Bollywood, Mohammadrafi, Deathanniversary, Mohammad Rafi

Bollywood, Mohammadrafi

भास्कर एक्सक्लूसिव: मो. रफ़ी की बहू ने सुनाए फैन्स की दीवानगी के किस्से, उनकी पुण्यतिथि पर कोई पूरा दिन खाना नहीं खाता, कोई कब्र की मिट्टी तक खा लेता है

भास्कर एक्सक्लूसिव: मो. रफ़ी की बहू ने सुनाए फैन्स की दीवानगी के किस्से, उनकी पुण्यतिथि पर कोई पूरा दिन खाना नहीं खाता, कोई कब्र की मिट्टी तक खा लेता है #Bollywood #MohammadRafi #deathAnniversary

31-07-2021 05:54:00

भास्कर एक्सक्लूसिव: मो. रफ़ी की बहू ने सुनाए फैन्स की दीवानगी के किस्से, उनकी पुण्यतिथि पर कोई पूरा दिन खाना नहीं खाता, कोई कब्र की मिट्टी तक खा लेता है Bollywood MohammadRafi deathAnniversary

मोहम्मद रफ़ी की आवाज के बिना हिंदी सिने संगीत की कल्पना नहीं की जा सकती। उनके शास्त्रीय संगीत पर आधारित गीतों की भी अद्भुत दुनिया है...जुलाई का ये महीना जाते-जाते हमें रफ़ी साहब की सुरीली यादों से भिगो देता है। उनके फिल्मी, गैर-फिल्मी गीतों, भजनों, ग़ज़लों से लेकर दूसरी भाषाओं में गाए उनके गीतों और उनसे जुड़े यादगार किस्से बेहद मशहूर हैं। मोहम्मद रफ़ी की सबसे छोटी बहू फिरदौस शाहिद रफ़ी ने मो. रफ़ी साहब ... | Mohammad Rafi death anniversary special, know interesting facts about the singer

भास्कर एक्सक्लूसिव:मो. रफ़ी की बहू ने सुनाए फैन्स की दीवानगी के किस्से, उनकी पुण्यतिथि पर कोई पूरा दिन खाना नहीं खाता, कोई कब्र की मिट्टी तक खा लेता हैएक घंटा पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्यायकॉपी लिंकवीडियोमोहम्मद रफ़ी की आवाज के बिना हिंदी सिने संगीत की कल्पना नहीं की जा सकती। उनके शास्त्रीय संगीत पर आधारित गीतों की भी अद्भुत दुनिया है...जुलाई का ये महीना जाते-जाते हमें रफ़ी साहब की सुरीली यादों से भिगो देता है। उनके फिल्मी, गैर-फिल्मी गीतों, भजनों, ग़ज़लों से लेकर दूसरी भाषाओं में गाए उनके गीतों और उनसे जुड़े यादगार किस्से बेहद मशहूर हैं। मोहम्मद रफ़ी की सबसे छोटी बहू फिरदौस शाहिद रफ़ी ने मो. रफ़ी साहब की पुण्यतिथि 31 जुलाई के अवसर पर उन्हें याद करते हुए दैनिक भास्कर से खास बातचीत की है। फिरदौस रफ़ी, मो. रफ़ी के सबसे छोटे बेटे शाहिद की पत्नी हैं। उनकी शादी रफ़ी साहब की मौत के 9 साल बाद हुई। फिरदौस की कभी रफ़ी साहब से मुलाकात नहीं हुई, लेकिन रफ़ी साहब की निशानियां वो संभाल रही हैं।

भारत बंद की वजह से 50 ट्रेनों की सर्विस पर असर पड़ा: रेलवे - BBC Hindi किसानों के भारत बंद का मिला-जुला असर, टिकैत बोले- सब तो बंद नहीं कर सकते - BBC News हिंदी युवा डॉक्टरों के साथ 'सत्ता के खेल में फुटबॉल' की तरह बर्ताव बंद हो : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार

पढ़िए, फिरदौस शाहिद रफ़ीसे बातचीत के प्रमुख अंश...फिल्मी दुनिया से आपका क्या ताल्लुक रहा है?मेरे पिता की जिंदगी फिल्म इंडस्ट्री में बीती। उन्होंने बतौर चाइल्ड एक्टर काम करना शुरू किया। वे इंडस्ट्री में मास्टर रोमी के नाम से जाने जाते थे। पिता की एक फिल्म थी- ‘अब दिल्ली दूर नहीं’। उसमें रफ़ी साहब का एक गाना था- चुन चुन करती आई चिड़िया, दाल का दाना लाई चिड़िया...। यह गाना मेरे पिता पर फिल्माया गया था। मेरी खुशकिस्मती रही कि शादी के बाद उनका अवॉर्ड रूम देखा और उनके फैन्स से मिली।

