Drugs, Socialjusticeministry, ड्रग्स, सामाजिकन्यायमंत्रालय

Drugs, Socialjusticeministry

मंत्रालय ने कम मात्रा में ड्रग्स का उपयोग करने और रखने पर जेल की सज़ा से मुक्ति का सुझाव दिया

मंत्रालय ने कम मात्रा में ड्रग्स का उपयोग करने और रखने पर जेल की सज़ा से मुक्ति का सुझाव दिया #Drugs #SocialJusticeMinistry #ड्रग्स #सामाजिकन्यायमंत्रालय

26-10-2021 05:30:00

मंत्रालय ने कम मात्रा में ड्रग्स का उपयोग करने और रखने पर जेल की सज़ा से मुक्ति का सुझाव दिया Drugs SocialJusticeMinistry ड्रग्स सामाजिकन्यायमंत्रालय

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने एनडीपीएस एक्‍ट में संशोधन का सुझाव दिया है, ताकि उन लोगों का इलाज किया जा सके जो ड्रग्स का इस्तेमाल करते हैं या पीड़ितों के रूप में ड्रग्‍स पर निर्भर हैं. सिफ़ारिश में कहा गया है कि ऐसे लोगों को जेल की सज़ा नहीं नशामुक्ति और पुनर्वास केंद्र भेजा जाना चाहिए.

नई दिल्लीःकेंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने नशीले पदार्थों का सेवन करने वाले और इसके आदी लोगों को जेल से बचाने के लिए अधिक मानवीय दृष्टिकोण अपनाने की सिफारिश की है.इंडियन एक्सप्रेसकी रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ दिन पहले भेजी गई सिफारिश में मंत्रालय ने निजी इस्तेमाल के लिए कम मात्रा में ड्रग्स रखने को अपराधमुक्त करने की मांग की है.

बिहार: 16 लोगों की आंखें क्यों निकाली गईं, अब क्या है उनका हाल - BBC News हिंदी पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक को भीड़ ने जलाया, इस्लाम की कथित तौहीन का मामला - BBC News हिंदी यूपी में बीजेपी के विधायक ही मान रहे हैं गन्ना किसानों को नहीं मिला भुगतान

मंत्रालय ने इसके लिए नारकोटिक ड्रग्स और साइकोट्रोपिक पदार्थ (एनडीपीएस) एक्ट में संशोधन का सुझाव दिया है, ताकि उन लोगों का इलाज किया जा सके जो ड्रग्स का इस्तेमाल करते हैं या पीड़ितों के रूप में ड्रग्स पर निर्भर है.सिफारिश में कहा गया है कि ऐसे लोगों को नशामुक्ति और पुनर्वास केंद्र के लिए भेजा जाना चाहिए, न कि उन्हें जेल की सजा दी जानी चाहिए.

पिछले महीने एनडीपीएस एक्‍ट के नोडल प्रशासनिक प्राधिकरण राजस्व विभाग ने गृह मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो और सीबीआई सहित कई मंत्रालयों और विभागों से कानून में बदलाव का सुझाव देने के लिए कहा था. headtopics.com

इस संबंध में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने राजस्व विभाग को अपने सुझाव भेजे हैं.भारत में नशीले पदार्थों का सेवन या उन्हें रखना अपराध है. मौजूदा समय में एनडीपीएस एक्‍ट ड्रग्‍स के आदी लोगों के प्रति सुधारात्मक रवैया अपनाता है. यह ड्रग्‍स का इस्‍तेमाल करने वालों और उन पर निर्भर लोगों को कानून और दोषी पाए जाने पर जेल से छूट देता है, अगर वे इलाज और पुनर्वास के लिए स्वेच्छा से काम करते हैं.

