से योगी नहीं हो न मन न कर्म न वचन सबमें एक समाज के प्रति घृणा का भाव रखते हैं । फिर 100 साल पुरानी बातें क्यों ? 2002 गुजरात पर बोलिए जब अटल ने मोदी को सीख दी थी

मनोरोगी अब चुनाव तक ऎसे ही बाते करेगा क्योंकि इसने नफ़रत फेलाने के सिवा कुछ किया नहीं इस मनोरोगी के पास हिंदू मुस्लिम के सिवा कोई मुद्दा ही नही है और वो भी झूठा

इंदौर: कपड़े की दुकानों में भीषण आग, शॉर्ट सर्किट की आशंका, काबू पाने की कोशिश जारीसेंट्रल कोतवाली थाना क्षेत्र रिव्हर साइड रोड पर भीषण आग लग गई है। घटना के बाद फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर मौजूद है।

MI vs KKR Live Score: रोहित की वापसी, कोलकाता ने जीता टॉस, मुंबई की पहले बल्लबाजीMI vs KKR Live Score: जीत की लय वापस हासिल करने उतरेगी मुंबई पलटन, रोहित की हो सकती है वापसी, कुछ देर में टॉस MIvKKR IPL2021 Hello

दिग्गजों की डुगडुगी: सुनील शेट्टी का तरीका, शिल्पा की ‘निकम्मा’, प्रभास का वजनएक जंगल में दो शेर नहीं रह सकते। इसलिए सुनील शेट्टी अपने बेटे अहान शेट्टी के हिंदी फिल्मों के परदे पर उतरने से पहले ही प्रादेशिक फिल्मों में सक्रिय हो गए।

नरेंद्र गिरि की मौत हत्या या आत्महत्या?: सीबीआई ने संभाली जांच, छह सदस्यों की टीम गठितअखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की गुत्थी को सुलझाने के लिए सीबीआई ने जांच संभाल ली है। नरेंद्र गिरि शत शत नमन हत्या है ये

कौन हैं लखनऊ की शालिनी शर्मा, जिन्हें न्यूयॉर्क NASDAQ की दीवार पर दी गई जगह?जानकारी के मुताबिक लखनऊ की शालिनी शर्मा जो संशोधन ई वेस्ट एक्सचेंज कंपनी की फाउंडर हैं. जिन्होंने ई-कचरा के क्षेत्र में काफी काम किया है. न्यूयॉर्क की NASDAQ दीवार पर 22 सितंबर को 4.30 बजे ET पर जगह दी गयी है.

मोदी-बाइडेन की मुलाकात से पहले तिलमिलाया चीन, कहा- QUAD की कोई प्रासंगिकता नहींअमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के निमंत्रण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके समकक्ष ऑस्ट्रेलिया के स्कॉट मॉरिसन और जापान के योशीहिदे सुगा शुक्रवार को व्हाइट हाउस में पहली बार आयोजित होने वाले क्वाड शिखर सम्मेलन के लिए अमेरिकी राजधानी में एकत्र हुए हैं.