फैन्स रफ़ी साहब की कब्र की मिट्‌टी को अपने पर्स और रूमाल में रखकर ले जाते हैं।रफ़ीसाहब के अवॉर्ड्स किस तरह सहेजकर रखे गए हैं?रफ़ी साहब का बंगला साल 1987 में बिल्डिंग में कन्वर्ट हो गया। उसमें अवॉर्ड रूम बनाकर उनके सारे अवॉडर्स सहेजकर रखे गए हैं। इसे देखने के लिए रफ़ी साहब के फैन्स उनकी पुण्यतिथि (31 जुलाई) और जन्मदिन (24 दिसंबर) पर आते हैं। माशाअल्लाह! सुबह से शाम तक, भारी मजमा जमा होता है। फैन्स गुलदस्ता, फूल-हार आदि लेकर आते हैं। लोगों की तादाद साल-दर-साल बढ़ती गई। फैन्स मॉरीशस, लंदन, दिल्ली, पंजाब आदि जगहों से आते थे। बहरहाल, दो साल से लॉकडाउन की वजह से अवॉर्ड रूम बंद है, सो अब लोग फोन करके पूछते हैं कि क्या हम देखने आ जाएं। दो साल से उन्हें मना करना पड़ रहा है। अवॉर्ड्स, रिकॉर्ड्स, चेयर, टेबल, टेलीफोन सहित हारमोनियम, तानपुरा, तबला आदि जिस पर वे रियाज़ करते थे, उन्हें भी संभालकर रखा गया है। headtopics.com

फैन्स की निगाहें सबसे ज्यादा किन पर टिकती हैं?सच कहूं तो फैन्स अवॉर्ड रूम में आते जरूर हैं, पर उनकी निगाहें फैमिली पर ज्यादा टिकी रहती हैं। उनकी लालसा रफ़ी साहब के बेटे-पोते को छूने की होती है। उनको इतना लगाव है कि फैमिली को देखते ही रहते हैं। उनके साथ तस्वीरें खिंचवाते और बातें करते रहते हैं। इस तरह फैमिली की मौजूदगी उनके लिए बड़ी बात होती है। हां, फैन्स को अटैंड करने के लिए फैमिली भी खड़ी रहती है। ऐसा नहीं होता है कि फैन्स को देखने के लिए अवॉर्ड्स रूम खोल दिया, वे आए और देखकर चले गए।

रफ़ी साहब का ऐसा कोई हार्डकोर फैन, जो उनके लिए कुछ खास करता हो?एक-दो नहीं, बहुतेरे फैंस हैं, जिन्होंने उनके साथ तस्वीरें खिंचवाकर, उनका सामान ले जाकर अपने आपको फेमस कर लिया है। अभी कनाडा से एक फोन आया था। फोन करने वाले कह रहे थे- क्या आपको पता है कि यहां पर एक लेडी रहती हैं, जिनका वर्षों से यही रूटीन है कि 31 जुलाई को वे कंपनी से छुट्‌टी लेती हैं।

नया स्टाफ आया, तब बातचीत में खुलासा हुआ कि वह मैडम 31 जुलाई को ही छुट्‌टी क्यों लेती हैं? पता चला कि 31 जुलाई को मैडम पूरा दिन खाना नहीं खाती हैं, घर का काम नहीं करतीं। बस, कमरे में पड़े-पड़े रफ़ी साहब का गाना सुनती और रोती रहती हैं। इस तरह दुनिया के कोने-कोने में ऐसे तमाम हार्डकोर फैन्स हैं। इंडिया के बारे में पता चल भी जाता है, पर बाहर वालों के बारे में उतना पता नहीं चल पाता।

इस तरह की एक-दो कहानियां और बताइए?लोग आते हैं, तब उनकी कब्र की मिट्‌टी को अपनी पर्स और रूमाल में रखकर ले जाते हैं। कोई टीका लगाता है, तब कोई खा भी लेता है। इस तरह उनके प्रति तमाम लोग मोहब्बत जाहिर करते हैं। बिल्डिंग के बाहर ‘रफ़ी मेंशन’ नाम लिखा है। फैन्स ही नहीं, बल्कि सिंगर्स भी वहां पर अपना शीश झुकाते हैं। उनका मानना है कि उसे छू लेने भर से उन्हें आशीर्वाद मिल गया। मैंने कोलकाता, पंजाब में ऐसे फैन्स को भी देखा है कि उन्होंने अपने घर के मंदिर में कृष्ण भगवान के साथ अपने अजीज रफ़ी साहब की भी फोटो लगा रखी है। headtopics.com

