भारत को ओलंपिक सेमी फ़ाइनल में अपने दम पर हराने वाले खिलाड़ी कौन हैं? - BBC News हिंदी

एलेक्ज़ेंडर हेंड्रिक्स: भारत को ओलंपिक सेमी फ़ाइनल में अपने दम पर हराने वाला बेल्जियम का खिलाड़ी

03-08-2021 09:39:00

एलेक्ज़ेंडर हेंड्रिक्स: भारत को ओलंपिक सेमी फ़ाइनल में अपने दम पर हराने वाला बेल्जियम का खिलाड़ी

टोक्यो ओलंपिक के सेमी फ़ाइनल में भारत को बेल्जियम ने 5-2 से हराया है और इस स्कोर में तीन गोल अकेले एलेक्ज़ेंडर हेंड्रिक्स ने दागे. उन्होंने पेनल्टी कॉर्नर और पेनल्टी स्ट्रोक का भरपूर फ़ायदा उठाया.

रिज़र्व खिलाड़ी से स्टार खिलाड़ी तक का सफ़रदरअसल, पांच साल पहले रियो ओलंपिक के दौरान बेल्जियम का प्रदर्शन शानदार रहा था. टीम गोल्ड मेडल नहीं जीत पाई थी, लेकिन अर्जेंटीना के हाथों फ़ाइनल हारने तक बेल्जियम का प्रदर्शन लाजवाब था और इस बेमिसाल प्रदर्शन में एलेक्जेंडर हेंड्रिक्स का कोई योगदान नहीं था क्योंकि वे टीम के रिर्ज़व खिलाड़ी थे और पूरे टूर्नामेंट के दौरान उन्हें बेंच पर बैठना पड़ा था.

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार यूपी : CM योगी ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग, जानें- किसको क्या मिला? नए राजपथ पर होगी अगले साल गंणतंत्र दिवस की परेड, तैयारियां जोरों पर

इमेज स्रोत,EPAउन्हें अपनी टीम के प्रदर्शन पर गर्व तो हो रहा था, लेकिन उन्होंने उस वक्त तय कर लिया था कि अपने सपनों को साकार करने के लिए वे और ज़्यादा मेहनत करेंगे ताकि टीम प्रबंधन उन्हें रिज़र्व खिलाड़ी ना बना पाए.जिन लोगों को 2018 में भुवनेश्वर में खेले गए वर्ल्ड चैम्पियनशिप की याद होगी, उन्हें एलेक्ज़ेंडर हेंड्रिक्स ज़रूर याद होंगे. हेंड्रिक्स उस टूर्नामेंट में सबसे ज़्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी थे और उनके सात गोलों की बदौलत ही बेल्जियम की टीम वर्ल्ड चैम्पियन बनने में कामयाब हुई थी.

टोक्यो ओलंपिक: भारतीय निशानेबाज़ों के साथ आख़िर हो क्या रहा है?सौरभ दुग्गल बताते हैं, "देखिए हेंड्रिक्स की कामयाबी में उनका अपना कौशल तो है ही साथ में उनकी टीम का भी योगदान है, टीम के बाक़ी खिलाड़ी पेनल्टी कॉर्नर हासिल करके उनके लिए मौका बनाते हैं और उनकी ख़ासियत ये है कि वे मौके को भुना लेते हैं." headtopics.com

हॉकी की दुनिया में कैसे पहुंचेइमेज स्रोत,Reutersआधुनिक हॉकी की तेज़ रफ़्तार और बड़े टूर्नामेंटों का दबाव इतना ज़्यादा होता है कि मौके को भुना पाना इतना आसान भी नहीं होता, लेकिन हेंड्रिक्स इस काम को बखूबी निभा रहे हैं कि क्योंकि महज़ पांच साल की उम्र से ही उन्होंने हॉकी को अपना लिया था.