हालांकि, पहली बार ड्रग्‍स का इस्‍तेमाल करने वालों या शौकिया तौर पर इसे लेने वालों के लिए इस तरह की किसी छूट का कोई प्रावधान नहीं है.उदाहरण के लिए एनडीपीएस एक्‍ट की धारा 27 में किसी भी मादक पदार्थ या साइकोट्रोपिक पदार्थ के सेवन के लिए एक साल तक की कैद या 20,000 रुपये तक का जुर्माना या दोनों का प्रावधान है. यह ड्रग्‍स के आदी लोगों, पहली बार ड्रग्‍स लेने वालों और शौक के तौर पर लेने वालों के बीच कोई अंतर नहीं करता है.

यह उन प्रावधानों में से एक है, जिसके लिए मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि सरकार द्वारा संचालित पुनर्वास और परामर्श केंद्रों में कम से कम 30 दिनों के लिए जेल की अवधि और जुर्माने को अनिवार्य रूप से इलाज कराने में बदल दिया जाए.एनडीपीएस एक्‍ट की धारा 27 का इस्तेमाल कई हाई-प्रोफाइल मामलों में किया गया है, जिसमें क्रूज ड्रग्स मामले में अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी भी शामिल है.

विभिन्न ड्रग्‍स और साइकोट्रोपिक पदार्थ रखने के लिए सजा से निपटने वाली धाराओं के मामले में मंत्रालय ने सुझाव दिया है कि कानून कम मात्रा (केवल निजी इस्‍तेमाल के लिए) के साथ पकड़े गए लोगों को जेल की सजा से बाहर किया जाए. उनके लिए सरकारी केंद्रों में अनिवार्य इलाज की भी सिफारिश की गई है. headtopics.com

ओमिक्रॉन संक्रमित मरीज होटल से भागा, 10 लापता यात्रियों को तलाश रही कर्नाटक सरकार कार्टूनः पाकिस्तान से आया प्रदूषण और क्या महंगाई भी? - BBC News हिंदी 25 लाख शादियां न बन जाएं मुसीबत, ओमिक्रॉन के खतरे के बीच विशेषज्ञों ने किया आगाह और पढो: द वायर हिंदी »

वारदात: तेज हो गई समीर-नवाब की तकरार, क्या है स्कूल सर्टिफिकेट की सच्चाई?

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े के बर्थ सर्टिफिकेट और मैरिज सर्टिफिकेट के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कथित रूप से उनके ये दो नए सर्टिफिकेट लेकर आए हैं. नवाब मलिक के मुताबिक समीर दादर के सेंट पॉल हाईस्कूल से प्राथमिक शिक्षा ली थी. इस सर्टिफिकेट में समीर वानखेड़े का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. यहां ये भी लिखा है कि छात्र की जाति और उपजाति तभी बताई जाए जब वो पिछड़े वर्ग, या अनुसूचचित जाति-जनजाति से आए. जबकि धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. इसके बाद समीर वडाला के सेंट जॉसेफ हाईस्कूल में पढने गए. यहां के स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट में समीर का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. और धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. दरअसल नवाब मलिक समीर वानखेड़े को मुसलमान साबित करने के लिए इसलिए जुटे हैं क्योंकि अगर उनकी बात सही साबित हो गई तो समीर वानखेड़े के नौकरी खतरे में पड़ जाएगी. देखें वीडियो.

ड्रग का उपयोग करने या रखने वालों को नही उन हाथों मे ड्रग पहूँचाने वालों को गोली मारनी चाहिये। हर साल बडी मात्रा मे ड्रग आता भी है, और पकडा भी जाता है किंतु बडे मगरमच्छ तक कानून के हाथ नही पहूँचते! मुंद्रा एअरपोर्ट पर पकडा गया 3000 किलो हेरोईन किसका था कभी देशको पता चलेगा?