दिलीप घोष का आरोप- TMC के गुंडों की थी मुझे मारने की साज़िश - BBC Hindi पाकिस्तान: जिन्ना की मूर्ति पर बम हमला, बलोच संगठन ने ली ज़िम्मेदारी - BBC News हिंदी राजस्थान शिक्षक भर्ती परीक्षा: नकल के लिए चप्पलों में ब्लूटूथ का जुगाड़ - BBC News हिंदी

उनकी भी पूजा करते हैं। इसे लेकर काफी कंट्रोवर्सी भी हुई, लेकिन वे कहते हैं कि अपने भगवान की पूजा कर रहा हूं। इस तरह की बातें कहने में हमें शर्म आती है, पर लोग उन्हें मोहब्बत तो बहुत करते हैं। अलग-अलग किस्म के चाहने वाले लोग हैं। वीडियो बनाकर कोई अपने आपको उनका पोता तो कोई उनकी पोती बताता है। हमें इस पर गुस्सा, जलन नहीं, बल्कि फ़ख्र महसूस होता है कि उनसे हर कोई जुड़ना चाहता है।

रफ़ी साहब दान-धर्म की बातें फैमिली को भी नहीं बताते थे।कोई अद्भुत किस्सा सुनाइए?हर चीज, उनकी किताब वगैरह के जरिए बाहर है, ऐसा कुछ छिपा तो नहीं है। फिर भी एक किस्सा बताती हूं। रफ़ी साहब के गुजर जाने के बाद एक बाबा आए थे। गेट पर आकर उन्होंने कहा कि साहब को बुलाओ। हमें साहब से मिलना है। वे जिद् करने लगे, तब घर पर उन्हें बुलाकर पूछा गया कि आप कहां से आए हैं? उन्होंने बताया कि मैं कश्मीर से आया हूं। उन्हें बताया गया कि उनका इंतकाल हो गया। क्या आपको खबर नहीं मिली! इतना सुनते ही उन्होंने कहा- तभी तो मैं कहूं कि मेरे पैसे क्यों आने बंद हो गए? उन्होंने नम्र भाव से बताया कि कई सालों से रफ़ी साहब मेरा घर चला रहे थे। अब एकाएक पैसे आने बंद हो गए, तब लगा कि ऐसा क्या हो गया, जो बंद हो गए। परिवार वालों ने जब रफ़ी साहब के सेक्रेटरी से पूछा, तब उन्होंने बताया कि यह बात सच है, लेकिन रफ़ी साहब ने कहा था कि यह बात किसी को बताना मत। चुपचाप इन्हें पैसे भेजते रहना। ऐसे थे- रफ़ी साहब। ऐसी कुछ दान-धर्म की बातें फैमिली को भी नहीं बताते थे।

स्टार्स के साथ रफी साहब का कोई किस्सा?मुझे याद है, एक बार जीतेंद्र साहब ने उनके बारे में एक किस्सा बताया था। उनकी फिल्म में एक गाना गाना था। जीतेंद्र जी ने रफ़ी साहब से पूछा कि एक बहुत छोटे बजट की फिल्म है। क्या रफ़ी साहब आप करेंगे? उन्होंने कहा- बता दो। मैं गाने आ जाऊंगा। खैर, बात बन गई और दिन-तारीख तय हुआ। रफ़ी साहब ने गाना गाया और गाकर घर आने लगे, तब जीतेंद्र के सेक्रेटरी ने उन्हें एक लिफाफा दिया। उन्होंने घर आकर उसे खोला, तब सीधे जीतेंद्र को फोन लगाया। रफ़ी साहब पंजाबी में कहने लगे- क्या बात है, तू तो बहुत बड़ा आदमी बन गया है। तेरे पास बहुत पैसे आ गए हैं।