संयोग ये था कि उनके माता-पिता जहां रह रहे थे, वहां से दो गली की दूरी पर ही एक हॉकी क्लब था, जहां एलेक्ज़ेंडर पांच साल की उम्र में पहुंच गए और 14 साल की उम्र तक उनका नाम बेल्जियम की नेशनल हॉकी सर्किट में फैलने लगा था.लेकिन उन्हें रातों रात कामयाबी नहीं मिली, बल्कि सीढ़ी दर सीढ़ी उन्होंने ख़ुद को साबित किया. पहले अंडर 16 टीम में आए, फिर अंडर 18 और उसके बाद अंडर 21 की टीम में उन्होंने ख़ुद को निखारा.

इन सबके बाद 2010 में सिंगापुर में खेले गए यूथ ओलंपिक खेलों में बेल्जियम को कांस्य पदक दिलाने में उन्होंने टूर्नामेंट में सबसे ज़्यादा 11 गोल दागे थे. 2012 में महज़ 18 साल की उम्र में वे बेल्जियम की नेशनल टीम में शामिल हो गए. अगले साल उन्हें बेल्जियम का सबसे उभरता खिलाड़ी चुना गया.

नेशनल टीम में जगह बनाने में लगा वक़्तइमेज स्रोत,Reutersबावजूद इसके 2016 के रियो ओलंपिक में उन्हें बेंच पर बैठना पड़ा. सौरभ दुग्गल बताते हैं, "पिछले कुछ सालों में बेल्जियम की हॉकी में इतना सुधार हुआ है कि हेंड्रिक्स जैसी प्रतिभाओं को भी मौका हासिल करने के लिए इंतज़ार करना पड़ा है." headtopics.com

भारत बंद की वजह से 50 ट्रेनों की सर्विस पर असर पड़ा: रेलवे - BBC Hindi दिल्ली पुलिस ने दबोचा शातिर अपराधी, नेशनल ताइक्वांडो में जीत चुका है गोल्ड मेडल पाकिस्तान: जिन्ना की मूर्ति पर बम हमला, बलोच संगठन ने ली ज़िम्मेदारी - BBC News हिंदी

मौजूदा समय में एलेक्ज़ेंडर हेंड्रिक्स की गिनती दुनिया के सबसे ख़तरनाक ड्रैग फ़्लिकरों में तो होती है, पर विपक्षी टीमों पर उनका ख़ौफ़ उस तरह का नहीं दिखता जैसा पाकिस्तान के सोहेल अब्बास, ब्रिटेन के कैलम जाइल्स, नीदरलैंड्स के टेएके टेकेमा, ऑस्ट्रेलिया के ट्रॉय एल्डर या फिर भारत के संदीप सिंह का दिखता रहा था.

इमेज स्रोत,Reutersइस बारे में सौरभ दुग्गल कहते हैं, "देखिए हैंड्रिक्स की ब्रैंडिंग उस तरह से नहीं हो पाई हो, लेकिन वे इन सबसे कम भी नहीं हैं. ब्रैंडिंग नहीं होने की एक वजह यह है कि हेंड्रिक्स का कर्न्वजन रेट औसत जैसा ही है, बहुत शानदार नहीं है. लेकिन उनकी ख़ासियत ये है कि वे अपनी रिस्ट का मूवमेंट भी प्रभावी तरीके से करते हैं."

वैसे आपको ये जानकर और भी अचरज हो सकता है कि 27 साल के हेंड्रिक्स काफ़ी पढ़े-लिखे हॉकी खिलाड़ी हैं. एंटवर्प यूनिवर्सिटी से ऑनर्स ग्रेजुएट होने के बाद वो एप्लाइड इकॉनोमिक साइंसेज़ में मास्टर्स डिग्री हासिल कर चुके हैं.ये भी पढ़ें: और पढो: BBC News Hindi »

नकल के लिए सैनिटरी नैपकिन में डिवाइस छुपाई: 8 सेमी के गैजेट में बना दिया मोबाइल फोन, लड़के-लड़कियों को इसे अंडरगारमेंट में छुपाना था; 25 लोगों को डेढ़ करोड़ में बेचा