भास्कर LIVE अपडेट्स: आर्यन ड्रग्स केस में गवाह का दावा- 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी, NCB का इनकार, कहा- उचित जवाब देंगेशाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के खिलाफ ड्रग्स मामले में NCB के एक गवाह ने चौंकाने वाले दावे किए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गवाह प्रभाकर सेल ने NCB के जोनल प्रमुख समीर वानखेड़े और दूसरे गवाह केपी गोसावी के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका दावा है कि उन्होंने गोसावी और सैम को 25 करोड़ रुपए की बात करते सुना था और 18 करोड़ रुपए में डील तय हुई थी। गोसावी और सैम ने कथित तौर पर 18 में से 8 करोड़ रुपए ... | Breaking News Headlines Today, Pictures, Videos and More From Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर), Lakhimpur News Today अपराधियों द्वारा मामले को भटकाने की कोशिश है। नशेडी को छोड़ना नहीं

ड्रग्स केस: फरार गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा- एनसीबी ने सादे कागज पर साइन करवाएक्रूज ड्रग्स मामले में बॉलीवुड मेगास्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान आर्थर जेल में बंद हैं. उनकी जमानत याचिका दो बार खारिज हो चुकी है. वकील जमानत दिलाने में जुटे हैं. अब सुनवाई 26 अक्टूबर को मुंबई के हाईकोर्ट में होनी है. इस बीच इस केस में नया ट्विस्ट आया है. फरार किरण गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभागकर सैल ने सनसनीखेज दावा किया है. प्रभागकर ने दावा किया कि उन्हें पंचनामा पर साइन नहीं करवाया गया बल्कि जबरन खाली कागज पर साइन करवाया गया. प्रभाकर ने रेड के समय कुछ तस्वीरें खींची थी और वीडियो भी बनाए थे. जिन्हें प्रभागकर ने आज तक को दिखाया है. देखें वीडियो. नवाब मलिक एक ईमानदार ऑफिसर को धमकी मत्लोब साफ हे ड्रग्स माफिया को महारास्ट्र सरकार की छत्र छाया के निचे हे हकला सबको खरीद लेगा जांच में रुकावट डालने के लिए 'बॉडीगार्ड' की स्क्रिप्ट लिखी गई समीर वानखेड़े के ट्रांसफर करने का खेल खेला जा रहा है कोर्ट में यह साबित करना की यह रिश्वत का खेल है आर्यन को जमानत मिल जाए

सूडान में तख़्तापलट: प्रधानमंत्री हिरासत में, टीवी चैनल पर सेना का क़ब्ज़ा - BBC News हिंदीसूडान में सेना ने देश के प्रधानमंत्री और अंतरिम सरकार के कई मंत्रियों समेत कई सदस्यों को सोमवार तड़के गिरफ़्तार कर लिया है. India me bhi yahi hona chahiye 😂शांति प्रिय लोग (अहिंसा के मार्ग पर) Jb kisi desh ki Political Galat kre to hr desh ki sena ko esa hi krna chahiye..

मॉर्निंग न्यूज पॉडकास्ट: वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के हाथों टीम इंडिया की पहली हार, क्रूज ड्रग्स केस में 25 करोड़ का पेंचनमस्कार,\nआज सोमवार है, तारीख 25 अक्टूबर; कार्तिक मास, कृष्ण पक्ष और पंचमी तिथि। | Dainik Bhaskar Morning News Podcast India Pakistan T-20 World Cup Amit Shah Narendra Modi Snowfall Weather Updates

ऑस्कर पुरस्कार समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी तमिल भाषा की फिल्म ‘कुड़ांगल’‘कुड़ांगल’ अगले साल ऑस्कर पुरस्कारों में अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म की श्रेणी में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी. निर्देशक पीएस विनोदराज की तमिल भाषा की इस फिल्म में एक बिगड़ैल शराबी पति को दिखाया गया है, जो लंबे समय से परेशान पत्नी के घर से चले जाने के बाद अपने छोटे बेटे के साथ उसे खोजने के लिए निकलता है.

NCB को प्रभाकर मामले में जोर का झटका, स्पेशल कोर्ट का राहत से इनकार, कहा- HC में केस, नहीं दे सकते आदेशप्रभाकर सैल ने रविवार को दावा किया था कि एनसीबी के एक अधिकारी और फरार गवाह केपी गोसावी ने आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की थी।