जीतेंद्र ने कहा- क्या बात है, मुझसे कोई गलती हो गई। अगर कुछ गलत हो गया, तो माफी चाहता हूं। रफ़ी साहब ने कहा- मुझे इतने सारे पैसे क्यों दिए। मुझे जितना चाहिए, यह उससे कहीं बहुत ज्यादा है। इतना तो मेरा बनता भी नहीं है। खैर, उन्होंने कुछ पैसे रखकर बाकी पैसा जीतेंद्र को वापस भेज दिया। ये किस्से जिनके साथ हुए होते हैं, वे अपने शब्दों में बतलाते हैं, तब सुनकर बहुत खुशी होती है। मैंने सुना है कि उन्होंने कई फिल्मों में एक रुपया लेकर भी गाया है। headtopics.com

चल मेरे भाई तेरे हाथ जोड़ता हूं, हाथ जोड़ता हूं तेरे पांव पड़ता हूं। रफ़ी साहब ने यह गाना अमिताभ बच्चन के साथ गाया था।रफ़ी साहब के जीवन के मूल्य क्या है, जिन्हें आपने भी अपनाया हो?देखिए, हर किसी का जीने का अपना तरीका होता है। रफ़ी साहब की तरह उनके बच्चों और फैमिली को भी खाने का शौक है। अगर किसी चीज को उनके बच्चों ने अपनाया है, तो उनकी सादगी और अच्छाई है। इस पर सारी दुनिया नाज़ करती है। घमंड करना उनकी फितरत में नहीं था। खिलाने-पिलाने के शौकीन रफ़ी साहब की सादगी ऐसी थी कि घर की बनी चाय थर्मस में डालकर रिकॉर्डिंग स्टूडियो लेकर जाते थे। उनकी चाय बहुत फेमस थी। खुद भी पीते थे और सबको पिलाते भी थे। हर कोई एक घूंट चाय पीना चाहता था। आगे बताऊं तो उनका एक गाना था- चल मेरे भाई तेरे हाथ जोड़ता हूं, हाथ जोड़ता हूं तेरे पांव पड़ता हूं। उन्होंने यह गाना अमिताभ बच्चन के साथ गाया था।

यह गाना जब गाकर आए, तब सारे बच्चों को बुलाते हुए कहा- पास आओ, तुमसे कुछ कहना है। वे खुशी से फूले नहीं समा रहे थे। उन्होंने कहा- क्या आपको पता है कि आज किसके साथ मैंने गाना गाया। मैंने अमिताभ बच्चन के साथ गाया। ऐसे सादगी भरे रफ़ी साहब थे। उनको सामने वाले की पॉपुलैरिटी के बारे में पता था, पर खुद के बारे में नहीं पता था कि ऊपर वाले ने उन्हें क्या रुतबा दिया है।

आज का कार्टून: ये इतना बड़ा हो गया? - BBC News हिंदी ट्रेन के सामने से युवती को बचाने का VIDEO: सुसाइड के इरादे से पटरी पर खड़ी हो गई MBA पास लड़की, ट्रेन आती देख ऑटो ड्राइवर ने खींचकर बचाई जान दिग्विजय के शिशु मंदिर वाले बयान पर होगी FIR: राष्ट्रीय बाल आयोग ने DGP को लिखा पत्र; कहा- पूर्व CM के बयान से बच्चों के सम्मान को ठेस पहुंची, FIR दर्ज करें

रफ़ी साहब बच्चों के साथ छुट्टियां मनाने लोनावला में अपने बंगले पर जाते थे।किन बातों पर सहज खुश हो उठते थे और खाने में क्या पसंद था?उन्हें अपने बच्चों को लेकर इतना इंटरेस्ट था कि उन्हें हंसता-खेलता देखकर खुश हो उठते थे। उनका लोनावाला में बंगला था। बच्चों के साथ छुट्‌टी मनाने वहां जाते थे। वहां छोटा-सा स्विमिंग पूल था, उसमें बच्चों को लेकर कूद जाते थे। बच्चों के साथ बहुत एन्जॉय करते थे। उनके साथ कैरम खेलते और पतंग उड़ाते थे। बच्चों के साथ बच्चों की तरह ही पेश आते थे। उनसे ज्यादा फिल्मी बातें नहीं करते थे। खाने-पीने के बड़े शौकीन थे। उन्हें मीठा, लस्सी और नॉनवेज बहुत पसंद था।

ऐसा कहा जाता है कि एक बार गाते समय उनके गले से खून आ गया था?यह लोगों ने अफवाह फैलाई है। नौशाद साहब ने एक इंटरव्यू में कहा कि गले से खून नहीं आया था। उन्होंने तारीफ में कहा कि वह गाना इतने ऊंचे सुर का था कि रफ़ी साहब ने आठवां सुर लगा दिया। नौशाद साहब ने उस गाने के बाद रफ़ी साहब से कहा था कि गला थोड़ा सूज जाएगा, इसलिए बहुत ज्यादा गाना अभी मत गाना। थोड़ा गले को आराम देना। इस तरह उन्होंने गले को थोड़ा आराम दिया था।