राजस्थान सरकार ने नकल रोकने के लिए REET के दौरान इंटरनेट बंद कर दिया, लेकिन नकल नहीं रोक पाई। बीकानेर के एक नकल गैंग ने इंटरनेट का उपयोग किए बिना ही नकल का इंतजाम कर दिया। गैंग ने सारे सरकारी इंतजामों का तोड़ निकालते हुए दो ऐसे डिवाइस बना डाले, जिनसे नकल की जा सके। | Cut the slippers and fit the whole mobile in it, the cost of one slipper is six lakh rupees, 'black business' of one and a half crores of 25 slippers

he should thank modiji Jab Subah Modi Ji Ka Tweet Aaya Ki Woh Bhi Match Dekh Rahe Tabhi Samajh Gaya Badi Panauti Lagne Wali Hai Aaj Team India Ki 😢 Jab Ki Usse Pahle Team India 2-1 Se Aage Thi

टोक्यो ओलंपिक: हॉकी में ब्रिटेन को हराकर भारत सेमीफ़ाइनल में पहुँचा - BBC Hindiटोक्यो ओलंपिक में भारत ने क्वॉर्टर फ़ाइनल में ब्रिटेन को 3-1 से हराकर सेमीफ़ाइनल में जगह बना ली है. मोदी है तो मूमकीन है🤣😂- भारत पहला मैच न्यूज़ीलैंड से खेला था और आखिरी जापान से सही लिखा करो बे । 1980में भारत ने गोल्ड जीता था। 41साल हुए हैं।

टोक्यो ओलंपिक: सेमी फ़ाइनल मुक़ाबले में बेल्जियम भारत से 4-2 से आगे - BBC Hindiसेमी फ़ाइनल मुकाबले में भारत से 4-2 से आगे बेल्जियम. 3-2 से आगे चल रहे बेल्जियम ने पेनस्टी स्ट्रोक में भारत के ख़िलाफ़ किया चौथा गोल. फट्टे चक दयां गे 👍 Penalty corner ...penalty corner 😣😖😠 4-2

टोक्यो ओलंपिक: हॉकी के सेमीफ़ाइनल मुक़ाबले में भारत मज़बूत या बेल्जियम - BBC News हिंदीओलंपिक खेलों में पदकों के 41 साल का सूनापन क्या भारतीय हॉकी टीम दूर कर पाएगी? मंगलवार सुबह बेल्जियम और भारत की पुरुष हॉकी टीमें सेमीफ़ाइनल मुक़ाबले में भिडे़ंगीं. India मोदी_जी_देश_को_बख्स_दीजिये मोदी_जी_देश_को_बख्स_दीजिये मोदी_जी_देश_को_बख्स_दीजिये मोदी_जी_देश_को_बख्स_दीजिये ...चलिए मिलकर मोदी जी से निवेदन करते हैं कि अपने यशस्वी कार्यकाल का पटाक्षेप करें। भारत की गरीब जनता उनका महंगा शासन झेल सकने में सक्षम नहीं है। narendramodi East and west.....India is the Best

टोक्यो ओलंपिक में भारत: सिंधु और हॉकी टीमों का करिश्माटोक्यो ओलंपिक में स्टार शटलर पीवी सिंधू के कांस्य पदक जीतने और पुरुष और महिला हॉकी टीमों के सेमी फाइनल में स्थान बना

टोक्यो ओलंपिक: 41 साल बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची भारतीय पुरुष हॉकी टीमभारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रविवार को टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचते हुए 41 साल बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बनाई है। भारत ने क्वार्टरफाइनल मुकाबले में ब्रिटेन को 3-1 से हराकर अंतिम-4 में अपना स्थान पक्का किया है।

टोक्यो ओलंपिक: 49 साल बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची भारतीय पुरुष हॉकी टीमभारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रविवार को टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचते हुए 49 साल बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बनाई है। भारत ने क्वार्टरफाइनल मुकाबले में ब्रिटेन को 3-1 से हराकर अंतिम-4 में अपना स्थान पक्का किया है। Very nice update