उनके गले से खून निकल आया, यह तो कहना ही बहुत गलत बात है। एक और अफवाह है कि रफ़ी साहब मक्का गए थे, तब वहां पर अजान दी थी, लेकिन उन्होंने कुछ अजान नहीं दिया था। ऐसा था कि एक फिल्म आई थी- सन ऑफ गॉड। इस फिल्म में अल्लाह हु अकबर... जैसी एक-दो लाइन उन्होंने गाईं। इसे लोगों ने कनेक्ट कर दिया कि जहां हज करने जाते हैं, वहां जाकर अजान दिया। लेकिन ऐसा कुछ नहीं था।

इस बार रफ़ी साहब की 41वीं पुण्यतिथि पर क्या खास करने वाली हैं?इस बार हम ऑनलाइन मोहम्मद रफ़ी म्यूजिकल इंस्टीट्यूट के जरिए उन्हें ट्रिब्यूट दे रहे हैं। इसमें इंस्टीट्यूट के टीचर और बच्चे भी गाएंगे। रफ़ी साहब के पोते और मेरे बेटे फुजैल रफ़ी इस ऑनलाइन इंस्टीट्यूट को खोलकर उन्हें ट्रिब्यूट दे रहे हैं। इससे नामी-गिरामी म्यूजिक घरानों के लोग जुड़े हैं। कविता कृष्णमूर्ति, जावेद अली, तलत अजीज, रहमान नौशाद, रोहन कपूर, सिद्धांत कपूर, अंदलीब सुलतानपुरी, जावेद बदायूं, म्यूजिक डायरेक्टर रविशंकर की बेटी ऑनलाइन जुड़कर मो. रफ़ी साहब को ट्रिब्यूट देंगे। इस बार लॉकडाउन के चलते लोग रफ़ी मेंशन नहीं आ सकते, इसलिए फैन्स और चाहने वालों के घर ऑनलाइन ट्रिब्यूट लेकर आ रहे हैं, जो एकदम फ्री होगा।

और पढो: Dainik Bhaskar »

बिन संस्था समाज सेवा: ‘हिजाब और बुर्का में भी लड़की स्कूल जा रही है तो सवाल न करें, यह सोचें, कम से कम वो स्कूल तो जा रही है’

बात 2020 की है। राजा राम मोहन राय, सीनियर सेकेंडरी गर्ल्स स्कूल, हौज रानी को को-एड किया जा रहा था, तब पेरेंट्स ने मुझे कहा कि हम तो अभी भी अपनी बेटियों को बुर्के में स्कूल भेजते हैं। अगर लड़का-लड़की एक साथ पढ़ेंगे तो हम उन्हें नहीं पढ़ा पाएंगे। ये मामला सामने आने पर मैंने स्कूल प्रशासन से बात की, बहस हुई। स्कूल वालों ने कहा, तबस्सुम आप खुद को-एड स्कूल में पढ़ीं, आप कैसे इसका विरोध कर रही हैं और लड... | तबस्सुम एक समाजसेविका हैं। उन्होंने बिना किसी संगठन के हजारों लोगों की मदद की। आज वे आम आदमी पार्टी की कार्यकर्ता भी हैं।

हलचल (1951) में खुमार बाराबंकी के दिलकश बोलों को मोहम्मद शफी के संगीत निर्देशन में लता दी के साथ रफी साहब का गाया हुआ एक बेहद प्यारा गीत। जिसमें आप रफी जी की आवाज का जादू सुनकर महसूस कर सकते हैं पर अफसोस यह नेट पर अकेली रीयल साउंडट्रैक फाइल है पर कुछ अधूरी भारतीय हिन्दी सिनेमा के गीतों की लम्बी फेहरिस्त में रफी साहब अकेले ऐसे गायक रहे हैं जो पर्दे पर नायक की हर स्थिति के रुबरू हूबहू गाने में सक्षम थे। हर अभिनेता के अनुरूप वे अपनी आवाज,लय,सुर ,ताल और प्रकृति को बदल लेने में माहिर थे। ये गीत शमशाद बेगम के साथ

rafi ji jaise singer na kabhi hue na kabhi honge जावेद अख्तर और प. बंगाल की CM की मुलाकात को Kangana Ranaut बोलीं 'सभी देशद्रोहियों को नंगा करूंगी' WHO : 'पूरी दुनिया के मुकाबले भारत में Depression के सबसे ज्यादा मरीज़ हैं. अगर भारत ने इसे रोकने के लिए कुछ नहीं किया तो Depression भारत में Corona से भी बड़ी महामारी बन जाएगा'.

🙏🙏🙏

ऐश्वर्या राय बच्चन ने मणि रत्नम की फिल्म की शूटिंग शुरू कीमणि रत्नम के निर्देशन में बन रही तमिल फिल्म ‘पोन्निइन सेल्वन’ की पुदुचेरी में चल रही शूटिंग में ऐश्वर्या राय बच्चन भी शामिल हो गई हैं।

Haryana Politics: जानें, क्‍या तीसरे मोर्चे के गठन से हरियाणा की राजनीति पर पड़ेगा कोई प्रभावसंभव है कि एक दो सीट मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी मांग ले क्योंकि कभी उसके भी एक विधायक होते थे। बसपा से इनेलो का समझौता होता रहा है और टूटता रहा है। दोनों मिलकर भी कोई कमाल नहीं दिखा पाए।

आज की पॉजिटिव खबर: 5 साल पहले नोएडा की इप्सिता ने घर से ही हैंडीक्राफ्ट साड़ियों की मार्केटिंग शुरू की, अब सालाना 60 लाख रुपए है टर्नओवरभारत हमेशा से ट्रेडिशनल आर्ट वर्क का हब रहा है। हमारे यहां हर जगह की अपनी एक खासियत होती है। खासकर, पहनावे को लेकर। हमारे बुनकरों की हाथ की बनाई हुई साड़ी और कपड़ों की डिमांड विदेशों में भी होती है। कई लोग अलग-अलग राज्यों के खास ड्रेसेज का कलेक्शन रखते हैं, लेकिन दिक्कत इनकी अवेलबिलिटी को लेकर होती है। कई बार ढूंढने के बाद भी हमें अपनी पसंद के कपड़े नहीं मिल पाते हैं। अगर मिलते भी हैं तो उनकी क्वालिट... | Ipsita Dash and Vinita Dash, Noida-based saree startup 6yardsandmore works with weavers in remote villages across India and sells sarees, accessories, and more वरिष्ठ_अध्यापक_भर्ती_2016 के रिक्त 1200 पदों पर रीसफल रिजल्ट & वेटिंग लिस्ट जारी करो भर्ती बिना कोर्ट विवाद के 5साल से लंबित है ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra RESTARajasthan me_moharsingh artizzzz zeerajasthan_ TheUpenYadav Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO

Monsoon Session: Lok Sabha की कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा, विपक्ष ने की नारेबाजीमॉनसून सत्र की कार्यवाही का आज 10वां दिन है. संसद की शुरुआत हंगामे के साथ हुई है. आज लोकसभा में कोरोना के मुद्दे पर चर्चा होनी है. वहीं, पेगासस जासूसी कांड को लेकर कांग्रेस ने स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है. वहीं, हंगामे के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन को बधाई दी है. उन्होंने कहा कि पूरा देश आपकी इस सफलता से गौरवान्वित है. राष्ट्र अब आपकी स्वर्णिम सफलता के लिए कामना कर रहा है. राज्यसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो. मतलब साफ है। भाजपा अपने करतूत स्वीकार नहीं करता,जानबूझ कर और कार्यवाही को बढ़ावा नहीं मिलता। मॉनसून सत्र के समय खराब करने में विपक्ष से ज्यादा मौजूदा सरकार का नाकाम इरादा स्पश्ट हो चुका है। क्यों नहीं बयान करता पेगासिस और कृषि बिल का मामला........?

लगभग 500 किलोमीटर की रेंज से लैस होगी Tata की अपकमिंग Altroz EV इलेक्ट्रिक कार!Tata Altroz कंपनी के ज़िपट्रॉन (Ziptron) इलेक्ट्रिक पावरट्रेन का इस्तेमाल करेगी और कथित तौर पर संभावना है कि टाटा इस कार की रेंज को Nexon EV से एक कदम आगे रखने के लिए इसमें एक अतिरिक्त बैटरी पैक विकल्प भी दे।

चीन में कोरोना की नई लहर की चिंता और वैक्सीन पर सवाल - BBC Hindiचीन के नानजिंग शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस की एक नई किस्म बीजिंग और पांच अन्य प्रांतों में फैल गई है.